पति को बड़ी मुश्किल से पत्नी को चोदने को मिला

हेल्लो दोस्तों, मेरा नाम योगेश हैं। मैं नासिक से हूं। मेरी उम्र 28 साल है। मेरी हाइट 6 फीट है। मेरा रंग गोरा हैं और मैं दिखने में नॉर्मल और क्यूट सा हूं। मैं एक गवर्मेंट जॉब करता हूं।

मेरी 7 महीने पहले अरेंज मैरिज हुई। मेरी पत्नी का नाम सोनाली हैं और मैं उसे प्यार से सोनू कहता हूं। उसकी उम्र 24 साल है। वह दिखने में बहुत खूबसूरत और हॉट हैं। उसकी हाइट 5.8 फीट है। उसका फिगर 36-24-36 है। वह हमेशा साड़ी पहनती हैं। वह भी गवर्नमेंट जॉब करती हैं।

वह मुझे बिल्कुल पसंद नहीं करती थी, पर मैं उससे बहुत प्यार करता था। मेरी कोई गर्लफ्रेंड भी नहीं थी। मैंने खुद को सिर्फ अपनी पत्नी के लिए ही रखा था।इसलिए मैंने कभी भी चुदाई नहीं की थी।

दर‌असल उसे इतनी जल्दी शादी नहीं करनी थी। उसे अपने जीवन साथी को समझने के लिए वक्त चाहिए था।उसने मुझे शादी से पहले कहा था, कि

उसे मुझे समझने के लिए थोड़ा वक्त चाहिए, और वह शादी के लिए एक साल रुकने को कह रही थी।

मैंने हां बोला। पर मेरे घर वालों को यह मंजूर नहीं था। और उसके घरवालों को मैं पसंद आया तो जबरदस्ती हमारी शादी हो गई। वह इस बात के लिए मुझे दोष दे रही थी। हमारी पहली रात को उसने मुझे कहा –

“मुझे आपसे नफ़रत है। मैंने मेरे पापा और मम्मी की कसम के लिए आपसे शादी की, नहीं तो मैं आपसे कभी शादी नहीं करती। कभी भी आपको मेरा पति नहीं मानूंगी। अपने मेरा विश्वासघात किया है। आप बहुत बेहूदा इंसान हो।” वह रोती रही।

उसके बाद हर रोज वह मुझसे बहुत झगड़ती, गुस्सा करती, मुझसे बात नहीं करती। पर मुझे वह बहुत पसंद थी। मैं उसे बहुत प्यार करता। पर वह मुझे सताने के बहुत प्लान करती, मेरे टिफिन में कभी रोटी तो कभी सब्जी नहीं देती। कभी तो रात को खाना नहीं देती। पर वह मेरे मम्मी और पापा का खयाल रखती। यह बात मुझे बहुत अच्छी लगती।

मैं और वह रोज बाइक पर अपने काम पर जाते, पर वह मुझसे कभी बात नहीं करती। मैं जान-बूझ कर बाइक का ब्रेक लगाता, पर वह कुछ रिएक्ट नहीं करती।

उसका मुझे सताना बहुत बढ़ गया था। वह मुझसे बहुत नाटक करती और कहती-

“मेरे बहुत बॉयफ्रेंड है। मुझे आपकी कोई ज़रूरत नहीं है। मैं मेरे बॉयफ्रेंड के साथ बहुत बात सो चुकी हूं।”

मुझे पता था यह झूठ था।

पर सच-झूठ के लिए मैं जब वह सो रही होती थी, तब बहुत बार उसकी चूत को चेक किया करता था, और कभी तो चाटता था। वह अभी भी वर्जिन थी।

वह मुझसे बहुत नाराज़ थी। मैंने कभी भी उसको डांटा नहीं था। वह इसका बहुत फायदा उठाती थी। मुझे छोड़ कर वह सबसे अच्छे से बरताव करती। हमारी शादी को 4 महीने हुए होंगे, और हम अकेले ऐसे शादीशुदा कपल होंगे जिन्होंने शादी के 4 महीने तक चुदाई नहीं की होंगी।

मैं उस पर जबरदस्ती कर सकता था।क्योंकि मैंने कभी चुदाई नहीं की थी, और मैं चोदने के लिए बेताब था। जब मैं कभी रात को उसकी चुत देखता, तो तुझे उसे चोदने का मन होता। मैं अगर उससे जबरदस्ती करता तो मैं उसे हमेशा के लिए खो देता। मैंने नींद में उसके ओंठ बहुत बार चूमें है।

