पार्क में मिली सेक्सी भाभी को पटा कर चोदने की कहानी

हेलो दोस्तों, मैं सोनू शर्मा. कैसे हो आप सारे? आशा करता हू की आप सभी आचे ही होंगे, और चुदाई का भरपूर आनंद ले रहे होंगे आप अपनी ज़िंदगी में.

तोड़ा मैं अपने बारे में बता डू. मैं 23 साल का हू, और अभी देल्ही में रहता हू. मेरी हाइट 5.7 फीट है. मैं एक आत्लीट हू, इसलिए मेरी बॉडी स्लिम है. मेरा लंड 7 इंच का है. मुझे सेक्स का काफ़ी ज़्यादा अनुभव है. मेरी जितनी भी सेक्स स्टोरीस है देसीकाहानी पे, वो सारी रियल है.

भाभी का इंट्रोडक्षन, पूजा नाम है उनका, आगे 31 है, और फिगर 36-32-36 है. गोरा रंग है पूजा का, और बहुत ही सेक्सी है. अगर कोई भी उनको देख लेगा ना, तो उसका ऐसे ही लंड खड़ा हो जाएगा. वैसे ये सब मुझे बाद में पता चला. लेकिन मैं आप दोस्तों के साथ पहले ही शेर कर देता हू.

चलिए स्टोरी पे आते है. तो दोस्तों बात नवेंबर की है. रोज़ की तरह मैं पार्क में रन्निंग और एक्सर्साइज़ करने गया हुआ था. रन्निंग करते हुए मेरी एक-दूं से नज़र पड़ी एक लड़की पे, जो की एक्सररसाइज़ कर रही थी. मैं रन्निंग करते-करते रुक गया, और उसको देखने लगा उपर से नीचे तक.

क्या सेक्सी लग रही थी वो. और जब वो जंप कर रही थी, तो उसके बूब्स और गांद क्या ही लग रहे थे. बयान नही सकता दोस्तों, इतनी सुंदर लग रही थी वो. लड़कियाँ और औरते काफ़ी छोड़ी है मैने. लेकिन उसकी अलग ही बात थी. क्या बूब्स बाउन्स हो रहे थे. रंग भी दूध जैसा सफेद था उसका. 1 मंत तक मैं बस उसको देखता ही रहा.

ऐसा नही है की मुझे उससे बात करने मैं दर्र लग रहा था. बस जब भी वो मुझे देखती तो हमेशा गुस्से से ही मुझे देखती थी. मुझे लगा की अगर मैं डाइरेक्ट बात करूँगा उससे तो क्या पता ग़लत समझे मुझे.

कुछ दिन बाद वो एक 6-7 साल के लड़के को अपने साथ पार्क में ले कर आई. वो अपनी एक्सर्साइज़ कर रही थी. मैं भी अपनी रन्निंग कर रहा था. उसके साथ जो बच्चा था वो बड़ा हरामी था. वो जेया कर सोए हुए कुत्तों की गांद में उंगली कर रहा था.

मतलब उसने कुत्ते को पत्थर मार दिया, और कुत्ते लग गये उसके पीछे. मैं रन्निंग करते उस बच्चे के पास आया और उसको अपनी गोद में उठा लिया. भोंसड़ी वाले कुत्ते अब मेरे पे भी भोंकने लग गये. फिर जैसे-तैसे कुछ लोगों ने कुत्टो को वाहा से भगाया. वो लड़की बे चिंता में भागते हुए मेरे पास आई.

लड़की (उन्होने अपने बच्चे को मेरे हाथो से लिया): अर्रे सन्नी, ठीक है तू?

सन्नी: हा मुम्मा.

मे (मैं शॉक हो गया मुम्मा सुन कर, की वो उसका ही बच्चा था. उसको देख कर ऐसा बिल्कुल भी नही लग रहा था, की वो मॅरीड थी): ये आपका बेटा है?

लड़की: हा, थॅंक योउ सो मच आपने सन्नी को डॉग्स से बचाया.

मे: कोई बात नही, वैसे भी बच्चे तो मस्ती करते ही रहते है.

