शूटिंग में गरम हुई दीदी की चुदाई कहानी

राहुल और दीदी दोनो ही उस शॉट में बहुत गरम हो चुके थे. डाइरेक्टर के कट बोलते ही दीदी अपना शॉर्ट पहन कर बातरूम की तरफ भागी, और राहुल ने भी अपना अंडरवेर पहना.

उसका लंड शायद 8-9 इंच लंबा था और लगभग 2.5-3 इंच मोटा. वो पानी से पूरा चिकना चमक रहा था. लग रहा था की सीन कट नही होता तो राहुल दीदी को पीछे से छोड़ देता.

उस दिन का शूट ख़तम हुआ, और सब ने टी कॉफी और जूस एट्सेटरा पिए, और हम घर को निकल पड़े. लेकिन हम में से कोई किसी के साथ बात नही कर रहा था. घर जाते ही मैने बातरूम में जेया कर दीदी की ब्लू ब्रा में मूठ मारी.

शाम को खाना खाने के बाद दीदी अपने रूम में सोने चली गयी, और मैं अपने. फिर मैने अपने फोन में दीदी का Wहत्साप्प ओपन किया, तो उस टाइम वो राहुल से चाटिंग कर रही थी.

राहुल: यार आज का सीन बहुत हॉट था और मुस्किल भी.

दीदी: तुम्हारा क्या, मुस्किल तो मेरे लिए था.

राहुल: क्यूँ? मुझे भी तो कपड़े निकालने पड़े. मुझे भी तो एंबॅरस होना पड़ा.

दीदी: वो तो है, कपड़े तो मेरे भी निकाले, लेकिन तुम्हारी वजह से मुझे दिक्कत हुई उसका क्या?

राहुल: मेरी वजह से कैसे?

दीदी: ज़्यादा बनो मत, तुम्हे क्या पता नही. पीछे से धक्के जो लगा रहे थे, और वो भी बिल्कुल नंगे हो कर.

राहुल: वो तो शूट का पार्ट था, मैने क्या जान-बूझ कर किया था?

दीदी: लेकिन तुमने मुझे पीछे से पूरा गंदा कर दिया. पूरा चिप-छिपा सा हो रहा था. वॉशरूम जा कर सॉफ करना पड़ा.

राहुल: ओह, उसके लिए सॉरी.

बुत मैं क्या करता? वो सिचुयेशन ही ऐसी थी. कोई और होता तो तुम्हारे साथ कब का पानी निकाल चुका होता.

दीदी: वो क्यूँ?

राहुल: तुम हो ही इतनी हॉट. तुम्हारे बूब्स दबाने और नंगे हिप्स से छिपकने पर तो किसी का भी पानी निकल जाता.

दीदी: बस करो यार. ऐसी बात मत करो.

राहुल: यार प्रिया, तुम हो ही इतनी हॉट. तुम्हारे बूब्स तो कमाल के टाइट है यार.

तुम्हे तो कोई देख ले तो भी खड़ा हो जाता है. फिर मैं तो तुम्हारे नंगी से चिपका हुआ था. तो सोचो क्या हाल हुआ होगा मेरा.

तुमने तो वॉशरूम में जेया कर सॉफ ही किया. मुझे तो ना-जाने कितनी मेहनत करनी पड़ी

दीदी: ओह मिसटर, रहने दो. बस करो अब, क्यूँ मुझे शर्मिंदा कर रहे हो? तुम्हारा वो पीछे से कितना बड़ा और टाइट था. और मुझे कितनी दिक्कत हो रही थी पता है?

राहुल: खड़े तो तुम्हारे निपल्स भी थे. इतने ज़्यादा एरेक्ट और टाइट निपल्स यार.

दीदी: बस करो राहुल. वो सब बस सीन ही ऐसा था की शूटिंग करते-करते में भी बहक सी गयी थी इसलिए. लेकिन ये सब तो नॅचुरल है.

राहुल: ह्म.

दीदी: तुम तो ऐसे धक्के मार रहे थे, की मुझे दर्र लग रहा था, की कही तुम मेरे अंदर ही ना डाल दो.

