थ्रीसम में पति को जलाया बीवी ने

आपने लास्ट पार्ट में पढ़ा कैसे मैने और सेजल ने हमारे हज़्बेंड्स के सामने एक-दूसरे के हज़्बेंड से प्यार का इज़हार किया. और मैं मेरे पति और मेरी पड़ोसन के पति के साथ थ्रीसम चुदाई के लिए रेडी हुई. मुझे मेरी पड़ोसन सेजल, उसके पति और मेरे पति के साथ मेरी दूसरी सुहग्रात के लिए रेडी करने आई. अब आयेज-

सेजल: काव्या तुम कितना अछा ड्रामा कर लेती हो? योउ अरे आ जीनियस. हमारे हज़्बेंड को पता भी नही चला कब तुमने एमोशनली सब कुछ क्लियर कर दिया और दोनो हमारे रिलेशन्षिप के लिए मान गये.

काव्या: अब हम दोनो ने एक-दूसरे के पति के साथ सेक्स कर लिया है. तो रोज़-रोज़ की पर्मिशन लेने से अछा है क्लियर्ली ओपन रिलेशन्षिप में रहना. और हा, मैं तेरे से रियल लोवे करती हू.

सेजल ( मुझे हग करते हुए): ई नो मी बेबी. ई लोवे योउ.

काव्या: लोवे योउ टू मी स्वीटहार्ट. चल अब मुझे आचे से तैयार कर ताकि वो दोनो मुझे देख कर पागल हो जाए, और मेरी जाम कर चुदाई करे. बहुत टाइम से मेरी फॅंटेसी थी की मेरी ऐसी चुदाई हो. आज वो दिन आ गया. आज तो छूट और गांद दोनो में एक साथ लंड लूँगी.

सेजल: आज तो प्रतीक अनुज के सामने ही तेरी गांद का बंद बजा देगा. देखा मैने उन दोनो में इशारों से बातें हो रही थी.

काव्या: सॉरी यार, पर क्या करू, तेरा पति इतनी अची चुदाई करता है. अब तो मुझे रोज़ उसके साथ रहना है. और तुम मेरी जान हो.

अब सेजल ने मेरी अलमारी खोली, और सॅटिन रेड सारी निकली. फिर एक ब्लॅक कलर का ब्रालेट निकाला, और मुझे वो पहना दिया. उसने मुझे तोड़ा लाइट मेकप भी किया और रेड लिपस्टिक करके दी. मैं पूरी हॉट सेक्सी मिर्ची लग रही थी.

सेजल: वाह मेरी जान, आज तो तू स्पाइसी हॉट मिर्ची लग रही है. मॅन कर रहा है तुझे अभी निचोढ़ लू. पर क्या करू, पीरियड्स ना होते तो तुझे जाय्न कर लेती.

सेजल ने बेडरूम सही कर दिया, और गुलाब की पंखुड़ीयान बेड पर सज़ा दी. उसने रूम फ्रेशानर लगा दिया. पूरा सुहग्रात वाला अट्मॉस्फियर क्रियेट कर दिया. वो मेरी चुदाई देख सके इसके लिए उसने मोबाइल में वीडियो रेकॉर्डिंग ओं करके मोबाइल च्छूपा दिया.

थोड़ी देर बाद बेडरूम में अनुज और प्रतीक आए. दोनो मुझे देख कर खुश हो गये. वो एक-दूसरे की और देख कर स्माइल कर रहे थे. मैं नयी-नवेली दुल्हन की तरह शर्मा रही थी. मैं बेड पर मेरे दोनो पैर रख कर बैठ गयी थी.

अनुज: क्या बात है काव्या. तुम तो ऐसे शर्मा रही हो जैसे आज के पहले चुदाई ही ना की हो.

प्रतीक: अर्रे आज उसकी सुहग्रात है, और वो भी एक नही दो मर्दों के साथ. और अनुज क्या बीवी है यार आपकी. मुझसे तो अब रहा नही जेया रहा.

अनुज: अब मेरे अकेले की नही है, अब आपकी भी बीवी है. आज काव्या से सुहग्रात है. किसी और दिन सेजल को मज़ा देंगे.

काव्या: अब दोनो बातें ही करोगे या अपनी बीवी को खुश भी करोगे?

मेरे इतना बोलते ही वो दोनो मेरे पास आ गये. मैं दोनो के बीच में बैठी थी, और शर्मा रही थी. सच काहु तो अनुज के सामने किसी और से छुड़वाने में तोड़ा अजीब फील हो रहा था. मुझे उसके अंदर की जेलासी को आज बाहर निकालना था.

काव्या ( अनुज के एअर को बीते करते हुए): आज आपकी बीवी किसी और से चूड़ेगी, वो भी आपके सामने. आज आप मेरा एक और रूप देखेगे. से पाओगे ना इस दर्द को?

मैने अनुज को आँख मार कर प्रतीक के फेस पर मेरा हाथ घुमा दिया. उसने अपनी आँखें बंद कर ली. मैं अनुज की और देख कर मुस्कुराइ और प्रतीक के लंड पर मेरा हाथ रख दिया. मैं अनुज को तड़पाना चाहती थी. उसके फेस पर तोड़ा गुस्सा दिख रहा था, और मैं उसको और चिढ़ा रही थी.

