रेणु की कच्ची चूत

दोस्तो मेरा नाम अंकित है और मैं कई महीनो से राजशर्मास्टोरीज की कहानियाँ पढ़ रहा हूँ तो इसी लिए सोचा आप सभी के सामने मुझे अपनी कहानी भी पेश करनी चाहिए, तो सबसे पहले मैं अपने बारे मे बता दूं मेरी उमर 21 साल है और मैं एक बी.टेक स्टूडेंट हूँ, मेरी हाइट 5’8″ है और लंड 6″ लंबा और मोटा भी ठीक ठाक है.

तो अब मैं सीधे कहानी पर आता हूँ, ये कहानी मेरी और मेरे घर मे काम करने वाली आंटी की बेटी के बीच हुई चुदाई के बारे मे है, आंटी का नाम कमला है और वो पिच्छले कई सालो से हमारे घर मे काम करती है और इसी लिए वो मेरी मम्मी की खास भी है, मेरी माँ आंटी को कभी एक नौकरानी नही समझती वो दोनो हमेशा सहेलियों की तरह ही आपस मे बात चीत किया करती है, वेसे कमला आंटी की बात की जाए तो उनका फिगर भी मस्त है 36-30-36 और दिखने मे भी अट्रेक्टिव है और उनकी उमर यही कोई 40 साल के आस पास होगी.

पर वो मेरी माँ के बहोत करीब है इसी लिए मैने कभी कोई उची नीची हरकत नही की, क्योकि अगर कुछ ग़लत हो गया और उसने मेरी माँ को बता दिया तो मेरी माँ तो बाद मे पर मेरा बाप मेरी गांद फाड़ देगा, क्योकि वो बड़े सख़्त है इन बातो को लेकर, आप समझ ही गये होंगे अरेंज मेरेज़ वाले शरीफ पर सख़्त इंसान, खैर जाने दो मेरी लाइफ मे सब ठीक चल रहा था घर पर सब ठीक था कॉलेज मे सब ठीक था और तो और गर्लफ्रेंड भी मस्ती थी, पर ये सब तब तक ही जब तक मैने रेणु को नही देख लिया था.

यह कहानी भी पड़े  कैसे मैंने नौकरानी को चोदा

जेसा कि मैने बताया ही है कि ये कहानी मेरी और कमला आंटी की बेटी के बारे मे है, तो रेणु के बारे मे पहले सब बता दूं, रेणु वो एक सेक्सी लड़की जब मेरी जिंदगी मे आई तब उसकी उमर 18 साल हो चुकी थी, जवानी पूरे कहेर मे थी और उसका 32-28-34 का फिगर एक दम मस्त था और सबसे मस्त और सेक्सी चीज़ उसके शरीर और चेहरे की बनावट जिसे मैं बयान नही कर सकता, पहली बार रेणु अपनी मा के साथ आई थी और मेरी नज़रे उसे देखती ही रह गयी थी, वैसे मेरी गर्लफ्रेंड थी पर उसमे वो बात कहाँ थी जो रेणु मे थी.

रेणु किसी के घर पे काम नही करती थी बल्कि वो तब आती थी जब कमला आंटी को काम से बाहर जाना पड़ता था या वो बीमार होती थी, तो इसी लिए वो मेरी माँ की मदद करने हमारे घर आ जाया करती थी, मैं उससे बात करना चाहता था पर मेरी माँ हमेशा ही आस पास होती थी तो इसी लिए बात हो ही नही पाती थी, पर मैं भी बस मोका ही ढूँढ रहा था और दोस्तो मोका सबको मिलता है बस उसका इंतज़ार करना चाहिए जेसे मैने किया.

एक दिन मैं सुबह नहा कर बाथरूम से बाहर निकला कि मेरी नज़र दरवाजे पर पड़ी, मैने रेणु को वहाँ से जाते हुए देखा और उसे देख कर मैं समझ गया कि आज कमला आंटी नही आई, मैं उस वक्त सिर्फ़ अंडररवेर मे था कि मेरे दिमाग़ मे पता नही क्या आया मैं बाथरूम मे गया और अंडररवेर उतार कर सिर्फ़ टावाल बाँध कर बाहर आ गया, मेरा दिल बहोत धड़क रहा था क्योकि जो मैं करने वाला था वो उल्टा भी पड़ सकता था, मैं जानता था कि वो मेरे कमरे मे ज़रूर आएगी क्योकि वो हमेशा ही आई है जब भी वो आती है और वैसे ही हुआ भी वो कमरे मे एंटर हुई.

यह कहानी भी पड़े  हिंदी पोर्न स्टोरीस पति के दोस्त को अपनी चूत दी

मैं बिल्कुल अंजानो की तरह बर्ताव कर रहा था जेसे मुझे पता ही नही कि वो वहाँ है, और जेसे ही उसने झाड़ू लगाना शुरू किया मैने अपना टावाल जो मैने एक हाथ से पकड़ा हुआ था वो छोड़ दिया और एक दम नंगा हो कर बेड से अपना अंडररवेर उठाने लगा, मैने तभी उसे देखा और उसने भी मेरी तरफ देखा और हम दोनो की आँखे फटी की फटी रह गयी, वो एक दम घबरा गई और उसने झाड़ू छोड़ा और अपने दोनो हाथ अपनी आँखो पर रख लिए, मैने भी चालाकी चली मैं नंगा ही बाथरूम मे भाग गया क्योकि अंडररवेर बॅड के दूसरी तरफ पड़ा था.

मैं – ओह्ह्ह.. आइ’म सो सॉरी. (मैने बाथरूम मे जा कर उसे बोला)

वो कुछ नही बोली और वहाँ से जाने लगी कि मैने उसे आवाज़ ल्गई.

मैं – एक मिंट.. प्लीज़ मेरे कपड़े तो देदो मुझे.

रेणु – कोन्से कपड़े (वो एक दम घबराई हुई थी)

मैं – वो वाहा बेड पर पड़े है (वाहा सिर्फ़ मेर उंदर्वारे था)

रेणु बेड के पास गयी और उसने अंडररवेर उठा कर मुझे दिया.

मैं – थॅंक यू सो मच, प्लीज़ माँ को इस बारे मे मत बताना और आइ’म सॉरी अगेन.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3 4 5