ट्रेन में भाई-बहन के कपड़े उतारे

फिर खुश्बू ने अपना टॉप निकाला. तब उसने एक स्पोर्ट्स ब्रा पहनी थी, पर उसने उपर और कुछ नही पहना था. फिर उसने अपनी लोवर निकली. उसने एक ब्लॅक कलर की पनटी पहनी थी. क्या लग रही थी वो अफ, एक-दूं ज़हर. गोरी-गोरी जांघें, उसपे काली पनटी. मैं तो जैसे हक्का-बक्का रह गया. फिर उसने वो हाफ पंत पहन ली, जो काफ़ी ढीली-ढाली थी. तब तक 11 बाज चुके थे.

मैने बोला: अब क्या करे?

उसने कहा: चलो भाई, लडो खेलते है.

फिर मैं और वो आमने-सामने बैठ गये और लडो खेलने लगे.

तब उसने बोला: भाई हम लोग एक काम करे, जिसकी भी गोटी उडेगी उसको एक डरे करना पड़ेगा.

मैने बोला: ये सही है. टाइम पास भी हो जाएगा.

हम दोनो ने दरवाज़ा बंद किया, और खेलने लगे. हमे कोई डिस्टर्ब करने वाला तो था नही. मेरी पहली बारी में 6 आ गया, और उसका आ ही नही रहा था. जब उसके बॉक्स के सामने मेरी गोटी आई, तब उसका 6 आया. उसने मुझे उड़ा दिया.

मैने बोला: चलो बताओ क्या डरे है?

तब उसने कहा: भाई आप ना 10 पुश उप करो.

मैं एक स्किनी बॉडी वाला बंदा हू. ना मोटा हू, ना ही पतला हू. तब मैने ओक कहा और 10 पुश उप किए. फिरसे ग़मे चालू हुई. अबकी बार फिर उसने मेरी गोटी उड़ा दी. मैने सोचा आज क्या हो गया यार.

फिर मैने कहा: अब क्या करना है?

उसने बोला: आप ना डॅन्स करो चम्माक छल्लो गाने पे.

मैने डॅन्स किया. वो मस्त एंजाय कर रही थी. उस टाइम मेरी नज़र उसके बूब्स पर थी, जिसको उसने नोटीस किया, पर कुछ कहा नही. फिर हम लोग खेलने लगे. इस बार मैने उसकी गोटी उड़ा दी, तो उसने कहा-

खुश्बू: भाई सिंपल देना जो में कर पौ.

मैने कहा: तू भी डॅन्स कर चिकनी चमेली पर.

उसने डॅन्स किया, तब उसके बूब्स उछाल रहे थे, और गंद भी मस्त मटक रही थी. मेरा लंड फिरसे तूफान बन गया. मैं उसे च्छुपाने लगा तो उसने नोटीस कर लिया. हम लोग फिर खेलने लगे. इस बार बारी आई मेरी गोटी की, जो उसने उड़ा दी.

मैने कहा: अब क्या करना है?

उसने कहा: जो बोलूँगी करोगे?

तो मैने बोला: अभी तक नही किया क्या.

तब उसने कहा: अब आप रात भर त-शर्ट उतार के रहेंगे.

मैने कहा: क्या? क्यूँ?

तब उसने कहा: आपने कहा था जो बोलूँगी करोगे.

तो मैने बोला: ओक.

अब मैने त-शर्ट उतार दी, और बैठ गया. हम खेलने लगे फिरसे. इस बार फिर उसने गोटी उड़ा दी.

तो मैने कहा: अब क्या करना है बाबा?

वो हासणे लगी और कहा: आप बार-बार क्या च्छूपा रहे हो.

हम दोनो भाई-बेहन थे, पर एक आचे दोस्त भी थे, और एक ही आगे के थे.

तो मैने कहा: तुझे नही पता क्या च्छूपा रहा है?

और वो हासणे लगी और बोली: अब लगता है आपको फ्री करना पड़ेगा.

तो मैने बोला: नही.

उसने कहा: अब आप त-शर्ट पहन लो, और लोवर निकाल दो.

मैने बोला: वॉट! नही ना यार.

तो उसने कहा: अर्रे भाई करना पड़ेगा डरे है और फुल नाइट सुबा होने तक (उसने ऑर्डर देते हुए कहा).

मैने सोचा आज इसको क्या हुआ. मॅन में तो मैं भी खुश था, की बात कहा से कहा चली गयी थी. फिर मैने अपना लोवर निकाल लिया और बैठ गया. मेरा लंड साँप की तरह अंडरवेर में दिख रहा था फुल टाइट. अब बारी मेरी थी. हम ग़मे खेलने लगे. बहुत देर बाद मैने उसकी गोटी उड़ा दी, और मैने एक नॉटी स्माइल देते हुए कहा-

मैं: खुश्बू अब कैसे?

तो वो मूह बना के बोली: भाई नही प्लीज़.

मैने कहा: डरे है, करना पड़ेगा. तो विदाउट हाफ पंत फुल नाइट.

वो ये सुन के शॉक हो गयी और बोली: नही ना भाई, प्लीज़ ना.

मैने बोला: करो जल्दी, खेलना है आगे.

तो वो समझ गयी अब मैं नही मानने वाला था. फिर मूह बना के पंत उतरी और बैठ गयी, और त-शर्ट को खींचते हुए नीचे करने लगी. उसकी गोरी गांद पनटी में से भी सॉफ दिख रही थी. थोड़ी देर में वो कंफर्टबल हो गयी. वो बार-बार देख रही थी की मैं देख रहा था क्या उसे. 2-3 बार देखते हुए उसने भी देखा पर अब वो कंफर्टबल हो गयी.

