रियान अंकल 1 पार्ट 4

रियान अंकल 1 पार्ट 4
लेखक- सीमा
अब आगे की कहानी
खाना खाने के बाद कांता सब के लिए कोल्ड्रिंक ले आई रियान ने कूल्ड्रिंक पीते पीते कांता और अब्दुल से कहा।
कि तुम दोनों एक साथ सौ सकते हो ये कहकर वो अपने रूम में चला गया और अब्दुल और कांता के ये सब सुनने के बाद उन के मुंह में कूल्ड्रिंक फस गई।
उन दोनों के गले में खासी आने लगी, और कुछ देर बाद वो दोनों अब्दुल के रूम में गई और अब्दुल कांता की चूदाई में लग गया ।
5 दिन बाद रियान और परी ने एक टॉप होटल में डिनर किया , डिनर के बाद परी अपने रूम में न जाते हुई अपने पापा और मम्मी के रूम में जाने लगी।
रियान भी परी के पीछे पीछे उस रूम की ओर चल दिया, रूम के अंदर पहुंचने के बाद परी रियान की ओर मुड़ी और अपने कपड़े उतारने लगी।
अब परी सिर्फ ब्रा और पेंटी में आकर बेड पर लेट जाती है, रियान भी अपने कपड़े उतारकर सिर्फ अंडरवियर में आता है और वो परी के बिल्कुल करीब आता है।
रियान परी की पेंटी में हाथ डालते हुए बोला अरे परी बेटा , तेरी चूत तो अभी सूखी है, मैं इसे पूरे 7 मिनट में गीली कर दूँगा।
परी बोली अगर नहीं कर पाये तो ? रियान बोला कर दिया तो मैं जो कहूँगा तुझे करना होगा, अगर नहीं किया तो तू जो कहेगी, मैं करूँगा प्रोमिस, परी बोली प्रोमिस।
वैसे रियान इस सब काम में माहिर हो गया था, इसकी दो वजह थी एक तो उसका हथियार काफ़ी दमदार था और दूसरा वो बहुत संयम से काम लेता था।
रियान अब तक तीन के साथ चूदाई कर चुका था, एक उस की वाइफ, दूसरी परी की मां राजश्री और तीसरी खुद परी, इन सब को संतुष्ट कर चुका था।
किसी भी परिस्थिति में वो विचलित नहीं होता था, इसलिए उसे पूरा विश्वास था कि वो हर हाल में बाज़ी ज़रूर जीत जाएगा।
हालांकि परी की रगों में चूदाई की माहिर राजश्री का ही खून था मगर परी इन सब मामलों में एक्सपर्ट नहीं थी, उसने तो अपनी ज़िंदगी में बस रियान के साथ सेक्स किया था।
इस वजह से उसे सेक्स के बारे में ज़्यादा पता नहीं था, रियान एकदम धीरे से परी के पीछे आता है और उसके कंधे पर अपने लब रखकर एक प्यारा सा किस करता है।
और अपने दोनों हाथों को धीरे से बढ़ाकर परी के दोनों बूब्स को धीरे धीरे मसलना शुरू कर देता है, परी मदहोशी में अपनी आँखें बंद कर लेती है और उसके मुँह से सिसकारी निकल जाती है।
रियान फिर अपने होंठ परी के पीठ पर रखकर फिर से उसी अंदाज़ में हौले हौले चाटना शुरू करता है, परी की पैंटी पूरी भीग चुकी थी।
वो तो बड़े मुश्किल से अपने आप को संभालने की नाकाम कोशिश कर रही थी, परी बोली रियान अंकल बस भी करो, मुझे कुछ हो रहा है।
रियान बोला क्या हो रहा हैं बता ना ? क्या तेरी चूत गीली हो गयी है ? हां शायद यही वजह है, में चेक कर लेता हूं कि चूत गीली हो गई है क्या ?
