मम्मी की चुदाई की पापा के सामने

Part 1 –  रंडी मा बहेनॉ वाली चुड़क्कड़ फॅमिली

लास्ट पार्ट मे आपने पढ़ा की मम्मी पापा ने मुझे मूठ मरते देख लिया. और मम्मी ने अपनी चुदाई देखने की मुझे पर्मिशन दी. अब आयेज…

मैं ये सुनकर खुश हो गया. मैने मम्मी से पूछा की मम्मी क्या मे लाइट जला के देखलू तुम दोनो की चुदाई? मुझे आपकी छूट ढंग से देखनी है, अंधेरे मे सॉफ नही दिखता. इश्स बात पर मम्मी पापा दोनो हास दिए.

मम्मी: अछा तो अब तेरी हिम्मत इतनी खुल गयी एकद्ूम से. अब तू अपनी मा को चूड़ते हुए आंड पूरा नंगा देखना चाहता है वो भी लाइट जला के. अभी तक तो च्छूप च्छूप के अंधेरे मे जैसी दिख जाती थी वैसी देख कर लंड हिलता था. अब तुझे मेरी छूट लाइट मे गौर से देखनी है, वा रे मेरे मदरचोड़ बेटे!

मे: हन बिल्कुल मम्मी मैने आपको पूरा देखा ही कहा है. लाइट जला के आपके भरे पूरे मांसल गोरे जिस्म को देखना है. मे लाइट जलता हू आप पापा से चूड़ो और मे आपकी चुदाई देख कर मूठ मार लेता हू. आपने मेरा बिकच मे ही रोक दिया पूरा पानी नही निकला मेरा.

पापा: अछा तो तू अब भी मूठ ही मरेगा. तेरी मा ने तुझसे चूड़ने की कह दिया फिर भी? एक बार लाइट जला के ढंग से देख तो सही विंद्रा रंडी के शरीर को, तू बिना छोड़े नही रह पाएगा.

मे रूम की लाइट ओं कर देता हू और सामने मेरी मा बिल्कुल नंगी पड़ी थी. मैने मा को हमएसा च्छूप च्छूप कर ही नंगी देखा था. अब मे मा को पहली बार इतना खुलके देख रहा था.

मा का मिल्की वाइट जिस्म ब्डा ही मादक लाग्ग रहा था. ऐसी भारी पूरी मांसल गड्राए जिस्म की मालकिन एकद्ूम मिलफ कौगार मेरी मा मुझे पागल कर रही थी. ऐसी गोरी मिलफ को देख कर तो किसी का भी लंड छोड़ने के लिए तैयार हो जाए.

मा बेड पर नंगी लेती किसी रंडी से कम नही लाग्ग रही थी. मा के चेहरे पर स्माइल थी और उसने अपनी टाँगे खोल दी और अपनी छूट की फांके खोल के अपने च्छेद को दिखाने लगी. उसकी गोरी गोरी मोटी मोटी जंघे (थाइस) उसके बीच मे काली छूट और छूट पर वो पिंक लिप्स आंड छूट के अंदर लाल लाल माँस कयामत ढा रहा था.

अब ये सब मेरे कंट्रोल से बाहर था और मे मा की जंघे और छूट खा जाना चाहता था. मा मेरी बिगड़ती हालत को समझ गयी और मम्मी ने मुझे अपने बेड पर खींच लिया और मेरे सारे कपड़े उतार दिए.

मैं घुटनो के बाल बेड पर खड़ा हो गया और मेरा लंड मुउंी को सलामी देने लगा. मम्मी ने लंड को अपनी मुट्ठी मे लिया कुछ देर हियालेया फिर मूह मे लेके चूसने लगी.

दोस्तों क्या बतौ कितना आनंद आ रहा था. जिस औरत को में हमेशा से नंगा सोच कर मूठ मरता था और हमएसा से छोड़ना चाह रहा था. आज वो मेरा लंड चूस रही थी.