फिर उस दिन के बाद से हमारी बात-चीत शुरू हुई. मैने उनका नाम भी पूच लिया था. उनका नाम पूजा था. स्टार्टिंग के कुछ दिन तो बहुत कम ही बात होती थी. लेकिन रोज़ होती थी. कुछ मंत्स मैं हमारी काफ़ी अची दोस्ती हो गयी. ज़्यादा नही, लेकिन काफ़ी हद तक हमने एक-दूसरे को जान लिया था.

मैं उनको एक्सररसाइज़ वग़ैरा में भी हेल्प करता था, और साथ ही साथ उनकी काफ़ी तारीफ भी करता था, जो की उनको काफ़ी अछा लगता था सुन कर. फिर मैं 3 दिन के लिए भोपाल गया हुआ था (अगर आपने मेरी स्टोरी भोपाल वाली स्टोरी नही पढ़ी है, तो पढ़ सकते हो. मैं दिव्या की चुदाई करने गया हुआ था).

इसलिए मैं रन्निंग करने नही जेया पाया. भोपाल से वापस आने के बाद मैं डेली रन्निंग करने पार्क गया.

पूजा: सोनू, कहा थे इतने दीनो से तुम?

मे: देल्ही के बाहर गया हुआ था कुछ काम से.

पूजा (थोड़ी सी साद होते हुए बोली): बताया भी नही तुमने मुझे.

मे: वो अचानक से जाना पड़ा, इसलिए टाइम ही नही मिला.

पूजा: अछा एक काम करो, मुझे अपना नंबर दो.

मे (खुशी से देते हुए): 83××××××××.

नंबर देने के बाद हम अपनी एक्सररसाइज़ करने लगे. जब पूजा कोई एक्सर्साइज़ सही से नही करती, तो मैं उनकी हेल्प करता. मैं उनको हल्का-हल्का टच भी करता कभी गांद पे, या बूब्स पे. लेकिन पूजा कोई ख़ास रिक्षन नही देती थी मेरे ऐसा करने पर.

एक्सर्साइज़ ख़तम होने के बाद हम घर चले गये. पूजा ने सामने से रात में मुझे व्हातसपप पे मेसेज किया.

पूजा: हेलो, डिन्नर हो गया?

मे(10 मिनिट बाद): हा, और आपका?

पूजा: हा मेरा भी हो गया. क्या कर रहे हो?

मे: बस अभी सोने ही जेया रहा हू.

पूजा: इतनी जल्दी?

मे: हा, आज नींद आ रही थी.

पूजा: मुझे एक बात पूछनी थी.

मे: पूछो ना.

पूजा: तुम्हारी कोई गफ़ है क्या?

मे: नही मैं नही रखता गफ़ अपनी लाइफ में.

पूजा: लड़के तो पसंद नही है तुमको हाहहहः?

मे: नही ऐसा नही है. बस मुझे टाइम वेस्ट लगता है ये सब रिलेशन्षिप वग़ैरा.

पूजा: ओह.

मेसेज पे पूजा मेरे साथ और भी ज़्यादा फ्रेंड्ली हो गयी थी. उसने भी अपनी लाइफ की काफ़ी सारी चीज़े मेरे साथ शेर की. लेकिन मेरे दिमाग़ में तो उसको छोड़ने का प्लान बन रहा था. फिर हम रोज़ रन्निंग वग़ैरा करते और रात मैं चाटिंग करते.

मैं भी अपनी औकात पे आने लगा था, और डबल मीनिंग बातें करनी शुरू कर दी मैने. काफ़ी दीनो की मेहनत और बहुत पापद बेलने पड़े मुझे. फिर जाके उसको मैने किस करने को राज़ी किया, और पूजा मान भी गयी थी.

नेक्स्ट दे जब हम दोनो पार्क में मिले, पहले हमने रन्निंग और एक्सररसाइज़ कटम कर ली. करीबन 8 बाज रहे थे. ज़्यादा लोग भी नही थे पार्क मैं.

मे: हेलो, हमारी रात में कुछ बात हुए थी?

