वियाग्रा की तड़प में वीणा दीदी हुई चुदाई की दीवानी

हेलो दोस्तों मेरा नाम अमित है और मैं पंजाब में रहता हूं. यह स्टोरी उस समय की है जब मैं बारहवीं में पढ़ता था और मुझे अच्छे मार्कस लाने के लिए स्पेशल ट्यूशन लेनी पड़ती थी.
मेरी ट्यूशन वाली दीदी का नाम विणा था और वह तब 26 साल की थी. विणा दीदी बहुत होशियार थी और वह बहोत ही सुंदर भी थी. क्योंकि वह पढ़ाई ज्यादा करती थी तो उनका कोई बॉयफ्रेंड नहीं था और वह 26 साल की उम्र में भी वर्जिन ही थी. विणा दीदी काफी सेक्सी और हॉट भी थी और फिर भी मुझे उन्हें दीदी बोलके बुलाना पड़ता था. विणा दीदी के फादर नहीं थे और वह अपनी मम्मी के साथ रहती थी.

बात उस टाइम की है जब मैं बारहवीं में था और ठंडी की छुटी के दिन चल रहे थे. तब ठंड बहुत ज्यादा पड़ रही थी और मेरी ट्यूशन का टाइम शाम को 6:00 से रात के 8:00 बजे का था. मुझे नई नई जवानी आई थी और मेरा इंटरेस्ट लड़कियों के बॉडी पार्ट्स पर ज्यादा जाने लगा था.

में रोज ट्यूशन में अपनी बुक्स से ज्यादा दीदी की फिगर और बूब्स को देखता था. कई बार तो उन्होंने मुझे देख भी लिया था, पर उसने हर बार मेरी भूल को स्माइल कर के इग्नोर कर दिया. गर्मी की छुट्टियो में दीदी की एक कजिन की दिल्ली में शादी थी. मेरी ट्यूशन की वजह से उन्होंने जाना कैंसल कर दिया, क्योंकि शादी में 3-4 दिन लगने वाले थे.

तो आंटी अकेली चली गई और मेरी मम्मी को दीदी का ख्याल रखने को कह दिया. तो मेरी मम्मी ने भी मुझे बोल दिया कि रात को तुम टूशन खत्म होने के बाद विणा दीदी के घर ही रुक जाया करना, और सुबह अपने घर पर वापस आ जाना. मैंने मां से कहा ठीक है और यह सुनकर मैं मन ही मन बहुत खुश हुआ की अब तो में दीदी के इतने नजदीक रहूँगा तो में कुछ कोशिश तो कर ही सकता हु और काम बन गया तो अपनी तो गाडी चल पड़ेगी.

यह कहानी भी पड़े  कॉलेज के लड़कों ने मुझे चोदकर रंडी बनाया

अगले दिन में दीदी के घर पर ट्यूशन के लिए पहुंचा तो मेरे मन में अजीब वासना थी. विणा दीदी के घर पर पहुंचने के बाद मैंने देखा की आज दीदी ने लाइट टी शर्ट और स्कर्ट पहनी थी. उसने पहनी हुई टी शर्ट थोड़ी टाईट थी और उसकी स्कर्ट बहुत ही शोर्ट थी. उन्हें इतनी सेक्सी ड्रेस में देखते हि मेरा लंड खड़ा हो गया और में मन में ही मन सोचने लगा की हे भगवान आज मेंरी लाइन ओल क्लियर कर देना.

फिर मैने जल्दी से अपना खड़ा लंड सेट कर दीया, दीदी की नजर शायद मेरे इस हरकत को देख चुकी थी. उन्होंने फिर से स्माइल कर दी, मुझे कुछ अटपटा लगा.

जब दीदी मुझे पढ़ाने लगी तो वह जब भी थोड़ा जुक कर लिखती तब उनके बूब्स की क्लीवेज मुझे दिख जाती. मेरे मन में उसके लिए वासना और भूख बढ़ने लगी और मेरा लंड फडफडाने लगा. मैं सोचने लगा की दीदी को कैसे चोदु.
अब में तो ट्यूशन के बाद में वह रुकने वाला था, और कुछ टाइम घूमने चला गया ७:४५ के करीब. मैंने नेट पर सर्च किया की लड़कियों को कैसे सिड्यूस करते हैं. मुझे पता चला की वियाग्रा से ऐसा हो सकता है. सो मै स्टोर पर गया और वियाग्रा की टेबलेट ले ली. फिर मैने एक जूस की एक बोतल ली और वियाग्रा की गोली उसमें मिला दी. फिर मैं वापस विणा दीदी के घर आ गया और मैंने जूस उनको पीने को दिया. फिर दीदी ने बड़ी ख़ुशी से जूस पी लिया.

यह कहानी भी पड़े  पहले प्यार का पहला सच्चा अनुभव-1

फिर मैं किचन में पानी पीने गया १० मिनट के बाद तो वापिस आने पर देखा दीदी वहां नहीं थी. मैं उनके घर की तरफ गया तो दिदी का रूम का दरवाजा बंद था पर वह लोक नहीं था. मैंने धीरे से दरवाजा खोला तो देखा की दीदी बेड पर लेटी हुई थी, और वह अजीब अजीब सी आवाज निकाल रही थी, और अपनी स्कर्ट के अंदर बार बार अपना हाथ डालते हुए उसे मसल रही थी. उनकी आंखें बंद थी और वह औउ अह्ह्ह अह्ह्ह औऊ अह्ह्ह अम्म्म ओह्ह आह्ह औज्ज ईई अह्झ्ह्ह जज्ज मम्म अह्ह्ह उह्ह्ह उम्म्म ओह्ह ओंम्म्म्म कर रही थी. मैं समझ गया की वियाग्रा ने दीदी को तड़पा दिया है सेक्स के लिए.

मैं यह मौका गवाना नहीं चाहता था. तो मैं भी बहोत जल्दी से उनके पास गया और बोला क्या हुआ दीदी आपको? तो वह डर गई और अपना हाथ स्कर्ट से निकाल दिया और कहने लगी कुछ नहीं. मैंने बोला कुछ तो हुआ है प्लीज बताओ.

तो वह कुछ भी नहीं बता रही थी और वियाग्रा का फुल असर होते ही उनसे रहा नहीं गया, और उन्होंने फिर स्कर्ट में हाथ डाल दिया और चूत को सहलाना शुरू कर दिया और वह भी मेरे सामने. इधर मेरा लंड यह सब देख कर मेरी निकर को फाड़ कर बहार निकलने की कोशिश करने लगा.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!