सेक्सी विडो लड़की और जवान लड़के की हॉट कहानी

जैसा की आप सभी जानते है की मेरी उमर 27 है. और मेरे लंड का साइज़ 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है. अब कहानी की तरफ बदते है.

जैसा आप सभी ने पिछले पार्ट में पढ़ा था, की अब तक ममता और मेरे बीच में सेक्सी बातें शुरू हो चुकी थी. अब हम दोनो खुल के छूट और लंड के बारे में बात करने लग गये थे. हम दोनो यू ही 30 मिनिट तक सेक्स भारी बातें करते रहे.

और फिर हम सिरसा पहुँच गये. स्टेशन पे उतरने के बाद मैने भाभी को एक किस किया साइड में ले-जेया कर, और उनके बूब्स भी मसले. लेकिन फिर मेरे दोस्त मेरा नाम पुकारते हुए मेरी तरफ आने लगे, तो मैने ममता को छ्चोढ़ दिया, और वो अपने घर चली गयी. और मैं अपनी भारती वाले स्टेडियम की तरफ चल पड़ा.

मैने मेरे दोस्तों को ममता के बारे में बताया. तो वो बोले-

दोस्त: वाउ राज! तू सही रहा. वैसे हम लोगो को तुझ पर तोड़ा डाउट भी हुआ था. फिर हमने सोचा की अछा ही है अगर तेरा कुछ बनता है तो.

मैने उनको बोला: क्या बनता यार. मैं अब उससे दोबारा थोड़ी मिल सकता हू.

तो मेरे दोस्त बोले: तेरे पास उसका नंबर है. तू कॉल करके पूच ले ममता से, की वो क्या बोलती है.

मुझे उनकी बात में दूं लगा, तो मैने साइड में आके ममता को कॉल किया. अब रात के 11 बजे चुके थे. 2 रिंग्स के बाद ममता ने मेरा फोन उठा लिया.

ममता: ही राज, क्या कर रहे हो? सॉरी मैने आपका फोन तोड़ा लाते उठाया. वो मैं चेंज कर रही थी.

मे: करना क्या था, बस तुम्हारे होंठो का रस्स मुझे तंग कर रहा है. और तुम्हारी सॉफ्ट आंड प्यारी चूचिया मुझे अब भी अपने हाथो में महसूस हो रही है.

ममत: ओह राज!

मे: बुत क्या फ़ायदा, अब हम मिल तो सकते नही.

ममता: अगर तुम बुरा ना मानो तो एक बात बोलू तुम्हे? देखो जब से तुम्हे देखा है तो मुझे तुम में अपने पति की च्चवि दिखाई देती है. तो मैं तो तैयार हू, तुम देख लो. वैसे कल दिन में हम दोनो मेरे घर पर मिल सकते है.

मैं खुशी से उछाल पड़ा और बोला: सच्ची? बुत तुम्हारी सास? और तुम्हारी लड़की भी है.

ममता: कल सनडे है, और सनडे को मेरी सास मेरी बेटी को लेकर सत्संग में जाती है, और शाम को 4 बजे के बाद ही आती है. तो हम आसानी से मिल सकते है, अगर तुम चाहो तो राज.

मैने उसको बोला: मैं कल 12 बजे के पास आ जौंगा. ऐसा बोल के मैने फोन कट कर दिया.

लक देखो, की अगले दिन वो भारती मैने देखी, और हमने वो रेस किया, बुत मैं उस भारती में एग्ज़ॅम नही दे पाया था कुछ घरेलू कार्नो की वजह से. वैसे 10 बजे मैं फ्री हुआ, और फिर उधर जो रूम हमने रेंट पे ले रखा था, वाहा वापस जाके, नहा धो के मैने ममता को कॉल की.

फिर ममता ने मुझे अपना अड्रेस बताया, और मैने ऑटो वाले से वो अड्रेस पर चलने को पूछा. उसने मुझे वाहा उतार दिया.

ममता ने मुझे हाउस नंबर बता रखा था. तो 5 मिनिट के बाद मैने उसके घर की डोरबेल बजाई. लेकिन कोई भी गाते ओपन करने नही आया. फिर मैने ममता को वापस कॉल की.

तो वो बोली: गाते खुला है. तुम अंदर आ जाओ, और गाते को लॉक कर देना.