चुदाई का असली मज़ा दोनों की सहमति और साथ से आता है। इसलिए मैं उस दिन की राह देखने लगा।

एक दिन मेरा परिवार शिर्डी जाने वाले था।पर सोनाली ने साफ मना किया, और कहा कि उसे ऑफिस में बहुत काम था। मुझे लगा उसे बहुत काम होगा, तो हमने जाना कैंसल किया।

पर उस दिन वह मुझे अपने एक मेल दोस्त के साथ कैफे में जाती दिखी, तो मैंने उससे वहां जाकर गुस्से में पूछा –

“तुम काम छोड़ कर यह क्या कर रही हो?‌ तुम्हे तो बहुत काम था ना?”

कैफे में लोग थे इसलिए वह मुझे बाहर लेकर गई और कहने लगी।

“तुमसे मतलब, तुम होते कौन हो मुझे पूंछ ने वाले?” वह लड़का मेरा बॉयफ्रेंड हैं। मैं उसके साथ घूमू, उसके साथ सोऊं तुम्हे उससे क्या लेना देना है?”

मैंने उससे गुस्से में अनाब-शनाब कहा। उसने मुझे उसके दोस्त के सामने पहली बार थप्पड़ मारा और वहां से गुस्से से चली गई। मैं बहुत दुख में था। मैंने अपनी पत्नी से इतना प्यार किया और उसने मुझे क्या दिया “थप्पड़”। मैं बहुत गुस्से में था।

मैं कभी भी शराब नहीं पीता और ना ही मुझे कोई लत है। पर उस दिन मैं शराब पीने वाला था। वह कहते हैं ना कि आपके सबसे करीबी को आपकी असली कीमत आपको कुछ बुरा होने के बाद पता चलती हैं। तो मेरे साथ बिल्कुल ऐसा ही हुआ।

मैं उस समय बहुत टेंशन में था, और बाइक पर घर जा रहा था। अचानक मुझे साइट से एक ट्रक ने टक्कर मारी और मेरा बहुत जबरदस्त ऐक्सिडेंट हो गया। मेरे सिर पर बहुत गहरी चोटें आई थी। मैं बेहोश हुआ और मुझे हॉस्पिटल ले जाया गया।

जब यह बात मेरी पत्नी को पता चली, तो उसके पैरो तले से जमीन खिसक गई। वह हॉस्पिटल भागते हुए आयी और मेरी बुरी हालत देख कर बहुत ज्यादा रोने लगी। उसके दिल को बहुत ठेस पहुंची।

वह मेरे पास आने के लिए बहुत उतावली हो रही थी। उसे मुझे करीब से देखना था। वह बहुत रोने लगी। उसको भी अभी मेरी असली कीमत पता चली और मेरा प्यार समझ में आया। मैं कुल 15 दिन बेहोश था। उसने उस दिन से कुछ नहीं खाया था। उसे जबरदस्ती खाना खिलाना पड़ता था।

यह सब बातें मुझे मेरी मम्मी ने बताई थी। उसे बहुत अफसोस हो रहा था कि उसने मुझसे ऐसा बरताव किया। वह खुद को बहुत कोसती रहती कि उसने अपने पति को मारा। जब मुझे होश आया तो उसके जान में जान आयी।

वह मुझसे मिलना चाहती थी। 2 दिन बाद डॉक्टर ने उसे मुझसे मिलने की परमिशन दी। जब वह मेरे पास आयी, मैं होश में था।उसने मेरे हाथ को चूमा और वह रो रही थी। मैंने उससे कहा कि

“तुम्हे तो खुशी होनी चाहिए मेरी ऐसी हालत देख कर”

यह सुन कर वह खुद को मारने लगी। उसको दुख हुआ और वो रोते हुए बाहर चली गई। मैंने उसके बाद उससे बात करना टाल दिया था। मैं उसके बाद 20 दिन तक हॉस्पिटल में ही था। मेरे कुल 4 ऑपरेशन हो चुके थे। वह भी दिन भर मेरे पास ही रहती, और अपनी गलतियों की माफी मांगती। और कहती

उसका कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं था और ना ही वह किसके साथ सोई थी।

20 दिन बाद मुझे डिस्चार्ज मिला।

मेरी पत्नी मेरा घर पर बहुत ख्याल रखने लगी। मैंने उससे बात करना टाल रखा था। वह हमेशा उदास रहती। मैं यह बात जानता था कि वह बहुत पछता चुकी थी। वह हर बार मुझसे बात करने का प्रयास करती, और मेरे बात ना करने पर बहुत रोती। कुल 2 महीने बाद मैं पहले जैसा ठीक हुआ।

