वाइफ स्वापिंग और ग्रूप चुदाई की सेक्सी कहानी

आपने पिछले पार्ट में पढ़ा कैसे मेरी पड़ोसन सेजल के पीरियड्स आ गये, तो लगातार 5 रात तक मेरे पति और मेरे पड़ोसी ने मेरी छूट और गांद की चुदाई करी. अब मेरी इतनी चुदाई के बाद अनुज और प्रतीक का लंड सुन्न हो गया. मेरी भी छूट और गांद में दर्द होने लगा था, और पूरी बॉडी पाईं कर रही थी.

दोनो मुझे जुंगली कुत्ते की तरह छोड़ रहे थे, और सेजल के भी पीरियड्स जस्ट ख़तम हुए थे, तो हमने 2-3 दिन ब्रेक लेने को सोचा. और वैसे भी मेरी रात भर चुदाई होती थी, तो घर के बहुत से काम पेंडिंग पड़े थे. 3-4 दिन बाद ऐसे ही रात को मैं और मेरे हज़्बेंड अनुज बात कर रहे थे.

मैं: अनुज मैं आपसे एक बात कहना चाहती हू. आप बुरा ना मानो तो काहु?

अनुज: अर्रे मेरी जान, तुम्हे कब से मेरी पर्मिशन की ज़रूरत पड़ने लगी? देखो तुम मेरी बीवी हो, पर उससे पहले हम आचे दोस्त है, और हम कितना ओपन्ली लाइफ एंजाय कर रहे है.

काव्या: आपकी बात सही है, पर मुझे ऐसा लग रहा है की हम कुछ ग़लत तो नही कर रहे ना (मुझे अनुज का ओपीनियन जानना था)?

अनुज: अर्रे यार, तुम फिरसे ये सब सोचने बैठ गयी. देखो ना सब कितने खुश है. किसी को कोई प्राब्लम नही है. सेजल भी एंजाय कर रही है.

काव्या: अर्रे अनुज, आप मेरा दर्द नही समझ रहे. आपको पता है प्रतीक मेरी कितनी बुरी तरह चुदाई करते थे. मेरी साँस अटक जाती थी. पूरी रात मैने 2-2 लंड खाए है.

अनुज: तो तुमने एंजाय भी किया ना.

काव्या: वो सब तो है, पर आप मेरे एक-एक दर्द का बदला लेना. जब मेरे पीरियड्स आ जाए तो सेजल की ऐसी चुदाई करना, की प्रतीक का भी आपके जैसा हाल हो. सेजल को आप ऐसा सुख देना, की वो प्रतीक से ज़्यादा आपको याद करे.

मेरी बात सुन कर मेरे पति एग्ज़ाइटेड हो गये. उन्होने मुझे हग किया और मेरे लिप्स चूसने लगे. मैं भी उनको पूरा रेस्पॉन्स देने लगी. मैने नोटीस किया की अब उनका लंड खड़ा होना शुरू कर दिया था. मैने उस रात उनके साथ कुछ 1 अवर तक चुदाई करी. ये भी फील किया मैने की अनुज का अब स्टॅमिना बढ़ गया था.

वो अपनी चुदाई की स्ट्रेंत पर ध्यान देने लगे थे. मैने और सेजल ने जिम जाय्न कर लिया था. वाहा हम दोनो के बहुत से फ्रेंड्स बन गये थे. वाहा के बाय्स हम दोनो को देख कर आहें भरते थे. हमारे साथ किसी ना किसी बहाने से बातें करने को चले आते थे.

ऐसे ही सॅटर्डे नाइट हम चारो मेरे फ्लॅट पर डिन्नर कर रहे थे. अब वीकेंड पर हमारा खाना साथ में होने लगा था. तो हम सब ऐसे ही कॉज़ली बात कर रहे थे. बातों ही बातों में हम सब नॉटी होने लगे.

अनुज: प्रतीक आज सॅटर्डे है, और कल तो छुट्टी है, तो आज रात को बहुत कुछ कर सकते है.