लंड चूसने मे मेरी मा एकद्ूम प्रोफेशनल हो गयी थी और बड़े मज़े से चूज़ के अधभूत आनंद दे रही थी. अब मम्मी जीभ (टंग) से छत छत कर मेरे गोटू (टटटे) को चाटने लगी. उसने मेरे गोटू को मूह मे भर लिया और 1-1 बॉल को चूसने लगी.

मा अपने दोनो हाथो से मेरे टटटे सहला रही थी की मानो मेरा माल निकल कर पी जाने वाली हो. फिर मेरे लंड के सूपदे पर लगे प्रेकुं को जीभ से चाटने लगी. मेरी मा सच-मच मे एक रंडी लाग्ग रही थी.

उधर पापा अपने हाथ मेरे चूतदों पर लेके गये और वो मेरा लंड मम्मी के मूह मे धकेलने लगे. अब मे ज़्यादा नही रुक पाया और मम्मी के सिर को पकड़ा और अपना लंड मम्मी के गले तक डाला. और सारा माल मैने मम्मी के गले मे छ्चोड़ दिया. 15-20 सेकेंड्स तक मा के गले को चोकक करके रखा.

फिर मूह से लंड निकाला और मा के चेहरे पर अपना लंड फिरने लगा. जिससे लंड पर लगा सारा थूक और मूठ उसके चेहरे से पोंछने लगा. मा पापा एशिया देख हास दिए और मा ने पूरा माल पिई लिया और मेरा लंड चाट कर सॉफ करने लगी.

पापा – विंद्रा कितना चुसेगी अब ज़रा अपने बेटे का लंड अपनी भोसड़ी में तो ले. इसका फिर से खड़ा हो गया ह तेरे चूसने की वजह से. देख कितना उतावला हो रहा है ये तुझे छोड़ने के लिए.

मैं – हन मम्मी अब बहुत हो गया आज मुझे चुदाई का आनंद दे ही दो और मेरी वर्जिनिटी ले लो. आपकी छूट की गर्मी और स्वाद चखा दो मेरे मूह और मेरे लंड को.

अब मम्मी बिस्तर पर लेट गयी. मैने उनकी टाँगे चौड़ी की और उनकी जाँघो पर हाथ फेरने लगा. इतनी कोमल और बड़ी मांसल जंघे मेहूस करके मे मा की जाँघो को चाटने आंड सूंघने लगा.

पापा मम्मी के बूब्स चूस रहे थे. मम्मी की जाँघो को जी भरके मसड़ने और चाटने के बाद अब मे मम्मी की छूट की तरफ अपना मूह लेके गया और मम्मी की छूट सूंघने लगा. क्या मस्त महेक रही थी मम्मी की छूट.

मम्मी की छूट और उसके आस पास के एरिया को मैने जमके सूँघा. अब मे विंद्रा मम्मी की छूट चाटने लगा.

मम्मी उ… एयाया… उम्म्म्म… आवाज़े निकाल रही थी और पापा उनकी निपल को दंटो से काट रहे थे. जिससे मम्मी की हल्की सी चीख निकल रही थी वो आआआ…. ईई…. कर रही थी और परम आनद मे थी.

ताज़ा ताज़ा चूड़ी हुई मम्मी की छूट का वो नमकीन टेस्ट गजब का था. उसमे से मम्मी और पापा के प्रेकुं का मिक्सर था. मे मम्मी की छूट मे उंगली करके छूट का सारा पानी छत गया. और उसपे लगा पापा का प्रेकुं भी चाट कर छूट एकम सॉफ कर दी.

अब मैं मम्मी के उपर लेट गया और उनकी छूट में अपने लंड को सेट किया और छूट के उपर लंड घूमने लगा. मम्मी की छूट बहुत नरम थी और इतने सालों से डेली चूड़ने के कारण ढीली भी थी.

मेरा लंड एक ही बार मे उनकी छूट की गहराई में उतार गया.