और इतना कहकर रियान एक पल में अपना हाथ नीचे ले जा कर परी की चूत को अपनी मुट्ठी में थाम लेता है, परी के मुख से एक तेज़ सिसकारी निकल पड़ती है।
फिर धीरे धीरे वो अपना हाथ परी की पैंटी के अंदर सरका देता है और उसके चूत के दाने को अपनी उंगली से मसलने लगता है।
परी एकदम से बहुत बेचैन हो जाती है और जवाब में वो अपने होठों को रियान के होठों पर रखकर उसे चूसने लगती है।
एक हाथ से रियान परी के बूब्स को मसल रहा था और दूसरे हाथों से वो परी की चूत को सहला रहा था, परी उसके होठों को चूस रही थी।
माहौल पूरा आग लगा देने वाला था, थोड़ी देर में रियान का हाथ पूरा गीला हो जाता है, परी बोली रियान अंकल अब बस भी करो मुझसे अब बरदाश्त नहीं हो रहा, आप जीत गये।
रियान बोला अरे परी बेटा तू राजश्री की बेटी है तूने इतनी जल्दी कैसे हार मान ली, अभी तो शुरूआत है, देखना आगे आगे मैं क्या करता हूँ।
इतना बोलकर रियान अपने दोनों हाथ परी की पीठ पर रखकर उसकी ब्रा का हुक को खोल देता है और अगले पल परी झट से अपने गिरते हुए ब्रा को दोनों हाथों से थाम लेती है।
परी रियान को सता रही थी, रियान ये सब समझ जाता है, और अगले पल परी के ब्रा को पकड़कर उसके बदन से अलग करने लगता है।
और परी थोड़ा विरोध करने के बाद हाथों को ढीला कर देती है और जिससे रियान परी की ब्रा को निकाल कर दूर फेक देता है।
रियान भी झट से परी के सामने आता है और वो परी के बूब्स को पकड़ कर अपने होठों को परी के निपल्स पर रखकर उसे एकदम हौले हौले चूसने लगता है।
परी रियान की इन हरकतों से और भी ज्यादा गर्म हो जाती है और वो अपना एक हाथ रियान के बालों पर फिराने लगती है।
रियान बोला परी बेटी, तुम्हारे ये दूध कितने मस्त हैं, जी तो करता है इन्हें ऐसे ही चूसता रहूं, निप्पलों को चूस चूस के इन को कुछ बड़ा कर दू।
परी बोली तो चूसो ना रियान अंकल मैंने कब मना करती हुं चुसवाने में , जब तक आपका मन नहीं भरता आप ऐसे ही इन्हें चूसते रहो।
फिर रियान एक हाथ से उसके एक बूब्स को मसलने लगता है और दूसरी तरफ वो अपना मुँह लगाकर परी के दूसरे बूब्स के निपल्स को पीने लगता है।
परी को तो लग रहा था कि अब वो स्वर्ग में है, उस के मुंह से सिसकारियां निकल रही थी आह शीईइ रियान अंकल उंह धीरे उन्ह्ह्ह ह्म्फ उम्म्ह अहह हय याह यस ओह यस ओह्ह उम्ह ।
रियान सब कुछ एकदम आराम से कर रहा था, उसे किसी भी चीज़ की जल्दी नहीं थी और वो जानता भी था कि ऐसे कुछ देर में परी और गर्म हो जायेगी।
करीब 10 मिनट के बाद आख़िर परी बहुत गर्म हो जाती है और वो तुरंत अपना हाथ आगे बढ़ाकर रियान का लंड थाम लेती है, उसे अपने हाथों से मसलने लगती है।
रियान यह देखकर मुस्कुरा देता है और अपना अंडरवियर उतारने लगता है, कुछ पल में वो एकदम नंगा उसके सामने हो जाता है।
परी एकटक रियान के लंड को देखने लगती है, परी को ऐसे देखता पाकर रियान भी अपना लंड परी के सामने कर देता है।
रियान बोला ऐसे क्या देख रही है परी बेटी ? तुम तो मेरा लंड एसे देख रही हो जैसे पहली बार देख रही हो और सिर्फ देखती रहोगी क्या ?
