2 बहनो की चूत चोद कर संतुष्ट किया

सिमरन: एस बेबी, हमारे मूह में डालो ना अपने मोटे लोड का अमृत.

फिर दोनो नीचे बैठ गयी. मैने 5 मिनिट बाद दोनो के मूह में बारी-बारी से लंड का पानी छ्चोढा. दोनो रंडियों की तरह पुर पानी को गतक गयी. अब आयेज-

मेरे लंड के पानी को दोनो बहने चाट-चाट कर पी गयी. फिर दोनो एक-दूसरे के ज़ुबान चूसने लगी. दोनो एक-दूसरे के मूह से पानी चूस रही थी. मुझे दोनो को देख कर बहुत मज़ा आ रहा था. उसके बाद सिमरन और दिशा लंड को पकड़ कर चाटने लगी. चाट-चाट कर लंड को सॉफ करने लगी. सिमरन लंड को चाट रही थी, और दिशा मेरी बॉल्स को चाटने लगी.

10 मिनिट तक दोनो ने लंड को चूस के वापस खड़ा कर दिया. सिमरन खड़ी हुई, और मेरे फेस को चूमने लगी. दिशा लंड को चाट-ते हुए अपनी छूट मसालने लगी. दोनो बहने गरम हो गयी थी. दिशा छूट मसल कर मुझसे देख कर बोली.

दिशा: श रोहित, अब अपना लंड डाल दो छूट में. अब मुझसे रहा नही जाता.

मैं बोला: पहले किसकी छूट में डालु?

सिमरन बोली: रोहित, तुम हम दोनो को एक साथ छोड़ो. स्टार्ट दिशा की छूट से करो.

मैने उन दोनो को किस करते हुए बोला.

मैं: बेबी तुम दोनो बेड पर घोड़ी बन जाओ.

दिशा और सिमरन ने मेरी बात मानी. दोनो रंडियन बेड के कॉर्नर पर घोड़ी बन गयी. सिमरन मुझे देखते हुए अपनी गांद हिला रही थी. दिशा की छूट पर मैं लंड सहलाने लगा. वो सिसकियाँ लेते हुए बोली-

दिशा: प्लीज़ रोहित, आराम से करना. मैने ऐसा लंड कभी लिया नही है.

मैं दिशा की मोटी छूट और गांद को चूमने लगा. चूमते हुए मैने सिमरन से कहा-

मैं: बेबी, लंड पर कॉंडम तो लगाओ.

सिमरन ने अपने बाग से कॉंडम निकाला, और जल्दी से लंड पर सेट कर दिया. वो फिरसे घोड़ी बन गयी. मैने अपना लंड दिशा की छूट पर रखा, और धीरे से धक्का दिया. जिससे उसकी मोटे माज़ वाली छूट में लंड का टोपा चला गया. दिशा की सिसकी निकल गयी.

दिशा: आह उहह मा.

मैने लंड छूट में वही रोका, और उसकी गांद को सहलाने लगा. सिमरन भी दिशा के बूब्स चूसने लगी. वो बूब्स को चूस्टे हुए अपने बूब्स भी दबा रही थी. मैने दिशा की छूट में लंड 5 मिनिट तक रोका. फिर मैने उससे पूछा-

मैं: बेबी, अब कैसा फील हो रहा है.

दिशा: हा बेबी, अब ठीक है. एक काम करो, तुम पूरा डाल दो एक बार में.

मैने दिशा की गांद को मसालते हुए उसकी छूट में ज़ोर का धक्का दिया. जिससे मेरा 7 इंच का लंड पूरा छूट में समा गया. दिशा की ज़ोरदार चीख निकल गयी.

दिशा: आह उहह ऑश आह. कितना बड़ा है लंड. मेरी जान निकल गयी.

सिमरन दिशा के मूह को पकड़ कर चाटने लगी, और दिशा के मूह में अपनी छूट रख दी. सिमरन दिशा के मूह के आयेज अपनी छूट रख कर बैठ गयी. दिशा भी दर्द भूल कर उसकी गुलाबी छूट चाटने लगी. मैं दिशा की गांद और बूब्स को दबाने लगा.

5 मिनिट बाद दिशा अपनी कमर हिला कर मुझे छोड़ने का इशारा कर रही थी. वो आँख बंद करके सिमरन की रसीली छूट चाट रही थी. सिमरन भी उसका मूह पकड़ कर आँखें बंद करके छूट चटवाने का मज़ा ले रही थी. उसकी भी सिसकी निकल रही थी.