वह मुझसे बहुत प्यार करने लगी थी। मेरी खातिर उसने अपनी जॉब छोड़ दी थी। वह मेरा दिन रात पूरा खयाल रखती। मैं उससे प्यार करता था, इसलिए उससे बात करनी शुरू की।

उसने मुझे कहा था कि

उसका कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं था। पर वह मुझसे नाराज़ थी, इसलिए ऐसा बरताव करती थी। उस दिन का लड़का उसका दूर का रिश्तेदार था, और उसकी बहन कि शादी का न्योता देने आया था।

उसने मुझे थप्पड़ मारा उसके बाद वह बहुत दुखी थी। वह मुझसे माफ़ी मांगने वाली थी और जब उसे मेरे बारे में पता चला वह पूरी हिल गई थी। टूट गई थी। उसने मुझे एक रिक्वेस्ट की-

“आप मुझे बस एक मौका दो। मैं हमारी जिंदगी बेहतर बनाऊंगी। हम बहुत प्यार से रहेंगे।” मैं खुश था कि उसे अपनी गल्तियों का अहसास हुआ।

अब हमारी शादी को 6 महीने हुए थे और मैंने चुदाई नहीं की थी। अब बहुत हुआ था। शादी के 6 महीने तक कौन चोदने को रुकता है। इसलिए मैंने उससे बस एक बात कही-

“मुझे तुम्हे अभी इसी वक्त चोदना है बस”

फिर वह शरमाई और मुस्कुरा कर मुझे गले लगा कर मेरे होंठ चूमने लगी। मैंने भी प्यार से उसका साथ दिया। हम बहुत इमोशनली एक-दूसरे के होंठ चूम रहे थे, और जिंदगी भर साथ रहने का वादा कर रहे थे।

फिर हम एक दूसरे के गले को चूमने लगे, और चूमने की आवाज हमारे कमरे में गूंजने लगी। उस बीच वो मेरी पैंट के ऊपर से मेरे 7 इंच के लंड को सहलाने लगी, और मैं तुरंत झड़ गया।

वह हसने लगी।

किसिंग के बाद मैंने उसका ब्लाऊज़ निकाल कर उसके बूब्स चूसने शुरु किये। मैं उसके निप्पल दबाने लगा।उसके मुंह से

“आआआआउउऊछ

आआइआउउ”

की आवाजें निकाल रही थीं।

मैं उसके पेट,‌ उसके बूब्स, उसका गला, उसके ओंठ, उसके गाल पागलों की तरफ चूम रहा था। उसकी सांसे तेज थी। फिर मैंने एक झटके में उसकी साड़ी उतार दी, और उसके पैरों की उंगलियों से लेकर उसकी चूत तक चूमते हुए आया। उसकी पैंटी गीली थी।फिर मैंने उसकी पैंटी उतारी।

मेरे सामने उसकी वर्जिन चूत थी। मैंने उसे प्यार से चूमना शुरू किया। मेरी पत्नी झाड़ने लगी, और मैं सारा पानी पीने लगा। वह सिसकियां ले रही थी।

मैंने उसके पैरों को पकड़ कर उसकी चूत चाटना शुरू किया, और बस चाटता गया। फिर मैंने उसकी गांड को भी चाटना शुरू किया। वह

“आआआउउउईई ईईईउउउऊ ससस आआ”

कर रही थी

मैंने दोबारा उसका शरीर चाट लिया।अब उसकी बारी थी। उसने मुझे किस करते हुए लिटाया, और मेरा शर्ट उतार कर मेरे सीने को, फिर पेट को, फिर नाभि को चूमने लगी। उसने फिर से मेरे माथे से लेकर मेरे पेट तक मुझे चूमा।

फिर उसने मेरी पैंट और अंडरवीयर उतारी, और मेरे पैरों की उंगलियों से लेकर मेरे लंड तक चूमते हुए आ गई। फिर वह मेरा लंड चूसने लगी। मैं “आआआआ उउऊऊ ईई आआ सोनू आह” कर रहा था।

वह मेरा लंड चूसती रही, मेरे गांड को भी चाट ती रही। और मैंने उसे कहा – “चलो घोड़ी बन जाओ”

वह घोड़ी की तरह हो गई। फिर मैं उसके पीछे गया, और प्यार से अपने लंड को उसकी चूत से रगड़ने लगा। वह कहने लगी –

