स्टूडेंट की मा की चूत को शांत करने की हॉट कहानी

नरगिस ने मेरे सिर के बालों में हाथ फेरना शुरू कर दिया. और मेरे सिर को अपने बूब्स पर दबाने लगी. मैं उसके दूसरे बूब को हाथो से दबा रहा था, और एक को मूह में लिए था.

नरगिस मेरे सिर को अपने बूब्स पर दबाए जेया रही थी, और मुझे शहोल्दर पर किस कर रही थी. उसकी साँसे बहुत ज़्यादा तेज़ थी.

नरगिस: समीर, ब्रा भी निकाल दो प्लीज़. आंड सक देम हार्डर बेबी.

इतना सुनते ही मैने ब्रा निकाल दी, और दोनो बूब्स मेरे सामने थे. बिल्कुल ही फेर और पिंक निपल्स थे. मैने एक मूह में ले लिया, आंड ई स्टार्टेड सकिंग. मैं उसके निपल्स को कभी मूह में ले रहा था. कभी निपल्स के आस-पास ज़ुबान फेर रहा था.

फिर जैसे ही मैं ज़ुबान फेरता, वो काँप उठती, और ज़ोर से मूह को मेरे दबाती बूब्स पर. नरगिस फिरसे मेरे सिर को दबाने लगी बूब्स में. मेरा सिर घुसा जा रहा था. अब मैं दूसरे बूब को सक करने लगा. करीब 10 मिनिट सक करने के बाद उसने मुझे नीचे कर दिया, और खुद उपर आ गयी.

अब वो मेरी चेस्ट पर किस करने लगी, और काटने लगी. मैं उसके बालों को पकड़ कर सिर को चेस्ट पर दबा रहा था. वो किस करते-करते नीचे गयी, और मेरी बेल्ट को खोलने लगी.

बेल्ट खोल कर उसने पंत को नीचे कर दिया, और अब मैं अंडरवेर में था. उसने मेरे लंड को चू भी नही, और नीचे जेया कर मेरे थाइस को सक करने लगी.

उसका एक हाथ मेरी चेस्ट पर था, और थाइस को मेरे सक कर रही थी वो. ये फील मुझे फर्स्ट टाइम आई थी. दोनो थाइस को सक कर रही थी बारी-बारी और मैं सातवे आसमान पर था. फिर कुछ देर सक करने के बाद उसने अंडरवेर निकाला मेरा, और मेरा लंड हाथ में पकड़ लिया.

नरगिस: उफफफ्फ़ सामीएर, मुझे पता ही था 7 इंच का लंड होगा तुम्हारा. बुत इतना मोटा होगा नही पता था.

मे: तुम्हारा ही है बेबी, लोवे इट.

नरगिस ने अब लंड सक करना स्टार्ट कर दिया. वो नीचे से उपर मेरे लंड को ज़ुबान से चाट-ती, फिर अचानक से उपर जाते ही मूह में लंड को भर लेती. कभी वो मेरी बॉल्स को चाट-ती, और लंड को हाथ से मसालती. कभी लंड को मूह में पूरा भर लेती, तो कभी दोनो बॉल्स को मूह में भर लेती.

मे: नरगिस योउ अरे आ गुड सकर बेबी, अफ.

मैं उसके बालों को पकड़ कर अपने लंड को उसकी हलाक तक पहुँचने लगा. और वो आराम से पूरा लंड मूह में ले रही थी. मेरी आवाज़ निकल रही थी बस उफफफ्फ़ आहह

अब मुझसे रहा नही गया, और मैने उसको उपर से हटाया, और नीचे लिटाया. अब मैने उसका पेटिकोट निकाला नीचे का.
और अब वो पनटी में थी. मैं उसके पैरों की उंगलियों को मूह में लेके चूसने लगा. मैं 5 उंगलियों को बारी-बारी चूस्टा, और थाइस पर उसके हाथ फेरता. वो मछली के जैसे तड़प रही थी.

नरगिस: उफफफफ्फ़ समीर, फर्स्ट टाइम कोई फुट जॉब दे रहा है मुझे. टू गुड यार, कीप इट गोयिंग समीर उफफफफफ्फ़.

ये सुन कर मैं और उसके उंगलियों को चूसने लगा, और चाटने लगा. फिर ऐसे ही दूसरे पैर की उंगलियों को छाता मैने. फिर मैं धीरे-धीरे उसके थाइस को किस करने लगा.

