नौकरानी की मदद कर के उसके साथ चुदाई की

मेरा नामे रॉकी है ये कहानी मेरी लाइफ की वो कहानी है जो अभी तक चल रही है और मे ये कहानी का एक- एक हिस्सा आपको बताना चलता हू. सबसे फले मेरे बारे बता देता हू. मई एक ट्रेनर हू मे वेिघतलोशस फिटनेस ट्रैनिंग सेंटर का ओनर हू.

मेरे ट्रैनिंग सेंटर मे लड़के लड़कियाँ सब आते है, मेरे सेंटर काफ़ी बड़ा है. मई फिज़िकल ट्रैनिंग आस वेल आस सब्स्टिट्यूट्स प्रवाइड करता हू.

ये कहानी शुरू होती है मेरी नौकरानी से. मई काफ़ी बिज़ी रहता था तो मुझे सजेस्ट किया मेरे एक मेंबर ने की कोई एक मैड रख लो काम के लिए और उन्होने उसे मेरे पास भेजा.

मई भी बिज़ी होने के कारण चटा था की कोई सॉफ सफाई बाकी सेंटर के काम देख ले तो अछा है. मेरी मुलाकात होती है रानी से जो की एक मैड है शादीशुदा है उसकी 1 लड़की भी है.

मई अपने कॅबिन मे था शाम का समय था रानी ने नॉक किया गाते.

रानी: सिर मे अंदर आ स्क्ति हू?

मे: ओफ़फकौरसे आ जाए बैठिए मेडम.

रानी: मेको वो मोनू आंटी ने भेजा है आपको काम करने के लिए कोई चाहिए था ना?

मे: हा रिघ्त तो मई ये कह रहा था की मुझे सूभ 8 से रात के 8 तक के लिए आपकी नीड होगी. जिसमे आपको सेंटर के सारे काम करने होंगे सॉफ सफाई मॅनेज्मेंट वगेरा, कुछ ज़्यादा लोड नही र्हेगा बस तोड़ा बहुत ही है.

रानी हा मे सिर हिला देती है.

मे: मई आपको 8000 हर महीने दे दूँगा.

रानी खुश हो जाती है और वो हन सिर मे कल से आ जौंगी.

मे: ठीक है वेस आपका नामे?

रानी : सिर, रानी नामे है मेरा.

मे : ओक ठीक है आप कल से आ जाइए.

रानी दूसरे दिन से आ जाती है अपना कम करने लग जाती है. ऐसे ही 1 महीना निकल जाता है. एक दिन रानी मेरे पास आती है और बोलती है-

रानी: सिर मुझे 2 दिन की छुट्टी छाईए.

मे: क्यू क्या हुआ सब ठीक तो है ना?

रानी: वो मेरे पति की तबीयत खरभ है तो उनको क्ल हॉस्पिटल ले जाना है.

मे: अछा कोई ना ठीक है मई मॅनेज कर लूँगा, तुम्हे कोई हेल्प चाहिए हो तो मेको कॉल कर लेना.

रानी : जी सिर, मई जाती हू.

3 दिन बाद रानी आती है काफ़ी उदस्स लगती है. मई रिंग बजता हू रानी कॅबिन मे आती है.

मे: रानी तुम्हारा पति कैसे है अब?

रानी : सिर उनकी तबीयत खराब है थोड़ी.

मे: तो तुम यहा क्या कर रही हो, हॉस्पिटल जाओ.

रानी : सिर पैसे कमौँगी नही तो हॉस्पिटल का करछा कैसे भरँगी. अभी सरकारी हॉस्पिटल मे है वो कल शायद प्राइवेट मे ले जौंगी. पर हॉस्पिटल मे बेड नही मिल र्हे है और फीस भी बहुत है.

मे: एक काम करो मई एक हॉस्पिटल का नाम बताता हू वाहा ले जाओ वाहा बिल काउंटर पर मेरे से बात करा देना.

रानी : धन्यवाद सिर आपका बहुत बहुत धन्यवाद.

मे: कोई ना जाओ अब तुम अपने पति का ख़याल रखो.