राहुल: अगर और कोई जगह होती तो डाल देता. लेकिन वाहा इतने लोगों के सामने नही ना.

दीदी: बकवास मत करो.

राहुल: सच में, बहुत मुस्किल से कंट्रोल किया था यार. तुम्हे क्या पता.

दीदी: चलो ओक, ये सब शूटिंग का पार्ट था. ना तुम्हारी ग़लती थी ना मेरी ओक.

ओर हा, मुझे मोहित के रहते ये सब कंफर्टबल नही लगता. कितना शेंफुल फील हो रहा था. तो कल मोहित को माना कर देना. मैं भी बोल दूँगी.

राहुल: ओक. लेकिन आज सीन शानदार था. मज़ा आ गया.

दीदी: बस करो, ज़्यादा खुश मत हो, अब सो जाओ.

राहुल: ओक, गुड नाइट.

और ये सब पढ़ कर मेरा मॅन कर रहा था की दीदी को मैं ही छोड़ लू. वो मुझे कल साथ भी नही ले जाने वाली थी. तो अब मैने सोचा की क्यूँ ना मैं दीदी के बाद वाहा चला जौ. कोई मुझे रोकेगा तो वैसे भी नही, क्यूकी इतने दिन दीदी के साथ जाने से मेरी जान-पहचान हो चुकी थी.

नेक्स्ट मॉर्निंग राहुल आया, और दीदी भी तैयार हो गयी.

दीदी मुझसे बोली: मोहित, तू कॉलेज चला जेया. वैसे भी तुझे बहुत दिन हो गये आब्सेंट रहते हुए, और वाहा तेरा कोई काम भी नही है.

मैं बोला: हा दीदी, मैं भी यही सोच रहा था.

फिर मैं बाहर निकल गया कॉलेज जाने के बहाने, और दीदी भी राहुल के साथ कार में चली गयी. लगभग 1 घंटे बाद मैं भी शूटिंग लोकेशन पे मेरी बिके से पहुँच गया, और जो भी मिला, उसको हेलो-ही किया. सब जानते थे मुझे तो किसी ने नही रोका. अंदर शूटिंग स्टार्ट हो चुकी थी

मैं कुछ डोर जहा कुछ 3-4 जाने बैठे थे, उनके साथ बैठ गया जहा दीदी का ध्यान शायद नही जाता हो. वो लोग शूटिंग अपने लॅपटॉप में देख रहे थे. हालाकी शूटिंग सामने ही चल रही थी, लेकिन वो कुछ डोर बैठे थे.

स्टोरी में सीन ऐसा था की जब दीदी अपने हज़्बेंड के साथ लास्ट दे को जब वो कर रही थी, तो दीदी अचानक से उठ गयी और राहुल यानी अपने हज़्बेंड को सब कुछ बता दिया की वो उसको पसंद नही करती. और वो किसी और से प्यार करती थी. तो उसके हज़्बेंड को गुस्सा आ जाता है, और वो वाहा से कपड़े पहन कर निकल जाता है.

अब नेक्स्ट सीन था, की हेरोयिन का हज़्बेंड ड्रिंकिंग करके घर आता है, और उसको ज़बरदस्ती सेक्स करता है. तो डाइरेक्टर ने समझाया की राहुल गुस्से में आएगा, और आते ही दीदी को बेड पे पटक देगा. फिर उसकी निघट्य के स्ट्रॅप्स को तोड़ा नीचे खींचेगा और हेरोयिन के बूब्स की उपर की स्किन और क्लीवेज पे किस करेगा.

फिर अपने कपड़े निकालते हुए दीदी की निघट्य को तोड़ा उपर खिसका कर उसकी पनटी निकाल कर सेक्स करते हुए धक्के मारने का सीन है. दीदी कुछ बोलने वाली थी.

लेकिन तभी डाइरेक्टर बोला: डॉन’त वरी, ओन्ली एक्सप्रेशन देने है. रियल सेक्स नही करवा रहे. लेकिन रियल लगे इसलिए पनटी उतारते हुए सीन शूट करना पड़ेगा.