थाइस को किस करते-करते उसकी छूट पर गया मैं. फिर जैसे ही वाहा अपनी ज़ुबान लगाई, वो काँप गयी.

नरगिस: समीर, सक इट हार्डर प्लीज़! बहुत प्यासी हू मैं. सक इट हार्डर बेबी.

मैने अब उसकी छूट में अपनी ज़ुबान डाल दी, और सक करने लगा. पूरी ज़ुबान मैं अंदर डाल लेता, और ज़ुबान से ही छोड़ रहा था उसको. वो मेरे सिर को छूट में पूरी तरह दबा रही थी, ताकि मेरी ज़ुबान पूरी अंदर तक चली जाए. मैं बहुत ही ज़ोर-ज़ोर से अंदर-बाहर कर रहा था ज़ुबान को.

थोड़ी देर बाद उसने मेरे मूह को वाहा से निकाला, और उपर छूट के दाने पर रख दिया.

नरगिस: समीर, यहा सक करो. और उंगली मेरी छूट में डाल दो.

मैने छूट के दाने को सक करना स्टार्ट किया, और छूट में दो उंगलियाँ डाल दी. नरगिस फुल्ल्ल एंजाय कर रही थी अपनी आँखें बंद करके. साँसे बहुत तेज़ थी उसकी.

नरगिस: समीर, बस अब और नही. अब मुझे तुम्हारा लंड चाहिए. प्लीज़ बेबी मत तड़पाव अब.

मैं सुनते ही उठा, और नरगिस के उपर आ गया, और नरगिस की छूट पर अपना लंड रख दिया.

नरगिस: समीर, प्लीज़ धीरे से डालना. मेरी छूट ज़्यादा चूड़ी हुई नही है.

मे: हा बाबू, बहुत धीरे से डालूँगा.

मैने अपना लंड उसकी छूट पर लगाया. मुझे लगा सही लगा था, लेकिन उसने लंड अपने हाथ में लिया, और सही से छूट के होल पर लगाया और आँखों से इशारा किया धक्का मारने

मैने एक धक्का मारा, और जैसे ही धक्का मारा, आधा लंड उसकी छूट में चला गया.
उस्कु आवाज़ बहुत तेज़ आई: समीर… आराम से आअहह.

फिर मैने अपने होंठ उसके होंठो पर रखे, और ज़ोर से एक धक्का और मारा. इस बार पूरा लंड मेरा उसकी छूट में चला गया, और हम दोनो वैसे ही पड़े रहे 2 मिनिट. मैं उसको किस करता रहा.

फिर अचानक से उसने कमर उठना शुरू किया धीरे-धीरे. मैं समझ गया की सिग्नल था. मैने भी धक्के मारना स्टार्ट कर दिया.

अब मैने धक्को की स्पीड बढ़ा दी, और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मार रहा था. वो कमर उठा-उठा कर मेरा साथ दे रही थी.

नागिरस: उफफफ्फ़ आ आ सामीएर बहुत अछा छोड़ रहा है यार. सालों की प्यास बुझा रहा है. असली मर्द है तू समीर.

ये सब बात सुन कर मेरी स्पीड और बढ़ रही थी. मैं धक्के मार रहा था, और उसको किस किए जेया रहा था. नरगिस मेरी चेस्ट पर दाँत काट रही थी. जैसे-जैसे मैं धक्के की स्पीड बढ़ता, वैसे-वैसे मुझे वो दाँत और ज़ोर से काट रही थी. मेरी पूरी चेस्ट पर उसके दाँत के निशान बन गये थे.

नरगिस: समीर तुम नीचे आओ, मुझे उपर आना है.

मे: ठीक है नरगिस, आ जाओ.

अब वो मेरे उपर आ गयी, और मेरे लंड को अपनी छूट में डाल ली पूरा. अब वो अपनी गांद को आयेज-पीछे करने लगी, और मज़े से चुड रही थी मुझसे. मैने उसकी गांद पर हाथ रखा, और आयेज-पीछे करने लगा.

नरगिस: कैसा लग रहा है सामीएर? समीर सक मी बूब्स.

ये कहते हुए वो तोड़ा झुकी, और मेरे सिर के नीचे पिल्लो लगाया, और बूब्स के निपल को मूह में डाल दिया मेरे. और मेरे सिर को अपने बूब्स पर दबा रही थी, और नीचे से छोड़ रही थी कमर हिला-हिला कर.

