मुस्लमान सेक्स कहानी खाला को लंड दिखाया

सभी कहानी पढनेवाले Antarvasna दोस्तों को शब्बीर का सलाम. मैं कानपुर से हूँ और अभी अपनी मास्टर्स के लिए पढाई कर रहा हूँ. मैं कोलेज के दिनों में बहुत सब लड़कियों के साथ सेक्स कर चूका हूँ. मैं 23 बरस का हूँ. लम्बाई मेरी 5 फिट और 10 इंच हे. पर्सनालिटी डायनेमिक हे और लंड मेरा लम्बा हे पुरे 7 इंच का और मोटाई में 3 इंच हे.

मैं खुद भी हिंदी सेक्स की कहानियां पढता हूँ. और आज अपने जीवन के एक अनुभव को आप लोगों के लिए लिख रहा हूँ. आज आप को मैं मेरी और अपनी खाला (यानी की मौसी) के सेक्स अनुभव के बारे में लिख रहा हूँ.

अभी सुबह उठ के ब्रश ही कर रहा था की मुझे मेरी अम्मी ने बोला की उनकी ममेरी बहन यानी की मेरी खाला रुबीना आ रही थी हमारे वहां पर. रुबीना खाला के शोहर की डेथ हो गई थी और वो एक विधवा थी. उनकी शादी के कुछ महीनो में ही एक कार एक्सीडेंट में खालू की मौत हो गई थी. शाम को जब वो आई तो मैंने ही उन्के लिए डोर खोला था. और मैंने उन्हें देखा तो बस देखता ही रह गया!

उम्र में मेरे से 3-4 साल बड़ी थी बस और शक्ल से लगता नहीं था की वो एक विधवा हे. लम्बाई करीब 5 फिर और ऊपर 5 इंच . फिगर एकदम सुडोल था और श्याम रंग था लेकिन वो श्याम होने के बावजूद भी एकदम सेक्सी लग रही थी. मेरी बहुत गर्लफ्रेंड रही हे अपनी लाइफ में और वो किसी से कम नहीं थी. मेरी उन्हें देख के उन्हें अपना बना लेने की इच्छा इसीलिए जागृत हो गई थी. वो हमारे घर कुछ दिनों के लिए आई थी.

एक हफ्ते के बाद मेरे अब्बा के एक दोस्त के वहां पर हम लोगो को शादी में जाना था. मैं कुछ सोच के कहा मैं नहीं आऊंगा मुझे काम हे. मैं जानता था की खाला नहीं जायेगी क्यूंकि वो लोग उसके लिए अजनबी जो थे.

यह कहानी भी पड़े  हाय रे… पापा मर गई

घर के सब लोग शादी में चले गए थे और घर में अब मैं और मेरी खाला ही थे. दुसरे दिन से मेरे दिमाग में खाला को चोदने के अलग अलग प्लान चलने लगे थे. जब वो मेरे सामने घर के काम काज करने के लिए आती थी तो उसके उभरते हुए बदन को देख के दिल में वासना के शोले भडक जाते थे. उन्के सेक्सी बदन के बारे में सोचते हुए मैं बाथरूम के अन्दर अपने लंड को हिला लेता था. कैसे खाला की चूत मारने को मिले उसकी गुत्थी सुलझ नहीं रही थी.

फिर मैंने खाले के साथ बहुत सब बातचीत चालु कर दी. मैं उन्हें जोक्स कह के हंसाता था और उन्हें भी मेरी कम्पनी पसंद आने लगी थी. दो तिन दिन में तो हम लोग करीब हो गए थे. अब मेरे पास सिर्फ 4 दिन बचे थे खाला की चूत में अपने लंड को देने के लिए. क्यूंकि उसके बाद तो घर वाले शादी से वापस हो जाने थे.

खाला के साथ मस्ती मजाक मैंने बढ़ा दिया था. मैं मस्ती में उन्के ऊपर एक लोटा पानी डाल देता था कभी, और उन्के अन्दर की ब्रा मेरे को दिख जाती थी और बूब्स का एक बड़ा हिस्सा भी. मैं दिन में ज्यादा से ज्यादा समय उन्के पास ही बिताता था. और उन्के बदन से एक अलग ही मोहित करनेवाली खुशबू आती थी. मैं अब पक्का ठान लिया था की अब तो पहल करनी ही होगी वरना सब आ गए तो खाला सिर्फ बाथरूम में और खयालो में चुदेगी!

एक दिन इवनिंग में मैं अपने कमरे से निकला और देखा तो खाला हॉल में सीरियल देखने बैठी थी. मैं वापस अपने कमरे में चला गया और अपने लोडे को बहार निकाल के कुर्सी में बैठा. मैं जानता था की खाला कुछ देर में ही मेरे कमरे में आएगी तो मेरे लंड को जरुर देखेंगी. और ऐसा ही हुआ भी. कुछ देर में जब खाला हाथ में झाड़ू ले के आई तो उसे मेरे पेनिस के दर्शन हो गए! मैं जानता था की खाला ने अपनी लाइफ में बहुत लंड नहीं लिया हे इसलिए उसके अन्दर की वासना भी मेरे लोडे को देख के सुलग जायेगी. मैंने उन्हें वो चीज दिखा दी थी जिसकी उन्हें शायद बरसो से तलाश थी. वो उस वक्त तो कुछ नहीं बोली. मैंने भी लंड को वापस पेंट में ले लिया.

यह कहानी भी पड़े  मेरी शादी शुदा दीदी पूजा

दुसरे दिन जब वो पोछा लगा रही थी तो मैं वहां से निकला. उन्होंने मस्ती में मेरे ऊपर पानी फेंका. और मैं समझ गया की अब उसकी चूत को लंड चाहिए ही चाहिए. मैंने उस से कहा, खाला अब एक कतरा भी पानी फेंका मेरे ऊपर तो आप की खेर नहीं!

वो बोली, धमकी और मुझे!

ये कह के उसने मुझे और पानी से भिगो दिया. मैंने दौड़ के उन्हें अपनी बाहों में भर लिया और कंधे के ऊपर उठा के बाथरूम में भागा. मैंने शोवर ओन कर दिया और उसके निचे उसे खड़ा कर दिया. उसकी सलवार कमीज भिग गई और अन्दर की ब्रा पेंटी बहार से भी साफ़ दिखने लगी थी. उसके भीगे हुए बदन को देख के मेरे लंड में एक अजब सी खुमारी आ गई थी. मेरे लंड में अकड आ गई थी और वो एकदम टाईट हो गया था!

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!