वियाग्रा खिला कर ताकि हुई मम्मी की चुदाई कहानी

1 रौंद के बाद मम्मी थोड़ी देर लेट जाती है. नाइट के 12:30 बाज रहे होते है.

मम्मी: मैं तक गयी हू, अब और नही कर सकती. आप भी कपड़े पहन कर गेस्ट रूम में जेया कर सो जाओ.

सिर: प्लीज़ अर्चना, 1 रौंद और.

मम्मी: प्लीज़ अब नही. मॉर्निंग में मौका मिला तो देख लेंगे.

और ये कह कर मम्मी बातरूम में चली जाती है.

प्रिन्सिपल सिर: यार आदित्या, इतना शानदार माल तो मैने आज तक नही छोड़ा. मॅन कर रहा है इसको घोड़ी बना कर रात भर छोड़ता राहु. क्या फिगर है साली का.

आदित्या सिर: लेकिन अब करे क्या?

प्रिन्सिपल सिर: यार एक काम कर, मेरे बाग में वियाग्रा की 4 टॅब्लेट्स का एक पॅकेट और है. अपने लिए पानी ले आ और 2 टॅबलेट इस रंडी के ग्लास में मिला दे, और 1-1 अपने ग्लास में.

मुझे सिर के द्वारा मम्मी को रंडी बोलना बुरा लग रहा था. लेकिन करता भी क्या? मैं तुरंत अपने रूम में चला गया, क्यूंकी आदि सिर पानी लेने किचन में जाने वाले थे. और वैसे भी मुझे अंडरवेर बदलनी थी.

जैसे ही किचन की लाइट बंद होती है. मैं चुप-छाप फिरसे मम्मी के बेडरूम की विंडो से अंदर देखता हू. मम्मी गाउन पहने बैठी होती है. उन्होने ब्रा पनटी नही पहनी थी, और वो दोनो सिर्फ़ अंडरवेर और बनियान में बेड पर बैठे होते है.

मम्मी पानी पीते हुए: थॅंक्स आदि, अब आप भी सो जाओ. 1 बाज गया है, गुड नाइट.

और मम्मी बेडशीट चेंज करके सोने की तैयारी करने लगती है. ये सुन कर मैं अपने बेडरूम में आता हू, और चुप-छाप से लेट जाता हू, और मोबाइल देखने लगता हू. 1 घंटे बाद मुझे अचानक से हल्की सी कुण्डी खुलने की आवाज़ आती है.

मैं धीरे से गाते खोल कर देखता हू तो मम्मी गेस्ट रूम में जाती हुई दिखती है. मैं समझ गया टॅबलेट का असर हो गया था. मेरे बेडरूम और ग्वेस्टर्म के डोर के बीच विंडो है, जो मेरे बेडरूम के गाते से 10 इंच की दूरी पर है. जिसमे से अगर लाइट ओं हो, और परदा नही लगा हो, तो अंदर का पूरा नज़ारा सॉफ दिखता है. गेस्ट रूम का गाते खुला होता है. अगर कोई बाहर निकलता है तो मैं झट से अपने कमरे में जेया सकता हू.

गेस्ट रूम में दोनो सिर अभी जागे होते है. शायद उनको पता है उनकी टॅबलेट काम करेगी. मम्मी उनके बेड पर बैठ जाती है, और अपने हाथो से बूब्स को मसालने लगती है. उनको देख कर दोनो सिर मुस्कुराने लगते है.

मम्मी: मेरा सेक्स का बहुत मॅन कर रहा है. मुझे अभी और चूड़ना है. प्लीज़ मुझे छोड़ो.

ये कह कर मम्मी अपना गाउन निकाल देती है और पूरी नंगी हो कर दोनो के बीच में लेट जाती है. मम्मी दोनो का एक-एक हाथ पकड़ कर अपने बूब्स पर रख देती है. दोनो सिर भी अब मम्मी के बदन पर टूट पड़ते है, और मम्मी के बूब्स दबाने लगते है.