प्रतीक: हा यार तुमने तो मेरे मूह की बात चीन ली. मैं भी यही सोच रहा था. वैसे कंपनी जाय्न करने के लिए अब तो सेजल भी रेडी है.

सेजल: हा, 4-5 नाइट तो आप सब को मेरी कहा याद आई ( मेरी और देख कर). इतना सेक्सी पटाखा जो मिल गया था.

अनुज: सेजल डार्लिंग तुम भी कुछ कम नही हो. मैने तो तुम्हे बहुत मिस किया.

सेजल (अनुज को फ्लाइयिंग किस करते हुए प्रतीक को चिढ़ा रही थी): देखा प्रतीक, अनुज मुझे मिस कर रहे थे. आपको तो (मेरी और इशारा करते हुए) बस ये काव्या मिल जानी चाहिए. काव्या तुमने तो मेरे पति को पूरा पागल बना दिया है (और वो हासणे लगी).

मैं भी प्रतीक की गोदी में बैठ कर बोली: ठीक है ना, तो मैं तेरा पति रख लेती हू, तुम मेरा वाला रख लो. 4 दिन अछा लगेगा. ये तो कभी-कभी नया मिलता है, इसीलिए अछा लगता है (अनुज समझ गये की हमारा प्लान एक्सेक्यूट करने का टाइम आ गया था).

अनुज: बात तो सही कही काव्या तुमने. हमे अब और नये लोगों से दोस्ती बढ़ानी चाहिए.

प्रतीक: सही बात है. अब तो मैं भी एग्ज़ाइट हू नये लोगों से मिलने और एंजाय करने के लिए.

सेजल: बुत गाइस ये कुछ ज़्यादा हो रहा है अब. आप लोगों को नही लगता उसमे रिस्क है, और हम कभी बुरी तरह फ़ासस सकते है?

अनुज: बात तो सही है. हम कुछ सोच समझ कर फैंसला करेंगे. मुझे तो आप दोनो से आज बहुत कुछ एक्सपेक्टेशन्स है.

सेजल (नॉटी स्माइल पास करते हुए): मैं आप दोनो को एक साथ फील करना चाहती हू.

अब सेजल खड़ी हुई और मेरे पास आ कर मेरा हाथ पकड़ लिया और प्रतीक के गाल पर किस किया और कहा: काव्या चलो रेडी हो जाते है. आज रात फोरसम करेंगे.

सेजल की बात सुन कर वो दोनो एग्ज़ाइटेड हो गये. हम दोनो रेडी होने चले गये. मैने पिंक कलर का बेबी डॉल ड्रेस पहना था. मेरा 34-28-36 का फिगर अफ. और सेजल ने लाइट ब्लू कलर की बेबी डॉल निघट्य. उसका भी 36-30-38 का फिगर था. मैं तो उसकी सेक्सी गांद देख कर ही गीली हो रही थी.

दोनो ने हल्का मेकप भी किया और हेर खोल दिए. उस रात हमे कोई देख लेता तो हमारी चुदाई के बिना रह नही पाता. या हमारी फोटो भी देख कर लंड हिलाए बिना सो नही पाता. हमने एक-दूसरे की बहुत सी पिक्स खींची. हम दोनो ने ऑनलाइन बहुत से सेक्स टॉय और प्रॉडक्ट्स मंगवा लिए थे, जिसके साथ हम एंजाय कर सके.

हम दोनो ने गांद के च्छेद के अंदर बट प्लग्स डाल दिए थे. जिससे हमारी गांद का च्छेद खुल जाए, और हमे दर्द ना हो. हम दोनो रेडी हो कर बाहर आए तो अनुज और प्रतीक ने वोड्का की बॉटल खोल के रखी थी. हम दोनो को देख कर उनका मूह खुल गया. दोनो पागल बने जेया रहे थे, और बॉक्सर के उपर से लंड मसालने लगे थे.