पूजा (नाटक करते हुआ): कों सी बात?

मे: अर्रे इतने जल्दी भूल भी गयी आप?

पूजा: बताओ तो क्या बात हुई थी?

मे: की आज हम किस करेंगे.

पूजा(नॉटी सी स्माइल देते हुए): अछा किस वाली बात.

फिर मैं पूजा को एक बड़े से पेड़ के पीछे ले गया, जहा पर अंधेरा था. पहले तो पूजा ने मुझे जल्दी से लीप पर किस किया और हॅट गयी.

मे: अर्रे ऐसे नही, अची वाली चाहिए मुझे.

मैं पूजा के एक लीप के पास गया, और उसको किस करने लगा. कुछ सेकेंड्स बाद पूजा मुझे हटाने लगी, लेकिन मैं हटा नही. मैने फिर लीप लॉक कर दिए, और उसके बूब्स को दबाने लगा. साथ ही साथ उसकी छूट को भी उपर से मसालने लगा, जिससे की वो और भी गरम होने लगी.

मेरा भी लंड खड़ा हो गया था. मैने पूजा का हाथ लिया, और अपने लंड पे लगाया. पूजा भी मेरे लंड बस दबा रही थी. फिर अचानक से वो मुझसे अलग हुई, और बिना बाइ बोले ही घर चली गयी. उसके बाद रात में पूजा ने मुझे मेसेज किया-

पूजा: कैसा लगा आज तुमको?

मे: एक-दूं मीता.

(दोस्तों अब बाकी सब इतना इंपॉर्टेंट नही है, इसलिए इतना डीटेल में नही जेया रहा हू. नही तो स्टोरी काफ़ी लंबी हो जाएगी)

फिर मैने उसको काफ़ी गरम कर दिया था, और मेसेज पे ही पूजा काफ़ी ज़्यादा ओपन हो रही थी. इसलिए मैने भी कुछ दिन में सेक्स के लिए पूच लिया. पहले तो पूजा काफ़ी ज़्यादा भाव खा रही थी. लेकिन एंड तक मैने उसको सेक्स के लिए भी माना ही लिया.

मेरे मम्मी-पापा भू तब गाओं गये हुए थे, और भाई भी कलाज से लाते ही आता था. मैने पूजा को बोल दिया था की मेरे घर पर आ जाए वो. मेरा और पूजा का घर ज़्यादा डोर नही था. सिर्फ़ 10 मिनिट का रास्ता था बस.

नेक्स्ट दे पूजा के हज़्बेंड भी चले गये ड्यूटी पर, और बच्चा भी स्कूल चला गया. मैने उसको लिव लोकेशन सेंड कर दी थी पहले से ही. पूजा अपना सारा काम निपटा कर मेरे घर के नीचे पहुँच गयी. फिर मैने उसको कॉल पे गाइड किया कैसे और कहा से उपर आना था.

उसके बाद पूजा मेरे घर के अंदर आई. वो अचानक से दर्र गयी मेरे डॉगी को देख कर. मैने फिर अपने डॉगी को दूसरे रूम में बंद कर दिया, और पूजा को बेडरूम में लेकर चला गया. (पूजा ने लाइट ग्रीन कलर की कुरती और पाजामा पहने हुए थे)

मे: कोई प्राब्लम तो नही हुए ना आने में तुमको?

पूजा: नही-नही, कोई दिक्कत नही हुई.

मैने फिर पूजा का हाथ पकड़ा, और आचे कॉंप्लिमेंट्स देने लगा उसको. फिर हाथ पे किस किया. तब पूजा काफ़ी शर्मा रही थी. मैने उसके चेहरे को प्यार से पकड़ा, और किस करने के लिए पास लेकर आने लगा. फिर हम दोनो के लिप्स मिल गये, और हम किस करने लगे.

कभी पूजा मेरे मूह के अंदर जीब डाल कर चूस्टी, तो कभी मैं उसकी जीभ चूस्टा. किस करते वक़्त हम दोनो काफ़ी ज़्यादा गरम हो गये थे. पूजा ने भी मेरा लंड खड़ा कर दिया था मसल के. अब मेरे से भी रहा नही जेया रहा था.