कभी मम्मी के निपल्स को मसालते है, तो कभी होंठो को चूस्टे है, तो कभी मम्मी की छूट को रगड़ते है. 15 मिनिट बाद मम्मी खड़ी हो कर दोनो के अंडरवेर निकाल देती है, और घोड़ी बन कर बारी-बारी से दोनो के लंड चूसने लगती है.

मम्मी बीच में होती है, और मम्मी की गांद दोनो सिर की और होती है, जिस पर दोनो सिर हाथ फेरते रहते है. कभी मम्मी की छूट को मसालते है, तो कभी मम्मी के हिप्स पर लप्पड़ मारते है.

10 मिनिट बाद मम्मी थोड़ी आयेज हो कर आदि सिर के उपर आ कर आदि सिर के लंड को पकड़ती है, और अपनी छूट में सेट करके बैठ जाती है. लंड मम्मी की छूट को चीरता हुआ पूरा चला जाता है. मम्मी उछालने लगती है. पीठ आदि सिर की तरफ होती है.

मम्मी आआहह आअहह की आवाज़े निकालते हुए चूड़ने लगती है. कमरा फिरसे ठप-ठप की आवाज़ो से गूंजने लगता है. प्रिन्सिपल सिर भी बेड से उतार कर मम्मी की तरफ जाते है, और खड़े-खड़े ही लंड को मम्मी के मूह में घुसा देते है.

अब मम्मी भी लंड चूस्टे हुए चुदाई का मज़ा लेने लगती है. 5 मिनिट बाद मम्मी लंड को मूह से निकाल कर जल्दी-जल्दी कुल्हों को उपर तक उठा-उठा कर लंड पर पताकने लगती है, और आह ह करते हुए अपना पानी छ्चोढ़ देती है. इससे आदि सिर का लंड भीग जाता है. आदि सिर को भी होश आ जाता है, और वो दोनो हाथो से मम्मी के कुल्हों को उपर उठाते है, और खुद के खुल्हों को उठा-उठा कर तेज़ी से छोड़ने लगते है. मम्मी के पानी की वजह से लंड और छूट दोनो गीले हो जाते है.

आदि सिर आहह आहह आअहह की आवाज़ निकालते हुए अपना पूरा पानी मम्मी की छूट में छ्चोढ़ देते है. दोनो अलग हो कर लेट जाते है, और हाँफने लगते है. उधर प्रिन्सिपल सिर अपना फौलाद जैसा लंड लेकर खड़े होते है, और मम्मी को घोड़ी बनने की कहते है.

मम्मी: प्लीज़ 10 मिनिट रुक जाओ.

ये सुन कर मैं भी रिलॅक्स होने अपने बेडरूम में चला जाता हू. 10 मिनिट बाद अचानक मुझे ठप-ठप की आवाज़ सुनाई दी. मैं विंडो से देखता हू, आदि सिर मोबाइल में लगे रहते है, और प्रिन्सिपल सिर मम्मी को घोड़ी बना कर मम्मी के गुब्बारे जैसे कुल्हों पर लप्पड़ मारते हुए छोड़ रहे होते है.

मम्मी हल्की-हल्की सिसकियाँ लेती हुई, और तकिये को दोनो बूब्स के बीच में दबा कर चुदाई के मज़े लेने लगती है. कमरे से ठप-ठप की आवाज़े आने लगती है. मम्मी के कूल्हे लाल हो जाते है. थोड़ी देर बाद सिर मम्मी की जांघों में हाथ डाल कर गोद में उठा कर खड़े हो जाते है, और मम्मी भी सिर के गले में हाथ डाल कर चिपक जाती है.

वो इस पोज़िशन में 1 मिनिट तक मम्मी को छोड़ते है. शायद पहली बार मम्मी इस पोज़िशन में चूड़ी होगी.

प्रिन्सिपल सिर: मैं तक गया हू, अब आप उपर आ जाओ.