दूसरे दिन रानी मेको फोन लगा कर बात करती है और हॉस्पिटल मे उनको एक बेड मिल जाता है कम कॉस्ट मे क्यूकी वो हॉस्पिटल मे मेरी पार्ट्नरशिप थी.

फिर मई रानी को फोन पर बोलता हू की तुम टेन्षन म्ट लो. मई पेमेंट तुमको पूरी दूँगा इस महीने की तुम अपने पति का ख़याल रखो बस.

रानी : ठीक है सिर आप बोलो तो मई मेरी बेटी को आपके वाहा भेज डू.

मे: नही तुम ख़याल रखो मई मॅनेज कर लूँगा.

रानी : बहुत बहुत माहेरबानी आपकी सिर.

मे. अरे ऐसी कोई बात नही है तुम ख़याल रखो और कुछ लगे तो बताना.

करीब 2 दिन बाद मई हॉस्पिटल के पास से निकलता हू. तब मुझे रानी के पति के बारे मे याद आता है. उस दिन सनडे होने के कारण मई फ्री था तो मे सोचता हू हाल चल पूछ लू.

मैने दुकान से कुछ फ्रूट्स लिए और हॉस्पिटल मे गया. वाहा रिसेप्षन पर एक मेडम थी. मैने उन्हे रानी के बारे मे पूछा पर वो बोली रानी नाम की कोई पाटेंट नही है.

फिर मैने रानी को कॉल किया, उसका फोन उसकी बेटी ने उठाया-

मे: हेलो रानी?

बेटी: सिर माओ मीना बोल रही हू, मम्मी पापा के पास है.

मे: अछा मई हॉस्पिटल मे ही था, कहा पर हो तुम लोग?

बेटी: सिर हम 3र्ड फ्लोर पर 303 आइक्यू वॉर्ड मे है.

मे: आइक्यू मे ओहक मई आ रहा हू.

मई लिफ्ट से उपर जाता हू. फ्लोर पूरा खाली होता है, एक सीट पर एक लड़की बैठी होती है, मुझे लगता है कोई नर्स होगी.

मे : एक्सक्यूस मे माँ, ये आइक्यू वॉर्ड कहा है 303?

उतने मे बोलती है सिर मई मीना. मई ये सुन कर चॉक जाता हू और 2 मिनिट तक खड़ा ही रहे जाता हू. दोस्तो मई आपको मीना के बारे मे बताता हू.

वो एक 20 साल की जवान लड़की है. बहुत ही खूबसूरस्त अपने आप को पूरी तरह से मेनटेन करके रखा है. एक दूं माल लगती है वो, गोरी है काफ़ी स्मार्ट है और वो सूट पहनती है.

मीना: सिर कहा खो गये? (चुटकी बजा कर बोली.)

मे: अरे कुछ नही रानी और तुम्हारे पापा कहा है?

मीना : मम्मी पापा के पास बैठी है, मिलने का समय है अभी 1 बार मे 1 ही लोग अलोड है.

मे: ओक मई वेट करता हू.

मई मीना को देख कर होश खो बेता था क्यूकी उसकी मा इतनी गोरी नही है, बाकी फिगर उसका भी बहुत अच्छा है. कुछ देर बाद रानी आती है-

रानी: नमस्ते सिर.

मे: नमस्ते रानी कैसे हो, कैसे है तुम्हारे पति?

रानी : कुछ ठीक नही है सिर परसो इनका ऑपरेशन है पैसे की दिक्कत है.

मे: तुमने मुझे बताया नही ऐसा कुछ, मुझे बताना था मई हॉस्पिटल मे बात करता.

रानी: नही सिर, फले ही आपके बहुत ऐसान है हुमारे पर.

उतने मे रानी को चक्कर आते है, मई संभालने के लिए उसको पकड़ने जाता हू और मीना भी फाटक से पकड़ती है. अब रानी बेहोश हो गयी थी. हुँने जैसे तैसे उसे बेंच पर लेटया. मीना को मैने पानी लाने को बोला.

फिर मीना पानी लाई और मैने तोड़ा सा पानी रानी के मूह पर मारा, फिर वो कुछ देर बाद उठी.

