2 सेक्सी आंटीस के साथ थ्रीसम का मज़ा

हेलो दोस्तों, कैसे हो आप सभी? ये मेरी कहानी का 3र्ड पार्ट है, और इसके पहले के पार्ट्स अगर आपने नही पढ़े है, तो वो ज़रूर पढ़ना.

तो अब तक अपने पढ़ा की कैसे मैने अपने लाइफ की फर्स्ट सेक्स की शुरुआत करिश्मा आंटी के साथ की थी, और इसी दौरान दरवाज़े पर दस्तक हुई. ये सुनते ही मैं और करिश्मा आंटी उठे. करिश्मा आंटी ने पास ही में एक बातरोब पड़ा था वाइट कलर का, जो यूष्यूयली होटेल्स में होता है, वो पहना और उन्होने डोर खोला.

दरवाज़े पर मुस्कान आंटी थी. मैं अभी भी बेड पर ही लेता हुआ था बस एक ब्लंकेट ओढ़ कर.

करिश्मा: अर्रे मुस्कान यार, फाइनली तू आ गयी. इतनी देर क्यूँ लगा दी?

मुस्कान: वो राहुल सोया नही था, इसलिए वेट करना पड़ा. अभी उसके सोने के बाद मैं नहा कर आई हू बस तुम दोनो से मिलने.

करिश्मा: ओहो झूठी. सिर्फ़ मिलने? या साथ देने? (दोनो एक-दूसरे को हग करते हुए, और काफ़ी खुश लग रहे थे)

इतने में दोनो अंदर आई, और करिश्मा आंटी ने डोर लॉक कर दिया. मुस्कान आंटी ने सिल्क वाला जो नाइट सूट नही आता, पॅंट्स और शर्ट जो तोड़ा प्रिंटेड होता है, बस वही पहना हुआ था ब्लॅक कलर का. उनके बाल बिल्कुल गीले थे. फ्रेश नहा कर बस आई ही थी, और बेड के पास आ कर बैठी.

मुस्कान: तो राहुल? वर्जिनिटी लूस की या नही अभी तक?

राहुल: वो मुस्कान आंटी (मैं कहने जेया ही रहा था की बीच में टोकते हुए).

मुस्कान: वैसे मैं इसे जानती हू. ये लंड देख कर तो लिए बिना रह ही नही पाती. तड़पति रहती है बहुत जब तक ना मिले तो. क्यूँ, सही कहा ना करिश्मा?

करिश्मा: बिल्कुल जान. राहुल खुद ही बताएगा ये तो.

राहुल: हा आंटी वर्जिनिटी तो लूस करा दी करिश्मा आंटी ने. बस अभी कम निकला नही है.

मुस्कान: इतना स्टॅमिना है तेरे में? अभी तक कंट्रोल किया तूने?

करिश्मा: नो बेबी, वियाग्रा दिया है उसे, ताकि हम दोनो की बराबर ले सके

मुस्कान: अर्रे पागल पूच तो लेती. दोनो नही, सिर्फ़ तू एंजाय करेगी आज इसके साथ. मैं तो बस तुझसे मिलने और देखने आई थी.

करिश्मा: यार क्या हो गया? हम करते तो थे कॉलेज टाइम में, और कितना मज़ा आता था. कोई प्राब्लम हो तो बता.

मुस्कान: प्राब्लम ही तो है. पीरियड्स चल रहे है यार. आज तो नही कर सकती. बस लास्ट दे है. कल मैं जाय्न करूँगी तुम दोनो को.

करिश्मा: वॉट बाद टाइमिंग यार. पीरियड्स बहुत इरिटेट करते है यार. एनीवेस तो क्या हम कंटिन्यू करे? तेरे सामने?

मुस्कान: हा वही तो देखने आई हू. योउ गाइस एंजाय इट. सेक्स नही कर सकती, बाकी तो तेरे साथ प्यार तो कर ही सकती हू ना पहले की तरह.

ये सुनते ही करिश्मा आंटी मुस्कान आंटी के पास आई, और पीछे से उन्हे गले लगा लिया, जैसे दोनो प्रेमी इतने सालों बाद मिल रहे हो, वैसे एक-दूं कस्स के. फिर करिश्मा आंटी ने पीछे से मुस्कान आंटी के बूब्स दबाते हुए कहा-

करिश्मा: बूब्स बड़े हो गये है तेरे. सो नाइस.

मुस्कान: हा, राहुल के आने के बाद थोड़े बड़े हुए है.

ये कहते ही मुस्कान आंटी पीछे करिश्मा आंटी की तरफ मूडी, और दोनो स्मूच करने लगे. मैं तो देखता ही रह गया. ये दोनो खुद इतनी खूबसूरत है, और दोनो आपस में मिली भी इस तरह से जैसे इनके बीच बहुत प्यार हो, और अब ये किस. मैं सोच ही रहा था ये सब की इतने में.