सिमरन: उम्म्म बेबी, चाट मेरे छूट. मेरे रानी आह.

मैं अब बेड के नीचे खड़ा-खड़ा दिशा की कमर पकड़ कर धीरे-धीरे धक्के देने लगा. दिशा को भी छूट में आनंद मिलने लगा. वो अपनी कमर और गांद आयेज-पीछे हिलने लगी. 10 मिनिट तक मैने दिशा की छूट काफ़ी प्यार से छोड़ी. जिससे उसको चूड़ने में मज़ा आ रहा था.

दिशा सिमरन की छूट से मूह निकाल कर मेरी और देखते हुए बोली-

दिशा: आह उहह, क्या मज़ा दे रहे हो तुम. तुम्हारा लंड मुझे अब दर्द नही दे रहा. मस्त लंड है बेबी तुम्हारा. बेबी तोड़ा और तेज़ छोड़ो ना. मेरी छूट में आग भड़क रही है.

सिमरन: साली कुटिया. मुझे भी तो लेने दे अब इसका लोड्‍ा. तू ही मज़ा लेगी क्या?

मेरे लंड पर गांद घूमते हुए दिशा बोली-

दिशा: रोहित कहा भागे जेया रहा है. तू ले लेना मज़ा. अभी मुझे लेने दे. क्या मस्त छोड़ रहा है.

सिमरन ने उसकी एक नही सुनी, और उसकी छूट से मेरा लंड निकाल कर बोली-

सिमरन: रोहित, तुम अब मुझे छोड़ो. बहुत देर से तड़प रही हू.

मैं सिमरन के होंठो को चूस्टे हुए बोला-

मैं: हा बेबी, मैं तुम दोनो को बारी-बारी छोड़ूँगा.

सिमरन बेड पर दिशा की बगल में अपनी एक टाँग फैला कर, कमर बेड पर करके लेट गयी. मैने उसकी एक टाँग को हवा में किया, और लंड उसकी कमसिन छूट पर रखा. उसकी छूट बहुत गीली और गरम थी. लंड के लगते ही वो बोली.

सिमरन: श ऑश. अब डाल दो राजा.

दिशा उसके बूब्स को चूस रही थी. मैने सिमरन की छूट के च्छेद पर लंड रखा, और एक बार में ही पूरा छूट में पेल दिया. सिमरन की छूट ज़्यादा टाइट नही थी. लेकिन मेरे लंड को लेके उसकी भी आवाज़ निकल गयी.

सिमरन: आह उहह श मा. क्या लंड है तेरा रोहित. दिशा देख कैसे छूट में समा गया है. अब रुक मत बेबी. छोड़ मुझे आह.

दिशा और सिमरन के लिप्स एक-दूसरे को चूम रहे थे. मैं सिमरन की टाँग पकड़ कर छूट में धीरे-धीरे झटके दे रहा था. जिससे छूट ने लंड को अड्जस्ट कर लिया. मैं सिमरन की छूट में से लंड बाहर निकालता, और एक बार में छूट में दबा देता. जिससे उसकी सिसकियाँ निकल जाती. वो गरम होके दिशा के बूब्स चूस्टे हुए बोली-

सिमरन: आह आह श रोहित. क्या चुदाई करते हो तुम? और ज़ोर से छोड़ो. अपनी स्पीड तेज़ करो. छोड़ो, छोड़ो ज़ोर से.

15 मिनिट तक छूट छोड़ने के बाद सिमरन ने अपना छूट रस्स ज़ोर की सिसकी के साथ बहा दिया. लंड की चोट से उसका पानी अंदर-बाहर हो रहा था. सिमरन की छूट का काम हो गया था. अब मैने उसकी छूट से लंड निकाला, और दिशा को घोड़ी बनने को बोला. वो झट से छूट मसालते हुए बेड पर घोड़ी बन गयी.

दिशा की गांद को दबाते हुए लंड उसकी छूट में भर दिया. जिससे इस बार उससे दर्द नही हुआ. और वो भी 5 मिनिट बाद गांद हिलाते हुए मेरा लंड ले रही थी.

सिमरन बेड पर बैठ कर मेरे होतो को चूसने लगी. मैं खड़ा-खड़ा दिशा की छूट में लंड पेलने लगा. दिशा चूड़ते हुए गरम सिसकियों के साथ बोली-

दिशा: आह उफ़फ्फ़ श रोहित. मेरे छूट मचल रही है. प्लीज़ और ज़ोर से छोड़ो. बहुत परेशन किया है इसने.