मम्मी – उईईईईई…. अम्म्म्मम……. शाबास बेटा तेरा लंड तो पूरा उतार गया एक ही बार मे. अब छोड़ मेरी छूट को, लगा ज़ोर ज़ोर से धक्के. छोड़ अपनी मा को और अपनी वर्जिनिटी मुझे देदे. बन जा आज पूरा मदरचोड़ ओह… बएटााअ…. अहह…… पहली चुदाई मे ही इतना दमदार छोड़ रहा है तुउुउउ….. लगता है खूब सारी चुदाई वीडियोस देखता ह. अहह…… छोड़ मदरचोड़ छोद्द्द्दद्ड………. माआअरर्र्ररर लीई मेरिइई छूट, कर मेरी छूट की खुदाईईईईईईईईईई…

मैं ज़ोर ज़ोर से धक्के देने लगा. मैं मम्मी के उपर लेट गया और मम्मी के बूब्स चूसने लगा आंड नीचे से उनकी छूट छोड़ता रहा.

मम्मी के एकद्ूम मिल्की वाइट बूब्स पर वो ब्राउन अरेवला आंड ब्राउन निपल मज़ेदार थी और मे मा की निपल काटने लगा. निपल काटने पर मा के मूह से मीठे मीठे दर्द की उउउ…. एयेए… एयेए… की आवाज़े उत्तेजित करने वाली थी. मम्मी की बॉडी की स्मेल मुझे पागल कर रही थी. मम्मी भी अपनी गांद उठा उठा कर मेरा लंड अपनी छूट में लिए जा रही थी.

पापा हम दोनो की चुदाई देख रहे थे और खुस हो रहे थे. मे 10 मिनिट से मम्मी की छूट पेल रहा था और बूब्स सक कर रहा था. अब मेरा माल निकालने लगा मैने लंड बाहर निकाला. और मैं मम्मी के पेट और उसकी नाभि में झाड़ गया.

मम्मी हस्स दी और बोली- अरे बेटा छूट मे छ्चोड़ देना, मैने ऑपरेशन करवा रखा ह अब प्रेगञेन्ट थोड़ी ही हो सकती हू.

वैसे मस्त छोड़ा तूने, पूरा खिलाड़ी है तू. मुझे लगा था तुझे छोड़ना सीखना पड़ेगा पर तू तो चुदाई मे पर्फेक्ट निकला. डेली हम दोनो की चुदाई देख कर सिख गया लगता है. मेरे पेट पर ही निकाल दिया तूने, अब मुझे इसको चाटने दे.

अब मा अपनी उंगली से मेरे माल को मूह मे लेने लगी. मम्मी अपनी नाभि मे उंगली डालती हुई बड़ी गजब लाग्ग रही थी. वो अपनी नाभि मे उंगली दल डालके सॉफ करने लगी और मेरा माल पूरा छत गयी. लेकिन अब भी मम्मी के पेट और नाभि मे चिपचिपा हो रहा था. जिसे पापा मम्मी के पेट और नाभि पर से चटके सॉफ करने लगे.

मम्मी ने मुझे उपर बुलाया और मेरा लंड मूह मे लेके सॉफ करने लगी. पापा को मम्मी की नाभि मे उंगली दल डालके मेरा मूठ सॉफ करते देख मेरा लंड फिरसे उःकाल मरने लगा.

फिर पापा नीचे गये और बेटे के लंड से चूड़ी हुई अपनी वाइफ की छूट चाटने लगे. मैं भी मम्मी के उपर उल्टा लेट कर उसकी नाभि में उंगली करके और टंग से उसे चाटने लगा.

मम्मी मेरा लंड चूस रही थी और पापा मम्मी की चूत छत रहे थे. हम 3नो एकदुसरे को चाटने चोसने मे लगे हुए थे और रूम स्लूर्र्रप…. टत्तत्त… की आवाज़ो से भर गया था. मम्मी की नाभि को चाटने का फील एक अलग ही था. उसमे मेरे माल का स्वाद और मम्मी की नाभि का टेस्ट मिक्स था.

अब पापा और मैने मम्मी को साथ मे छोड़ने का प्लान बनाया.

आयेज की कहानी अगले पार्ट मे पढ़े जल्दी ही..

यह कहानी भी पड़े  बहन के साथ चूत चुदाई का मज़ा-1

error: Content is protected !!