परी बोली रियान अंकल , कैसे मेरी इस छोटी सी चूत में ये आपका इतना बड़ा और मोटा लंड पूरा की पूरा जड़ तक घुस जाता है।
फिर रियान परी की बात पर हसता है और परी को बिस्तर पर सीधा लेटा देता है और उसकी पैंटी भी सरका कर उसे पूरी नंगी कर देता है।
अब परी रियान के सामने पूरी नंगी थी, फिर रियान उसकी गर्दन पर अच्छे से अपनी जीभ फिराता है और एक हाथ से उसके बूब्स को कस कर मसलने लगता है।
दूसरी उंगली उसकी चूत पर फिराने लगता है और अपना जीभ से उसके दूसरे निपल्स को चूसने लगता है, फिर धीरे धीरे नीचे आते हुए अपनी जीभ से परी की चूत को चूसने लगता है।
अब परी का सब्र जवाब दे देता है और वो ना चाहते हुए भी चीख पड़ती है बस रियान अंकल अब मेरी जान लोगे क्या? मैं मर जाऊँगी आह।
इतना कहते कहते उसकी चूत से उसका पानी निकलना शुरू हो जाता है और परी झड़ जाती है, वो वही एकदम शांत होकर रियान की बांहों में पड़ी रहती है।
परी की धड़कनें बहुत ज़ोर ज़ोर से चल रही थी और साँसें भी कंट्रोल के बाहर थी, बड़ी मुश्किल से वो अपनी साँसों को कंट्रोल करती है।
अब अपनी आँखें बंद करके रियान के होठों को चूम लेती है, रियान बोला परी बेटा अब तेरी बारी है, चल अब तू मेरी प्यास को शांत कर।
इतना बोलकर रियान अपना लंड परी के मुँह के एकदम करीब रख देता है, परी रियान के लंड को अपने एक हाथ से पकड़ लेती है।
फिर अपनी जीभ निकालकर धीरे से उसके लंड का सुपारा नीचे से ऊपर तक चाटने लगती है, रियान के मुँह से सिसकारी निकल पड़ती है।
फिर वो परी के सर के बालों को खोल देता है और अपना हाथ परी के सर पर फिराने लगता है, धीरे धीरे परी रियान के लंड पर अपना जीभ फिराती है।
अचानक रियान को ना जाने क्या याद आता है वो तुरंत परी के मुँह से अपना लंड बाहर निकाल लेता है, परी हैरत भरी नज़रों से रियान को देखने लगती है।
रियान उठकर रूम से बाहर चला जाता है और होल में पड़े अपने बैग को खोलकर उस में से एक शहद की शीशी लेकर वापस आता है।
रियान के हाथ में शहद की शीशी को देखकर परी के चेहरे पर मुस्कान तैर जाती है, वो भी इस का मतलब समझ जाती है।
रियान फिर शहद की शीशी को खोलता है उस में से शहद को निकाल कर अपनी उंगलियों से अपने लंड पर अच्छे से लगा देता है।
फिर वो परी के तरफ बड़े प्यार से देखने लगता है, परी मुस्कुरा कर आगे बढ़ती है और अपना मुँह खोलकर शहद से लिपटे रियान के लंड को धीरे धीरे चूसना शुरू करती है।
एक तरफ तो लंड चिपके सूखे बीरे का नमकीन स्वाद और दूसरी तरफ शहद का स्वाद दोनों का टेस्ट मिलकर बड़ा अद्भुत था।
परी बड़े प्यार से लंड को मुंह में लेकर चूस रही थी, परी को अपने मुंह में शहद के सुवाद के अलावा लंड से किसी और चीज का भी सुवाद आ रहा था।
