शादी-शुदा लड़की की उबलटी जवानी की स्टोरी

ही दोस्तों, मेरा नाम विमल कुमार है. मैं राजस्थान के जाईपुर से हू. मेरी उमर 49 साल है, और मैं गूव्ट. एंप्लायी हू. हाइट मेरी 5’9″ है, और रंग ठीक-ताक है. लंड मेरा 7 इंच लंबा, और 3 इंच मोटा है.

मेरी फॅमिली में मेरी बीवी, एक बेटा, और एक बेटी है. मेरी बेटी 24 साल की है, और तोड़ा टाइम पहले ही उसकी शादी हुई है. बेटा मेरा 20 साल का है, और कॉलेज में पढ़ता है.

दोस्तों मैं सेक्स का बहुत शौकीन हू. पिछले कुछ सालों से मेरी बीवी मुझे सेक्स करने नही देती, और उमर का हवाला देती है. तो मैने भी कही ना कही अपनी प्यास को दबा दिया हुआ था. लेकिन फिर कुछ ऐसा हुआ, की मुझे अपने ही घर में एक नयी छूट नसीब हो गयी. चलिए बताता हू, की असल में हुआ क्या था.

जैसा की मैने आप सब को बताया, की मेरी बेटी शादी-शुदा है, और उसकी शादी तोड़ा टाइम पहले हुई है. शादी के टीन महीने बाद मेरे जमाई को काम से एक महीने के लिए कही बाहर जाना था. तो मेरी बेटी ने घर आके रहने का प्लान बनाया, और एक महीने के लिए घर आ गयी.

अब पहले मैं आपको अपनी बेटी के बारे में बता देता हू. मेरी बेटी की हाइट 5’6″ है, उसका फिगर 34-28-36 है, और रॅंड दूध जैसा गोरा है. वो टाइट कपड़े पहनती है, और डीप गले पहनती है, जिसमे से उसकी क्लीवेज दिखती है. मैने उसके बारे में कभी ग़लत नही सोचा था. लेकिन तब मुझे नही पता था, की वो कितनी बड़ी चुड़क्कड़ रंडी थी.

तो वो घर आई, और सब से मिली. उसके आने से हम सब बहुत खुश थे. उसने लाल रंग का पाजामी सूट पहना हुआ था, जिसमे उसकी टाइट बॉडी बड़ी सेक्सी लग रही थी. फिर हम सब ने डिन्नर किया, और अपने-अपने रूम में सोने चले गये.

सोने से पहले मैं हर रोज़ च्चत पर टहलने जाता हू. उस दिन भी मैने ऐसा ही किया. जब मैं च्चत पर टहल रहा था, तो मुझे घर के सामने रोड पर एक लड़का दिखाई दिया. वो मेरी तरफ देख कर कुछ इशारा कर रहा था.

मैं वही खड़ा हो गया, और देखने लगा की वो क्या कह रहा था. जब मैने उसको ध्यान से देखा, तो मुझे पता चला की वो मेरी तरफ इशारा नही कर रहा था, बल्कि निचले फ्लोर की तरफ इशारा कर रहा था. निचले फ्लोर पर मेरी बेटी के रूम की विंडो थी.

मैं फिर जल्दी से ग्राउंड फ्लोर पर गया, और बाहर जाके उपर देखा तो मेरी बेटी विंडो पर खड़ी थी, और उसी लड़के से इशारों में बात कर रही थी. मैं ये देख कर हैरान हो गया. मेरी बेटी की नयी शादी हुई थी, और वो किसी दूसरे लड़के से इशारों में बात कर रही थी.

मैं वही खड़ा रहा, और देखने लगा की आयेज क्या होने वाला था. कुछ देर में मेरी बेटी उसको घर के अंदर आने को बोलने लगी.

फिर वो लड़का दीवार फाँद कर अंदर आ गया, और विंडो से मेरी बेटी के कमरे में चला गया. मैं हैरान था की मेरी बेटी ऐसा भी कर सकती थी. मैं फिर अपनी बेटी के रूम के बाहर गया, और कीहोल से अंदर देखने लगा.

