टीचर ने स्टूडेंट को लंड चुस्वाया

ही मेरा नाम जनवी है, और में 21 साल की हू. ये कहानी मेरी चुदाई की है. इस कहानी में आपको पता चलेगा की मैं कैसे अपने तूतिओं टीचर से रोज़ चुड्ती हू, और उनका लंड चूस्टी हू. तो शुरू करते है आज की कहानी से.

मैं उप में रहती हू, वाहा के एक छ्होटे से शहर में. मेरी आगे 21 साल की है, और मैं देखने में बहुत गोरी हू. मेरे बूब्स का साइज़ 28ब है, हा थोड़े छ्होटे है और मेरे चूतड़ भी मीडियम साइज़ के है.

लेकिन कॉलेज का हर लड़का मेरे छूतदों को निहारता है, और मुझ पर लाइन मारता है. मेरे घर में मेरी मों और पापा ही है. हम 3 लोग घर में रहते है.

ये बात तब की है जब मैं कॉलेज में थी. मैने 1 साल 2 साल तो अची पढ़ाई की, लेकिन कॉलेज के लास्ट एअर मैने कुछ पढ़ाई नही की, और फैल हो गयी. मेरे मों ने मुझे बहुत दांता और मुझे कहा-

मों: अब फैल हुई तो तेरी शादी करा दूँगी. कोई लड़का देखा है मैने.

शादी से बचने के लिए मैने अपने पास के एक प्रोफेसर से टुटीओन लगा ली. वाहा पे कोई ज़्यादा तूतिओं के स्टूडेंट्स नही थे. वो वाकेशन का टाइम था, तो सिर्फ़ मैं अकेली उनके घर जाके पढ़ाई करती थी.

मों के दर्र से मैं वाहा पे जाने तो लग गयी. पर मुझे क्या पता था की ये मेरी ज़िंदगी का एक बुरा डिसिशन था.

मैं आपको बताना तो भूल ही गयी की मेरे सिर एक 40 साल के बुड्ढे आदमी थे. उनका नाम सलीम था, पर मैं उन्हे सलीम सिर कहती थी. उनकी एक बीवी थी, पर वो उन्हे छ्चोढ़ के किसी और आदमी के साथ भाग गयी थी. तब से वो छूट की तलाश में थे. मुझे क्या पता था की मैं उनकी पर्सनल रंडी बनने वाली थी.

तो पहले तो 1 महीने तक उन्होने मुझे बहुत अची तरह से टीचिंग दी, और मेरे एग्ज़ॅम में मार्क्स भी आचे आने लगे. मेरे पापा और मों इससे बहुत खुश थे.

तो उन्होने कहा: अब से तुम दोपहर को रोज़ 3 से 4 पढ़ने जया करोगी.

मैं भी एग्ज़ॅम्स के चक्कर में उनसे पढ़ने जाने लगी, और मॅन लगा के पढ़ने लगी थी.

एक दिन मैं उनका दिया हुआ होमवर्क करना भूल गयी थी.

तो उन्होने पूछा: आज का होमवर्क कहा है?

जनवी: सिर मैं वो आज करना भूल गयी.

सलीम सिर: फिर तो तुम्हे पनिशमेंट मिलेगी इसकी. मैने कहा था की पास होना है तो होमवर्क करना होगा. लेकिन तुमने नही किया.

जनवी: कैसी पनिशमेंट?

सलीम सिर: तुम 1 हफ्ते के लिए घर पे रहोगी और घर से पढ़ाई करोगी.

जनवी: सिर मेरे एग्ज़ॅम है. आप मुझे एक मौका देके देखिए प्लीज़.

सलीम सिर: एक शर्त पे मैं तुम्हे पढ़ा सकता हू.

जनवी: कैसी शर्त सिर?

सलीम: तुम्हे पता है मेरी बीवी मुझे छ्चोढ़ के जेया चुकी है किसी और के साथ. अगर तुम मुझे एक बार मेरा लंड चूस दो, तो मेरा पानी निकल जाएगा, और मैं कुछ नही चाहता

जनवी: सिर आप ये क्या बोल रहे है? मैं आपकी स्टूडेंट हू, कोई आवारा लड़की नही हू.