मैं अनुज की गोदी में बैठ गयी और सेजल उसके पति प्रतीक की गोदी में. अनुज और प्रतीक ने ऑलरेडी एक-एक पेग लगा लिया था. हम सब ने फिर एक-एक और पेग लगा लिया. थोड़ी देर के बाद मुझे हल्का नशा होने लगा, और अब मुझे चुदाई का मॅन भी करने लगा. मैं अपने आप गीली होने लगी थी. मैने मदहोशी में मेरे हज़्बेंड अनुज के लिप्स पर लिप्स रख दिए, और उसको किस करने लगी.

मुझे देख कर प्रतीक भी उसकी बीवी सेजल को किस करने लगा. कुछ 10 मिनिट तक मुझे और सेजल को हमारे हज़्बेंड ने आचे से चूसा था. दोनो हमारी गांद सहलाने लगे थे.

अनुज: आज तो आप दोनो बहुत ही सेक्सी लग रही हो. कभी सोचा नही था साथ में ऐसे एंजाय करेंगे.

प्रतीक: सही कहा दोस्त. हम दोनो बहुत लकी है जो हमे आप दोनो जैसे नेबर मिले है.

सेजल: हा दोनो बहुत क्यूट है. मुझे तो दोनो से प्यार हो गया है (सेजल फिर से प्रतीक को किस करने लगी).

अब वो दोनो सोफा पर बैठ गये थे, और हम दोनो उनकी गोदी में बैठ कर किस कर रही थी. अब हमने खड़े हो कर हमारे हज़्बेंड की त-शर्ट और बॉक्सर उतार कर नंगा कर दिया. फिर उनको बिता कर उनके लंड चूसने लगी. मैं प्रतीक की और देख कर अनुज का लंड चूस रही थी, और मुस्कुरा रही थी. इससे प्रतीक उत्तेजित हो रहा था. हम दोनो के बूब्स बेबी डॉल निघट्य में बहुत सेक्सी दिख रहे थे.

सेजल के बूब्स पर तो ग्रीन लाइन दिख रही थी. उसको देख कर तो मेरी हालत खराब हो रही थी. मॅन कर रहा था दबोच कर खा जौ. थोड़ी देर बाद लंड चूसने के बाद मैं खड़ी हुई, और अनुज को मेरी गांद दिखा कर मेरी पनटी उतार दी. जब मैने पनटी उतरी, तो दोनो को मेरी गांद में लगा प्लग दिख गया, जिस पर पिंक कलर का डाइमंड लगा था.

अनुज: श मी गोद डार्लिंग, ये क्या है (ऐसा कहते हुए उन्होने मेरी गांद से बट प्लग निकाल दिया. वो कुछ 3 इंच लंबा था)? ओह बेबी तुम तो बहुत अड्वॅन्स्ड हो गयी हो.

काव्या: अर्रे जान, आप दोनो को मेरी गांद मारने में परेशानी ना हो, इसी लिए लगाया है.

अब अनुज ने बट प्लग फिरसे गांद के च्छेद में घुसा दिया, और मेरी आ निकल गयी. अब उन्होने पीछे से मेरी छूट छोड़ना शुरू कर दिया. मैं बहुत हॉर्नी हो गयी थी, तो ऐसे ही झाड़ गयी. हमारी चुदाई में पच पच आवाज़ आ रही थी, जिससे सेजल और प्रतीक भी उत्तेजित हो गये. अब सेजल ने भी पनटी उतरी तो उसकी गांद में ब्लू डाइमंड के साथ प्लग दिख गया.

प्रतीक: वाउ बेबी, आप दोनो तो सब कुछ माचिंग रख रहे हो. प्रोग्रेस्सिओनल हो गये हो.

सेजल: अब तो सब कुछ पर्फेक्ट्ली एंजाय करना है. ये तो अभी शुरू हुआ है, आयेज तो बहुत सर्प्राइज़ है.

