सलीम के साथ मिलकर दीदी की चूत और गांद मारी

हेलो दोस्तो जैसा आपको पता है की मई कोमल दीदी को छोड़ रहा था. अब आयेज पढ़ो की मैने आयेज कैसे छोड़ा कोमल दीदी को.

अब मेरा भी निकले वाला था तो कोमल दीदी को मैने बेड पे लिटा दिया और उसको पलज़ू पहना दिया. वो पलज़ू तोड़ा नीचे से निकल कर छूट मेी लवदा डाल कर छोड़ने लगा. और कोमल दीदी के मूह पर सारा माल लगा था और लिप्स पे भी.

अब सलीम कहने लगा छोड़ साले रजत अपनी बेहन को छोड़ और ज़ोर से बहनकेलोदे तेरी मा की छूट… और मई अब पूरी ज़ोर ज़ोर से धक्के मार रहा था. कोमल दीदी आहह ऑश या मार गयी… नही आराम से भाई मेरी चूत मेी दर्द हो रहा है.. साले रुक जेया आहह… अब मेरा निकालने वाला था.

कोमल दीदी ने मेरा फेस पकड़ा और मेरे लिप्स चूसने लगी. जो उसके लिप्स पे दोनो का माल था वो अब हम दोनो भाई बेहन छत रहे थे. अब मैने स्पीड बढ़ा दी. और कोमल दीदी की छूट से अपना लवदा निकल कर कोमल दीदी को शीदा लिटा कर उसके पलज़ू के उपर अपना सारा माल निकल दिया जो उसके पलज़ू और पेट पर गिरा. फिर हम दोनो भाई बेहन ऐसे ही लेते रहे नागे ही. और सलीम हम दोनो को ही देख रहा था.

राकेश जयदा नशे मेी होने की वजह से सो गया था. अब हम दोनो ने कोमल दीदी को नीचे बेतया और अपना लवदा चूसने लगे. फिर मैने कोमल दीदी को एक मेज पे एक पेर उपर कर के खड़ा कर दिया. और पीछे से दीदी की गांद मेी अपना लवदा रख के एक धक्का मारा.

कोमल दीदी आहह भाई आर्म से कर ऑश… और मेी शॉट मरने लगा ठप ठप छाप की आवाज़ आने लगी. ऐसे ही खड़े खड़े छोड़ा मैने उसे फिर मैने उसे शॉफ़े पर लिटा दिया. और उसके दोनो पेर उपर उठा कर अपने कधीॉ पर रख दिए और छूट मेी लवदा दल कर छोड़ने लगा.

उधर सलीम ने भी अपना लवदा कोमल के मूह मेी दे दिया. और वो बात बार अपना लवदा कोमल दीदी के मूह मेी मार रहा था. जिससे कोमल के फेस पे बहोट थूक और लवड्‍े की राल लग गयी थी.

जब मेी कोमल दीदी को किस करता वो लार मेरे मूह मेी भी आने लगी. हम दोनो भाई बेहन को ऐसे करता देख सलीम से रुका नही गया और सलीम गलिया देने लगा… चूस भंकीलोड़ी तेरी मा की छूट रंडी च्चिनाल. और मेी पूरी ज़ोर से ढके मार रहा था कोमल दीदी की छूट मेी. आ दीदी ली और श दीदी आज बहोट गरम हो रही है तेरी छूट.

सलीम ने अपना लवदा कोमल दीदी के मूह मेी दे रखा था. अब कोमल ने मेरा मूह पकड़ा और मुझे भी सलीम का लवदा चूसने लगी. हम दोनो सलीम का लवदा चूस रहे थे. और मेी कोमल दीदी को छ्चोड़ रहा था और सलीम का लवदा चूस रहा था.

अब सलीम मेरे पीछे आया और उसने भी नीचे कोमल की गांद पे लवदा रख के अंदर डालने लगा. और तोड़ा तोड़ा कर के कोमल दीदी की गांद को छोड़ने लगा.

हम दोनो कोमल दीदी को छोड़ने लगे. सलीम मेरे उपर पद गया पीछे से ऐसे लग रहा था को सलीम कोमल दीदी की नही मेरी गांद मार रहा हो. और वो मेरे कान मेी बोल रहा था साले भद्वे छोड़ अपनी रंडी बेहन को. मार ज़ोर से साले च्चके तेरी बेहन की छूट रंडी के भाई..