दिशा: मेरे राजा, छोड़ो आह ज़ोर से छोड़ो.

सिमरन मुझे किस करते हुए बोली-

सिमरन: हा रोहित, छोड़ो इसे, बहुत नाटक करती है साली.

मैं दिशा की कमर पकड़ कर ज़ोर-ज़ोर से लंड अंदर-बाहर करने लगा. दिशा का बदन मोटा था. छोड़ने से उसकी गांद हिलने लगती. सिमरन बेड पर आयेज जेया कर दिशा के झूलते बूब्स को चूसने लगी.

15 मिनिट की चुदाई के बाद मैने दिशा को सीधा किया, और टाँग पकड़ कर हवा में कर दी. फिर एक टाँग चौड़ी कर दी, और छूट में लंड रगड़ते हुए एक झटके में घुसा दिया. दिशा की सिसकियाँ निकालने लगी.

दिशा: आ उहह एस छोड़ो. मज़ा आ रहा है. जन्नत के मज़े ले रही हू.

सिमरन उसके मूह पर छूट रख कर बैठ गयी. छूट को उसके मूह पर रग़ाद रही थी. और आयेज झुक कर मुझे चूमने लगी. मैं सिमरन के बूब्स दबाने लगा. 10 मिनिट बाद दिशा का बदन अकड़ने लगा, और वो गरम सिसकियाँ लेके बोली-

दिशा: श आह बेबी. मेरा झड़ने वाला है. प्लीज़ आह ज़ोर से छोड़ो.

मैं दिशा के बूब्स पकड़ कर ज़ोर-ज़ोर से छूट में धक्के देने लगा. मेरा भी रस्स निकालने वाला था. मैं भी बोला-

मैं: मेरी जान, मेरा भी निकालने वाला है. कहा लेना पसंद करोगे?

सिमरन मेरी चेस्ट चाट-ते हुए बोली-

सिमरन: बेबी अपना कामुक रस्स हमारे लव्ली बूब्स पर झाड़ना.

मैने दिशा की छूट में ज़ोर से धक्के देने लगा. 2 मिनिट बाद दिशा लंबी सिसकी लेते हुए झाड़ गयी. उसकी छूट ने रस्स निकाल दिया. 5 मिनिट तक मैं उसे और छोड़ता रहा. उसके बाद मैने अपना लंड छूट से निकाला. दोनो बहने बेड पर मेरी तरफ मूह करके लेट गयी. मैं नीचे खड़ा था. सिमरन और दिशा मेरे लंड से कॉंडम हटा कर ज़ोर-ज़ोर से हिलने लगी.

दोनो के हिलने से मेरा रस्स निकालने लगा. मैने लंड का रस्स दोनो के बूब्स और मूह पर छ्चोढ़ दिया. सिमरन के मूह पर रस्स गिरा तो दिशा उसे चाट गयी. सिमरन ने भी दिशा के बूब्स पर से लंड का पानी चाट लिया. हम तीनो अब तक गये थे. मैं उनके बीच में दोनो से लिपट गया. सिमरन और दिशा मुझे चूमते हुए बोली-

सिमरन: रोहित, बहुत मज़ा आया है आज. तुम वाकाई बहुत आचे कॉल बॉय हो.

दिशा: हा बेबी, तुमने मुझे भी चूड़ना सीखा दिया. मुझे बहुत अछा फील हो रहा है.

मैं: मेरी जान, तुम दोनो की छूट बहुत अची है. मुझे भी तुम्हे छोड़ कर मज़ा आया है.

फिर दोनो बारी-बारी से बातरूम गयी. सिमरन तो मेरे साथ गोद में बैठ कर बातरूम गयी. उसने लंड को पानी से सॉफ किया. फिर अपनी छूट से अपना रस्स और लंड का रस्स सॉफ किया.

कहानी कैसे लगी दोस्तों, मैल करके ज़रूर बताए. गर्ल्स, भाभी, लेडी, हाउसवाइफ को रियल सेक्यूर सेक्स और प्यार चाहिए तो मुझे मैल करे. आप मुझसे सेक्सी और रोमॅंटिक बातें कर सकती है. आपकी प्राइवसी सेक्यूर रहेगी.

यह कहानी भी पड़े  हनीमून में सामूहिक चुदाई की


error: Content is protected !!