मुस्कान: ई होप राहुल योउ डॉन’त माइंड वाचिंग उस? आक्च्युयली हम कॉलेज से ही बेस्ट फ्रेंड्स है, और बाइसेक्षुयल है. हम एक-दूसरे की ज़रूरतों को अची तरह समझते है, जो मर्द नही समझ पाते.

करिश्मा: और उसके बावजूद भी पास ही की सिटी में रहते हुए भी इतनी सालों बाद मिलने आ रही है तू (मुस्कान आंटी के बूब्स पे स्पॅंक करते हुए).

मुस्कान: आउच! पागल धीरे कर. आंड योउ नो राहुल, हमने काई बार थ्रीसम किया है. हमने काई बार 1 ही लड़का शेर किया है, आंड बिलीव मे बहुत मज़ा आता है.

करिश्मा: और 1-2 बार तो थ्रीसम भी किया है वित आ फीमेल पार्ट्नर. फक, तट लाइफ वाज़ सो अमेज़िंग यार.

मुस्कान: ई नो, बुत शादी के बाद बदल जाता है सब यार.

करिश्मा: कोई नही जान. अब तू है यहा तो हम अब इस पल का मज़ा लेते है.

इतने में करिश्मा आंटी ने वो वाइट बातरोब उतार दिया, और बेड के उपर आ गयी, मुस्कान आंटी के ठीक सामने. मुस्कान आंटी ने करिश्मा आंटी के निपल्स दबाने शुरू किए, और फिर उन्हे किस करने लगी. वो शुरू-शुरू में सिर्फ़ करिश्मा आंटी के बूब्स को चाट रही थी, और फिर धीरे-धीरे उन्होने निपल्स चूसने शुरू किए.

करिश्मा: राहुल कम हियर. डॉन’त योउ वॉंट तो जाय्न उस?

राहुल: एस आंटी ई वुड लोवे तो.

इतने में मैने ब्लंकेट साइड किया, और लंड तो मेरा पहले से खड़ा ही था. मैं वैसे ही उनके सामने गया और मुस्कान आंटी ने मेरे खड़े लंड देख कर कहा-

मुस्कान: फक, तट’स रियली आ गुड साइज़ (हाथ में लंड पकड़ कर देखते हुए). इट हास सो मानी वेन्स ओं इट.

करिश्मा: हा मुस्कान. इट’स रियली नाइस.

मुस्कान: देख कर ही लग रहा है.

फिर मुस्कान आंटी ने मेरा लंड पकड़ कर अपने मूह में लिया, और वो चूसने लगी. यार ये तो काफ़ी अनएक्सपेक्टेड था. मैं तो एक लड़की चाह रहा था, और यहा दो दो मिल्फ्स मुझे मिल गयी, वो भी बाइसेक्षुयल. मुस्कान आंटी भी काफ़ी आचे से चूस रही थी, और ऐसा था की मैं दोनो आंटीस के बीच में खड़ा था, और मुस्कान आंटी के सामने मेरा लंड था, और करिश्मा आंटी के सामने मेरी गांद.

करिश्मा आंटी ने मेरी गांद को सहलाना शुरू किया और कुछ ही देर में उन्होने मेरी गांद को दोनो हाथ से पकड़ कर खोला. अब मुझे जीभ महसूस होने लगी मेरी गांद के बीच में. मैने देखा करिश्मा आंटी मेरी गांद चाटने लगी थी. ये कुछ अलग एक्सपीरियेन्स था, लेकिन लंड भी मेरा मुस्कान आंटी के मूह में था, जो अछा लग रहा था.

मैं तो बस मज़े ले रहा था, जो फील हो रहा हो. फिर दोनो धीरे-धीरे चाट-ते. मुस्कान आंटी मेरे गोतियाँ चाटने लगी, और पीछे से करिश्मा आंटी भी मेरी गांद को चाट-ते हुए और मेरी टाँगो के बीच आ चुकी थी.

मैने अपनी टांगे थोड़ी और खोल दी, और मुझे अपने थाइस पे करिश्मा आंटी के बाल महसूस होने लगे. और वो बिल्कुल नीचे के पार्ट को चाटने लगी थी. एक पॉइंट पे मुस्कान आंटी और करिश्मा आंटी दोनो मेरी टाँगो के बीच में से एक-दूसरे को किस करने लगे थे, और मुस्कान आंटी ने एक हाथ में मेरा लंड भी पकड़ा हुआ था. करिश्मा आंटी ने मेरी एक गांद पकड़ी हुई थी.