एक बार तो मुझे दर्र लगा, बुत फिर करता क्या, लंड को छूट जो दिख रही थी. तो मैने हिम्मत करी और अंदर जाके गाते को लॉक कर दिया. फिर गाते बंद होते ही ममता ने मुझे कॉल की, और सीडीयों से उपर वाले कमरे में आने को कहा.

अब मैं सीडीयों से उपर के कमरे पर गया, तो अंदर रूम में अंधेरा था. फिर अंदर जाते ही मेरे कानो में पूरी आवाज़ सुनाई पड़ी.

ममता: राज तुम आ गये? मुझे यकीन नही होता की राज तुम सच में मेरे घर मेरे साथ अकेले हो.

मैने बोला: यकीन तो मुझे भी नही हो रहा ममता. बुत तुम मुझे ये बताओ, की तुम अंधेरे में क्यूँ हो?

तो ममता बोली: सबर करो, सब कुछ सबर से ही होता है राज जी.

और उसने तभी ज़ीरो वॉल्ट का बल्ब ओं कर दिया.

मे: ऑम्ग!

लाइट ओं होते ही मुझे विश्वास नही हुआ जो मैने देखा. पूरा रूम सुहग्रत की तरह सज़ा हुआ था. और बेड पर रेड रोज़स पड़े हुए थे. और सबसे बड़ी बात ये थी, की ममता बेड पर बैठी हुई थी, और उसने लाल रंग की चुनरी से अपने आप को पूरा ढाका हुआ था.

ममता: देखो राज मैने आज तक अपने पति को छ्चोढ़ कर किसी के साथ सेक्स नही किया. और मैने तुम्हे पहले भी बताया है, की तुम मुझे मेरे पति की याद दिलवाते हो. तो अब तुम मुझे हासिल तभी कर सकते हो, जब तुम उस डिब्बी से सिंदूर उठा कर मेरी माँग भर दो.

मैं ये सुन कर तोड़ा सा घबरा गया. तभी ममता बोली-

मानता: दररो मत, ये एक मेरे मॅन की तसल्ली के लिए है बस. की मैने आज भी अपने पति के साथ ही सेक्स किया है, बस कुछ और नही.

फिर मैने वो डिब्बी ली, और ममता का घूँघट उपर किया. ओह मी गोद! ममता एक पारी जैसी दिख रही थी. और उससे भी ज़्यादा होश उड़ाने वाली ये बात थी, की वो चुनरी के अंदर सिर्फ़ रेड ब्रा और रेड पनटी में थी.

मैं ममता को यू ही देखता रहा. कुछ देर बाद ममता मुझसे बोली-

ममता: राज मेरे पति देव, मेरी माँग ब्रो ना.

ऐसा सुनते ही मैं होश में आया, और मैने ममता की माँग भर दी. ममता माँग भरने के बाद जैसे ही मेरे प्ॉअन छूने के लिए खड़ी हुई, तो उसके सर से चुनरी उतार गयी, और उसने झुक कर मेरे पावं छुए.

मुझे रेड पनटी में से ही उसकी गांद की शेप नज़र आ रही थी. मेरा लंड अब बिल्कुल पूरा टाइट हो चुका था. अब मुझे ममता की गांद पागल बना रही. बुत मैने तोड़ा होश से काम लिया. मैने ममता के कंधो पर हाथ रखा, और उसको उपर उठाते हुए उसको बोला-

मे: सदा खुश रहो.

फिर मैने उसको अपने गले से लगा लिया. हाए! उसकी मुलायम चूचियाँ मुझे बहुत ही अची लग रही थी. ममता को अब मेरे लंड का उभार अपनी छूट पर महसूस हो रहा था. मैं उसकी पीठ से हाथ फेरता हुआ उसकी कमर को फील करता हुआ, उसकी गांद को अपने हाथो से दबाने लगा.

2 मिनिट ऐसा करने के बाद, मैने अपने आप पर कंट्रोल किया, और ममता को बेड पर ले आया. बेड पर आते ही ममता ने मेरे अंडरवेर को छ्चोढ़ के सारे कपड़े उतार दिए. जब एक औरत/लड़की आपके कपड़े उतारे सेक्स करने के दौरान, तो उसका अलग ही आनंद आता है.