फिर हमारा ग़मे चल रहा था, और दोनो की लास्ट गोटी बची थी. सडन्ली उसको एक 6 और 4 आ गये. उसने मेरी गोटी उड़ा दी, और अब उसने कहा-

खुश्बू: अब बताओ भाई, क्या करोगे?

मैने कहा: बोल दे अब क्या करू? आधा नंगा तो कर दिया है तूने.

तो वो बोली: पुर हो जाओ.

और फिर हासणे लगी.

मैने बोला: पागल लड़की. सीधे बता क्या करू?

उसने कहा: अब डरे नही, अब आप से एक ट्रूथ पूछना है.

तो मैने कहा: पूच ले.

फिर उसने कहा: सच बताना.

और वो तेज़ साँसे ले रही थी.

उसने पूछा: आपने कभी फिज़िकल किया है?

तो मैने हा कहा.

उसने शॉक होते हुए पूछा: किसके साथ?

मैने कहा: 2 लड़कियों के साथ.

जिनमे से एक के बारे में उसे पता था मेरे कॉलेज की ही लड़की जो मेरी गफ़ थी. मैने उसे बताया उसके साथ. फिर उसने दूसरी का पूछा तो मैने कहा-

मैं: वो मेरे को एक शादी में मिली थी फ्रेंड की. (अगर उसके बारे में आपको जानना हो तो मुझे मैल करे. मैं आपको वो कहानी भी बतौँगा)

तो उसने पूछा: भाई मैने सुना है इसमे मज़ा आता है.

मैने कहा: हा बहुत, जब भी स्ट्रीस हो, उसमे सब से ज़्यादा रिलॅक्स सेक्स करने से ही लगता है.

हमारी बातें चल रही थी. वो भी बातों से थोड़ी-थोड़ी गरम हो रही थी.

उसने कहा: मैने सुना है दर्द होता है.

तो मैने कहा: हा फर्स्ट टाइम में होता है. ब्लीडिंग भी आती है. फिर मज़ा ही आता है सिर्फ़.

वो थोड़ी देर चुप रही, और हमारा ग़मे ख़तम हो गया. वो जीत गयी. फिर वो यही सब सोचते हुए बैठी थी. मैने फोन निकाला और कॅमरा ओं किया, और उसके साथ सेल्फिे लेने लगा.

उसने कहा: भाई नीचे हम लोगों ने कुछ नही पहना. उपर तक ही लो.

हम सेल्फिे लेते हुए करीब आ गये. उसके बूब्स मुझे फील हो रहे थे. मेरा लंड भी खड़ा था, जो उसको 2 बार टच हो चुका था.

उसने कहा: भाई नींद तो इतनी जल्दी आती नही, क्या करे?

मैने बोला: चल मोविए देखते है.

वो बोली: कों सी?

मेरे फोन में बहुत सारी मूवीस है.

मैने बोला: तू ही सेलेक्ट कर.

उसने एक मोविए सेलेक्ट की. हम लोग पहले बैठ के देख रहे थे. फिर कमर दर्द ना हो इसलिए हम सीट पे टेक लगा के दोनो एक-दूसरे से चिपक के देखने लगे. उसकी खुश्बू से मैं और ज़्यादा मोहित हो रहा था. मेरा लंड अपनी मस्ती में था, जिसे वो भी देख रही थी. कुछ देर में मोविए में एक बोल्ड सीन आ गया, जिसको देख के वो थोड़ी और गरम हो गयी.

मइए उसकी तरफ देखा, उसने मेरी तरफ, और हमारी आँखें एक-दूसरे से टकरा गयी. फिर हम एक-दूसरे को किस करने लगे. 1 मिनिट किस करने के बाद हम दोनो होश में आए तो अलग हुए, और चुप-छाप शांत हो गये. ना वो कुछ बोल रही थी, ना मैं. बस फोन की स्क्रीन को देखे जेया रहे थे.

आग तो दोनो तरफ लगी थी, पर रिश्ता बीच में था. थोड़ी देर बाद एक स्टेशन पे गाड़ी रुकी, पर हम लोग चुप बैठे थे.

तब उसने कहा: भाई मुझे फ्रूटी चाहिए.

मैने अपना लोवर पहना, और बाहर गया. फ्रूटी लेके मैं वापस आ गया. मुझे लगा अब तक उसने अपनी पंत पहन ली होगी, पर मैं ग़लत था. वो अभी भी वैसे ही थी पनटी और स्पोर्ट्स ब्रा में थी. मैं अंदर आया और डोर लॉक किया. उसने फ्रूटी पी और बोली-

खुश्बू: भाई आपको मैने डरे दिया था, पंत निकालो.

मैने स्माइल की, और पंत निकाल दी. ग़लती से अंडरवेर भी निकल गया, और मेरा लंड उसके सामने आ गया. जब तक मैं अंडरवेर उपर कर पाता, उसने मेरा 7 इंच का लंबा लंड देख लिया था.

इसका आयेज क्या हुआ, नेक्स्ट पार्ट में. नेक्स्ट पार्ट जल्द ही आएगा, तब तक आपका प्यार मुझ पर बनाए रखे.

यह कहानी भी पड़े  मां और अंकल की मिलीभगत


error: Content is protected !!