सेजल भी प्रतीक की गोदी में बैठ कर लंड पर उछालने लगी. प्रतीक ने सेजल का बेबी डॉल का स्ट्रॅप उतार दिया, और उपर से पूरा नंगा कर दिया. प्रतीक अब उसके बूब्स बारी-बारी चूस रहा था. उसने मेरी निघट्य में हाथ डाल मेरा भी एक बूब दबा दिया. ये देख कर अनुज सेजल के बूब्स पकड़ कर दबाने लगा.

दोनो एक-दूसरे की वाइफ के जिस्म के मज़े ले रहे थे. और ऐसे ग्रूप में चुदाई करना बहुत एग्ज़ाइटिंग लगता है. मैने सेजल के लिप्स पर किस करना शुरू कर दिया. हम दोनो की छूट में लंड था, तो दोनो मोन कर रही थी. फिर बीच-बीच में लिप्स को काट रही थी. मैं प्रतीक की आँखों में देख रही थी.

मुझे नशा हो गया था. अब प्रतीक मेरे बालों को खींच कर मुझे ज़ोर से स्मूच देने लगे. ये देख कर अनुज ने मेरी चुदाई की स्पीड बढ़ा दी. थोड़ी देर के बाद सेजल उसके हज़्बेंड प्रतीक की गोदी से उतार कर उसका लंड चूसने लगी. मैने भी उसके साथ प्रतीक का लंड शेर किया. दोनो बारी-बारी उसके लंड को गीला कर रही थी.

2-3 मिनिट के बाद अनुज ने मेरी छूट से लंड निकाला, और सेजल के मूह में घुसा दिया. वो उसके मूह की चुदाई करने लगे. मैं भी घुटनो पर बैठ कर प्रतीक का लंड चूसने लगी. अनुज ने कुछ 5 मिनिट तक बेरेहमी से सेजल के मूह की चुदाई करी. तब तक मैं प्रतीक की गोदी में बैठ कर उसके लंड पर उछाल रही थी.

अनुज का टॉर्चर देख कर मैं खुश हो रही थी. प्रतीक के मूह पर उसका गुस्सा दिख रहा था. और मुझे वो बहुत एग्ज़ाइट कर रहा था. सेजल की आँखों से आसू निकल गये. अनुज ने उसके बाल पकड़ कर कुछ सेकेंड तक पूरा लंड गले में फ़ससा दिया. जब सेजल को साँस लेने में तकलीफ़ हुई, तब वो दोनो हाथ पताकने लगी.

उसको देख कर ऐसा लगा रहा था जैसे जल बिन मनचली तड़प रही हो. अनुज ने एक झटके में लंड बाहर निकाला. तब वो ज़ोर-ज़ोर से साँस लेने लगी. ये सब देख कर प्रतीक का गुस्सा बढ़ रहा था और वो मुझे घोड़ी बना कर मेरी छूट पर उसका गुस्सा निकाल रहा था.

अनुज: सेजल मेरी जान कैसा रहा?

सेजल: बेबी तेरा टॉर्चर, हाए मेरी जान ही निकल गयी थी. बहुत मज़ा आया, ऐसा एक्सपीरियेन्स तो प्रतीक ने भी नही दिया (उसने प्रतीक की और देख कर अनुज के लंड पर किस किया). मुझे तो अब इसी लंड से चूड़ना अछा लगता है.

सेजल की बातों से जो प्रतीक को जो जेलासी हो रही थी. उसका पनिशमेंट मुझे मिल रहा था. प्रतीक मेरे बाल पकड़ कर मेरी छूट मारने लगा. सेजल भी अपने पैर फैला कर लेट गयी, और अनुज ने उसकी छूट चाटनी शुरू कर दी. प्रतीक भी तक गया था, तो वो भी मेरी छूट पर जीभ रख कर चाटने लगा.

तो बे कंटिन्यूड…

यह कहानी भी पड़े  लड़की ट्रेन में चढ़ी, फिर तीन लंडो पे चढ़ी


error: Content is protected !!