सेक्सी गर्ल स्टूडेंट को पटा कर चुत चुदाई

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम दीपक है, मैं अभी 21 साल का अहमदनगर, महाराष्ट्र का रहने वाला हूँ. मेरा कद 5’5″ है और मेरा लंड 8″ इंच लंबा व 2.5″ मोटा है. मैं अन्तर्वासना का एक नियमित पाठक हूँ. हर रोज सब कहानियां पढ़ता हूँ. मुझे भी लगा कि मैं अपनी सच्ची चुदाई की कहानी आपको सुनाऊं. जो मैंने मेरे एक स्टूडेंट के साथ की थी. ये अन्तर्वासना पर मेरी पहली कहानी है कुछ गलती हो तो माफ करना.

यह करीब 3 महीने पहले की बात है. मैं एक कम्प्यूटर क्लास में कम्प्यूटर का टीचर था. उन दिनों गर्मियों की छुट्टी चल रही थीं, इसलिए सभी बैच फुल रहते थे. अधिकांशतः 10-12 वीं के स्टूडेंट रहते थे. उन्हीं दिनों एक लड़की ने क्लास ज्वाइन की, वो दिखने में तो कोई हीरोईन से कम नहीं थी.. हॉट भी जबरदस्त थी. उसे देख कर ऐसा लगता था कि साली को यहीं पटक कर चोद डालूँ.. लेकिन ऐसा हो नहीं सकता था.

उस लड़की का नाम कार्तिकी था. यह नाम बदला हुआ है. उसका फिगर 32-28-32 का था. जब से वो क्लास में आने लगी थी, मेरी नजर उस पर ही टिकी रहती थी. मेरे मन में सिर्फ उसे चोदने के ख्याल आने लगे थे. मुझे लगता था कि यदि उसे मैं बोल देता तो वो मान भी सकती थी. पर यदि उसने मना कर दिया तो मेरी इज्जत दो कौड़ी की रह जाती.

फिर एक दिन मुझे पता चला कि वो फेसबुक पर है, मैंने उसे फेसबुक पर फ्रेंड बना लिया. फिर हमारी रोज चैटिंग होना शुरू हो गई. शुरू में तो मैं उसे सामान्य बातें करता था, पर धीरे धीरे मैं आगे बढ़ा.

एक दिन मैंने उससे पूछा कि तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है क्या?
वो ‘नहीं..’ बोली, उसने भी मुझसे पूछा, मैंने भी नहीं बोला.

यह कहानी भी पड़े  मकान मालिक के बेटी की चूत की प्यास को बुझाया

अब मैंने उसे प्रपोज कर दिया. वो भी मुझे बहुत चाहती थी, पर बोल नहीं पाई. फिर हमने मोबाइल नंबर शेयर किए और बातें करने लगे. अब हम दोनों रात को 1-2 बजे तक बातें करते थे.

जब वो क्लास में आती थी, तब मैं उसे पढ़ाने के बहाने यदा-कदा छू भी लेता था और कभी सबकी नजरें बचा कर उसके उरोज भी हल्के से मसल देता था. वो कसमसा कर मुस्कुरा देती थी.

फिर हम फोन पर ही सेक्स की बातें करने लगे. मैं तो उसे चोदने का चान्स ढूँढ रहा था, पर एक दिन अचानक खुद उसी ने मुझे अपने घर बुला लिया.

मैंने पहले तो मना किया, पर उसने बहुत बार कहा, इसलिए जाना पड़ा. असल में मेरी गांड फट रही थी कि मैं उसके घर पकड़ा जाता तो सब इज्जत का कचरा हो जाता इसलिए मैंने मना किया था. उसके मम्मी पापा उस दिन कहीं बाहर गए थे. मैं घर गया तो उसने मुझे अन्दर करके मेन दरवाजा बंद कर दिया.

उसकी इस हरकत को देखते ही मैं भी चालू हो गया. मैंने उसे पकड़ के किस करना शुरू कर दिया, उसने भी किस करने में मेरा साथ दिया. वो जिस तरह से किस कर रही थी, उससे पहले मुझे लगा कि ये तो चालू लड़की है. पर मैं लगा रहा.

तभी अचानक उसके पापा का फोन आया और वो बोले- हम आ रहे हैं.
मैं वहां से निकल आया. उसके साथ चुदाई हो नहीं सकी, लेकिन ऊपर से बहुत मजा ले लिया था. अब हम लोग चुदाई का मौक़ा खोजने लगे थे.

एक दिन मैंने उसको अपने एक दोस्त के खाली फ्लैट पर उसे बुलाया. उसने टी-शर्ट जींस पहनी थी. जैसे ही वो अन्दर आई, तो मैंने उसे पकड़ कर किस करना शुरू कर दिया. वो भी मेरा साथ दे रही थी. मैंने धीरे से उसकी शर्ट को उतार दिया, अन्दर उसने पिंक कलर की ब्रा पहनी थी. पिंक कलर मुझे बहुत पसंद है. मैं ब्रा के ऊपर से ही कार्तिकी के उरोज मसल रहा था.

यह कहानी भी पड़े  डॉली की एक रात की कीमत

फिर हम दोनों यूं ही चूमाचाटी करते हुए गर्म होने लगे. मैं उसको बेडरूम में लाकर उसे पूरा नंगी कर दिया. मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए. मैं सिर्फ अंडरवियर में रह गया था. मैं उसे फिर से किस करने लगा. उसके मस्त उरोजों को सहलाने लगा.
उसकी गर्म चुत में मैंने एक उंगली डाल दी. अपनी चुत में मेरी उंगली पाकर वो तो एकदम से उछल ही पड़ी. कुछ ही पलों में उसकी चुत ने तो पानी छोड़ना शुरू कर दिया था.

अब मैं उसकी चुत पर अपना मुँह ले आया. उसकी मखमली चुत की महक ने तो मुझे पागल ही कर दिया.
मैं उसकी चुत चाटने लगा तो वो बोली- ये क्या कर रहे हो?
मैं बोला- यही तो असली चुदाई का मजा है.

वो भी उछल उछल कर चुत चुसाई का मजा ले रही थी. तभी एक बार फिर से वो झड़ गई.

मैंने उसे अपना लंड चूसने को बोला तो वो मना करने लगी. मैंने उसे बार बार कहा तो वो मान गई. पहले पहल तो उसने लंड को जीभ लगाने में बहुत नखरा किया.. पर एक बार उसको लंड का स्वाद अच्छा लगा तो मस्त हो कर लंड चूसने लगी.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!