फक, इतना मज़ा मैने नही सोचा था की मुझे मिलेगा. खैर उसके बाद हम 1-2 मिनिट साँस लेने लगे. इतने में मैने देखा की अब करिश्मा आंटी बीच में आ चुकी थी, और वो मुस्कान आंटी के कपड़े उतारने लगी थी. उन्होने शुरू किया मुस्कान आंटी के ब्लॅक कलर वाले सिल्क शर्ट से, जो यूष्यूयली रात में पहनते है.

उन्होने 2 बटन्स खोले, और ऐसे करते-करते शर्ट के सारे बटन्स खोल दिए. मुस्कान आंटी ने अंदर पिंक कलर की ब्रा पहनी हुई थी, और बूब्स एक-दूं उपर की तरफ ब्रा के सपोर्ट से थे. मुस्कान आंटी ने शर्ट उतरी, और करिश्मा आंटी के बालों में उंगलियाँ डाल कर अपने बूब्स पे दबाना शुरू किया.

करिश्मा आंटी उनके बूब्स को दबा रही थी ब्रा के उपर से ही, और वो थी तो डॉगी स्टाइल में आई. फिर मैं करिश्मा आंटी के पीछे आया, और मैं उनकी गांद के बीच से अपनी जीभ डाल कर चाटने लगा था. पीछे से चाट-ते वक़्त उनकी छूट और गांद एक-दूं क्लीन लग रही थी, और वो त्वेर्क कर रही थी, जिसे मैं चाट रहा था तब. फिर कुछ सेकेंड्स बाद जब मैने अपना लंड पकड़ा, और छूट पे सेट करने लगा, तो करिश्मा आंटी को लंड छूट पे महसूस हुआ, जिस पर सो बोली-

करिश्मा: राहुल नो पुसी विदाउट कॉंडम बच्चा. कॉंडम लगा, फिर कर.

ये सुनते ही मैने एक और कॉंडम का पॅकेट निकाला, और लंड पे लगाना शुरू किया. जैसे ही लग गया तो मैं अंदर डालने ही वाला था की मुस्कान आंटी ने मुझे अपने पास बुला लिया.

मुस्कान: राहुल कॉंडम लगाया है तो उसे गीला भी करना पड़ता है ना डालने से पहले. कम हियर.

मैं उठ कर उनके पास जेया कर खड़ा हुआ, तो मुस्कान आंटी और मैं एक-दूसरे को किस करने लगे. करिश्मा आंटी तो डॉगी पोज़िशन में थी ही, उन्होने बूब्स छ्चोढ़ कर पहले 2 मिनिट्स मेरा लंड चूसा, जिससे कॉंडम पूरी तरह गीला हो चुका था. और फिर मैं पीछे जेया कर करिश्मा आंटी की डॉगी स्टाइल में छोड़ने लगा.

मैने शुरू में धीरे-धीरे किया, लेकिन कुछ ही देर में मैने स्पीड बढ़ा दी, और कमरे में आवाज़ आने लगी थी. मेरे छोड़ने की वजह से करिश्मा आंटी की गांद मस्त वाइब्रट हो रही थी.

मैने देखा की मुस्कान आंटी खुद अपने हाथो से ब्रा का हुक खोलने लगी, और उन्होने अपनी ब्रा उतार दी. उनके बूब्स जैसे ही बाहर आए, वो लायक गये. मतलब अब मॅरीड थी तो पुर रौंद कैसे हो सकते थे.

लेकिन खैर उनके बूब्स थोड़े लटकने वाली शेप के थे. उनके निपल्स का कलर एक-दूं लाइट था. डोर से कोई देखेगा तो निपल्स नज़र भी ना आए वैसा कलर. फिर करिश्मा आंटी उनके बूब्स चूस रही थी, और पीछे से मैं उनकी छूट छोड़ रहा था डॉगी स्टाइल में.

ठीक उसके बाद मुस्कान आंटी ने अपनी ब्लॅक नाइट पंत उतरी, और वो एक-दूं पिंक कलर की कॉटन वाली पनटी में हमारे सामने थी. दोस्तों जिनको तुम इतने दिन से जानते हो, और देख रहे हो, और वो तुम्हारे सामने ऐसे खड़ी हो, तो वो फीलिंग बहुत एग्ज़ाइटिंग होती है. और ख़ास करके जब तुम एक्सपेक्ट भी ना कर रहे हो तब.

करिश्मा: यार पनटी क्यूँ छ्चोढ़ दी, उतार दे ना ये भी.

मुस्कान: अर्रे बताया तो पीरियड्स चल रहे है. पॅड्स पहने हुए है जान.

करिश्मा: यार ये ना होता तो हम इतने टाइम बाद एक साथ कितना मज़े करते.

मुस्कान: कोई नही यार. लेट’स चेंज पोज़िशन. मैं तो अभी भी तेरी चाट सकती हू ना.

करिश्मा: हा जान.

