ठरकी पापा ने सेक्सी कामवाली के दोनों छेद चोद डाले

हेलो दोस्तों मैं करन आप सभी का इंडियन सेक्स कहानी में स्वागत करता हूँ। मेरे पापा 60 साल के थे। वो बूढ़े हो गये थे। उनके बाल पक गये थे। बिलकुल सफ़ेद हो गये थे पर इसके बादजूद भी पापा की चुदास खत्म नही हुई। वो चूत के पुजारी आदमी थे और ऐसी कोई रात नही जाती थी जब वो किसी की चूत ना मारे।
मेरी खूबसूरत माँ को पापा ने चोद चोदकर उनकी बुर फाडकर रख दी थी और मम्मी के 10 बच्चे हो गये थे। हम भाई बहन 7 लड़कियाँ और 3 भाई थे। धीरे धीरे मेरी बहने जब जवान होने लगी तो पापा की नियत मेरी बड़ी बहन पर चली गयी और एक दिन जब घर पर कोई नही था पापा ने दीदी को कसके चोद लिया। उसके बाद मेरी माँ अपने मायके चली गयी। मेरे नाना ने मेरी 7 बहनों की शादी कर दी। अब मेरे पापा के बारे में सब रिश्तेदार जान गये थे और कोई उनसे बात नही करता था। मेरे दोनों बड़े भाई अब मुंबई में रहकर जॉब करते थे। मैं सबसे छोटा था इसलिए मैं ही घर पर रहता था। घर में सिर्फ मैं, पापा और शालिनी कामवाली रहती थी। पापा को 50 हजार की पेंशन मिलती थी। धीरे धीरे उन्होंने मेरी कामवाली को पटा लिया।
जब भी उसे पैसे की जरूरत होती थी पापा कामवाली को दे देते थे। धीरे धीरे वो पापा ने पट गयी थी। धीरे धीरे पापा का मन कामवाली को चोदने का कर रहा था। एक दिन जब वो रसोई में रोटी बना रही थी पापा ने उसे पकड़ लिया और किस करने लगे।
“अरे साब छोड़ो ना करन आ जाएगा!!” कामवाली बोली
“कोई नही आएगा। तू बेकार में ही टेंशन ले रही है” पापा बोले और उन्होंने उसे पकड़ लिया और बाहों में भर लिया। फिर पापा ने उसे दरवाजे से चिपका कर खड़ा कर दिया और उसके होठ चूसने लगे। दोस्तों हमारी कामवाली शालिनी बहुत खूबसूरत लड़की थी। उसे रोज मोटा लंड चूत में लेना बेहद पसंद था। वो बहुत गोरी और सुंदर लड़की थी। उसका बदन बहुत गोरा, भरा हुआ और सुडौल था। फिगर कमाल का था। वो बहुत सेक्सी और हॉट माल थी। 34, 28, 30 का फिगर था उसका। छरहरा और बिलकुल फिट जिस्म था। वो 20 साल की एक जवान, आकर्षक नवयौवना है। उसके ओठ, मम्मे, रेशमी काले बाल उसकी खूबसूरती बढ़ा देते थे। उसकी लचकती पतली कमर बहुत कामुक थी और चूत सबसे जादा बहुत मस्त थी। शालिनी कामवाली को सेक्स करना बहुत पसंद था। उसके मम्मे 34″ के थे। बहुत बड़े बड़े गोल गोल और रसीले थे। कोई भी लड़का उसके नंगे बूब्स को अगर एक बार देख लेता तो उसे चोदकर ही मानता। शालिनी कामवाली इतनी खूबसूरत माल थी।
मेरे पापा ने उसे रसोई के दरवाजे से खड़ा कर दिया और काफी देर तक उसके रसीले होठ चूसते रहे। मेरे पापा बूढ़े हो गये थे पर चूत के पुजारी थी। वो शालिनी कामवाली की चूत बजाना चाहते थे। मुझे ये बात मालुम थी। उधर तवे पर पड़ी रोटी जलकर काली हो गयी। शालिनी ने जब रोटी देखी तो जल्दी से गैस बंद बंद की।
“क्या साहब!! आपके चक्कर में रोटी जल गयी” कामवाली मुंह फुलाकर बोली

