मेरी बर्बादी की कहानी – पार्ट 2

हेलो मैं पुष्पा फिर से हाजिर हूँ अपनी अगली कहानी लेकर तो जैसा की मैने आपको बताया की मैं कैसे अरुण से चुद गयी अब ये मेरा रोज का काम हो गया जब भी मौका मिलता हम चुदाई करते मैं और लड़कियो की तरह ये नही कहूँगी की मैं बहुत सुंदर हूँ परी जैसी हूँ मैं नॉर्मल लेडी हूँ फिगर अछा है बस अरुण ने मेरी गॅंड भी मारी वैसे मैने अपने हज़्बेंड को कभी गॅंड नही मारने दी लेकिन अरुण को मना नही किया और उसे गॅंड भी दे दी, फिर 1 दिन ऐसा हुआ की मेरे पापा के दोस्त जो की टीचर है मेरे पापा के साथ वो किसी काम से देल्ही आए रवि कही जाने की तैयारी कर रहे थे तो वो अंकल हमारे घर आया मैने उन्हे चाय पिलाई रवि ने उनसे बाते की और अंकल ने बोला की बेटा अपनी कार दे देना मुझे 2-3 दिन काम है होटल मे रह रहा हूँ तो रवि ने उन्हे कार की चाबी दी और ज़बरदस्ती उनका बॅग घर पे मंगवा लिया और कहा की जब तक देल्ही मे है यही रहिएगा अंकल बड़ी मुश्किल के बाद मान गये.

रवि 3 दिन के लिए बाहर चले गये तो रात मे अंकल का फोल्डिंग मैने अपने बेड के पास ही डाल लिया क्यू की वो मेरे पापा के समान थे अरुण ने मेरे से उस दिन का प्रोग्राम पूछा तो मैने कहा की अगर मौका मिला तो मैं उपर आ जाउन्गि नही तो कल दिन मे करेंगे अरुण मान गया मैं रात मे अंकल से बाते करते करते सो गयी अंकल भी सो गये रात मे करीब 1 बजे मुझे लगा की मेरे बॉडी पर कोई हाथ फेर रहा है मैने सोचा की अरुण होगा और मैं ये भूल गयी की अंकल भी यही पर है नींद मे अक्सर ऐसा हो जाता है, तो मेरे बॉडी पर हाथ फेरते हुए उसने किस करना शुरू कर दिया मुझे भी चुदने की इछा हो रही थी मैं भी उसे जोरो से किस करने लगी उसने 1 ही झटके मे मेरी पूरी नाइटी उपर कर दी मैं नीचे से बिल्कुल नंगी थी वो मेरे पूरे बॉडी को चाटने लगा मेरे बूब्स मेरी चुत गॅंड सब चाट डाली मैं बिल्कुल पागल हुई जा रही थी मैं मस्ती मे बोलने लगी ओह अरुण आई लव यू बेबी वो रुका नही और अपना काम करता रहा.

यह कहानी भी पड़े  कॉलेज मेडम के साथ मस्ती

अब उसने अपने सारे कपड़े उतारे और लॅंड मेरे मूह के पास कर दिया मैने लॅंड को हाथ मे लिया और फिर मूह मे लॅंड मुझे कुछ बड़ा सा लगा लेकिन मैं उत्तेजना मे पागल थी तो ध्यान नही दिया थोड़ी देर लॅंड चुसवाने के बाद उसने अपना लॅंड मेरे मूह से निकाला और मेरे पीछे आ के लेट गया उसका लॅंड मेरी गॅंड पर टच हो रहा था मैने आपनी टाँग उपर उठाई और लॅंड को चुत पर लगा दिया और उसने मेरे कान मे धीरे से बोला “घुसौऊ क्या” ये अरुण की आवाज़ नही अंकल की आवाज़ थी मुझे करेंट सा लगा मैं दूर हटी और कहा अंकल आप यह क्या कर रहे है अंकल बोले चुपचाप लेट जा नही तो तेरे पति को तेरे और अरुण के सारे कारनामे बता दूँगा मैं बेबस सी चुपचाप वैसे ही लेट गयी चुदाई का भी मन था अंकल बोले मेरी जान चोदना तो मैं तुझे तब से चाहता हूँ जब तू 10थ कर रही थी लेकिन मौका आज मिला, अंकल ने मेरी टाँग उठाई और लॅंड को चुत के मूह पर लगा दिया.