फिर दीदी तैयार हुई. उसको एक पर्पल कलर की निघट्य में डोर पर खड़ा किया गया. तभी राहुल अंदर एंटर होता है, और दीदी को गुस्से में पकड़ कर बेड पर धक्का दे देता है, और दीदी गिर जाती है. इससे दीदी की निघट्य उसके जांघों तक उपर हो जाती है, और उसकी जांघें पूरी नंगी दूध सी सफेद दिखाई दे रही थी.

फिर राहुल गुस्से में दीदी पर चढ़ गया, और उसके गले और गर्दन पर किस करते हुए उसके हाथो को साइड में पकड़ लिया.

दीदी जैसे च्चूधने के लिए हाथ-पैर मारते हुए आक्टिंग करने लगी. लेकिन इससे दीदी की निघट्य और उपर उठ गयी.

डाइरेक्टर ने “गुड, कंटिन्यू” बोलते हुए कहा: सीन एक शॉट में पूरा होना चाहिए.

तो उन्होने कंटिन्यू रखा. राहुल ने एक हाथ से दीदी की निघट्य का स्ट्रिप्स ज़ोर से खींचा, लेकिन निघट्य के नीचे दीदी की मरून ब्रा का स्तरीप भी निघट्य के साथ कंधे से नीचे हो गया. और दीदी के बूब्स के उपर की जो गोरी चाँदी चमक रही थी, वो दिखाई देने लगी.

अब राहुल दीदी को बुरी तरह किस करने लगा, और नीचे से धक्के भी मारने लगा. तभी राहुल ने अपने एक हाथ से दीदी का लेफ्ट बूब दबोच लिया, और मसालने लगा. दीदी थोड़ी चीखी और हटना चाहती थी, लेकिन डाइरेक्टर ने कंटिन्यू बोला.

फिर राहुल दीदी के बूब्स दबाते-दबाते उसकी निघट्य को तोड़ा और नीचे खींचने लगा, जिससे दीदी की ब्रा और निघट्य उसके निपल्स से नीचे आ गयी, और एक निपल पूरा खड़ा टाइट दिखाई देने लगा. अब राहुल ने दीदी के बूब्स के उपर और क्लीवेज को किस करना स्टार्ट किया.

लगभग 2-3 मिनिट तक बूब्स दबाने और किस करने के बाद राहुल ने दीदी का निपल मूह के लिया और चूसने लगा. करीब 1 मिनिट तक राहुल ने दीदी का निपल चूसा और मसला. इस बीच दीदी भी बुरी तरह सिसकारियाँ लेते हुए झटपटा रही थी, और दोनो हाथो से बेड की चादर को पकड़ रखा था.

तभी डाइरेक्टर ने कट बोला, और राहुल को दाँत-ते हुए बोला: क्या यार तू भी. तुझे इसके बूब्स और क्लीवेज को किस करने को बोला था. तू तो इसके निपल्स चूसने लग गया.

तब जेया कर दीदी होश में आई, और अपनी निघट्य वापस उपर करते हुए नंगे बूब्स और निपल को ढाका. डाइरेक्टर ने उन्हे समझाया और सीन फिरसे स्टार्ट हुआ. इस बार राहुल दीदी के बूब्स के उपरी पार्ट और क्लीवेज पर ही किस कर रहा था.

दीदी आँखें बंद किए हुए लेती हुई थी. डाइरेक्टर ने डाउन बोला, तो राहुल दीदी की निघट्य को उपर करते हुए दीदी की पनटी निकालने की कोशिश करने लगा. फिर दीदी ने भी गांद उठा कर अपनी पनटी निकलवा दी. जैसे उसको भी अभी चूड़ना हो.

पनटी निकाल कर राहुल ने साइड में फेंक दी, और अपने भी कपड़े निकालने लगा. वो बस अंडरवेर में रहा, और दीदी पर झुक कर धक्के मारने की आक्टिंग करने लगा.