मेरी बेटी पिंक नाइट सूट में थी, और उसकी रस्स-भारी जवानी कमाल की लग रही थी. वो दोनो एक-दूसरे को हग कर रहे थे. फिर मेरी बेटी बोली-

बेटी: मैने तुम्हे बहुत मिस किया जान.

वो लड़का: मैने भी तुम्हे बहुत मिस किया. सबसे ज़्यादा तो मैने इसको मिस किया.

और ये बोल कर उसने मेरी बेटी की सॉफ्ट गांद पर एक थप्पड़ मार दिया. फिर उस लड़के ने अपने होंठ मेरी बेटी के रसीले होंठो के साथ जोड़ दिए, और उनकी रोमॅंटिक किस शुरू हो गयी. वो दोनो बड़े मज़े से एक-दूसरे के होंठ चूस रहे थे. उन दोनो का सीन देख कर मेरा लंड खड़ा हो रहा था.

फिर उस लड़के ने किस करते हुए मेरी बेटी की गांद पर अपने हाथ रखे, और उसको दबाना शुरू कर दिया. इससे मेरी बेटी और वाइल्ड हो गयी, और पागलों की तरह उसके होंठ चूसने लग गयी. तभी मेरी बेटी ने अपना एक हाथ जीन्स में उस लड़के के खड़े हुए लंड पर रख दिया. अब वो किस करते हुए उस लड़के के लंड को मसल रही थी.

फिर उस लड़के ने मेरी बेटी की शर्ट उतार दी, और अब वो उसके सामने ब्रा और पाजामे में थी. क्या मस्त लग रही थी मेरी बेटी ब्रा में. उसने मरून रंग की ब्रा पहनी हुई थी. उसमे उसके बूब्स एक-दूं काससे हुए थे, और मस्त क्लीवेज के दर्शन हो रहे थे.

फिर वो लड़का मेरी बेटी की गर्दन और क्लीवेज में मूह मार कर उसकी क्लीवेज को चूमने और चाटने लग गया. ये सब देख कर मेरा हाथ अपने आप ही मेरे लंड पर चला गया. मैने कुर्ता पाजामा पहना हुआ था, और पाजामे में मेरा लंड टेंट बनाए हुए था.

फिर उस लड़के ने मेरी बेटी को घुमाया, और बाहों में लेके पीछे से उसके साथ चिपक गया. उसने दोनो हाथ पीछे से ब्रा के उपर से मेरी बेटी के बूब्स पर रखे, और उनको दबाने लग गया. नीचे उसका खड़ा हुआ लंड जीन्स में से मेरी बेटी की गांद पर टच हो रहा था.

फिर उसने ब्रा का हुक खोल, ब्रा नीचे गिरी, और मेरी बेटी के रस्स के दो प्याले ब्रा से कूद कर बाहर आ गये. क्या मस्त बूब्स थे मेरी बेटी के, और उन पर पिंक निपल्स थे. दिल तो कर रहा था की अभी जाके उसके बूब्स पाक्ड़ू, और निपल्स को चूसना शुरू करू.

लेकिन जो मैं करना छाता था, वो उस लड़के ने करना शुरू किया. उसने पीछे से उसके बूब्स पर हाथ रखा, और उसके निपल्स खींचने लगा. जब वो उसके निपल्स खींचता, तो मेरी बेटी की आ निकल जाती.

फिर उसने मेरी बेटी को घुमाया, और उसके निपल्स पर हमला कर दिया. वो ज़ोर-ज़ोर से किसी भूखे बच्चे की तरह मेरी बेटी के निपल्स चूसने लग गया. वो दांतो से निपल्स को खींच-खींच कर चूसने लगा. ये सब देख कर मेरा बुरा हाल हो रहा था. मैने अपना लंड अब पाजामे से बाहर निकाल लिया था.

इसके आयेज क्या हुआ, वो आपको अगले पार्ट में पता चलेगा. दोस्तों अगर आपको कहानी का मज़ा आया हो, तो इसको लीके और कॉमेंट ज़रूर करे. और अगर कोई सजेशन देना हो, तो भी कॉमेंट्स में मेन्षन कर दे.

यह कहानी भी पड़े  मेरी पड़ोस वाली भाभी की जमकर चुदाई


error: Content is protected !!