परी अभी चूदाई में नई नई थी, उसे इन सब के बारे में पता नही था, तो वो समझ नही पा रही थी कि लंड से और किस का सुवाद आ रहा है।
अचानक परी को समझ आया कि ये सुवाद लंड और चूत के वीरे का है, पर उस में इस की परवा न करते हुए लंड को चूसना जारी रखा।
परी ने 10 मिनिट तक रियान के लंड की चुसाई की, उसने लंड के ऊपर लगे शहद को पूरा चाट कर साफ कर दिया।
परी बोली एक बात पूछू आपसे सच बताना कि आप नहा कर नही आए थे क्या ?, रियान परी के आंखो में देख कर मुस्कुरा देता है ।
रियान बोला मैं तो देखना चाहता था कि तुम यह सब समझ पाती हो या नहीं, मैं तो तुम्हें चुदाई के तरीके को समझाना और सिखाना चाहता हूं।
परी बोली मुझे खुशी है रियान अंकल आप मुझे सिखाने के लिए क्या क्या जतन कर रहे हो मैं तो चाहती हूं आप मुझे सब कुछ सिखाओ।
वैसे एक बात बताओ लंड के वीर्य का स्वाद तो आपका था पर ये चूत के वीरे का स्वाद किसका था।
रियान बोला मुझे तो लगा था कि तुम इस स्वाद को बड़ी आसानी से पहचान लेगी, क्योंकि इस चूत से ही तुम इस दुनिया में आई हो।
परी बोली आपने मां को कब चोद दिया था तो रियान बोला‌ तुम्हारी मां कल ऑफिस से घर पर 2:00 बजे आ गई थी।
और मैं भी तुम्हारे घर 2:00 बजे आ गया था तुम्हारी मां बाहर जाने से पहले चूदाई करवाना चाहती थी।
कल तुम्हारी मां की दो बार चूत मारी थी 5:00 बजे मैं अपने ऑफिस के लिए निकल गया था।
परी बोली मैं और पापा कल साथ में 5:30 बजे घर में आ गई थे पापा के पूछने पर मां ने कहा था कि वह 5:00 बजे ही आई है।
रियान परी से बोला कि मैं तुम्हें कुछ और नया सीखाता हूं तुम सीखना चाहती हो क्या ? , परी ने हां कह कर अपना सर हिला दिया।
रियान बोला मेरी प्यारी परी , मुझे अपने लंड को तेरे मुँह में डालकर तेरे गले को चोदना है, तुझे भी इस चूदाई में बहुत मज़ा आएगा।
परी बोली अंकल आपका दिमाग़ तो नहीं खराब हो गया, भला इतना बड़ा लंड पूरा मेरे मुँह से होता हुआ मेरे गले तक जा ही नहीं सकता है।
रियान उदास हो जाता है तो परी बोली क्यों उदास होते हो अंकल अच्छा फिर ठीक है अगर आपकी खुशी इसी में है तो मैं अब आपको किसी भी बात के लिए मना नहीं करूँगी, कर लो जो आपका दिल करता है।
इस बात पर रियान परी के बूब्स को पूरी ताकत से मसल देता है, परी के मुख से एक तेज़ चीख निकल जाती है।
रियान मुस्कुरा देता है और कहता है कि मैं तो यही चाहता हूँ कि तू खुशी खुशी चूदाई की सभी क्रिया सीख लो और निपुड़ हो जाओ इस में।
मैं यकीन से कहता हूँ कि तुझे भी बहुत मज़ा आएगा, हां शुरू में थोड़ी तकलीफ़ होगी फिर तू भी आसानी से इसे पूरा अपने गले में ले लेगी।
परी बोली जैसा आपका हुकुम है रियान अंकल मगर मुझे तकलीफ़ होगी तो क्या आपको अच्छा लगेगा रियान अंकल बोलो ?
