दो रंडियों का कॉलेज टूर मे चुदाई

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम कुसुम है और में पर पिछले कुछ सालों से सेक्सी कहानियों के मज़े लेती आ रही हूँ। ऐसा करने में मुझे बड़ा मज़ा आता है और अब तक ना जाने मैंने कितनी कहानियों के मज़े लिए। बिना कहानी पढ़े मुझे बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता। दोस्तों में अभी अपनी कॉलेज की पढ़ाई कर रही हूँ और में अभी पहले साल की पढ़ाई कर रही हूँ। मेरे फिगर का आकार 34-28-34 है, हमारे घर में मेरे मम्मी, पापा और भाई है और मेरी एक बहुत पक्की सहेली है जिसका नाम हेमा है। हम दोनों की उम्र करीब 17-18 की होगी। हम दोनों बहुत मज़े मस्ती किया करते है और मजाक करते समय कभी वो मेरे बूब्स को खींच देती तो कभी में उसके गाल पर चिकोटी काट लेती। कॉलेज में हम दोनों के ही बॉयफ्रेंड है, मेरे बॉयफ्रेंड का नाम राजेश और हेमा के बॉयफ्रेंड का नाम संदीप है में संदीप को और हेमा राजेश को जीजू ही बोलती है वो भी मुझे अपनी साली ही समझता है और हमारे बीच में अभी तक किस ही हुआ है या कपड़ो के ऊपर से बूब्स पर हाथ फेरा बस इतना ही हमारे बीच हुआ है। दोस्तों अब में अपनी असली बात पर आती हूँ, एक बार हमारे कॉलेज की तरफ से हमे घूमने बाहर जाना था। हमें राजस्थान घूमना था और इस बात को सुनकर में बहुत खुश थी। मैंने और हेमा ने हमारी फीस भी जमा करवा दी। तो हम दोनों ने राजेश और संदीप से भी हमारे साथ चलने को कहा और वो दोनों भी अपनी कार से जाने को तैयार हो गये, लेकिन वो कार उनके एक दोस्त की थी, इसलिए वो भी उनके साथ ही गया और उस लड़के का नाम जितेन्द्र था और जितेन्द्र बहुत अमीर था और उसका जयपुर में फ्लेट भी है। उसका रंग थोड़ा सा काला है। फिर में और हेमा एक स्कूल बस से 26 तारीख को चले और हम जयपुर पहुँच गए। हम सभी करीब दोपहर को 12 बजे पहुँचे और हम सभी लड़कियों को एक धर्मशाला में ठराया गया था। फिर कुछ देर फ्रेश होने के बाद सभी लड़कियाँ और मेडम राज मंदिर में फिल्म देखने चली गयी और हम दोनों उन सभी को झूठ बोलकर हमारे बॉयफ्रेंड के साथ उनकी कार में बैठकर घूमने चली गयी। हेमा कार में आगे की सीट पर अपने बॉयफ्रेंड संदीप के साथ बैठी हुई थी और में पीछे जितेन्द्र और राजेश के बीच में बैठी हुई थी और हम लोग ने रास्ते में रुककर एक होटल से खाना पेक करवाकर जितेन्द्र के फ्लेट पर आ गए। जितेन्द्र ने पहले से ही अपने साथ बियर ले ली। फिर वहां पर पहुंचते ही मैंने उनसे कहा कि यहाँ पर क्यों आए हो हम कहीं बाहर घूमने चलते है? तो वो मेरी बात को सुनकर ज़ोर से हंस पड़े और उनमे से एक ने जवाब दिया कि पहले तुम कुछ खा पी लो, उसके बाद हम घूमने चलते है और अब उन तीनों ने बियर पीना शुरू कर दिया और हम दोनों को खाना लगा दिया। फिर कुछ देर बाद राजेश ने मुझसे बियर पीने के लिए कहा, लेकिन मैंने उसको ऐसा करने के लिए साफ मना कर दिया तो संदीप ने हेमा को और राजेश ने मुझे अपनी कसम देकर हम दोनों को बियर पिला दी। बियर पीने के कुछ देर बाद हम दोनों को हल्का सा नशा होने लगा और हम दोनों हॉट हो गयी तो इस बात का फायदा उठाकर संदीप ने उसी समय हेमा को अपनी बाहों में जकड़ लिया और अब वो उसके होंठो को चूसने लग गया था। फिर हेमा उूुउउ करके बोली कि तुम सभी के सामने यह क्या कर रहे हो। देखो सभी लोग हम दोनों को देख रहे है? तभी संदीप उससे कहने लगा कि अरे और कौन है यहाँ पर बस एक मेरी साली है या मेरा एक दोस्त है, इन लोगों से क्या शरमाना यह तो हमारे ही है कोई बाहर का नहीं है? और इतने में राजेश ने भी मुझे पकड़ लिया और वो अपने एक हाथ से मेरे बालों को पकड़कर मुझे किस करने लगा था और वो अपने दूसरे हाथ से मेरे बूब्स को भी दबाने लगा था। उसने यह सब मेरे साथ इतना अचानक से किया कि मुझे थोड़ा सा भी उसने सम्भलने का मौका नहीं दिया और वो मुझे पागलों की तरह लगातार चूमता रहा। दोस्तों उन दोनों का वो दोस्त जितेन्द्र भी उस समय पास ही एक कुर्सी पर बैठा हुआ हम लोगों को यह सब करते हुए देख रहा था, क्योंकि उसको भी देखने में बड़ा मज़ा आ रहा था और अब राजेश ने सही मौका देखकर तुरंत मेरी टीशर्ट को उतार दिया और अब वो मेरी ब्रा के ऊपर से ही मेरे बूब्स को दबाने मसलने लगा था और में बार बार लगातार उससे ना, ना करती रही, लेकिन वो नहीं माना और अपनी मर्जी से काम करता रहा।

यह कहानी भी पड़े  कैसे मैंने अपनी भाभी को चोद के उसे मेरी रांड बनाई

Pages: 1 2 3 4

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!