पड़ोस के ताऊ जी ने की गरमा गर्म चुदाई

हेलो दोस्तों मैं Kamukta कौशल्या आप सभी का बहुत बहुत स्वागत करती हूँ। मैं पिछले कई सालो से इसकी नियमित पाठिका रही हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती जब मैं इसकी सेक्सी स्टोरीज नही पढ़ती हूँ। आज मैं आपको अपनी कहानी सूना रही थी। आशा है की ये आपको बहुत पसंद आएगी।

दोस्तों मैं 22 साल की आकर्षक और खूब लड़की हूँ। बहुत गोरी, सुंदर सुशील कन्या हूँ। मेरे होठ भी काफी गुलाबी और सेक्सी है। कितने लड़के तो सिर्फ एक बार मेरे ताजे होठो को पीना चाहते है। मेरी गांड और पुट्ठे का साइज 34″ है। मेरी जींस से मेरे गोल मटोल पुट्ठे सभी को दिख जाते है। कई लड़के तो मेरी गांड पर चमाट मारना चाहते है और मेरी गांड में लंड डालकर चोदना चाहते है। मेरी चूत मारने के चक्कर में कितने लड़के मेरे पीछे पागल हो चुके है। जब मुझसे उनकी शादी नही हो पायी तो किसी ने अपना हाथ काट लिया तो किसी ने पंखें से लटक कर जान दे दी। दोस्तों मैं इतनी खूबसूरत लड़की हूँ की लड़के मेरी तरफ बार बार खिंचे चले आते है। मुझे सेक्स और चुदाई बहुत पसंद है। मुझे अपनी रसेदार चुद्दी में 8″ का मोटा लंड खाना बहुत पसंद है। सेक्स और चुदाई मेरी कमजोरी है। यही वजह है की मैं रोज किसी न किसी लड़के से चुदा लेती हूँ। आज आपको अपनी स्टोरी सूना रही हूँ।

मै एक मीडियम फैमिली से हूँ। मेरे पापा का खुद का छोटा सा बिज़नस है। मेरे घर में पापा मम्मी और एक छोटी बहिन है। मेरा एक छोटा भाई भी है। मेरे घर के बगल में एक ताऊ जी रखते थे। जिनकी पत्नी यानि जिन्हें मै दादी कहती थी। वो दो साल पहले ही वो चल बसी थी। ताऊ बहुत दुखी रहते थे। ताऊ का मै दुःख समझती थी। उनका कोई भी लड़का नहीं था। तो मैं अक्सर उनके घर जाया करती थी। उनकी उम्र कभी ज्यादा नहीं थी। लगभग वो 56 साल के रहे होंगे। मै कई बार उन्हें सेक्स करते देखी थी। मुझे भी चुदवाने का मन करने लगता था। ताऊ के घर में कोई न होने के कारण वो अक्सर घर में अपने पर कही भी सेक्स कर लेते थे।

यह कहानी भी पड़े  कार सीखने के बाद चुदाई

एक दिन मैं ताऊ के घर गई थी। ताऊ अपना बड़ा सा लंड निकाले मुठ मार रहे थे। मैं उनके घर पहुची तो सीधा उनके पास चुपके से पहुच गई। वो अपना लंड जल्दी से अंदर करके चौक के पीछे देखे। वो मुझे देख के हैरान हो गए। मै आज बहुत ही सेक्सी लग रही थी। मैंने ब्लू रंग की हॉफ टी शर्ट पहनी थी। मेरे टी शर्ट पर आगे नेट था। मेरा ब्रा भी दिख रहा था। ताऊ जी का मन मुझे देख कर चोदने को मचलने लगे। मेरी जीन्स भी बहुत टाइट थी। मैं बहुत ही हॉट लग रही थी। मैंने पूंछा। ताऊ क्या कर रहे थे। ताऊ ने कुछ नही बोला। मै उनके पास जाकर बैठ गयी। वो मेरी चूंचियों को घूर घूर कर देख रहे थे। मै उनकी नियत समझ रही थी। मैंने उनका तना लंड पैजामे को तंबू की तरह ताने था।

वो मेरे बूब्स देख रहे थे। मै उनके उनके तने हुए लंड को निहार रही थी। उन्होंने कहा । क्या देख रही हो बेटा? मैं हिचकिचाते हुए। कुछ नहीं ताऊ जी! कुछ नहीं। वे पास आकर बोले। मुझे पता है तुम मेरे लंड को देख रही थी। मैंने। हाँ बोल दी। उन्होंने अपने मन की बात मुझसे कहने लगे। मैं भी चुदवाने के लिए तड़प रही थी। वे बोले मै अकेले में दो साल से ऐसा ही करके काम चला रहा हूँ। क्या तुम मेरी मदद करोगी?मैंने कहा। कैसी मदद! वे मुझे पकड कर अपने पास बिठा लिए। मुझसे सेक्स करने को कहा। मैंने कहा मुझे नहीं आता। फिर वो बोले चलो आज मैं तुम्हे सिखाता हूं। मैने न बोल दिया। लेकिन मेरी चूत फड़फड़ा रही थी। उनके बहुत मनाने पर मैं मान गयी। उन्हें क्या पता की उनसे ज्यादा मेरी चूत में आग लगी थी। वो मुझे उठाकर जांघ पर बैठा लिया। उनके तंबू जैसे तने लंड पर मैं अटकी बैठी थी। उनका लैंड काफी बड़ा और मोटा था।

यह कहानी भी पड़े  दीदी अब तक कुँवारी थी जब मैने उनकी सील तोड़ी

वो मुझे सहलाते हुए किस करने लगे। मेरी गुलाब जैसी होंठो को चूस रहे थे। मेरी होंठो का रस बहुत ही मजे से चूस रहे थे। मैं भी किस करने लगी। अब मैंने उनका साथ देना शुरू कर दिया। हम दोनों होंठों की जबरदस्त चुसाई कर रहे थे। वो मेरी मुँह में होंठो को लगाकर मेरी जीभ को भी चूस रहे थे। मै भी उनको वैसे ही किस कर रही थी। खूब किस किया। अब वो मेरी टी शर्ट पर हाथ रख कर मेरी बूब्स को सहला कर दबाने लगे। मेरी मक्खन जैसी बूब्स को दबा कर मजा ले रहे थे। ताऊ। कितनी मुलायम बूब्स है। तेरी दादी की तो बहुत टाइट थी। तेरा बूब्स दबाने में बड़ा मजा आ रहा है। मैं दबा लो आज जी भर के जितना दबाना चाहते हो। उनका लंड टाइट हो गया था। मेरी गांड में चुभ रहा था। मैंने कहा ताऊ आपका बंम्बू चुभ रहा है। उन्होंने मुझे उठा दिया।

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!