पापा अब मैं तुम्हारी हूँ

हेलो, मेरा नाम कोमल है. में मुंबई की निवासी हू और मैने अभी अपना ग्रॅजुयेशन कंप्लीट किया है और आगे की पढ़ाई के अलावा मॉडलिंग मे भी दिलचस्पी रखती हू. अभी तक मैने कुछ बड़ी एड्स नही की है लेकिन अभी कुछ दीनो बाद मेरी एक शॅमपू की बड़ी एड रिलीस होगी. मे 22 साल की हूँ और मेरा शरीर गथीला है और मेरी स्टॅटिस्टिक्स 36 26 36 है. मे जिस तरह के कपड़े पहनती हू सभी लोग मुझे देख कर आहे भरते है.

कॉलेज मे भी मेरे कई दीवाने थे लेकिन मैने कभी किसी के साथ कोई संबंध नही रखा क्यूकी शुरुआत से मेरे पापा ने मुझे लड़को से दूर रहने को कहा था. जैसे ही मेरी जवानी चढ़ रही थी मेरी सेक्स की प्यास भी बढ़ती जा रही थी. मे मास्टरबेट भी करती थी और मेरी सहेली मधु के साथ भी लेज़्बीयन सेक्स करती थी लेकिन हमेशा चाहती थी की कोई ना कोई मर्द आकर मेरी इस भूख को मिटाए. लेकिन डर भी लगता था. मे सेक्स की कहानिया भी पढ़ती हू और ब्लू फिल्म भी बहुत देखती हू और वो देख मेरी सेक्स की आग और भड़कट्ी है.

घर मे मेरे पापा अकेले है और वो करीब 50 साल के है और माताजी कई साल पहले गुजर गयी है. मेरे पापा बिल्कुल ही जवान लगते है और शरीर से हटे कटे है और जब मुझे यह पता चला की वो मा के गुजर जाने के बाद दूसरी औरतो को चोद कर अपनी सेक्स की इच्छा को पूरा करते है तो एक पल को तो लगा की क्यू ना उनसे ही चुदवा लू? लेकिन फिर मैने अपने आप से कहा की ऐसी गंदी सोच मन मे लाना भी पाप है. मेरे घर मे दाई मा है जिन्होने मुझे बड़ा किया वो मुझे सही रास्ता दिखाती है लेकिन मेरी तो बस जान लोगो के लंड पर लगी हुई रहती है की कब मे जल्द से जल्द चुद जाऊँ.

यह कहानी भी पड़े  Maa ki chudai ki hasarat

एक बार मे और पापा मेरे पोस्ट ग्रॅजुयेशन के एंट्रेन्स एग्ज़ाम के लिए पूना गये थे और सवेरे निकले और शाम को वापस आना था. जब हम कॉलेज पहुचे तो हमे बताया गया की एंट्रेन्स एग्ज़ाम अगले दिन के लिए पोस्टपोन कर दिया गया है. हम लोग साथ मे कुछ कपड़े भी नही लाए थे और हमे अगला दिन उन्ही कपड़ो मे गुजारना था. हम एक होटेल मे ठहर गये. मे रूम मे चली गयी. पापा ने कहा वो खाना खा कर आएँगे क्यूकी मे पूरी तरह थक गयी थी और रूम मे आकर अपना टॉप निकाल कर सो गयी क्यूकी वोही अगले दिन भी चलाना था.
इसी दरम्यान मैं सोच रही थी की पापा मुझे टॉप के बिना देखेंगे तो क्या होगा शायद डाँट दे लेकिन मेरी तो अचानक चूत गीली हो गयी सिर्फ़ पापा का ख्याल आते ही. मैं कोशिश कर रही थी की ना सोचु लेकिन मैं तो पूरी तरह दीवानी हो गयी थी और पूरा मन बना लिया की आज तो मैं चुद्वा कर ही रहूंगी चाहे कुछ भी हो. अब मैने अपनी ब्रा भी निकाल कर रख दी और वैसे ही सो गयी. कुछ देर बाद पापा रूम मे आए और मैं आँख बंद कर सोने का नाटक कर रही थी. और मैं देख रही थी उनका रिएक्शण.

वो मुझे इस तरेह देख कर हेरान रह गये ओर आँखे फाड़ कर देख रहे थे. फिर उन्होने अपना मूह ही फेर लिया और पास पड़े सोफे पर सो गये. मैं यहाँ तड़प रही थी और मैने देखा पापा मूड कर मेरी तरफ देखते और फिर सो जाते. मैं अपने बेड से उठी और बाथरूम चली गयी. अब मैने अपनी जीन्स भी निकाल दी और पलंग पर आ कर अपनी टाँगे फैला कर सो गयी और पापा का इंतेज़ार करने लगी. मुझे पता था की पापा यह मौका नही छोड़ने वाले. वो तो चोद्ने मैं एक्सपर्ट है और कई बार उनका बड़ा मोटा लंड मैने लूँगी से निकलते देखा है और अब तो मैं चाहती थी की जल्दी से आ कर मेरी चूत मैं अपना लंड डाले और मैं तृप्त हो जाओं.

यह कहानी भी पड़े  Chudai ke Wo Sat Din Fufa Ji Ke Sath

मैने सोचा पापा का मन तो बड़ा हो रहा होगा की आज इसकी भरपूर चुदाई कर दी जाए पर शायद बाप बेटी के रिश्ते की वजह से हिच किचा रहे हो. मुझे पता था की उन्हे नींद नही आई है और वो सोने का बहाना कर रहे है. अब मुझसे रहा नही गया और मैं उठी और उनके पास जाकर सोफे पर ही सो गयी और उन्हे ज़ोर से भींच लिया. अब वो पूरी तरह मूड मे आ गये और एक जोरदार किस मेरे होठों पर जड़ दिया और मुझे इतना मज़ा आ रहा था मैने कहा “पापा आज मुझे औरत बना दो मैं तड़प रही हूँ.”

पापा ने कहा “घबरा मत आज तेरी वो चुदाई करूँगा की तू आसमान मैं उड़ने लगेगी और मैं भी आज तेरे बदन से अपनी प्यास बुझाऊँगा जिस की मैं इतने दिनों से राह देख रहा था.” फिर पापा ने कहा “चल अब मेरे कपड़े उतार” और मैने एक एक कर उनके सारे कपड़े उतार दिए सिर्फ़ उनकी अंडरवेर को छोड़ कर. उन्होने पहले ज़ोर से गले लगाया और कहा “काफ़ी मजेदार चीज़ बन गयी हो” और वो मुझे चूमने लगे और मैं सिसकिया भर रही थी.
मेरे कानो से लेकर उन्होने चूमना शुरू किया मेरे तन की आग और भड़क उठी. अब हमारे होट मिले हुए थे और 5 मिनिट तक हम यूँ ही किस करते रहे. फिर पापा ने अपना अंडरवेर निकाला तो उनके लंड, जो पूरी तरह तना हुआ था, देख कर मैं डर गयी. वो मेरे बूब्स को प्रेस करते रहे और अपने लंड को मेरे हाथ मे देकर मेरी निपल्स चूस रहे थे और दूसरे हाथ से निपल दबा रहे थे. मैं भी पूरी तरह पागल हो रही थे और पागलो की तरहा उनके मोटे लंड को चूमने चूसने लगी.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!