ममता ने पुर बादान पर हाथ फेरा, और मेरे बदन की तारीफ की. फिर वो बेड पर आँखें बंद करके लाते गयी. मैं अब ममता को डेक्ता ही रह गया. वो एक सेक्स की देवी लग रही थी. मैने ममता से पूछा-

मे: यार मैं 20 साल के करीब हू, और तुम 28 के पास हो. और तुमने मुझे अपना पति बना लिया.

ये सुन के ममता ने एक उंगली उठाई, और अपने होंठो पे रख के मुझे चुप रहने को बोला. फिर उसने इशारा किया-

ममता: मैं तुम्हारे सामे लेती हू, वो भी ब्रा और पनटी में. तुम अब भी ये ही सोच रहे हो?

मैने भी अब इन बातों को छोढ़ कर आयेज सिर्फ़ इस पल को जीने को सोची. फिर मैने तोड़ा साइड में देखा, तो मुझे पास में ही लाइट का स्विच बोर्ड दिखाई दिया. मैने उधर जेया कर 3 ज़ीरो वॉल्ट के बल्ब ओं कर दिए, जिससे अब पुर कमरे एक मनमोहक रोशनी हो गयी.

उपर से ममता का बदन चमक रहा था, और साथ में ममता बेड पे लेती एक नागिन की तरह मचल रही थी. अगर किसी के साथ ऐसा कभी लाइफ में हुआ है, वो ही इस पल को आचे से समझ सकता है. बाकी सब कल्पना ही कर सकते है.

ये पल इतना हसीन और कामुकता से ब्रा हुआ था, जिसको कोई भी शब्दो में सही तरह से बता नही सकता. इसको तो आप सिर्फ़ महसूस कर सकते हो.

अब मैं बेड पर चढ़ गया. और सबसे पहले मैने ममता को एक बार फिरसे तसल्ली से पूरा नीचे से उपर तक देखा. फिर मैने बागवान को हाथ जोड़ के शुक्रिया किया और बोला-

मे: किन शब्दो से आपको धन्ानवाद डू इस हसीन और सेक्स भरे माहौल को मेरी ज़िंदगी में लाने के लिए. अब सबसे पहले मैने ममता के पेट की नाभि की गहराई को देखा. उसका पेट उसकी सांसो के साथ उपर-नीचे हो रहा था, और वो जैसे कोई मछली बिना पानी के तड़पति है, बिल्कुल वैसे ही मचल रही थी.

अब मुझसे कंट्रोल नही हुआ, और मैने उसकी नाभि के पास जेया कर बहुत ही प्यार से ममता की नाभि को किस किया. तो ममता ने एक लंबी सिसकारी ली “अया अया राज”. फिर मैने पेट पर किस किया, और उधर से ममता आअहह आहह की आवाज़े निकल रही थी.

अब रूम में हम दोनो के अलावा सेक्स भारी ये मादक सिसकिया भी थी, जो पुर रूम में गूँज रही थी. अब मैं ममता की नाभि काटने लग गया, जो अब ममता की बर्दाश्त से बाहर था. क्यूंकी 2 साल के बाद ममता का जिस्म इस सुख को भोग रहा था. और अभी तो वो जवान ही थी.

उसकी उमर 28 की ज़रूर थी, लेकिन लग वो बिल्कुल एक कुवारि की तरह थी. मानो कोई 22 या 23 साल की अनमॅरीड लड़की हो. वो सांसो को खींचती तो अया सांसो को छ्चोढती तो भी आहह की आवाज़ उसके मुख से निकल रही थी.

अब मुझे 5 मिनिट से ज़येडा का टाइम हो गया था. उसकी नाभि को किस करते, चूस्टे हुए और उससे काट-ते हुए ममता आआहा आहह आ आह की आवाज़ निकाल रही थी. उसने अपने दोनो हाथो से चादर को पकड़ रखा था.

ये स्टोरी आप देसी कहानी पे पढ़ रहे है. आप मुझे आपना फीडबॅक ज़रूर भेजे, और उसके लिए आप मुझे एमाइल कर सकते है

यह कहानी भी पड़े  आंटी को बुड्ढे ने स्विम्मिंग पूल मे चोदा

error: Content is protected !!