3 बंडो के साथ बीवी का गंगबांग

हेलो फ्रेंड्स मैं पूजा आयेज की स्टोरी आपको बताने जेया रही हू. राजवीर, शिवम और लखन तीनो ड्रिंक करके रूम में आए, और लाइट्स ओं की. पूरा रूम फूलों से सज़ा हुआ था, और मैं दुल्हन के कपड़ो घूँघट लेके बैठी थी. तीनो मुझे देख के हैरान रह गये. लखन बोला-

लखन: भाभी ये सब क्या है?

मे: मैं चाहती हू तुम तीनो आज मुझे अपनी वाइफ बना लो. मेरी माँग भरो, और जैसे दूल्हा-दुल्हन पहली रात में सेक्स करते है, वैसे ही सुहग्रात मनाए.

राजवीर: हा क्यूँ नही पूजा.

और मेरा घूँघट हटा के राजवीर ने मेरी माँग भर दी. शिवम और लखन ने भी मेरी माँग भर दी.

लखन: लो आज से आप हम तीनो की वाइफ बन गयी हो.

मे: हा तो निभाओ अपना पति होने का फ़र्ज़. दो मुझे तीनो गिफ्ट.

राजवीर: हा बिल्कुल, बोलिए क्या छाईए आपको?

पूजा: मुझे तुम तीनो का प्यार चाहिए. और हा, राजवीर आप से एक ख़ास चीज़ चाहिए. यहा मेरे पास आइए.

और मैने राजवीर के कानो में अपने मॅन की बात बोल दी. राजवीर भी मुस्कुराते हुए बोला-

राजवीर: आज तक तो नही किया ये. पर आपके लिए ज़रूर करूँगा.

शिवम: हमे भी बता दो ऐसा क्या माँगा है?

राजवीर: नही ये पति-पत्नी के बीच का सीक्रेट है.

शिवम: श ऐसी बात है, तो फिर ठीक है.

ऐसा लग रहा था शिवम को कोई फराक ही नही पद रहा था. वो बस मुझे छोड़ना और छुड़वाना चाहता था. पर कही ना कही मैं भी यही चाहती थी.

लखन: तो किस बात का इंतेज़ार है राजवीर, कर ना अपनी बीवी को नंगा.

लखन के मूह से ये सुन के मैं शर्मा गयी. फिर जैसे ही राजवीर मेरे करीब आया, मेरे पैर काँपने लगे. राजवीर ने मेरे सारे गहने उतरे, और मेरे ब्लाउस का बटन खोलने लगा. फिर अपनी शर्ट के बटन खोले. उसके बाद मेरा ब्लाउस उतरा, और फिर अपनी शर्ट.

मैने ब्रा नही पहनी थी आज, इसलिए मैं उपर से पूरी न्यूड हो चुकी थी. अब लखन मेरे पास आया, और दूसरी तरफ यानी मेरी पीठ पर किस करने लगा. राजवीर मुझे लीप किस करने लगा. अब मैं दो हिस्सो में बट्ट गयी थी. आयेज का हिस्सा राजवीर, और पीछे का लखन का हो गया था. मैं पूरी तरह मस्त होके राजवीर को कस्स के किस कर रही थी.

इधर लखन मेरे कानो को चूमने लगा. उसकी इस हरकत से मेरी आँखें खुल गयी. मैने देखा शिवम मुझे खड़े-खड़े देख रहा था. मैने उसे इशारा करके अपने पास बुलाया, और उसकी ज़िप खोल के लंड चूसने लगी.

राजवीर: रूको, सब पहले पूजा को पूरा नंगा करो, और खुद के कपड़े उतरो.

तीनो ने झट से अपने कपड़े उतार दिए. इधर राजवीर ने मेरे लहँगे का नाडा खोल दिया, और लखन ने खींच के निकाल दिया. फिर मेरी पनटी को नीचे करके किस करने ही जेया रहा था, की राजवीर ने रोक दिया.

राजवीर: रुक जा भाई, मेरी जान चाहती है की मैं पहले उसकी छूट पे किस करू.

लखन: ओहो, ऐसी बात है? तो ये बोला था आपने कान में धीरे से. ले भाई आजा.

और लखन हॅट गया. अब राजवीर ने पनटी पूरी उतरी, और बिना देर किए लीप मेरी छूट पर रख दिए. राजवीर के लिप्स मेरी छूट पे लगते ही मैं सब कुछ भूल गयी, और बस उसके लिप्स को फील करने लगी. इधर लखन और शिवम मेरे सर के पास आ गये. मैं बारी-बारी दोनो का लंड चूसने लगी. अचानक राजवीर ने अपनी जीभ को मेरी छूट की गहराइयों में डाल दिया.