मैने जल्दी से उसका पाजामा निकाल दिया और कुरती भी. गोरे बदन पे लाइट कलर की ब्रा और पनटी क़यामत से कम नही लग रही थी. मैने पूजा को बेड पे लिटा दिया, और अपने भी कपड़े निकाल दिए, और अंडरवेर आ गया. फिर पूजा के उपर टूट पड़ा.

पूजा के पेट से उसको किस करना चालू किया. हाथ, पैर, गर्दन, पीठ पे हर जगह पूजा को किस किया मैने. पूजा भी मेरा पूरा साथ दे रही थी, और हल्की-हल्की सिसकियाँ ले रही थी.

उसके बाद मैने पूजा की ब्रा निकाल दी, और उसके बूब्स को आचे से चूसने लगा. पिंक कलर के निपल थे उसके.

पूजा( फुल मज़े में): आहह ह्म्‍म्म्म आहह.

अचानक से पूजा ने मुझे साइड में धक्का दिया, और वो मेरे उपर आ कर मेरे निपल्स सो सक करने लगी, और चेस्ट पे किस करने लगी. इससे मुझे और भी ज़्यादा मज़ा आ रहा था तब. काफ़ी देर तक हमने बस बॉडी प्ले और किस किए एक-दूसरे के साथ.

ये सब होने के बाद मैने पूजा की गीली पनटी निकली. पूजा ने अपनी छूट के बाल पहले से ही सॉफ कर रखे थे. छूट भी हल्की-हल्की पिंक थी उसकी. मैने डाइरेक्ट छूट पे अपना मूह लगाया, और उसको चाटने लगा. उतने में ही पूजा बोली-

पूजा: अपनी अंडरवेर निकालो, और मेरे उपर आ जाओ.

मे: 69 पोज़िशन में करने का इरादा है क्या?

पूजा: हा, मुझे ट्राइ करना है. कभी की नही हू, बस वीडियोस में ही देखा है.

मे: ठीक है, आज तुम्हारी वो भी विश पूरी हो जाएगी.

मैने भी अपनी अंडरवेर निकली, और मेरा 7 इंच का लंड पूरा टाइट हो गया था( मैं हमेशा सेक्स के पहले लंड के पास शेव कर लेता हू). फिर मैं पूजा के उपर चला गया, उसके मूह में लंड दिया, और मैं छूट चाटने लगा. बीच-बीच में मैं उसकी गांद के च्छेद को भी चाट-ता.

10-15 मिनिट हमारा ऐसे ही चला. उसके बाद मैने लंड पे कॉंडम लगाया, और पूजा की साइड जाके लेट गया. उसका एक पैर मैने अपनी कमर के उपर रख कर दिया. पूजा ने अपने हाथो से ही मेरा लंड उसकी छूट में सेट कर दिया. मैने छूट में एक ही बार मैं पूरा लंड उतार दिया.

पूजा: हााअ, आराम से तोड़ा.

मैं पीछे से पूजा की चूत छोड़ने लगा, और पूरी ताक़त के साथ झटके छूट में मार रहा था. 2 मिनिट बाद वो बोली-

पूजा: मेरे उपर आ जाओ.

मैने छूट से लंड निकाला, और छूट को आचे से छाता थूक लगा कर. पैर चौड़े करके मैने लंड पूरा अंदर डाल दिया, और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा(मिशनरी पोज़िशन में). रूम के अंदर मेरे झटको की आवाज़ आ रही थी. पूजा मेरे कान के पास सिसकियाँ ले रही थी, इसलिए मुझे और ज़्यादा जोश आ रहा था.

10 मिनिट तक हमारा ऐसे ही चलने के बाद मैने पोज़िशन चेंज कर दी. मैं बेड की साइड में टेक लेकर बैठा, और पूजा को लंड के उपर आने को कहा. पूजा मेरे लंड पर बैठ गयी, और मुझे हग करके आयेज-पीछे होने लगी.