“जरा प्यार से”

फिर मैंने धीरे-धीरे अपना लंड उसकी गोरी प्यारी चूत में डाला, और वह चिल्ला उठी।

“आआआऊऊऊछ आआहहह आआआहह, निकालो जी बाहर”

फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला। उसकी चूत से खून निकल रहा था। मैंने उसे साफ किया और मेरे लंड और सोनू की चूत पर तेल लगाया, और फ़िर से चोदने लगा।

मैंने उसे जोरों से चोदना शुरू किया।वह “आआआआउउऊछ इइइउआआआआ आआआहह आआह” चिल्ला रही थी। हमारा शरीर गरम था। इसलिए मुझे बहुत जोश आ रहा था। मैं उसे जी भर के चोद रहा था।फिर मैंने उसे मिशनरी पोजीशन में चोदना शुरू किया।और एक-दूसरे के होंठ चूमते रहे।

मैं उसे जोर से चोद रहा था। हम लंबे-लंबे किस लेते और मैं और तेज चोदता। वह मुझे सिसिकिया लेते कहती कि –

“अब हम कभी नहीं झगडेंगे, और मरते दम तक साथ रहेंगे”

मैं उसकी बाते सुन कर उसे चूमता और जोर से चोदता।

मैं थक गया तो मैं बेड पर लेट गया। फिर वह मेरा लंड चूसने लगी और अपनी चूत मैं मेरा लंड डाल कर उछलने लगी। अब मेरे मुंह से भी “आआइआउउ

आआहहह उउउछ”

निकल रहा रहा। वह झाड़ने वाली थी इसलिए वह तेज हुई और सारा पानी मेरे मुंह की तरफ कर दिया। मैं हसते हुए उसे चाटने लगा।फिर हमने फिरसे किसिंग करनी शुरू की।

अब मैंने उसे पेट के बल लिटाया, और उसे चूमते हुए उसकी गांड में लंड डाला। वह जोरों से चिल्लाने लगी “आआआआउउऊछ

आआआआ”

मैंने उसकी गांड को जोर से चोदना शुरू किया और फिर 3 मिनट के बात फिर पीछे से ही चूत में डाला और चोदने लगा। मैं अब झड़ने वाला था। मेरी सोनू ने मुझे पूछा कि “आप नजदीक हो क्या?” मैंने कहा “हा” उसने कहा कि “चूत मे ही सारा माल डाल देना”

मैंने उसे पीछे से मारा और जोर से चोदते हुए कहा – “कुत्ती, यह हमारी शादी के 6 महीने बाद हमारी पहली चुदाई हैं। मुझे पूरे 6 महीने की इच्छा पूरी करनी हैं। मैं तुम्हारे चूत में झड़ जाऊं ये हो नहीं सकता”

वह हंस रही थी। फिर मैंने उसे पलटाया और उसके मुंह में लंड डाल कर चोदने लगा। वह

“उममममममम

ऊममम” कर रही थी।

फिर मैं उसके मुंह में ही झड़ गया और उसके शरीर के ऊपर चिपक गया और वह रोते हुए मुझे अपने से लगा कर रख रही थी। बस यह कह रही थी “आप मुझे कभी अकेला मत छोड़ो”।

मैंने उससे कहा “मैंने कभी तुम्हें अकेला नहीं छोड़ा है। तुमने ही तुझे अकेला छोड़ा था”। वह रोते हुए मुझे चूमने लगी और सॉरी बोलने लगी।

फिर क्या दोस्तों वह अब मेरा बहुत खयाल रखती हैं। हम ढेर सारी बातें करते हैं, और बहुत चुदाई करते हैं। जब वह थक जाती हैं और ना बोलती हैं, तो मैं सिर्फ उसे हमारे पास्ट की उसकी गल्तियां याद दिलाता हूं, और वह रोने लगती हैं और मेरा लंड चूस कर खुद मेरे ऊपर चढ़ कर चुदने लगती है।

अब तो असली में हमारी असली शादी-शुदा जिंदगी शुरू हुई है। फर्क अब इतना है कि अब मेरी गल्ती पे मेरी पत्नी पीछे हो जाती हैं। मुझे संभालती है। हम पहले तो सिर्फ नाम के पति पत्नी थे। अब बस एक-दूसरे की सांस और दिल की धड़कन है।

आई लव यू सोनू……

यह कहानी भी पड़े  Tarak Mehta ka ooltah chashma - समानांतर विश्व-2


error: Content is protected !!