डाइरेक्टर ने कट बोला और समझाया: सेक्स रियल लगे, इसलिए हेरोयिन की पनटी निकलवाई है. इसलिए तुम्हे भी अपना अंडरवेर निकाल कर रियल में जैसे लंड को पकड़ कर छूट पर सेट करते है, वैसे रियल सीन देना होगा. डॉन’त वरी, तुम्हारा प्राइवेट पार्ट कॅमरा में नही लेंगे. लेकिन ऐसा लगना चाहिए की तुम अपना लंड पकड़ कर उसकी छूट में डाल रहे हो. साँझ गये?

दीदी ये सुन कर शरम से लाल हो चुकी थी. राहुल ने भी हा भरते हुए गर्दन हिलाई. डाइरेक्टर ने फिरसे शूट स्टार्ट किया. दीदी अभी भी बिना पनटी अपनी टांगे मोड हुए बेड पर लेती हुई थी. राहुल ने अपना अंडरवेर उतार कर अपना लंड दीदी की छूट में डालने की आक्टिंग की. शायद उसने अपना लंड दीदी की छूट पर रगड़ा हो.

दीदी की भी आँखें बंद हो गयी, और वो बेडशीट को पकड़ कर लेती रही. दीदी की निघट्य होने के वजह से क्लियर्ली दिख तो नही रहा था, की दीदी की छूट और राहुल के लंड के बीच क्या हो रहा था. लेकिन राहुल जैसे ही धक्के लगा रहा था, तो दीदी की सिसकारी निकल रही थी.

सयद राहुल आयेज-पीछे होते हुए अपना लंड दीदी की छूट पर रग़ाद रहा था. क्यूंकी दीदी की पनटी तो पहले ही निकल चुकी थी.

दोनो बिल्कुल नंगे होने के कारण बहुत एग्ज़ाइटेड हो चुके थे. डाइरेक्टर ने कट बोला और “वेल डन” बोलते हुए ताली बजाने लगा, तो सभी ने तालियाँ बजाई.

तभी दीदी खड़ी हुई, और अपनी निघट्य सही करते हुए अंदर चली गयी, और राहुल भी पीछे-पीछे चला गया. तभी मेरे साथ जो बैठा था, वो अपने लॅपटॉप में कुछ और सेट्टिंग देखने लगा.

मैने उससे पूछा: क्या हुआ?

तो वो बोला: रुक भाई, अभी तुझे तेरे फ्रेंड्स का सीन दिखता हू.

फिर उसके लॅपटॉप की स्क्रीन पर रूम का सीन दिख रहा था. तो मुझे पता चला की ये अंदर के रूम के सीक्ट्व उसके लॅपटॉप में कनेक्टेड थे. मेरी आँखें फाटती की फाटती रह गयी.

अंदर जाते ही राहुल ने दीदी को दबोच लिया, और उसके होंठो को किस करने लगा. दीदी ने स्टार्ट में एक दो बार तो उसको हटाने की कोशिश की, लेकिन फिर वो उसका पूरा साथ देने लगी.

राहुल ओन्ली अंडरवेर में था. उसने अपना अंडरवेर नीचे खिसका कर उतार दिया और दीदी की निघट्य में हाथ डाल कर बूब्स दबाने लगा. फिर राहुल ने दीदी की निघट्य भी उतार दी, और बेड पर लिटा दिया. अब राहुल और दीदी दोनो पुर नंगे बेड पर थे, राहुल दीदी के बूब्स दबाते हुए चूस रहा था.

2-3 मिनिट बाद राहुल अपना हाथ नीचे ले गया, और दीदी की छूट में उंगली डाल दी. अभी भी वो उपर दीदी के बूब्स चूस रहा था, और नीचे छूट में उंगली अंदर-बाहर कर रहा था.

2 मिनिट तक ऐसा करने के बाद दीदी ने राहुल को अपने उपर खींचा. तो मैं शॉक्ड हो गया, की दीदी कितनी गरम हो चुकी थी, की वो अब राहुल से खुद छुड़वाना चाह रही थी.