मस्ती की लेहायर में मैने शिवम के लंड को कस्स के पूरा गले तक ले लिया. शिवम इस झटके को बर्दाश्त नही कर पाया, और मेरे सर को उसी पोज़िशन में होल्ड करके अपना सक़रा वीरया मेरे गले में छ्चोढ़ दिया. एक बूँद भी बाहर नही आई, पूरा माल अंदर उतार गया था.

लखन: आबे ढीले, ये क्या किया? अभी तो शुरू भी नही हुआ था, और तू देह गया.

शिवम: मेरी थोड़ी तबीयत ठीक नही है भाई. शायद इसलिए. शिवम तबीयत का बहाना बना रहा था. आक्च्युयली में वो कंट्रोल नही कर पाया था.

शिवम: तुम दोनो कंटिन्यू करो. मैं तोड़ा आराम करूँगा.

लखन: पागल है क्या? पूजा का गंगबांग करना था आज हमे.

शिवम: मैं एक घंटे में आराम करके आ जौंगा.

मैं नही चाहती थी शिवम जाए, पर सिचुयेशन ऐसी थी की मैं कुछ बोल नही पा रही थी. क्यूंकी मैं बहुत ज़्यादा गरम हो गयी थी, और मुझे अब भरपूर सेक्स चाहिए था. शिवम के जाने के बाद अब हम तीनो ही रह गये थे. लखन ने मुझे ड्रॉयर से वाइब्रटर दिया और बोला-

लखन: ये लो भाभी, आज रात इसे शिवम समझ लो आप.

मैने वाइब्रटर लिया, और उसे पिल्लो के नीचे रख दिया. फिर राजवीर ने फिरसे किस करना शुरू कर दिया. लखन ने मेरे मूह में लंड दे दिया. मैं मस्त होके चूसने लगी. 15 मिनिट बाद मैने राजवीर को बोला.

मे: बस बेबी, उपर आओ ना. जीभ से निपटा दोगे आप तो.

राजवीर: तेरी खुशी के लिए कुछ भी मेरी जान.

और मुझे किस करने ही वाला था, की मैने रोक दिया.

मे: 2 मिनिट बेबी, मैं वॉशरूम से आई.

मैने झट से ब्रश किया. मैं नही चाहती थी शिवम के वीरया से भरे मेरे लिप्स को राजवीर चूम ले. और बाहर आते ही राजवीर ने मुझे ज़ोर से पकड़ के बेड पे पटक दिया.

मे: आराम से.

राजवीर: अब कही नही जाओगी.

और किस करने लगे दोनो मुझे. वो बॉडी के हर पार्ट को किस कर रहे थे. मुझे पता ही नही चला कब लखन मेरे नीचे आ गया, और राजवीर मेरे उपर. जब होश आया तो मेरे मॅन ने बस यही बोला “अब तो मैं गयी काम से”.

लखन ने मेरी गांद के च्छेद पे लंड सेट किया, और हल्का सा धक्का मारा. उसका आयेज का पार्ट मेरी गांद में घाप से चला गया. मेरे मूह से आहह की आवाज़ निकल गयी. उसी पल राजवीर ने मेरी छूट में अपना लंड डाल दिया.

मे: प्लीज़ जान तोड़ा आराम से करना.

लखन: पूजा मेरी जान एक रौंद हम दोनो की मर्ज़ी से, उसके बाद तुम जैसे कहो.

और राजवीर को आँख मार दी, और दोनो ने धीरे-धीरे आयेज-पीछे करना शुरू किया. शुरू में सब नॉर्मल था. 10 मिनिट ऐसे करते हुए अचानक दोनो ने स्पीड पकड़ ली. मैं कुछ नही कर सकती थी. दोनो की पकड़ बहुत मज़बूत थी.

फिर मैने आँखें बंद कर ली, और राजवीर को किस करने लगी. इधर दोनो लंड घपा-घाप अंदर-बाहर हो रहे थे. मैने कुछ देर राजवीर को किस करके कंट्रोल करने की कोशिश की, पर अब दर्द बर्दाश्त नही हो रहा था.

मेरी चीखें निकालने लगी: आअहह आहह राजवीर आराम से प्लीज़.

पर अब मेरी कहा चलने वाली थी. ऐसे करते-करते दोनो अचानक पलट गये. राजवीर नीचे, मैं बीच में, और लखन उपर. मेरे पुर शरीर ने पसीना छ्चोढ़ दिया था. अचानक मेरे मूह पे एक लंड मेरे लीप को टच करने लगा. मुझे शुरू में लगा शिवम था, तो मैं खुश हो गयी.

मे: ओह मेरी जान, आप आ गये.

और मूह खोल के लंड मूह में लिया ही था की मुझे तोड़ा अजीब लगा. क्यूंकी शिवम का लंड इतना मोटा नही था. मैने झट से उपर देखा, तो ये कोई और था. मैने दोनो के बीच से उठने की कोशिश की, पर दोनो के बीच सॅंडविच बनी मैं कहा हिल पाने वाली थी.