मीना : सिर देखिए ना मम्मी 2 दिन से बुखी है कुछ खाया नही इसलिए ऐसा हुआ.

मे: गुस्से मे : पागल हो गया रानी तुम, खाना ना खाने से थोड़ी कुछ ठीक होगा!

फिर मई जो फ्रूट्स लाया था उसमे से 1 आपल दिया और बोला फले तुम ये खाओ. मई जब तक अंदर तुम्हारे पापा से मिल कर आता हू.

मई अंदर गया रानी का हज़्बेंड को देखा तो शॉक था, वो काफ़ी आगे के थे. उन्होने मुझे इशारे मे नसमस्ते कहा. मैने भी इशारे मे पूछा ठीक है? तो वो हा मे सिर हिलाया, मैने फ्रूट्स वाहा रखे और बाहर आ गया.

फिर मैने रानी से कहा आओ कॅंटीन चलते है तुम कुछ खा भी लेना और मुझे कुछ बात भी करनी है तुमसे, मीना तुम भी चलो. अब हम तीनो कनतीं जाते है.

कुछ नास्टा ऑर्डर किया मैने.

मे: जल्दी से दोनो पेट भरके खाओ वरना मई गुस्सा हो कर यहा से चले जौंगा.

मीना ने थोड़ी सी सिमिल दी. रानी हा मे सिर हिलाते हुए.

ऐसे ही चलते रहा. फिर मैने भी तोड़ा बहुत कुछ खाया उनके साथ. मेरा ध्यान मीना से हट ही नही रहा था.

मीना : सिर अब बस अब नही खाया जेया रहा.

रानी : हा सिर प्लीज़ अब नही.

मे: चुप छाप पूरा फिनिश करो दोनो.

दोनो की गर्दन नीचे थे और उन्होने फिनिश किया.

मे: एक बात पूचु रानी थोड़ी पर्सनल है बुरा ना मानो तो?

रानी : सिर आपकी बात का मई कैसे बुरा मान सकती हू, अपने इतनी हेल्प की है हमारी.

मे: अरे इसमे कोई हेल्प वाली बात नही है रानी ये तो मेरा फ़र्ज़ है किसी माददगार की हेल्प करना.

रानी : नही सिर आपके जैसे सब नही होते, आप ने बहुत हेल्प की है.

मीना : हन सिर वरना आज हम ये हॉस्पिटल मे पापा का इलाज नही करा पाते.

मे: अरे वो सब चोरो मई हू ना जब तक टेन्षन मत लो.

रानी: हन सिर वैसे आप कुछ पूछ रहे थे?

मे: हन तुमहरे पति की आगे तुम्हारे से बहुत ज़्यादा लगती है?

रानी : हन वो मेरे से 10-12 साल बड़े है, 49 के है.

मे: चलो इस बहाने तुम्हारी आगे पता चल गयी.

मीना हासणे लगी.

रानी : क्या आप भी सिर, मेरी शादी 16 की आगे मे ही हो गयी थी. पापा ने बहुत जल्दी करा दी थी. 17 साल मे तो मीना हो गयी थी.

मे: काफ़ी फास्ट निकले आपके पति हहेः रानी शर्मा गयी मीना ने एक स्माइल पास की.

मे : मीना तुम क्या करती हो?

मीना: अभी मैने डिप्लोमा करना फिज़िकल एजुकेशन मे.

मे: वाह गुड, आयेज का क्या सोचा है?

मीना : सिर अभी तक तो कुछ नही, जॉब का सोच रही हू.

रानी : हा सिर आप अगर इसके लिए कही जॉब देख ले तो मेहरबानी होगी.

मे: जी बिल्कुल, ये मेरे यहा ही काम कर सकती है, मेको वैसे भी एक लेडी ट्रेनी की ज़रूरत है.

रानी : सिर ये तो बहुत बाड़िया है.

मीना : थॅंकआइयू सिर.

आयेज की स्टोरी अगले पार्ट मे, कैसे मैने दोनो मा बेटी को चोदा. [email protected]

यह कहानी भी पड़े  कामवाली की बेटी की हार्डकोर चुदाई

error: Content is protected !!