फिर हुआ ये की बेड पे सबसे पहले मुस्कान आंटी लेट गयी, और उनके उपर 69 पोज़िशन में करिश्मा आंटी. पहले कुछ सेकेंड्स मुस्कान आंटी ने करिश्मा आंटी की छूट छाती, और उनकी आखों में वो प्यार नज़र आ रहा था.

मुस्कान: बेटा, कम फक करिश्मा आंटी.

ये सुनते ही मैने खुद को मुस्कान आंटी के उपर सेट किया अपने घुटनो पे, और मैं पीछे से करिश्मा आंटी की छूट में लंड डाल कर छोड़ने लगा. नीचे से मुस्कान आंटी कभी करिश्मा आंटी की छूट चाट-ती, तो कभी मेरे लंड के नीचे का पार्ट चाट-ती. लेकिन मुझे महसूस हुआ की मेरे गोते मुस्कान आंटी की नाक पर लग रहे थे. लेकिन उन्होने जीभ बाहर रखी, और उन्होने चाटना शुरू रखा.

मैने उपर से छोड़ते वक़्त देखा करिश्मा आंटी के बॅक पे पसीना आने लगा था, और वो अपने हाथो से मुस्कान आंटी की थाइस को रब कर रही थी, और बीच-बीच में उन्हे किस कर रही थी.

जब हम इसी पोज़िशन में से बोर हुए, तो हमने पोज़िशन्स चेंज की.

इस बार करिश्मा आंटी पहले नीचे लेती, और मैं मिशनरी पोज़िशन में आ कर अपना लंड उनकी छूट में डाल के छोड़ने लगा. मुस्कान आंटी और करिश्मा आंटी दोनो लेती, और आपस में स्मूच करने लगी.

करिश्मा: मुस्कान, सीट ओं मी फेस ना.

मुस्कान: नो करिश्मा, ई कॅन’त अलो योउ तो लीक मे वाइल ओं पीरियड्स. वरना तू तो जानती है मैं कभी माना नही करती.

करिश्मा: ई नो जान. छूट नही मैं तो तेरी गांद की बात कर रही हू. वो तो छत सकती हू ना? बस तू पनटी ज़रा सी नीचे कर पीछे से. ई नो तुझे अनकंफर्टबल होगा पूरी पनटी उतारने पे.

फिर ये कहते ही मुस्कान आंटी पहले तो करिश्मा आंटी के फेस के दोनो साइड पर पैर रखे, और मेरी तरफ मूह करके वो बैठने का ट्राइ करने लगी. फिर वो घुटने पर आई और उन्होने अपनी पनटी बस आस चीक्स के नीचे तक हो इतनी ही नीचे की. इस पर करिश्मा आंटी बिना वक़्त गवाए मुस्कान आंटी की गांद चाटने लगी, और इसका रंग मुझे मुस्कान आंटी के चेहरे पर सॉफ नज़र आ रहा था.

ये सब देखने से मुझे अब महसूस होने लगा की मेरा पानी छूटने वाला था.

राहुल: आंटी मेरा निकालने वाला है.

मुस्कान: हा तो बेटा कॉंडम निकाल और हाथ से हिला. अंदर नही डालना बस. छूट के उपर ही निकालना, अंदर नही.

मैने सुनते ही बस लंड बाहर निकाला छूट से, और कॉंडम निकाल कर साइड में फेंक दिया. फिर मैं लंड हिलने लगा, और कुछ ही सेकेंड्स में मैने अपना सारा माल छ्चोढ़ दिया. ये फर्स्ट टाइम था, जो मेरी पिचकारी इतनी डोर तक गयी. पहले दो शॉट्स तो सीधे मुस्कान आंटी के पनटी तक उड़े, और बाकी तोड़ा करिश्मा आंटी के बूब्स पे, और तोड़ा सा पेट पे.

इतना करते ही मैं तेज़ी से साँसे लेने लगा, और मेरी बॉडी से भी पसीने निकालने लगा था. इसके बाद मुस्कान आंटी भी उठी, और उन्होने अपनी पनटी ठीक से पहनी, और साइड में लेट गयी. मैं भी तक चुका था, तो करिश्मा आंटी के लेफ्ट में सीधे लेट गया. करिश्मा आंटी बीच में थी, और दूसरी तरफ मुस्कान आंटी भी लेट गयी.

इसके बाद दोनो आंटी आपस में स्मूच करने लगी, और मेरी तो आँख कब लग गयी मुझे पता ही नही चला. मैं तो बिल्कुल नंगा ही सो चुका था.

तो दोस्तों ये कहानी आपको कैसी लगी, नीचे कॉमेंट्स करके और मुझे मैल करके ज़रूर बताए.

आपके मेसेजस से मुझे और नयी कहानी लिखने की प्रेरणा मिलती है.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त ने दोस्त की मा को सिड्यूस किया


error: Content is protected !!