मे: छ्चोढो मुझे लखन, ये क्या हरकत है?

लखन: क्या फराक पड़ता है मेरी जान? इसे शिवम समझ ले आज रात के लिए.

मे: नही-नही.

और मैं “शिवम कहा हो आप?” करके आवाज़ लगाने लगी. राजवीर ने मेरे बाल पकड़े, और मुझे उसके पास करते हुए कान में बोला-

राजवीर: प्लीज़ मेरी जान, मेरी खातिर शांत हो जाओ. मैं ज़िंदगी भर तुम्हारा कहना मानूँगा, बस आज की रात इसे शिवम मान लो.

मैं शांत हो गयी, पर मेरा दिल ये सब के लिए नही मान रहा था. पर शरीर सेक्स माँग रहा था.

मे: पर शिवम आ गया तो? उसे पता चलेगा की उसकी गैर मौजूदगी में मैने 3 गैर मर्दो से चुदाई कर ली तो?

राजवीर: अछा अब हम गैर हो गये है?

मे: नही मेरा ऐसा मतलब नही था.

लखन: पहली बात तो अब शिवम सुबा से पहले नही उठेगा. उर दूसरी बात, आज रात के लिए ही सही, हम दोनो भी पति है तुम्हारे. और फिर भी आप चाहती हो तो हम प्रॉमिस करते है शिवम को पता नही चलेगा.

मे: पक्का ना?

राजवीर: हा मेरी जान. अब मूह खोल दे, मेरे भाई को तडपा मत.

मैने संकोच करते हुए मूह खोला, और लंड चूसने लगी. इधर दोनो फिरसे धक्के मारने लगे. मैं अब बहुत गरम हो गयी थी, और भूल गयी थी तीसरा बंदा कोई गैर था. मैने उसे शिवम मान लिया था, और ज़ोर-ज़ोर से उसका लंड चूस रही थी. इधर दोनो के धक्को ने मेरी साँसे उखाड़ दी थी.

मैं बॅस उहह आहह हहाअ कर रही थी, और झाड़ गयी. पर इस बार दवाई के असर से मेरी एग्ज़ाइट्मेंट कम नही हुई. राजवीर और लखन भी 10 मिनिट में झाड़ गये और रुक गये. मैने थोड़ी राहत की साँस ली ही थी, की वो तीसरा बंदा जिसका मैं नाम भी नही जानती थी वो बोला-

तीसरा बंदा: राजवीर, तू हॅट, और लखन तू भी जाके सोफे पे बैठ. और देख चुदाई कैसे करते है इस हुस्न की पारी की.

मैं दर्र गयी, की पता नही अब क्या करेगा ये. क्यूंकी बहुत ज़्यादा हटता-कटता और स्ट्रॉंग था. उसने मुझे सीधा करा, और मेरे उपर आ गया. मैने पहली बार उसका फेस देखा. वो बहुत ज़्यादा हॅंडसम और गुड लुकिंग था.

वो जैसे ही मेरे लिप्स की और बढ़ा, मैने अपना मूह एक तरफ कर लिया. फिर मैने उससे पूछा-

मे: अपना नाम बताओ पहले आप.

तीसरा बंदा: मेरा नाम राज है, और मैं राजवीर का बड़ा भाई हू. बाकी की जानकारी तुझे छोड़ने के बाद दे दूँगा.

और फिर उसने मेरे दोनो गालों को थाम के सीधा किया, और स्मूच करने लगा. मैं भी साथ देने लगी, और अपनी दोनो टांगे फोल्ड करके उसकी कमर पे रख दी. मानो मैं उसे बिना बोले अपनी चुदाई करने के लिए कह रही थी. राज मुस्कुराया पर कुछ बोला नही, और मेरी छूट में अपना लंड डाल दिया.

अभी तोड़ा ही अंदर गया था, की मेरे मूह से निकल गयी: राजवीर से भी बड़ा है आपका.

राज: बड़ा तो होगा ही, उसका बड़ा भाई भी तो हू.

और उसने एक झटका और दिया. लंड तोड़ा और अंदर चला गया.

मे: प्लीज़ आराम से राज (मैने पहली बार उनका नाम लिया था). मेरे मूह से उनका नाम सुन के वो खुश हो गये.

राज: अछा बता प्यार से करू या वाइल्ड?

मे: प्यार से वाइल्ड किया तो उपर पहुँचा दोगे आप.

राज हस्स दिया. लखन और राजवीर भी ये सुन के हस्स दिए. फिर राज ने मुझे किस करते हुए धक्के देने शुरू किए.

आयेज की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट में बतौँगी. और हा फ्रेंड्स, मेरा और शिवम का म्‍मस देखना हो तो मैल करे.

यह कहानी भी पड़े  माँ बनी तीन लोगो की रखेल


error: Content is protected !!