यह कहानी भी पड़े  बीबी मायके गयी तो कामवाली को चोदकर काम चलाया

पापा ने आखिर उसके दूध को हाथ से पकडकर कमीज के उपर से बाहर निकाल लिया और जल्दी जल्दी दबाने लगे। कामवाली को भी अच्छा लग रहा था। वो “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ..अअअअअ..आहा .हा हा हा” की सेक्सी आवाजे निकाल रही थी। दोस्तों उसका सलवार कमीज काफी ढीला था तभी उसके मम्मे बाहर निकल आये थे। पापा काफी देर उसकी खूबसूरत चूचियों को दबाते रहे फिर झुककर चूची को मुंह में भर लिया और चूसने लगे। कामवाली को भी भरपूर आनंद आ रहा था। वो रसोई के दरवाजे से सटकर खड़ी हुई थी। पापा जल्दी जल्दी उसकी बायीं चूची को मुंह में लेकर चूस रहे थे। शालिनी कामवाली की जवानी उफान कर थी। वो कुवारी थी और अभी शादी नही हुई थी। उसका फेसकट भी काफी आकर्षक था और चेहरा गोल था। मेरे 60 साल के बुड्ढे पापा तो जल्दी जल्दी उसके दूध को चूस रहे थे। तभी अचानक मुझे प्यास लगी और मैं रसोई की तरह चला गया। जैसे ही पापा ने मुझे देखा वो दूर हट गये। शालिनी कामवाली मुझे देखकर डर गयी थी। मैं उस समय सिर्फ 14 साल का था।
“ये सब क्या हो रहा है????” मैंने कहा
शालिनी कामवाली घबरा गयी और अपने रसोई वाले काम में लग गयी। पापा ने जल्दी से अपने कपड़े ठीक किये। मुझे पापा पर बहुत गुस्सा आ रही थी।
“ठरकी बुड्ढे!! तुझे शरम नही आती। पैर कब्र में लटके है पर जवान लौंडिया की मस्त रसीली चूची चूस रहा है। अरे कुछ तो शर्म कर। कामवाली तेरी बेटी की उम्र की है। तू इसको रसीली चूत चोदना चाहता है!!” मैंने कहा। मेरी बात सुनते ही पापा डर गये और उन्होंने अपनी जेब से 500 का कडक नोट निकाला।
“ले बेटा करन! ये पैसे ले। तुझे नई शर्ट खरीदनी है ना। जा बजार जाकर खरीद ला” पापा बोले
मैं सब समझ रहा था की पापा ऐसा क्यों कह रहे थे। वो शालिनी कामवाली को आज कसके चोद लेना चाहते थे। पापा पूरी तरह से गर्म हो चुके थे।
“ठीक है मैं जा रहा हूँ” मैंने कहा और बाहर चला गया।
मैं जानता था की अभी पापा काण्ड करने वाले है इसलिए मैं घर के पीछे वाले दरवाजे से वापिस आ गया और दूसरे कमरे में छुप गया। पापा शालिनी को कमरे में ले आये।
“शालिनी रास्ता साफ़ है। करन बजार गया। चल चुदाई का मजा लेते है” पापा ने कहा। फिर दोनों बेडरूम में चले गये। पापा ने अपने सारे कपड़े उतार दिए और नंगे हो गये। फिर शालिनी कामवाली अपने कपड़े उतारने लगी। उसने अपना सलवार कमीज उतार दिया। अंदर उसने ब्रा और पेंटी नही पहनी थी। मेरे पापा तो उसके बाप की तरह लग रहे थे। कहाँ तो 22 साल ली जवान लौंडिया कहाँ 60 साल के बूढ़े पापा। पापा गंजे हो गये थे और चेहरे की खाल भी लटक गयी थी पर लंड आज भी खड़ा था। मैं खिड़की से सब नजारा देख रहा था। पापा ने शालिनी कामवाली को बिस्तर पर लिटा लिया और उससे प्यार करने लगे।

यह कहानी भी पड़े  पापा के लंड पर बैठकर मजा लिया

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!