रियान बोला अगर चुदाई में तकलीफ़ ना हो तो मज़ा कैसा, पहले पहले सब को दर्द तो होता है फिर मज़ा भी बहुत आता है।
बस तू मेरा पूरा साथ दे, फिर देखना ये सारा दर्द मज़ा में बदल जाएगा, और में तुझे तेरी मां राजश्री से ज्यादा चीजें चूदाई की सीखा दूंगा ।
रियान फिर शहद अपनी उंगली में लेता है और अपने लंड के सुपड़े पर मलने लगता है और फिर अपने लंड के आखरी छोर पर भी पूरा शहद लगा देता है।
रियान परी को बेड पर लेटा देता है और उसकी गर्दन को बिस्तर के नीचे झुका देता है, परी को जब समझ आता है तो उसके रोंगटे खड़े हो जाते हैं।
वो तो सोच रही थी कि वो अपनी मर्ज़ी से पूरा लंड धीरे धीरे अपने गले में ले लेगी मगर यहाँ तो उसकी मर्ज़ी नहीं बल्कि वो तो खुद रियान के रहमोकरम पर थी।
रियान भी परी के मुँह के पास अपना लंड रख देता है और फिर परी की ओर देखने लगता है परी भी अपनी आँखों से उसे लंड अंदर डालने का इशारा करती है।
रियान परी के सिर को पकड़कर धीरे धीरे अपने लंड पर जोर डालने लगता है और परी भी अपना मुँह पूरा खोल देती है।
धीरे धीरे उसका लंड परी के मुँह के अंदर जाने लगता है, रियान करीब 5 इंच तक परी के मुँह में लंड पेल देता है और फिर उसके मुँह में अपना लंड आगे पीछे करके उसके मुँह को चोदने लगता है।
परी की गर्म साँसें उसको पल पल पागल कर रही थी, वो धीरे धीरे अपनी रफ़्तार बढ़ाने लगता है और साथ साथ अपना लंड भी अंदर पेलने लगता है।
परी की तकलीफ धीरे धीरे बड़ना शुरू हो जाती है, वैसे यह परी का पहला था, वो रियान का लंड कई बार चूस चुकी थी पर कभी अपने गले में पूरा नहीं ली थी ।
इसलिए तकलीफ़ होना लाजमी था, रियान करीब 7 इंच तक परी के मुँह में लंड डाल देता है और परी की साँसें उखड़ने लगती हैं।
रियान एकटक परी को देखता है और फिर अपना लंड पूरा बाहर निकाल कर एक झटके में पूरा अंदर पेल देता है, लंड करीब 8 इंच से भी ज़्यादा परी के मुँह में चला जाता है।
परी को तो ऐसा लगता है कि अभी उसका गला फट जाएगा, उसकी आँखों से भी आँसू निकल पड़ते हैं और आँखें भी बाहर की ओर आ जाती हैं।
तकलीफ़ तो उसे बहुत हो रही थी मगर वो रियान की खुशी के लिए सारी तकलीफों को घुट घुट कर पी रही थी।
फिर रियान एक झटके से अपना लंड बाहर निकालता है तो परी को कुछ राहत मिलती है मगर रियान कहाँ रुकने वाला था।
वो फिर एक झटके से अपना लंड उतनी ही स्पीड से वो परी के मुँह में पूरा लंड पेल देता है, इस बार रियान अपना पूरा लंड परी के हलक तक पहुँचाने में सफल हो गया था।
परी की आंखों से आँसू रुकने का नाम नहीं ले रहे थे, उसे तो ऐसा लग रहा था कि उसका दम घुट जाएगा और वो वहीं मर जाएगी।
रियान ने 5 मिनिट तक परी के मुंह को चोद कर रुक गया और करीब 10 सेकेंड्स तक परी के हलक में अपना लंड फँसाए रखा था ।
परी के मुँह से गु गु गू की लगातार दर्द भरी आवाज़ें निकल रही थी, जब परी की बरदाश्त की सीमा उस से बाहर हो गयी तो वो अपने दोनों हाथों से रियान के पैरों पर मारने लगती है।
रियान को भी तुरंत आभास होता है, और वो एक झटके से अपना पूरा लंड परी के हलक से बाहर निकाल देता है, परी वही ज़ोर ज़ोर से खांसने लगती है।
वो वहीं धम्म से बिस्तर पर पसर जाती है, रियान के लंड से एक थूक की लकीर परी के मुँह तक जुड़ी हुई थी, ऐसा लग रहा था कि उसके लंड से कोई धागा परी के मुँह तक बाँध दिया हो।
वो गुस्से से घूर कर एक नज़र रियान को देखती है, परी बोली ये क्या रियान अंकल भला कोई ऐसे भी सेक्स करता है क्या ?