सलीम सिर: चुप कर रंडी, मुझे पता है तू किन-किन के साथ चुदाई करती है कॉलेज में. मुझे सब पता है रोहन के साथ तू पार्क में उसका लंड चूस रही थी.

जनवी: सिर आपको कैसे पता ये सब?

सलीम सिर: मैं पार्क में दोपहर को सब कुछ देखा रहा था, और तुम दोनो की वीडियो भी बना चुका हू. अगर तुमने माना किया, तो मैं ये वीडियो कॉलेज में फैला दूँगा, और तुम्हारा नाम बदनाम कर दूँगा.

जनवी: सिर ऐसा मत कीजिए. आप जो बोलॉगे वो मैं करूँगी. पर ये वीडियो डेलीट कर दीजिए.

सलीम सिर: अब आई ना रंडी लाइन पे. आज से तू मेरी स्लेव है, और मैं जो बोलूँगा वो तू करेगी, समझी? और तू आज से मेरे हर रूल को फॉलो करेगी समझी तू?

जनवी ( अपने मॅन में कहती है ): मुझे ये सब करना ही होगा. वरना मैं बदनाम हो जौंगी पुर कॉलेज में.

सलीम सिर: जान सोच लो, वरना मैं कॉल करता हू तुम्हारे पेरेंट्स को.

जनवी: रुकिये सिर, मैं तैयार हू. आप जो बोलॉगे वो मैं करने को तैयार हू.

सलीम सिर: आज से तू मेरी रंडी है, और तुझे मेरे हर ऑर्डर को फॉलो करना है.

जनवी: जी सिर.

जनवी परेशन थी, की अब उसको सिर की रंडी बनना पड़ेगा, और क्या-क्या करना पड़ेगा. ये सोच कर जनवी अपने आप को मॅन में कोस्ती है, की मैने पार्क में क्यूँ लंड चुसाई की. ये बात सोच के वो बहुत दुखी होती है.

सलीम सिर: जनवी आके नीचे बैठ, और मेरा लंड चूस रंडी.

जनवी नीचे बैठती है, और सलीम सिर की पंत की चैन खोल के लंड निकालती है. वो लंड देख कर दर्र जाती है, क्यूंकी सलीम का लंड 8 इंच का था, और ऐसा लंड उसने आज तक नही चूसा था.

वो लंड निकालती ही है, की सलीम उसका सर पकड़ के अपने लंड को उसके मूह में दे देता है, और लंड को तेज़-तेज़ आयेज-पीछे करने लगता है. जनवी ने कभी इतना मोटा लंड नही चूसा था, तो वो मुश्किल से चूस रही थी.

सलीम सिर: अब से तू रोज़ ये लंड चूसेगी, और मुजसे अपनी छूट चुडवाएगी, समझी? अगर मैने तुझे किसी और का लंड चूस्टे देखा, तो तुझे नंगी करके सब के सामने छोड़ूँगा. समझी रंडी, आज से तू मेरी रखैल है.

जनवी करीब 10 मिनिट से सलीम का लंड चूस रही थी, और वो तक चुकी थी पूरी. पर उसको लंड जब तक सलीम का पानी ना निकले, तब तक चूसना ही था. तो वो अब पूरी तेज़ी से लंड को चूस रही थी.

सलीम कहता है: तू तो लंड चूसने में बहुत ही अची है. चूस रंडी चूस, और चूस के मेरी गर्मी निकाल दे आज पूरी. 5 साल से चुदाई नही की है, चूस साली रांड़, तू आज से रोज़ मेरा लंड चूसेगी और मेरा माल पिएगी.

सलीम ने ये बोल के अपना माल जनवी के मूह में छ्चोढ़ दिया, और उसके बाल पकड़ के उसको पानी निगलने पर मजबूर कर दिया.

मैं मारती क्या ना करती.

मजबूरी में जनवी क्या-क्या करती है, ये सब अगले पार्ट में आपको पता चलेगा. तो फ्रेंड्स आपको ये पार्ट कैसा लगा कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर बताना. थॅंक योउ आंड बाइ-बाइ.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त की गांड और चचेरी बहन की चूत


error: Content is protected !!