कंपनी की शादीशुदा औरत की चुदाई

हेल्लो दोस्तों मैं हरमन आप Kamukta सभी का बहुत बहुत स्वागत करता हूँ। मैं पिछले कई सालों से इसका नियमित पाठक रहा हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती तब मैं इसकी रसीली चुदाई कहानियाँ नही पढ़ता हूँ। आज मैं आपको अपनी स्टोरी सूना रहा हूँ। मैं उम्मीद करता हूँ कि यह कहानीसभी लोगों को जरुर पसंद आएगी। ये मेरी जिन्दगी की सच्ची घटना है।

मैं 21 साल का एक बहुत ही आर्कषक लड़का हूँ। मेरा कद 5′ 6″ है। मेरा बदन बहुत ही कसरती है। मैं देखने में बहुत हैडसम और जवां मर्द लगता हूँ। मुझ पर कई लड़कियाँ मरती है और मुझसे चुदाना चाहती थी। मेरा रंग गोरा है और मैं दिखने में ऋतिक रोशन जैसा लगता हूँ। मेरे होठ बहुत गुलाबी और सेक्सी है। मुझे जवान खूबसूरत लड़कियों की चूची और चूत पीना बहुत पसंद है। मुझे सेक्स करना बहुत अच्छा लगता है। रोज ही मैं किसी ना किसी लड़की के साथ चुदाई कर लेता हूँ। मेरा लंड 9″ का है और 2″ मोटा है। मैंने इस मोटे लंड से कई जवान लड़कियों की चूत की सील तोड़ी है और उनकी रसीली चूत को चोदा है। मेरा सेक्स करने का स्टैमिना बहुत जादा है। मैं एक साथ 3 3 लड़कियों की चूत मार सकता हूँ। मेरे बदन में काफी ताकत है।

मैं एक कम्पनी में काम करता था। सेल्स ऑफीसर की नौकरी मुझे मिली हुई थी। हमारी कम्पनी टाइल्स बनाती थी और हर महीने 5 लाख की सेल्स सभी सेल्स ओफिसर को करनी पढ़ती थी। कुछ दिनों बाद एक अधेड़ उम्र की औरत भी हमारी कम्पनी में नौकरी करने आ गयी। मेरी उससे दोस्ती हो गयी थी। उसका नाम नीलिमा था। कोई 35 साल की औरत थी। शुरू शुरू में एक महिना हम सभी सेल्स ऑफिसर्स को ट्रेनिंग दी जा रही थी। इसमें हम लोगो को तरह तरह से ट्रेनिंग मिल रही थी की किस तरह क्लाइंट से डील करना है और कैसे बड़े बड़े प्रोजेक्ट में हमारी कम्पनी के टाइल्स को बेचना है। धीरे धीरे नीलिमा मेरे बगल ही बैठने लगी। मैंने उससे उसक नाम पूछा। फिर उसने मेरे बारे में पूछा और हम लोगो की गहरी दोस्तों हो गयी। नीलिमा शादी शुदा थी और साड़ी पहनकर आती थी। वो काफी खूबसूरत औरत थी और मुझे तो वो पहली मुलाकात में पसंद आ गयी थी। दोस्तों कुछ दिनों बाद जब ट्रेनिंग पूरी हो गयी तो 2 2 ऑफिसर्स की टीम बना दी गयी और सभी को मार्केट में भेज दिया गया।

यह कहानी भी पड़े  आंटी की बेटी को चोदने की आज्ञा

अब हम दोनों जादा समय सात ही बिताते थे। धीरे धीरे हम सेक्स और चुदाई की बाते करने लगे। नीलिमा मुझसे किसी तरह का संकोच नही करती थी। वो मुझे सब बताती थी। मैं अपनी बाइक पर उसे बिठा लेता था फिर हम तरह तरह की कम्पनी में जाकर अपने टाइल्स और प्रोडक्ट के बारे में बताते थे। दोस्तों हम दोनों की टीम एक सफल टीम साबित हो गयी। पहले महीने हम दोनों ने 10 लाख की सेल्स कर दी। उसके बाद तो नीलिमा जहाँ कहीं चली जाती कई लोग की उसकी खूबसूरती और बात करने की कला पर पट जाते और हमारी कम्पनी को बड़े ओर्डर दे देते। एक दिन मैं उसे सुबह की अपने कमरे पर ले आया। सीधे हम दोनों बेडरूम में चले गये। मैं अच्छी तरह से जानता था की आज वो मुझे चूत देगी। धीरे धीरे हम दोनों सेक्स और सम्भोग की बाते करने लगे। फिर नीलिमा होने लगी।

“हरमन!! मेरे पति का लंड मुश्किल से 3 इंच का है। वो मुझे कभी भी यौन सुख नही दे पाता है और उपर से तरह तरह से टोर्चेर करता है” नीलिमा ने कहा और रोने लगी

“क्या तुम तुमे मेरे हिस्से का यौन सुख दे सकते हो???” नीलिमा ने मुझसे कहा

उसके बाद मैंने कुछ नही कहा और उसे सीने से लगा लिया। हम दोनों बेड के सिरहाने से पीठ सटाकर बैठ गए। उसने साड़ी पहन रखी थी। माथे पर बिंदी पहन रखी थी। गले में मंगलसूत्र था और हाथ की कलाई में चूड़िया थी। कहने की जरूरत नही है की नीलिमा हमेशा की तरह बहुत सुंदर और हॉट औरत लग रही थी।

यह कहानी भी पड़े  बीवी की सहेली मधु भाभी की चुदाई

“कम बेबी!! आई लव यू!!” मैंने उससे कहा और उसे गले लगा लिया।

काफी देर तक वो मेरे सीने से चिपकी रही। कुछ ही देर में हम दोनों चुदासे हो गये। नीलिमा मेरे उपर झुक गयी और किस करने लगी। मैं उसके रसीले होठ चूसने लगा। दोस्तों उसके होठ बिलकुल अंगूर जैसे रसीले थे। मैंने 10 मिनट तक उसके खूबसूरत और रसीले होठ को पीया और उसकी भीनी भीनी साँसों को अपनी आत्मा में बसा लिया। फिर हम दोनों किसी बॉयफ्रेंड गर्लफ्रेंड की तरह बेड पर लोटने लगे। आज मुझे नीलिमा जैसी गजब की औरत को चोदने का महासुख मिलने वाला था। ये मेरे लिए बड़ी और किस्मत वाली बात थी। मैं धीरे धीरे उसके पीछे पूरी तरह से पागल हो हम दोनों पागलों की तरह एक दूसरे से चिपक गये और मैं उसके गले, कान, नाक सब जगह मैं किस कर रहा था। फिर मैंने उसकी साड़ी के अंदर हाथ डाल दिया। उसके पेट के बीच से गुजरते हुए मेरा हाथ उसकी चूत की तरह बढ़ रहा था। उफ्फ्फ नीलिमा किस टाँगे और जांघे तो बेहद खूबसूरत थी। सीधा मैंने उसकी चूत पर पहुच गया। नीलिमा ने पैंटी पहन रखी थी। मेरा हाथ उसकी लाल रंग की पेंटी पर चला गया। फिर मुझे उसकी रसीली चूत की दरारे महसूस होने लगी। मैं उसकी चूत को पेंटी के उपर से सहलाना शुरू कर दिया।

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!