पूजा: हा ह्म ह्म.

मे: कैसे लग रहा है पूजा तुमको?

पूजा (लंड की सवारी करते हुए बोली): बहुत अची वाली फीलिंग आ रही थी.

काफ़ी देर तक पूजा ने लंड के उपर सवारी की, उसके बाद मैने बोला-

मे: चलो 69 करते है.

अब मैं बेड पर लेट गया, और पूजा ने अपनी छूट मेरे मूह पर रख दी, और वो लंड चूसने लगी. कुछ मिनिट बाद पूजा ने मेरे मूह में ही पानी निकाल दिया. 5 मिनिट बाद वो बोली-

पूजा: बस करो, अब अंदर डाल भी दो.

मैं बेड से नीचे उतार के खड़ा हो गया, और पूजा को डॉगी पोज़िशन में किया, और तकिया दिया उसको. फिर मैने लंड उसकी छूट के अंदर डाल दिया. मैं पूजा के उपर चढ़-चढ़ के छोड़ने लगा. पूजा भी थोड़ी ज़्यादा से तेज़ सिसकियाँ लेने लगी.

करीबन 15 मिनिट तक छोड़ने के बाद अब मेरा भी होने ही वाला था. तो मैने अपनी स्पीड और बढ़ा दी. उतने में पूजा ने भी अपना पानी निकाल दिया था. तेज़-तेज़ धक्के मारते-मारते मैने भी अपना पानी निकाल दिया अंदर ही उसके(कॉंडम लगा रखा था).

फिर हानफते हुए मैं पूजा के उपर लेट गया. 2 मिनिट बाद साँसे नॉर्मल हुई हमारी. फिर मैने पूजा की छूट से लंड निकाला, और उसको रुमाल दिया छूट को पोंछने के लिए. मैने भी कॉंडम लंड के उपर से निकाल कर साइड में रख दिया. और पूजा की साइड मैं लेट गया.

मे: मज़ा आया ना पूजा?

पूजा: हा बहुत ज़्यादा.

मे: अछा, फिर एक रौंद और हो जाए?

पूजा: हा लेकिन जल्दी करना. और हा, ये जो भी हमारे बीच हुआ है ना. प्लीज़ किसी के साथ भी शेर मत करना तुम. मैं मॅरीड हू, इसलिए काफ़ी सारी प्राब्लम आ जाएँगी मेरी ज़िंदगी में.

मे: मैं काफ़ी आचे से समजता हू पूजा. डॉन’त वरी किसी को कुछ पता नही चलेगा. तुम बस एंजाय करो मेरे साथ, और हॅपी रहो.

उसके बाद हमने एक बार और चुदाई का खेल खेला, जो की ज़्यादा से ज़्यादा 20 मिनिट चला. क्यूंकी पूजा के बेटा के स्कूल में छुट्टी होने वाली थी.

तो यही थी दोस्तों मेरी ज़िंदगी की सॅकी घटना, जो की आपके साथ सांझी की. स्टोरी में आपने सब पढ़ ही लिया है. रिलिटी में लेकिन पूजा के साथ सेक्स करने के लिए मुझे काफ़ी सारी प्रॉब्लम्स फेस करनी पड़ी. लेकिन इन थे एंड मैने पूजा को छोड़ ही दिया. इसलिए मुझे पर्सनल मैल कर्क ज़रूर बताए, की कैसी लगी आपको स्टोरी?

अगर देल्ही में किसी गर्ल, कपल्स, आंटी, भाभी को सॅटिस्फॅक्षन चाहिए, तो मुझे मैल कर सकते है. मुझे बस एक अछा एक्सपीरियेन्स और मज़े करने और सामने वालो को मज़े देने से ही मतलब होता है. आपकी प्राइवसी का भी पूरा ध्यान रखा जाएगा. (अनसॅटिस्फाइड विमन को सॅटिस्फाइड करना मेरी स्पेशॅलिटी है)

यह कहानी भी पड़े  पड़ोसी अपनी पड़ोसन को चोदना चाहता है


error: Content is protected !!