राहुल भी दीदी के उपर आ गया और उसके होत चूसने लगा. और एक हाथ नीचे ले जेया कर अपने लंड को दीदी की छूट पर सेट किया और एक धक्का मारा. उसका लंड लगभग आधा दीदी की छूट में चला गया.

दीदी नीचे से झटपटा सी गयी, और वो राहुल को रोकने लगी. लेकिन राहुल ने झटके मारने जारी रखे. कुछ ही देर में राहुल का पूरा लंड अंदर-बाहर हो रहा था, और दीदी ने उसको अपनी टाँगो को क्रॉस करते हुए अपने से पूरा चिपक रखा था. राहुल भी कभी दीदी के बूब्स चूस्टा तो कभी होंठ. ऐसे ही 5-6 मिनिट बाद दीदी झाड़ गयी. फिर दीदी ने राहुल को बोला-

दीदी: बस करो, स्टॉप राहुल. मेरा 2 बार हो चुका. मैं तक चुकी हू. अब दर्द हो रहा है, स्टॉप राहुल.

तो मूज़े पता चल की शायद राहुल ने उंगली करते हुए एक बार दीदी का पानी निकाल दिया था.

राहुल: तुम्हारा तो हो गया प्रिया, लेकिन मेरा अभी बाकी है. बस 2 मिनिट, मेरा भी होने वाला है प्लीज़.

दीदी ने कुछ नही बोला, और अपनी छूट में धक्के खाती रही.

फिर वो बोली: राहुल प्लीज़ बाहर निकालो. अंदर नही निकालना प्लीज़.

राहुल ने कुछ ही सेकेंड्स में अपना लंड बाहर निकाला. पूरा चिकना, छूट और लंड के पानी से भीगा हुआ, लंबा सा लंड था. फिर दीदी ने एक बार उसको देखा, और अपने हाथो से अपने मूह को छुपाते हुए आँखें बंद करके लेती रही.

राहुल ने अपने लंड को अपने हाथ से फास्ट-फास्ट हिलना जारी रखा. 1 मिनिट बाद ही उसके लंड ने पानी छ्चोढ़ दिया, और वो भी बहुत सारा. उसके स्पर्म की धार दीदी की नाभि, पेट, बूब्स और हाथो पर पड़ी, जो उसने मूह पर लगा रखे थे. और राहुल वाहा से खड़ा हो गया.

दीदी ने अपने हाथ हटते हुए देखा तो उसकी पूरी बॉडी पे राहुल का पानी पड़ा हुआ था. तभी साइड से राहुल ने अपना लंड दीदी के होंठो से टच करवाया. शायद वो अपना लंड दीदी के मूह में डालना चाहता था.

लेकिन तभी दीदी राहुल को धक्का देते हुए गुस्से से बोली: राहुल चले जाओ यहा से. योउ डर्टी, गेट लॉस्ट.

राहुल रूम के बने हुए वॉशरूम में चला गया, और बाद में वापस आ कर रूम में अपने कपड़े पहन कर बाहर चला गया. तब तक दीदी एक-दूं नंगी वही बेड पर अपने घुटनो में सर डाल कर रोटी रही. मुझे लगा दीदी को शायद गिल्टी फील हो रहा था.

उसने जोश में आ कर ये सब किया. उसको होश नही रहा की वो क्या कर रही थी. 2 दिन से लंड और छूट रगडवा कर वो इतनी गरम हो चुकी थी. मेरा भी बुरा हाल हो चुका था.

तभी पास वाले लॅपटॉप वाले आदमी ने बोला: लो भाई अपनी हेरोयिन की फिल्म पूरी हो गयी.

मैं भी जल्दी से वाहा से निकला, और घर आ गया. लगभग 40-45 मिनिट बाद दीदी को भी राहुल ने ड्रॉप कर दिया, और अपने घर चला गया. नेक्स्ट पार्ट सून.

कीप सपोर्टिंग.

यह कहानी भी पड़े  देसी लड़कियो के साथ सामूहिक चुदाई


error: Content is protected !!