Yeh Choot Chodne Ke liye Bana hai

मेरा नाम चिंटू है, मेरी उम्र 19 साल है, मैं बीए के प्रथम वर्ष में पढ़ता हूँ और जयपुर का रहने वाला हूँ।

यह कहानी एक साल पहले की है। मेरे मामा के लड़के की शादी थी.. तो मामाजी हमारे घर पर आए और सबको निमंत्रण देते हुए बोला-

आप सबको मेरे साथ शादी में चलना है।

चूंकि हम सभी को पहले से जाने का पता था और वो भी पहले से ही हमारी यात्रा के लिए ट्रेन के टिकट लेकर आए थे।

हम सभी को गुजरात जाना था.. सफ़र लंबा था।
सभी ने तैयारी की और मैंने भी अपना सब सामान लगा लिया.. अपने मोबाइल की बैटरी चार्ज कर ली।

हम सब स्टेशन के लिए निकल गए, कुछ देर में हम सभी स्टेशन पहुँच गए।

कुछ देर बाद ट्रेन आई.. और सब अपनी-अपनी सीट पर जाकर बैठ गए।

सफ़र पूरी एक रात का था.. तो मैं जल्दी ही सो गया।
रात बड़े आराम से कट गई और सुबह मामाजी ने जल्दी ही उठा दिया, उन्होंने बताया- हमारा स्टेशन आने वाला है.. जल्दी उठ जाओ।

फिर वहाँ पहुँचने के बाद एक टैक्सी लेकर हम सभी मामाजी के घर चले गए।

हम वहाँ पहुँचे ही थे कि हमारे स्वागत के लिए बहुत सारे लोग खड़े थे।
उन्होंने हमारी बहुत अच्छी आवभगत की।

तभी मेरी नज़र एक लड़की पर पड़ी जो बहुत ही सुन्दर थी, उसका नाम पंखुरी था..
वो मेरे मामा की लड़की थी, उसकी उम्र 18 साल थी.. वो दिखने में बहुत मस्त माल थी।

उसके मम्मे 32 साइज़ के थे और पूरा फिगर बड़ा ही मस्त था। मेरे मन में तो वो मानो बस सी गई थी।

यह कहानी भी पड़े  मेरा मतलब एकदम मस्त बेटी है आपकी - 2

मैं उससे मिल कर अपनी दोस्ती बढ़ाने लगा और उस पर लाइन मारने लगा।
मैं उसके पीछे ही लगा रहा।

मैंने उससे दोस्ती के लिए बोला। वो थोड़ी देर तक तो मना करती रही.. फिर मान गई।

फिर हम दोनों का सिलसिला चलने लगा।
हम दोनों साथ में ही छत पर सोते थे।

एक दिन वो मेरे साथ चिपक कर सो रही थी.. तो मेरा लण्ड खड़ा हो गया। मेरा लौड़ा जैसे ही खड़ा हुआ तो उसके जिस्म से लगने

लगा।
वो बोलने लगी- मुझे तेरा कुछ लग रहा है।

उसने नीचे देखा तो मेरे पैन्ट की तरफ़ देख कर बोली- तूने पैन्ट के अन्दर क्या रख रखा है?
मैं बोला- कुछ भी तो नहीं है।
फिर वो बोली- तुम झूठ मत बोलो.. मुझे दिखाओ।

मैंने फिर से मना किया तो उसने जबरदस्ती मेरी जेब में हाथ डाल दिया और मेरा लण्ड पकड़ लिया।
बोली- ये तो तूने पैन्ट के अन्दर छुपा रखा है।

उसने जबरन मेरा पैन्ट नीचे कर दिया तो मेरा लण्ड फुंफकारता हुआ उसके सामने आ गया।

वो हैरत से मेरा लौड़ा देखते हुए बोली- ये क्या है?
मैंने बोला- इससे में ‘सूसू’ करता हूँ।

वो बोली- चल झूठे.. सूसू करने के लिए कही इतना बड़ा होता है।
मैंने कहा- सच में यार..
वो बोली- चल दिखा।
मैं बोला- ठीक है चल मेरे साथ।

वो मेरे साथ आ गई और मैं बाथरूम में जाकर ‘सूसू’ करने लगा। वो मेरे लौड़े से मूत की तेज धार निकलती हुई देखती रही।

फिर वो बोली- मेरे पास तो ऐसा कोई आइटम नहीं है।

यह कहानी भी पड़े  सेक्सी भाभी के साथ रंगीली रात

मैं बोला- ये लड़कों के पास ही होता है। पर ये भी तेरा ही तो है।

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!