निशा की चुदक्कड़ चुचियाँ

nisha ki chudakkad chuchiya थी तो निशा सिर्फ़ 18 साल की, पर ना जाने क्यो उसकी छाती अपनी मा से भी बड़ी थी. हर हफ्ते जब भी वो आईने के सामने खड़ी होती, अपना शर्ट उतारती, उसके मम्मे ब्रा की बॉर्डर के बाहर उभर आते. वो तय नही कर पा रही थी कि उसे अपने मम्मे पसंद थे या नही. कभी कभी, जब वो भीड़ में होती तो अंजान मर्द उसके मम्मे ज़ोर से दबाते और निशा के पैरो के बीच उसकी जवान चूत भीग जाती. लेकिन जब वो कपड़े खरीदने जाती तो जो ड्रेस उसे पसंद आता उसके बटन बंद नही कर पाती थी, उसके मम्मे बटन को दोनो बाजू से खीच कर ड्रेस को तंग बना देते थे. उसका छ्होटा 5फ्ट 2 इंच का कद, उसका 26 इंच का नाज़ुक पेट, 38 इंच की कमर काफ़ी सेक्सी थी, पर उसके मम्मे 16 साल की उमर में ही 38 इंच के हो चुके थे. खैर, मेरी ही ग़लती है – निशा ने सोचा.

उसकी ग़लती कुच्छ इस तरह शुरू हुई….

2 साल पहले की बात है… निशा को स्कूल में संगीत के प्राक्टिज़ के लिए जल्दी जाना था. वो सुबह 6 बजे की बस में जाने वाली थी, पर घर से निकलने में देर हो गयी. वो बस पकड़ने के लिए रास्ते में भाग रही थी. किस्मत से ड्राइवर ने बस को रोका और निशा डबल डेककर के पहले माले पर बैठ गयी. इतनी जल्दी सुबह बस में दो लड़के थे, और कोई नही था. वो हाफ्ते हुए बस की पिच्छली सीट पर बैठ गयी. उनके चेहरों से लग रहा था कि वो लड़के 18-19 साल के थे. शायद वो कॉलेज जा रहे थे? वो दो लड़के अपने आप में बात कर रहे थे, पर जान बूझकर ज़ोर से बात कर रहे था, ताकि निशा सुन सके. एक बोला – साली को देखा रास्ते पर भागते हुए? दूसरा बोला – क्या मम्मे हिल रहे थे ना? इतनी उमर में इतने बड़े बड़े कॅलिंगर?? साली चुदी हुई लगती हैं. फिर दोनो हस पड़े और बोले – चुदने में कितना मज़ा आता होगा ना? चूत में ठोकते ठोकते उसके गुब्बारो को दबा दबा के उसके निपल को ज़ोरो से खिचना चाहिए, जैसे हम तबेले में गाय को को देखते है न ऐसे. यह बोलके वो और भी ज़ोर से हस्ने लगे.

यह कहानी भी पड़े  नर्स ने चुद कर मेरे लंड का चैकअप किया

निशा शर्मा रही थी पर उसे यह सुनके मज़ा भी आ रहा था. उसे आज तक किसी लड़के ने उसकी मर्ज़ी से नही च्छुआ था. हा,भीड़ में कभी कभी मर्द उसका फ़ायदा उठाते थे, उसके मम्मे और कमर को भोपु की तरह दबाते थे और गायब हो जाते थे. और निशा के पूरे बदन में सेक्स चढ़ जाता था. पर लड़कियों के स्कूल में पढ़ने के कारण उसका कभी लड़कों से ऐसे पाला नही पड़ा था. उसकी तंग ब्रा में उसके निपल खड़े हो रहे थे और नर्म कपड़ो से गोटियों की तरह खिल रहे थे. निशा ने अपने शर्ट में हाथ डालकर अपने निपल की चींटी काटी. उसी वक्त एक लड़का मुड़ा और मुस्काराया. निशा घभरा गयी और तुरंत अपना हाथ शर्ट से निकल कर खिड़की के बाहर झाकने लगी. वो लड़का ज़ोर से बोला – बेबी, मदद चाहिए क्या?

निशा हंस पड़ी और लड़के की नज़र से नज़र मिलाई, फिर नज़र झुकाई, और अपने दातों तले अपने निचले होन्ट को चबाया.

वो लड़का अब निशा के बगल में बैठ गया और हाथ बढ़ाते बोला – असलम. निशा ने हाथ मिलाया और अपने आप को इंट्रोड्यूस किया और बोली – और आपके दोस्त का नाम? असलम चिढ़ते हुए बोला – दोनो को लोगि क्या? आए माजिद सुना क्या? तेरे को भी पूच्छ रही है! माजिद हसा और अगली सीट पर मुड़कर बैठ गया, ताकि वो निशा को देख सके. माजिद बोला – क्यो बेबी, दो दो चाहिए क्या? निशा अब घबरा गयी. असलम ने निशा की आँखों में घबराहट पढ़ी और अपना एक हाथ उसके पीठ पर रगड़ा और बोला – श्ह्ह…. घबराने की कोई बात नही. कभी किसी लड़के ने ऐसा नही किया क्या? यह कहते हुए असलम ने अपना दूसरा हाथ निशा की छाती पर अच्छी तरह फिराया, ना तो बहुत ज़ोर से, ना तो बहुत नाज़ुक. निशा बोली – हा, भीड़ में मर्द ने हाथ लगाया है, पर इस तरह नही. माजिद ने निशा की एक चूची ज़ोर से दबाते दबाते बोला – अच्छा लगता है बेबी मरद जब चान्स मारते हैं?? निशा शर्मा के मुस्कुराइ. असलम ने उसकी निपल खीची और हस्ते हस्ते बोला – बहुत शरमाती हो जानेमन. हम दोनो के सामने नंगी फूंगी खड़ी होके चूची हिला हिला के नचोगी तब भी शरमाओगी क्या? ह्म्म?? यह कहते हुए माजिद और असलम दोनो ने उसकी एक एक निपल को अपने हाथों में लिया और निपल के सहारे से उसके मम्मे को ढपाधप हिलाने लगे और गाना गाने लगे – चोली में, तबाही है तबाही तबाआआहि.

यह कहानी भी पड़े  चाचा ने मेरी सेक्सी मम्मी की प्यास बुझाई

तो ऐसे शुरू हुआ निशा के मम्मो का रोज़ मालिश. वो असलम और माजिद को सुबह मिलती, और कभी कभी शाम को. कभी पार्क में एक कोने में माली की झोपड़ी के पीछे, दोनो उसका शर्ट खोलकर उसके मम्मो को अच्छी तरह दबाते, रगड़ते, किस करते, चूस्ते, काटते, खेलते – 2 साल तक चलता रहा यह खेल. 32 इंच की छाती अब 2 साल बाद 38 इंच की हो चुकी थी. उसका कप साइज़ सी से अब एफ तक पहुच चुका था. अब वह कॉलेज जाने लगी – उसी कॉलेज में जिसमे असलम और माजिद लगातार 4 साल तक फैल होते रहे थे. अब वह फाइनल में थे, और निशा पहले साल में.

Pages: 1 2 3 4 5 6

Comments 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!