पापा को अपना बनाने की चाह

तो दोस्तो मेरी इस सीरीस को इतना प्यार देने की लिए आप सब का बहुत सूकरिया. बिना टाइम वेस्ट किए चलिए कहानी के तरफ चलते है.

तो गाओ से वापिस आने के बाद मई सोच मई पर गयी. क्यूकी जो मेरे साथ गाओ मई हुआ उससे मुझे बुरा लगना चाहिए था. मगर मुझे अंदर ही अंदर खुशी सी थी. मई और पापा के प्यार मई गिरती जा रही थी.

मगर पापा के लिए मई सिर्फ़ एक खिलवना थी. कब उनका मॅन भर जाए उसका कुछ पता नही था. तो मैने तन लिया की जो हो जाए पापा को अपने प्यार मई फसाना ही है. और इसका मौका मुझे जल्द ही मिल गया.

नाना की तबीयत फिर खराब होने के कारण मम्मी अपने मयके गयी हुई थी. वो इंटने अचंक मई निकली की पापा को बता ना पाई. उन्होने मुझे कहा की पापा को बता देने की वो परसो शाम तक वापिस आ जाएँगी.

मैने इस मौके का फयडा उठाया और मम्मी के रूम से उनकी निघट्य पहें ली. फिर पूरे घर मई अंधेरा कर दिया और मम्मी पापा के रूम को कॅंडल्स से सज़ा दिया. मेरी कोशिश रोमॅंटिक महॉल बनाने की थी.

फिर मई किचन मई जा कर पापा के लिए उनकी फॅवुरेट डिश मटन करी बनाने लगी. कुछ देर बाद पापा को आते देख मैने सारे कॅंडल्स जला दिए और बेड पर जाके लाते गयी.

पापा जैसे ही घर मई आए, तो पहले तो वो कन्फ्यूज़ हो गये. उन्होने मम्मी और मुझे दोनो को आवाज़ दी मगर मैने कुछ रिप्लाइ नही दिया. फिर पापा जब अपने रूम मई आए तो सब तैयारिया देख हैरान हो गये. उन्हे लगा ये सब मम्मी ने लिया है.

मई बेड के दूसरे तरफ सिर घुमा कर लेती थी. पापा को लगा की मम्मी है, इसीलिए प्यार से आवाज़ देते हुए मेरे करीब आए और मुझे पीछे से जाकर लिया. पर जैसे ही उन्होने मेरे बूब्स दाना सुरू काइया उन्हे पता चल गया की मई मम्मी नही हू.

उन्होने झट से मुझसे दूर हटते और जा कर लाइट्स ओं कर दी. मम्मी की निघट्य मई मुझे देख पापा गुस्से से भर गये. पापा गुस्से मई मेरा गला पाकर के दबाने लगे.

पापा: साली रांड़… तू क्या सोचती है ये सब कर के तू अपने मम्मी की जगह पा लेगी?

मेरा दूं घुट रहा था. मई साँस नही ले पा रही थी.

मे: नही.. पापा मेरा ये सब करने का कारण वो नही था… प्ल्ज़ मेरा गला चोरिय.

पापा गुस्से से मुझे झटका दे कर मेरा गला छोरा. मई नीचे फ्लोर पर गिर गयी. पापा रूम से बेर जाने लगे. मई जल्दी से उठी और पापा को पीछे से जा कर पाकर लिया.

मे: पापा… मेरा ये सब करने का सिर्फ़ के ही कारण था… की जो आप मम्मी के साथ नही कर सकते वो आप मेरे साथ कार्लो. मैने देखा है आपको मम्मी के साथ सेक्स करते हुए. कैसे आप अपने आप को रोकते हो. मई आपको किसी चीज़ के लिए माना नही करूँगी. जो करना है… जैसे करना है कर लीजिए.

पापा: तू कभी अपनी मम्मी की जगह नही ले सकती.

मे: हन.. मई जानती हू. मुझे आप अपनी रखैल ही बना लीजिए. मई बस आपको खुश करना चाहती हू.

पापा: क्या कर सकती है तू मुझे कुश करने के लिए?

मे: जो आप बोलो… जैसे आप चाओ… जब चाहो.

पापा रुक गये और मेरी तरफ पलते. फिर उन्होने मेरे गले को पाकर लिया.

पापा: मई तेरा गला दबौंगा तुझाई कुछ रिक्ट नही करना है.

फिर पापा धीरे धीरे मेरा गला दबाने लगे. मुझे साँस लेने मई दिक्कत हो रही थी मगर मैने कुछ रेस्पॉन्स नही काइया. मेरा आँख ट्के लाल हो गया था. मेरी आँखों से आँसू ट्के आने लगा मगर मैने कुछ रेस्पॉन्स नही काइया बिल्कुल सीधी खरी रही.

पापा मेरी डेडैकेशन देख कर खुश हो गये और मुझे किस करने लगे. मई भी पापा को किस करने लगी. फिर कुछ देर बाद पापा ने मेरा गला चोर दिया. तब जा कर कही मुझे साँस आई.

मैने पापा को बहो मई भरने की कोशिश की मगर उन्होने जातक के मेरा हाथ हटा दिया. फिर मई पापा के कपारे खोलने लगी. पापा मुझे किस करते हुए बेड ट्के ले गये. हम दोनो किस करते हुए ही बेड पर गिर गये.

पापा उठे और मुझे बेड कर कोने मई खिच कर पलटा दिया. पापा ने फिर अपना रुमाल निकाला और मेरे मूह मई भर दिया और मेरी निघट्य मेरे गांद के उपेर तक उठा दिया. मैने निघट्य के अंडर कुछ नही पहाना था.