और धक्का मारा पूरा लॅंड 1 ही बार मे सरसरता हुआ अंदर चला गया मुझे मज़ा आने लगा क्यू की अंकल का लॅंड अरुण के लॅंड से भी मोटा था अब अंकल ने धक्के मारने शुरू किए और थोड़ी देर ऐसे ही चोदते रहे फिर वो मेरे उपर आ गये और चुत मे लॅंड फसा के जोरो से चोदने लगे अब मेरी शर्म भी ख़तम हो चुकी थी और मुझे बहुत मज़ा आ रहा था मैं आआहह ऊऊओह उूुुउऊहह कर रही थी और चिल्ला रही थी हाए अंकल मेरी चुत को फाड़ दो अपनी रंडी बना लो अंकल अंकल मुझे चोदते रहे फिर उन्होने मुझे घोड़ी बनाया और चोदने लगे अंकल तेज़ तेज़ धक्के मारने लगे उन्होने अपना सारा गरम गरम माल मेरी चुत मे भर दिया मैं भी झड़ चुकी थी फिर अंकल मुझसे लिपट के लेट गये और थोड़ी देर मे ही फिर चोदना चालू किया अंकल हमारे पास 3 दिन रहे और 3 दिन मे उन्होने मुझे जमकर चोदा कम से कम 15-20 बार जब भी मौका मिलता चोदना शुरू अरुण को मैने बोल रखा था की 3 दिन कुछ नही होगा उसके बाद अंकल चले गये.

यह कहानी भी पड़े  Savita Bhabhi : Doctor Doctor

ये रही मेरी तीसरे मर्द से चुदाई कहानी अभी बाकी है जल्दी ही आगे भी लिखूँगी मुझे पहली स्टोरी पे बहुत से मैल आए लेकिन सबका आन्सर देना पासिबल नही हो पाता प्लीज़ अंडरस्टॅंड सब के जवाब मैं स्टोरी मे ही दे दिया करूँगी एंड सभी से मेरी रिक्वेस्ट है की हमे भी दे दो कहाँ रहती हो इस तरह के सवाल ना पूछे प्लीज़ मैं नही बता पाउन्गि और ना ही मैं कोई ऐसा रीलेशन बनाना चाहूँगी क्यू की वो 1 वक़्त का तूफान था जो गुजर गया अब मैं ये स्टोरी यहा पोस्ट सिर्फ़ अपने मन की शांति के लिए पोस्ट कर रही हूँ अब मेरी लाइफ मे ऐसा कुछ भी नही है उम्मीद करती हूँ आप मेरी बात को समझ पाए होंगे सो प्लीज़ ऐसे मैल ना करे 1 इंसान ने तो अपने डिक की पिक्स और रेट लिस्ट तक भेज दी अब उन्हे कोण बताए की लेडीस को मर्दो की कमी कहाँ होती है सो प्लीज़ आगे से ऐसा ना करे नही तो मैं डीके को छोड़ दूँगी और आगे अपनी कोई भी स्टोरी यहा पर शेर नही करूँगी, दोस्तो मेरी मेरी मैल आईडी है “[email protected]”. कहानी पढ़ने के बाद अपने विचार नीचे कॉमेंट्स मे ज़रूर लिखे, ताकि हम आपके लिए रोज़ और बेहतर कामुक कहानियाँ पेश कर सके – डीके

Pages: 1 2

error: Content is protected !!