नौकरानियों के साथ थ्रीसम

तो कैसे है आप लोग मेरा नाम है दीक्षांत जाधव और मै 18 साल का सेक्स दीवाना हू यह कहानी उस वक्त की है जब मैने अपनी दोनो कामवालियों के साथ थ्रीसम किया था चलिए अब आपको बोर ना करते हुए कहानी पे आता हू.

बात तब की है जब में ** स्टैण्डर्ड में था मुझे मेचुरिटी जल्दी आ गयी थी तो में रोज मास्टरबेशन किया करता था मेरे घर पे दो कामवालियां आती थी एक का नाम नूर जहां और दूसरी संगीता, नूर जहां का फिगर मस्त था पर उसकी गांड छोटी थी और वो लंबी थी संगीता का फिगर घटियां था लेकिन गांड मस्त थी मै रोज उन्हे देखता रहता और अपने कमरे में जा कर मूठ मारता, यह कहानी आप देसी कहानी.नेट पर पढ़ रहे है.

नूर जहा पोछा लगाती थी और संगीता बर्तन मांझती थी, जब नूर पोछा लगती तो उसकी जिस्म में से उसकी चुचिया बाहर आने को मचलती थी मैं रोज उसके पीछे पीछे घूमता फिरता था और उसकी चुचिया देखता था संगीता जब बर्तन मांझती थी तो उसकी गांड पे अपना लंड कभी कभी टच करता था लेकिन उसे पता नही चलता था मैने सोच लिया की इन दोनो मे से किसी एक को ज़रूर चोदुँगा..

और फिर मुझे फाइनली वो मोका मिल गया दोस्तों मेरी मोम वर्किंग वोमेन है और डैड भी उन्हे बिज़्नेस ट्रिप्स के लिए जाना पड़ता है तो मै कभी कभी अकेला पड़ जाता हू तो वो नौकरानियों को मेरी देख बाल करने को लगा देते थे अब 5 सालो के बाद वो बिज़्नेस ट्रिप पे जाते थे अब जिस दिन वो गये मै स्कूल से आया और नूर जहां से बातें करने लगा उसे भी पता था की आज उसकी ठुकाई होगी मैने उससे पूछा.

यह कहानी भी पड़े  अपनी सेक्सी विधवा नौकरानी को चोदा

मैं – नूर तुम्हारे पति है ?

नूर – नही भइया . वो साला दारू पीके मर गया

मैं – तुम्हारे बच्चे है ?

नूर – नही पर मुझे चाहिए यह बोलकर उसने मुझे आँख मारी फिर मैं कन्फर्म हुआ की यह मेरे लंड की प्यारी है उसके पति ने इसे छोड़ा ही नही.

इतने में संगीता आई

मैं – संगीता कम पे लग जाओ

संगीता – जी छोटे साहब

मैं धीरे से उसकी गांड पकड़ कर उससे पूछा

मैं – क्या तुम्हे थोड़ी खर्च चाहिए ₹100-200

संगीता – मैं तो फूकट में एक महीने के लिए आपकी रंडी बनूँगी

मैं – मस्त मैने नूर को भी पटा लिया है तुम्हे रोज चोदुँगा

संगीता – हा छोटे मालिक

नूर – भइया अब सो जाओ कल से मज़े करेंगे आपके स्कूल के आने के बाद

मैं – ठीक है.

अगले दिन स्कूल से आने के बाद मै फट से घर गया, नूर और संगीता को घर बुलाया

मैं – आओ मेरी रानी

मैने घर के सारे पर्दे दरवाजा लॉक कर लिए

मक्डोनल्ड’स से खाना लाया मै खाना खाने के बाद खड़ा हुआ नूर ने मुझे कहा भाई मुझे बच्चा दिला दो मै किसी को नही बताउंगी. ये कहानी आप देसी कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है.

मैं – हा ज़रूर

नूर – आओ मैं आपको नहला दू

मैं – चलो

नूर और मैं बाथरूम में गये नूर ने अपनी सलवार कमीज़ उतारी मै पूरा नंगा हुआ नूर ने ब्लॅक ब्रा और पैंटी पहेनी थी वो मुझे पूरा साबुन से रगड़ने लगी वो मुझे साबुन से रगड़ती मै धीरे धीरे उसकी चुत्तड़ को रगड़ता फिर वो मुझे डर्टी नॉटी बॉय बोली और झट से अपने घुटनो पे बैठ गयी उसने धीरे से मेरा लोडा हाथ मे लेने लगी मेरे रोंगटे खड़े हो गये.

यह कहानी भी पड़े  मनीषा मान गयी पहली बार मे

वो मेरा लंड हाथो मे लेकर रगड़ रही थी धीरे से उसने मेरा लंड अपने मूह मे ले लिया मुझे तो जैसे करेंट ही लग गया वो मेरा लंड चाटने लगी मैं उसकी चुचिया चूसने लगा और उसकी ब्रा उतार के उसके बूब्स दबाने लगा वो आह आह भइया बहुत मज़ा आ रहा है ज़ोर से दबाओ मैं उसकी चूत रगड़ने लगा और उसका पानी निकाल दिया उसने भी मेरा पानी निकाल दिया.

हम दोनो बाथरूम के बाहर आए और उसने मुझे किस किया और अपने कपड़े बदल लिए रात हो गयी थी संगीता और नूर ने कपड़े उतारे और मुझे और अपने आप को मेरे बेड रूम में लॉक कर दिया फिर मैं अपनी वर्जिनिटी तोड़ने के लिए तैयार हो गया मैने पहले दोनो के चुत्तड़ मे उंगली और हॅस्ट मिठून किया वो दोनो चिल्ला रही थी.

भाई आज से हम आपकी रंडी और आपके मा बाप ना होने पर आप हमे जब चाहे जैसे चाहे चोद सकते हो हमारे छोटे अब हम आपके हो गये ऐसा कहकर उनका पानी निकला फिर मैने अपना लंड लिया और नूर की चोटी मे लगाया और उससे मिशनरी पोज़िशन मे चूसने लगा.

आआह आहह चोद मुझे, मुझे पेट से कर मैने अपना लंड उसकी गांड के होल मे लगाया, बहुत कड़क था उसका होल मैने एक झटका दिया तो नूर ज़ोर से चिल्लाई आआआअहह मेरी गांड फिर आई संगीता की बारी उसकी चूत में मैने घुसाया वो भी चिल्लाई.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!