हम दोनो ही बहुत हाइ थे. दोनो को आवाज़ो से रूम गूँज रहा था. अब उसका पानी निकालने वाला था. उसने मेरे कानो को काटना शुरू कर दिया, और मेरे सिर को बूब्स पर ताक़त से दबाने लगी.

नरगिस: ई आम कमिंग समीर.

और ये कह कर स्पीड बढ़ा दी नीचे से और मेरे सिर को बूब्स पर ज़ोरदार प्रेस करने लगी. मेरे हाथ उसकी गांद पर थे, और मैं ज़ोर-ज़ोर से उसको आयेज-पीछे करने लगा. साथ में मैं उसके निपल्स को काटने लगा.

वो अपने बूब्स को हाथो में लिए कभी रिघ्त, तो कभी लेफ्ट वाला मेरे मूह में डाल रही थी. अब वो एक ही बूब मेरे मूह में डाल के मेरे सिर को दोनो हाथो से बूब्स पर दबाने लगी. मैं समझ गया वो झड़ने वाली थी.

नरगिस: सामीएर, ई आम कमिंग. ई आम कमिंग आहह.

ऐसे ही बोलते-बोलते अचानक से वो शांत हो गयी, और उसका सारा बदन ढीला पद गया. 1 मिनिट तक वो ऐसे ही रही. फिर अचानक से 11:30 का अलार्म बजा.

नरगिस: समीर चलो अब निकलना है. 11:30 हो गये है, 12 की मीटिंग है.

मे: अभी मेरा पानी नही निकला है नरगिस.

नरगिस: समीर हम लाते हो जाएँगे तो इश्यू होगा.

मे: मेरा पानी निकाले बेगैर मैं नही जौंगा.

नरगिस उठी, और मुझे उठाया, और बातरूम में लेके चली गयी. वाहा मुझे खड़ा रखा, और खुद घुटनो के बाल बैठ कर लंड को पूरा मूह में ले लिया उसने. वो ज़ोर-ज़ोर से सक करने लगी, और मेरी कमर पर एबेस को नाइल करने लगी हाथो से.

उसकी स्पीड बहुत ज़्यादा थी. वो एक हाथ को एबेस पर नाइल कर रही थी, और दूसरे हाथ से मेरी बॉल्स के साथ खेल रही थी. फिर अचानक से हाथ में लंड को लेती, और उसको हिलने लगती ज़ोर-ज़ोर से, और बॉल्स को मूह में लेती. फिरसे लंड को मूह में लेती, और ज़ोर-ज़ोर से आयेज पीछे करने लगती. और फिर वो मेरी आँखों में देखने लगी.

मे: नरगिस ई आम कमिंग. कहा निकालु?

नरगिस ने इशारा किया मूह में ही निकाल डू.

मे: आ उफफफ्फ़ और ज़ोर से नरगिस. योउ अरे आ गुड सकर बेबी. वाउ, अमेज़िंग, ई आम कमिंग बेबी.

और मैने सारा माल उसके मूह में निकाल दिया. उसने सारा माल मूह में ले लिया और उसको पी गयी.

नरगिस: समीर 11:46 हो गये है, जल्दी चलो अब.

मे: हा बेबी, तुम फ्रेश हो कर चेंज कर लो. मैं भी करता हू.

हम दोनो साथ मैं फ्रेश हुए, और फिर हम रूम से निकले.

मे: नरगिस मैं तुम्हे कॉलेज गाते से तोड़ा पहले उतार दूँगा बिके से. तुम वाहा से पैदल आ जाना.

नरगिस: ओक बेबी.

कहते हुए एक किस मेरे बॅक पर कर दिया. मैने नरगिस को वाहा उतरा, और मैं पहले कॉलेज गया. फिर थोड़ी देर बाद नरगिस आ गयी, और मीटिंग अटेंड की.

दोस्तो स्टोरी कैसी लगी ज़रूर कॉमेंट करना मेरी एमाइल ईद पर. मी एमाइल ईद इस नदी19891989@गमाल.कॉम. अगली स्टोरी में बतौँगा मैने कैसे नरगिस को मुंबई में उसी के घर पर उसके बच्चो के होते हुए चोदा.

यह कहानी भी पड़े  मई बनी अपनाई बाप की रखैल


error: Content is protected !!