आज तो लग रहा था कि आप मुझे मार ही डालोगे, मुझे कितनी तकलीफ़ हो रही थी आपको क्या मालूम, देखो ना अभी तक मेरा गला भी दर्द कर रहा है।
रियान बोला सॉरी परी बेटा मुझे नही लगा था कि तुम्हे मजा नही आ रहा है अब कभी नही करेगे, अच्छा तुम मुझे गिफ्ट देने वाली थी ना? क्या है वो तेरी स्पेशल गिफ्ट?
परी मुस्कुराकर बोली आप गेस करके बताइए ? आपकी इस समय सबसे बड़ी इच्छा क्या है, मैं वो पूरी करुँगी, वही आपका स्पेशल गिफ्ट होगा।
रियान बोला मेरा तो इस समय सबसे ज़्यादा मन तेरी कुंवारी गाण्ड मारने को कर रहा है, अगर तू मुझे इसकी इजाज़त दे तो ?
परी बोली चलो रियान अंकल आज आपको अपनी कुंवारी गांड आपको गिफ्ट में दिया, आप जैसे चाहो मेरी कुंवारी गांड मार लो।
रियान ने तो यह सोचा ही नहीं था परी कुछ ऐसा कह देगी, उस ने झट से परी को अपनी बांहों में ले लेता है और उसके होठ चूम लेता है।
रियान बोला तू सच में बहुत बिंदास है परी बेटी, और एक दिन तू अपनी मां से आगे निकल जाएगी और सच में तेरा पति बहुत किस्मत वाला होगा।
परी बोली और आप नहीं हो क्या ?, परी धीरे से मुस्कुरा देती है, रियान बोला सच में तेरी जैसे लड़की को चोदकर तो मेरा भी नसीब खुल गया ।
और इतना कहकर वो परी की गान्ड को कसकर अपने दोनों हाथों से भींच लेता है, रियान बोला परी बेटी, मेरा लंड को पूरा खड़ा कर ना फिर मैं तेरी गांड मारूँगा।
करीब 5 मिनट तक परी रियान के लंड को पूरा थूक लगाकर चूसती और चाटती है, तब रियान का लंड परी की कुँवारी गांड को फाड़ने के लिए तैयार हो जाता है।
रियान बोला परी बेटी, पहले तेरी गदराई गांड से तो जी भर के प्यार कर लूँ, वो बस देखने लगता है परी के गान्ड की खूबसूरती उफफ्फ़ क्या नज़ारा था ।
भारी भारी गोल गोल उभरे हुए गोरे गोरे चूतड़ जिन्हें अपनी हथेलियों से बड़े ही हल्के से दबाता हुआ अलग करता है गांड़ की दरार चौड़ी हो जाती है।
दरार के बीच थोड़ी सी डार्कनेस लिए गान्ड के छेद की चारों ओर का मास गांड की सूराख पूरी बंद हुई पर चारों ओर का मास एकदम टाइट।
ज्यादा कसा सूराख इस बात की गवाही दे रहा था कि गान्ड में कोई लंड अंदर नहीं गया है और पूरी दरार वेक्सन की हुई चिकनी और चमकदार थी।
रियान ने अपने अंगूठे से गान्ड की दरार को हल्के से दबाया, अंगूठा उसकी चिकनी गान्ड में फिसलता हुआ ऊपर की ओर बढ़ता गया।
उफ़फ्फ़ इतनी चिकनी और मुलायम गान्ड रियान ने आज तक नहीं देखी थी, परी रियान की हरकतों से मस्त थी, मुस्कुरा रही थी।
वो अंगूठे के दबाव से सिहर उठी उसने अपनी गान्ड थोड़ी सी ऊपर उठाते हुए कहा हां हां रियान अंकल, अच्छे से छू लो, दबा लो देख लो आपके लौड़े के लिए सही है ना?