कोमल दीदी भी आहह भाई आहह ऑश एस मेरे राजा भाई छोड़.. हा सलीम ऐसे ही बोलो मेरे कुत्ते भाई को छोड़.. भंकीलोदे अपनी रंडी बेहन को तेरी मा की छूट..

सलीम तुझसे मई अपनी रंडी मा को भी चड़वौगी मेरे राजा… फिर सलीम और मई हम दोनो ने स्पीड बड़ा दी और पूरे रूम मेी च्चप च्चप ताप की आहह ऑश.. मेरे राजा मेरे भाई सलीम मेरे मलिक छोड़ो अपनी रखेल को.. आहह ऑश मार गयी आई हहाअ..

ऐसे छोड़ते होये 20 मिंट बाद हम दोनो का पानी कोमल दीदी की छूट और गांद मेी निकल गये. और मेी तो कोमल दीदी के उपर ही लेट गये और सलीम साइड मेी लेट गया.

हम ऐसे ही लेते रहे तभी हुँने कोमल दीदी को उठाया और बाथरूम मेी ले गये. हम दोनो को पेसभ लगा हुआ था. फिर हम ने कोमल दीदी को नीचे बेता लिया और हम दोनो कोमल दीदी के मूह मेी और फेस पे बालो मेी बूब्स पे सब जगह मूतने लगे. और कोमल दीदी हमारा मूत पीने लगी. ऑश दीदी मुऊऊ हम दोनो ने सारा मूत दिया.

अब हम दोनो ने कोमल को उठाया और उसकी छूट मेी तेज तेज उंगली करने लगा.. की आज साली तेरी छूट को फाड़ दूँगा.

फिर कोमल दीदी नहा कर बाहर आई पटियाला सूट सलवार पहन कर. वो भी सिल्क मेी पीले रंग का. क्या मस्त लग रही थी सूट सलवार मेी. फिर हम दोनो ने उसे अपनी पास लिटा लिया और मई उसे किस करने लगा.

सलीम ने कोमल दीदी का सलवार का नडा खोला और अपना लवदा छूट मेी डाल दिया. और ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगा. मई कोमल दीदी के बूब्स चूस रहा था. पूरा रूम आह तप ऑश एस सलीम बहोट ँज़ा आ आआहा रहा है.. छोड़ साले छोड़ भंकीलोदे ऑश.. हा रंडी तेरी बेहन की चूत साली च्चिनाल ले और ले अहहः…

और सलीएम ने पूरा लवदा चूत मेी दे रखा था. जिसे देख मई खड़ा हो गया और मैने कोमल दीदी के मूह मेी अपना लवदा डाला और छोड़ने लगा आह.. कोमल दीदी अहाहहा भंकीलोड़ी ऑश ले साली..

अब सलीम ने अपना लवदा कोमल दीदी की छूट से निकल दिया और उपर आके मूह मेी दे दिया और मेी नीचे जेया कर चूत चाटने लगा. जिसमे अभी सलीम का लवदा गया था.

क्या नमकीन पानी था ऑश.. फिर मैने भी अपना लवदा डाल दिया कोमल दीदी की छूट मेी और छोड़ने लगा. ऑश मेरी दीदी.. और मेी फुल स्पीड मेी छोड़ रहा था कोमल को. और ये पूरा च्चिला रही थी अहहह बहोट दर्द हो रहा है मेरी चूत मेी निकालो इसे आहह. फिर मैने भी ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगा और और माल कोमल दीदी की चूत मेी निकल दिया.

हम दोनो ने कोमल दीदी की ऐसी हालत कर दी थी की उनसे चला भी नही जा रहा था. उनकी च्चल ही बदल गयी थी, पेर भी बहोट चोदे छ्चोड़े कर के रख रही थी. और अब गांद और भी बाहर निकाल कर चल रही थी.

आप ये सब कहानी देसी कहानी पे पढ़ रहे हो और मुझे कॉमेंट्स करने के लिए मेरी मैल ईद राजतसिर[email protected]गमाल.कॉम पे मुझे कॉमेंट्स करना. और जो बेहन मेरे से रॉल्प्ले सेक्स करना चाहती है वो भी मेसेज कर सकते है.

यह कहानी भी पड़े  गर्ल्स कॉलेज की रंडिया चुदाई टीचर से

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!