फिर पापा ने अपनी बेल्ट निकली और ज़ोर से मेरी गांद कर बेल्ट से मारी.

मई दर्द से तिलमिला उठी मगर पापा ने कस कर मुझे पकड़ लिया और कहा हिलना नही है बिल्कुल. फिर पापा ने दोबारा बेल्ट से गांद पर मारी मगर मई हिली नही. दर्द बहुत हो रहा था मई, मूह मई रुमाल भरे होने के कारण मई चिल्ला ट्के नही पाई. पापा ने 10 बार बेल्ट से मेरी गांद पर मारा.

मेरा पूरा गांद लाल हो गया था. मगर मई हिली नही. इन सब से मई मेरी छूट को बहुत मज़ा आ रहा था. मेरी छूट पूरी तरह से गीली हुई पारी थी.

फिर पापा मेरे सूजे हुए गांद को दबाने लगे और मेरी गांद चाटने लगे. मुझे काफ़ी दर्द हो रहा था मगर मज़ा भी आ रहा था जल्द ही मई मोन करने लगी. फिर पापा ने मेरे मूह से रुमाल निकाला और मेरी मूह मई अपनी उंगलियाँ दे कर उन्हे गीला करने को कहा.

मैने ज़ुबान से चाट कर उनकी उंगलियाँ गीली कर दी. फिर पापा मेरी गांद मई उंगली करने लगे. फ्ले एक उंगली… फिर दो… फिर टीन ऐसे करते करते पूरा मुति मेरी गांद मई गुस्सा कर अंडर बेर करने लगे. मुझे लगा मेरी गांद तो फटत जाएगी. मई दर्द की सिसकियाँ लाइन लगी मगर पापा नही रुके.

फिर पापा ने वही हाथ निकाला और मेरी छूट मई डाल दिया. ऐसे ही वो एक बार मेरी छूट मई डालते तो एक बार मेरी गांद मई.

मैने कुछ नही काइया… पापा जैसे बोलते गये मई करती गयी. फिर पापा ने मुझे बेड पर लिटा कर मेरे दोनो हाथ पाओ बिसतर के चारो कोने मई बाँध दिए.

पापा ने मुझे अपनी ज़ुबान बेर निकालने को कहा. मैने वैसा ही किया. फिर पापा ने मेरे मूह मई थूका और साथ ही साथ मेरे मु मई लंड दे कर मेरे मूह को छोड़ने लगे. मुझे पापा का लंड चूसने की आदत हो चुकी थी तो वाहा तो जाड़ा दर्द नही हुआ.

फिर पापा मेरे उपेर चाड गये और मेरे गले के आस पास किस करने लगे. क्यू की मेरे दोनो हाथ पाओ बँधे थे मई जाड़ा हिल भी नही पा रही थी. फिर पापा मेरी निघट्य को पूरा उपेर कर मेरे मूह को उससे धक दिया और मेरे बूब्स दबाने लगे और साथ ही साथ मेरे निपल्स को चूसने लगे.

बीच बीच मई कभी कभी पापा दाँत से मेरे निपल को किचा करते. मई तो पूरी तरह गरम हो कर मचल रही थी. फिर पापा अपने लंड से मेरी छूट पर रगड़ने लगे.

मई तो बिल्कुल गीली हो चुकी थी मॅन तो कर रहा था की पापा का लंड पाकर कर खुद अंदर डाल लू मगर मई बंधन मई बँधी थी. मई मोन करते हुए बोलने लगी “प्ल्ज़… पापा… छोड़ो मुझे प्ल्ज़”.

पापा ने एक बार मई पूरा लंड मेरे छूट मई डाल दिया. तब जा कर कही मेरी छूट को सुकून मिला. पापा शॉट लगते गये मई मोन करते गयी…

मम्मी की निघट्य पूरा मेरे पसीने से गीली हो गयी थी. फिर पापा ने मेरे हाथ पाओ खोल दिए. मई उठते ही पापा का लंड चूसने लगी. पापा का लंड मैने पूरा गले ट्के ले लिया था. पापा को भी मज़ा आ रहा था.

फिर पापा ने मुझे घोरी बना कर मेरे बालो को पाकर कर पीछे किचाने लगे. फिर पापा ने मेरी गांद के छेड़ मई थूका और ज़ोर लगा कर लंड पूरा मेरी गांद मई फिट कर दिया.

एब्ब मुझे गांद छुड़वाने की आदत हो चुकी थी तो उतना दर्द नही हो रहा था. मई भी ज़ोर ज़ोर से मोन करने लगी. पापा भी पूरा पसीने से तार हो चुके थे.

थोरी देर बाद पापा लेते और मई उनपेर चाड गयी. फिर उनका लंड अपने छूट मई ले कर उछालने लगी. पापा का लंड सीधा मेरे ग स्पॉट पर हिट कर रहा था. पापा झरने वेल थे. थोरी देर बाद हम दोनो साथ मई झार गये. पापा ने अपना सारा माल मेरे अंदर ही चोर दिया.

मई पापा पर लेट गयी और उनका पसीने भरा बदन चाटने लगी. पापा और मई दोनो तक चुके थे तो हम दोनो साथ मई ही सो गये. ये पहली बार था जो मई और पापा सेक्स के बाद साथ मे सोए थे.

दोसरे दिन की कहानी अगले भाग मई बतौँगी. तब ट्के के लिए मेरी बाकी कहानिया पढ़े और एंजाय करे.

यह कहानी भी पड़े  भाई की शादी के लिए मामी के साथ शादी-2

error: Content is protected !!