अब मैने प्रतीक के लिप्स पर मेरी जीभ से छाता, और कंटिन्यूवस्ली अनुज की और देख रही थी. उसका मूह लटक गया था. मैने अनुज के पास जेया कर उसका हाथ पकड़ कर उसको खड़ा किया, और अनुज को पूरा नंगा कर दिया. जेलासी में भी एक मज़ा है. अनुज का लंड पूरा टाइट था. मैं समझ गयी की अनुज ये एक्सपीरियेन्स एंजाय कर रहे थे.

मैने अनुज को बेड पर धक्का मार कर गिरा दिया, और प्रतीक का हाथ पकड़ कर उसको खड़ा कर दिया. मैं अनुज की और देख कर मुस्कुरा रही थी, और प्रतीक के जिस्म से खेल रही थी. और मेरा फेस सेडक्टिव बना रही थी.

प्रतीक समझ गया की मैं क्या करना चाह रही थी. अब मैं और प्रतीक बहुत आचे से लीप किस कर रहे थे. मैं तो उसके लिप्स पर टूट पड़ी थी, और मैं अनुज को आ दिखना चाहती थी की मैं गैर मर्द से चूड़ना कितना एंजाय कर रही थी. तो प्रतीक भी अब बिना कोई हिचकिचाहट के मेरे जिस्म का मज़ा लेने लगा.

अब प्रतीक ने मेरा फेस अनुज की और कर दिया और पीछे जेया कर मेरी नेक पर किस किया. मैं और प्रतीक अनुज से आइ कॉंटॅक्ट बना कर ये सब कर रहे थे. अनुज बहुत गुस्सा हो गया था. उसका चेहरा पूरा लाल हो गया था. उसके फेस एक्सप्रेशन से लग रहा था की वो हम दोनो की पिटाई कर देगा. मैं और प्रतीक ये खेल एंजाय कर रहे थे.

अब प्रतीक ने मेरी सारी के उपर से नीचे से मेरे बूब्स पर हाथ रख दिया, और अनुज की और देख कर मेरे बूब्स प्रेस करने लगा. मैं भी अनुज की और देख कर मेरी गांद प्रतीक के लंड पर घुमा रही थी. अब मैने मेरा एक हाथ पंत के उपर से लंड पर रखा, और उसको सहलाने लगी. प्रतीक ने मेरी सारी का पल्लू गिरा दिया, और ब्रालेट के उपर से बूब्स दबाने लगे. मैने अपनी आँखें बंद कर ली, और ये सुख को महसूस करने लगी.

पति के सामने गैर मर्द से चुदाई करने में एक और मज़ा है. प्रतीक मेरी बॅक पर किस कर रहा था, और उसने मेरी ब्रालेट को निकाल दिया. अब मैं उपर से पूरी नंगी थी. प्रतीक ने मुझे सीधा किया, और मेरे दोनो बूब्स अनुज को दिखा कर चूस रहा था. साथ में वो मस्त बूब्स है ऐसा इशारा भी दे रहा था.

उससे अनुज को और गुस्सा आ गया. अब मुझे महसूस हुआ की कुछ ज़्यादा ही हो रहा था, तो मैने अपने आप को प्रतीक से अलग किया, और मेरी सारी उतार दी. मैं पूरी नंगी हो गयी. अब मैने अनुज के पास जेया कर उसको कहा-

काव्या: क्या हुआ बेबी, जलन हो रही है, ये अपना पड़ोसी मेरी चुदाई कर रहा है तो?

अनुज: हा, लेकिन इस जलन में भी मज़ा आ रहा है. कभी सोचा नही था ऐसा भी एक दिन आएगा. बहुत अछा फील हो रहा है. इट’स वेरी सेक्सीयेस्ट एक्सपीरियेन्स. अब तो मैं तुझे और लोगों से भी चड़वौनगा.

अनुज की बात सुन कर मैं और हॉर्नी हो गयी, और अनुज को लीप किस कर दिया. मैं अनुज की नेक को चाटने लगी. मैं ये सोच में पद गयी की अनुज और मुझे किसके साथ छुड़वाना चाह रहा था. अनुज की एक बात से मैं बहुत ही गरम हो गयी.

अब मैने अनुज को बेड के कॉर्नर पर बिता दिया, और नीचे झुक कर लंड चूसने लगी. प्रतीक को अब मेरी छूट और गांद उसके सामने दिख रही थी, तो उसने घुटनो पर बैठ कर मेरे पीछे से मेरी छूट चाटनी शुरू कर दी. प्रतीक ने मेरी छूट चाट-चाट कर पूरी गीली कर दी.

मैं थोड़ी देर मैं काँपते हुए झाड़ गयी. मैने अब मेरे मूह से अनुज का लंड निकाला, और खड़ी हो गयी. फिर प्रतीक को लीप किस कर रही थी. मुझे एक साथ बहुत से टेस्ट फील हो रहे थे. प्रतीक का, मेरी छूट का, और अनुज के लंड का. इस किस में प्रतीक बहुत ऑक्वर्ड फील कर रहा था. मैं भी उसको अनुज के लंड का उसके मूह में फील दे रही थी.

आपको नेक्स्ट पार्ट में बतौँगी की कैसे मेरी छूट और गांद एक साथ लंड से भर जाती है. आपको स्टोरी अची लगे तो प्लीज़ कॉमेंट करिए. मुझे आपके कॉमेंट्स की वेट रहती है.

यह कहानी भी पड़े  मॅरीड सेक्सी टीचर की प्यास जगाने की कहानी


error: Content is protected !!