सिर लेट जाते है और मम्मी सिर की कमर के दोनो और पैर रखती है, और लंड को पकड़ कर छूट पर सेट करती हुई बैठ जाती है. इस पोज़िशन में लंड छूट की गहराई तक चला जाता है, जिससे मम्मी के मूह से आअहह की आवाज़ निकलती है.

अब मम्मी लंड पर उछालने लगती है, और साथ ही मम्मी के बूब्स भी हवा में उछालने लगते है, और रूम में से फिर ठप ठप की आवाज़े आने लगती है. ये सीन देख कर मेरा हाथ अंडरवेर में चला जाता है.

5 मिनिट बाद सिर मम्मी को अपने उपर झुका लेते है, और दोनो हाथो को नीचे ले जेया कर, मम्मी के कुल्हों को उठा कर, खुद के कूल्हे उठा-उठा कर, और मम्मी के होंठो को चूस्टे हुए शॉट मारने लगते है. 15 मिनिट तक दोनो अलग-अलग पोज़िशन में लगातार सेक्स करते है. बुत अभी तक किसी का पानी नही निकलता है.

मम्मी: मेरी छूट में जलन हो रही है. प्लीज़ तोड़ा सा थूक लगा लो.

प्रिन्सिपल सिर मम्मी को सीधा लिटते है. मम्मी दोनो टांगे खोल कर हवा में उठा लेती है, और मूह से थूक लेकर छूट पर लगती है. सिर भी खूब सारा थूक लेकर खुद के लंड पर लगते है.

फिर लंड को छूट पर सेट करके एक ज़ोरदार शॉट मारते है. लंड छूट में गॅप से घुस जाता है, और मम्मी की चीख निकल जाती है. सिर मम्मी की चुदाई शुरू करते है. लेकिन थकान की वजह से धीरे-धीरे धक्के मारते है. फिर 1 मिनिट बाद.

मम्मी: मेरा निकालने वाला है, प्लीज़ ज़ोर से छोड़ो.

ये सुन कर सिर को जोश आ जाता है, और अब वो तबाद-तोड़ झटके लगाना शुरू कर देते है.

मम्मी: आअहह आअहह, और ज़ोर से आअहह, और ज़ोर से छोड़ो. निकाल दो मेरी छूट का पानी.

मम्मी आँखें बंद कर लेती है, और दोनो हाथो से बेडशीट पकड़ कर अपनी दोनो टाँगो को पूरा खोल देती है. सिर भी दोनो हाथो से मम्मी के बूब्स मसालते हुए लंबे-लंबे शॉट मार कर मम्मी को छोड़ते है.

2 मिनिट बाद मम्मी सिर को अपनी और झुका कर सीने से लगा लेते है, और वो सिर के होंठो को चूसने लगती है. साथ ही नीचे से उछाल-उछाल कर झटके मारने लगती है.

2 मिनिट बाद दोनो तेज़-तेज़ सिसकारियों की आवाज़ निकालते हुए पानी छ्चोढ़ देते है. 5 मिनिट तक सिर मम्मी के बूब्स के उपर सिर रख कर लेते रहते है, और मम्मी सिर की पीठ और बालों में हाथ फिरती रहती है. 5 मिनिट बाद दोनो अलग होते है, और बेड पर लेट जाते है.

मम्मी: बस अब जान नही है. 2:30 बाज गये. अब मैं सोने चलती हू. आप भी सो जाओ. कल होली भी खेलनी है.

जैसे ही मम्मी निकलती है, उससे पहले में रूम में चला जाता हू. तो ये था नेक्स्ट रौंद. कहानी अची लगी तो मैल करना

इयंध्रुव246@गमाल.कॉम

नेक्स्ट पार्ट में बतौँगा कैसे मम्मी ने होली खेली.

यह कहानी भी पड़े  मामी की प्यास बुझाई ट्रेन मे


error: Content is protected !!