परी बेटी बहुत ही ज्यादा शानदार, जानदार और मालदार है तेरी गान्ड उफ सही में तुम ने काफ़ी मेहनत की है ज़रा चाट लूँ परी बेटा ?
यह बात सुन कर परी और भी मस्ती में आ जाती है और अपनी गान्ड और भी ऊपर उठाते हुए रियान के मुँह पर रखती है और कहती है रियान अंकल
पूछते क्यूँ हो आपकी प्यारी राजश्री की बेटी की गान्ड है जो जी चाहे करो ना चाटो चूसो खा जाओ ना पर लौड़ा पूरा जड़ तक अंदर ज़रूर पेलना।
और रियान के मुँह से अपनी गान्ड लगा देती है, रियान उसकी गान्ड नीचे पलंग पर कर देता है, दरार को फिर से अलग करता हुआ अपनी जीभ उसके सूराख पर लगाता है।
और पूरी दरार की लंबाई चाट जाता है जीभ को अच्छे से दबाता हुआ उफ्फ़ उसकी गान्ड की मदमस्त महक और एक अजीब ही सोंधा सोंधा सा स्वाद था।
दो चार बार दरार में जीभ फिराता है जीभ के छूने से और जीभ की लार के ठंडे ठंडे टच से परी सिहर उठती है उस के मुंह से सिसकारियां निकल जाती है।
और फिर रियान उसकी गान्ड के मास को अपने होंठों से जकड़ लेता है और बुरी तरह चूसता है मानो गान्ड के अंदर का पूरा माल अपने मुँह में लेने को तड़प रहा हो।
परी मज़े में चीख उठती है आआआह रियान अंकल उईईई देखो ना मेरी गान्ड कितनी मस्त है? अब देर ना करो बस पेल दो ना अंदर प्लीज्ज।
रियान सिंगार दान में से तेल की शीशी ले लेता है, परी जब रियान के हाथ में तेल की शीशी देखती है तो पूछती है इस का क्या इस्तमाल है ?
रियान परी को बताता है कि तेल का इस्तेमाल करने से तुम्हें गांड मरवाने में दर्द कम होगा और लंड गांड में आसानी से अंदर बाहर होगा।
ये सुनकर परी के तो होश उड़ जाते है उस के हाथ पैर कांपने लगते हैं और उसकी हालत बिगड़ जाती है।
उसने बोल तो दिया था कि वो रियान से अपनी गान्ड मरवायेगी मगर इतना मोटा और लंबा लंड वो अपनी गान्ड में कैसे बरदाश्त कर पाएगी ये उसकी समझ में नहीं आ रहा था।
रियान तेल की शीशी खोलता है और थोड़ा सा तेल लेकर परी की गान्ड के छेद पर गिरा देता है, अपनी दोनों उंगलियों में अच्छे से तेल लगाकर वो उसकी गान्ड में धीरे धीरे उंगली पेलना शुरू कर देता है।
कुछ देर के बाद वो अपनी दोनों उंगली को परी की गान्ड में डालकर अच्छे से आगे पीछे करने लगता है, परी की गांड कुछ खुल गई थी।
परी फिर से गर्म होने लगती है, उसको समझ में नहीं आ रहा था कि उसे क्या हो गया है, भला वो बार बार कैसे गर्म हो रही है।
आप मेरे साथ बने रहिए और इस रियान अंकल की सेक्स कहानी पर किसी भी प्रकार की राय देने के लिए आप मेल पर मुझसे संपर्क कर सकते हैं.
[email protected]

यह कहानी भी पड़े  रियान अंकल 1 पार्ट 3

error: Content is protected !!