सर्दी मे दिया भाभी ने गर्मी का मज़ा

हेलो फ्रेंड्स, मेरा नाम आर्यन (रियल) है और मैं 20 साल का हूँ और हाइट 5’10” और लंड 7” लंबा और 5 सीयेम मोटा है और मेरी मैल आईडी है “[email protected]” और ये मेरी पहली रियल स्टोरी है अगर कोई ग़लती हो तो माफ़ कर देना, अब मैं स्टोरी पे आता हूँ ये मेरी रियल स्टोरी है और ये स्टोरी 5 दिन पहले की है जब मैं अपने दादाजी के यहा घूमने गया था, जब गाओं गया तो लगा मामाजी के यहा भी जाना चाहिए और मैं वाहा शाम को 4 बजे पहुच गया और जब मैं पहुचा तो सब खुश थे मेरे 3 मामा है उनमे से छोटे वाले मामा का लड़का वही रहता है और जब मैं उससे मिला तो हमारी खूब बाते हुई, फिर मैने उससे पूछा की यार सेक्स करने का मन कर रहा है ये गाओं की लड़कियाँ कैसे पटाई जाती है बता ना तो तब उसने मुझे बताया की जो लड़की पसंद हो उसे अकेले मे पकड़ लो और उसे इधर उधर छेड़ो और फिर बोलो की मुझे चाहिए तो इससे वो खुद समझ जाएगी की तुम किस बारे मे बोल रहे हो.

और फिर उसकी मर्ज़ी पूछ के तुम्हे जो करना हो कर लो, इतनी बातो मे काफ़ी टाइम हो गया और खाना खाने का समाए हो गया तो फिर हमने खाना खाया और फिर सोने चले गये ठंड काफ़ी थी तो सब रज़ाई ओढ़े हुए थे तो वही मेरी भाभी मतलब बड़े मामा जी के लड़के (जो देल्ही मे रहते है) की वाइफ वही अकेली लेटी हुई थी, तो मैं उनके साथ खिसक के लेट गया और मेरे आने की वजह से किसी को नींद नही आ रही थी तभी मेरे मन मे ख़याल आया क्यू ना अंताक्षरी खेले सब मिलके तो सबको अछा लगा और स्टार्ट कर दी, रज़ाई मे मुझे भाभी की गरम गरम टाँगे महसूस हुई और अछा भी लगा, जब बाकी लोग गाना गा रहे थे तभी मुझसे रहा नही गया और मुझे भाई की बाते याद आई और मैने झट से बहुत हिम्मत करके भाभी के सूट का नाडा पकड़ लिया तो वो एक दम से चोंक गयी और मेरा हाथ छुड़ाने लगी पर जिम जाने की वजह से मैं काफ़ी पॉवेरफ़ुल्ल हूँ और वो मेरा हाथ अलग नही कर पाई.

यह कहानी भी पड़े  Train Me Hua Choot Ka Intjaam

फिर मैने धीमे से कान मे कहा की मुझे चाहिए वरना मैं नाडा तोड़ दूँगा तो फिर उन्होने इतना सुनके विरोध बंद कर दिया और मेरे तो जैसे सारे सपने साकार होने वाले हो, तभी मैने उनका नाडा खोलने की कोशिश की और थोड़ी देर मे खुल गया और फिर मैने देखा उन्होने पैंटी नही पहनी हुई थी तो तभी हमारी बारी आ गयी गाने की और मैने भाभी से कहा की आप गाना गाओ और उन्होने गाना स्टार्ट किया ही था की मैने उनके सूट अंधेरे मे ही रज़ाई के अंदर से उपर किया और उनके बूब्स मसलने लगा और चूसने लगा इससे उनके गाने की धुन भी चेंज हो रही थी, थोड़ी देर बाद गाना ख़तम हो गया और किसी और की बारी आ गयी तो फिर भाभी ने मेरा अंडरवेर उतार कर लॅंड को हाथ लगाया और मेरे बॉल्स के साथ खेलने लगी, मेरा लॅंड ठंड की वजह से सिकुड गया था तो फिर उन्होने उसे आगे पीछे किया तो वो धीरे धीरे खड़ा हो गया और फिर मैने उनकी चुत मे खूब उंगली डाली और अंदर बाहर करता गया और साथ मे बूब्स को भी चूस रहा था.

मुझको ठंड का पता भी नही चला और जैसे ठंड लग ही नही रही थी और भाभी काफ़ी गरम हो चुकी थी और उनसे चिपक के लेटने की वजह से मुझे भी ठंड नही लग रही थी, फिर भाभी मेरे लॅंड को चुत मे डालने की कोशिश करने लगी पर चाँदनी रात की वजह से किसी को शक ना हो इसलिए वो घूम गयी और दूसरी तरफ फेस कर लिया और फिर मेरे लॅंड को पीछे से चुत पे लगाया और ये मेरा फर्स्ट टाइम था और वो भी मेरी प्यारी भाभी के साथ तो मैं भी बहुत एग्ज़ाइटेड था तो मैने देर ना करते हुए धक्का मारा लॅंड फिसल गया, क्यूकी भाभी काफ़ी दीनो से चुदि नही थी और उनके एक भी बच्चा नही है तो चुत टाइट थी तो फिर उन्होने दुबारा से मेरा लॅंड पकड़ के चुत के छेद पे लगाया तो मैने ज़ोर का झटका मारा भाभी की धीरे से आहह निकल गयी पर किसी ने सुना नही और फिर मैं धीरे धीरे धक्के मारता रहा और करीब 30 या 35 मिनट बाद मुझे गरम गरम महसूस हुआ शायद ये भाभी के झड़ने की वजह से हुआ था.

यह कहानी भी पड़े  Customer Ki Sexy Biwi Rashmi

फिर मुझे लगा मुझे ख़तम करना चाहिए ये सब तो मैने ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाने शुरू किए और फिर 15 मिनट बाद मैं भी चरम सीमा पे पहुच गया और मैं उनकी चुत मे ही झड़ गया और फिर वो उठी और सूसू करने चली गयी और आके फिर मेरे साथ सो गयी, तो मैं भी पूरी रात बहुत गहरी नींद मे सोया और सुबह सबके उठने से पहले एक राउंड और मारा और दूसरे दिन मैं चला आया, अब नेक्स्ट टाइम जब जाउन्गा तो भाभी की ज़रूर मारूँगा मुझे वो सर्दी की रात मे गर्मी का मज़ा हमेशा याद रहेगा और कोई रीडर मुझसे चॅट करना चाहता हो या कोई फीडबॅक देना चाहता हो तो मुझे मैल करे मेरी मैल आईडी है और अगर कोई लड़की चॅट करना चाहती हो तो कर सकती है उसकी पहचान सीक्रेट रखी जाएगी लव यू ऑल रीडर्स. कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखे, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सके – डीके

Pages: 1 2

error: Content is protected !!