मेरे मामा की लड़की की चुदाई

हेलो दोस्तो मेरा नाम कुमार शर्मा है और मई गुजरात से हू. मुझे देसीकाहानी पर से स्टोरी रेड करना पसंद है. पर मे ये स्टोरी पहली बार लिख रहा हू.

अब मई स्टोरी स्टार्ट करता हू.

मई कुमार शर्मा, गुजरात से हू. मई एक सॉफ्टवेर इंजिनियर हू मेरे लंड का साइज़ 8 इंच लंबा और 3 इंच जाड़ा है. अभी कोविद के कारण घर पर कम करता हू. मई थोड़े समय बढ़ के ये पोस्ट कर रहा हू.

चलो स्टोरी पर आते है…

ये स्टोरी आज से 10 साल पहले की जब मे 11त स्टॅंडर्ड मे पढ़ता था. मेरे मामा की लड़की मुझसे एक साल बड़ी थी, वो 12त स्टॅंडर्ड मे पढ़ती थी. वो बहुत गोरी थी, उसके बूब्स का साइज़ 32-30-30 था और वो बहुत सेक्सी थी.

अब मई स्टोरी पर आता हू. मेरे अलावा मेरे घर मे मेरे पापा मम्मी और बड़ा भाई रहते थे. मेरा मामा का घर मेरे घर से 6 घर छोड़ कर घर था.

हम दोनो एक ही स्कूल आंड एक ही तूतिओं क्लास मे पढ़ते थे. मई बचपन से पढ़ाई मे होसियार था. हम दोनो मे बहुत बनती थी और हम दोनो भाई बहें से बढ़कर हम दोनो एक दोस्त की तरह रहते थे. और हम दोनो कोई भी बात एक दूसरे से नही छुपाते थे. हम दोनो एक दूसरे का सीक्रेट भी जानते थे.

तब तक मेरा उसके साथ सेक्स करने की रूचि नही थी. एक दिन ऐसा हुआ के हम दोनो ने चुदाई कर ली.

तो एक दिन की बात है जब मई उसके घर खेलने गया और उसके घर के दरवाजा का बेल बजाया. तो उसने दरवाजा आके खोला, उसने दरवाजा खोलते ही मई उसको देख के चकित हो गया. क्यो की वो जस्ट नहा के बाहर आई थी. उसने अपने सरीर पर टवल लपेटा हुआ था और उसके बाल मे पानी के बूँद गिर रहे थे.

जब उसने ज़ोर्से मुझे बुलाया तब मेरा ध्यान टूटा और उसने कहा के यही पर रहना क्या? चलो अंदर आ जाओ मुझे कपड़े पहनने है.

उसका सेक्सी फिगर देखा कर मेरा लंड अपने आओकाट मे आया था. शायद उसने ये बात नोटीस कर ली थी पर उसने कुछ न्ही कहा.

उसके बाद उसने मुझे बेतक रूम बेतिया और वो अपने रूम मे कपड़े पहनने चली गयी. पर मुझे उसे बिना कपड़ो के देखने की इक्चा हुई. तो ढेरे से उसके रूम की तरफ़ गया और के होल से अंदर देखने लगा.

अंदर देखते ही मेरे होश उड़ गये क्यो की वो अपने रूम मे पूरी नंगी थी. वो आईने की तरफ मूह करके अपने बाल सॉफ कर रही थी.

उसको नंगी देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया. और मई अपनी पेंट की ज़िप खोल के मैने मेरा लंड बाहर निकाला और मूठ मारने लगा. 10 मिन्स तक मूठ मारता रहा. जब मेरा कम बाहर निकाला तो उसके रूम के दरवाजे पर निकाला.

तब तक वो अपने कपड़े पहें लिए थे, वो अपने रूम बाहर आने के लिए मेरे तरफ आ रही थी. तो मई वाहा से खिसक गया और मे अपनी जगह पर बेत गया.

जब वो अपने रूम से मेरे पास आई तब उसको देख कर मई हेरान रह गया. क्यो की उसने ब्लॅक कलर का सूट पहना था. और मेरे मूह से सेक्सी निकल गया और उसने संभालिया. पर उसने कुछ नही बोला और सिर्फ़ स्माइल किया.

उसके बाद हम दोनो ने बात की और थोड़ी देर बात करके मे अपने घर चला गया.

ऐसा 1 महीने तक चलता रहा. 1 महीना चला गया, एक दिन उसने मूज़े फोन कर के बुलाया तो मई उसके घर गया.

तो मेने दरवाजे का बेल बजाया तो उसने दरवाजा खोला. और उसको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया. तब ज़ोर से बोला और कहा की देखते रहोगे या अंदर आना नही है?

हम दोनो अंदर गये और घर मे वो आज अकेली थी. क्यो की उसके मुमी पापा बाहर किसी काम से गये थे. वो लोग शाम तक नही आने वेल थे. इसलिए मेने सोचा आज ये अछा मोका है उसके साथ सेक्स करने मे मज़ा आएगा.

उसने आज येल्लो कलर का ड्रेस पहना था उसमे वो बहुत खूबसूरत लग रही थी. मेने थोड़ी तारीफ़ कर दी तो वो स्माइल करके हम दोनो के लिए कॉफी बनाने किचन चली गयी.

उसके जाने के बाद मई भी उसके पीछे पीछे किचन चला गया और उसे बात करने लगा.

मेने उसे कहा की एक काहु बुरा नही मानोगी ना?

तो उसने कहा कहो नही मानूँगी.

मेने कहा के आज तुम बहुत सेक्सी लग रही हो.

ये सुनके वो मेरी तरफ़ देखने लगी और कातिल स्माइल देने लगी.

तब मेने कहा के तुम मेरी बहें नही होती तो मई आज तुम्हे प्रपोज़ कर लेता. उसने मेरे कंधे पर थप्पड़ मारा और हासणे लगी. और मई उसके पीछे उसके करीब खड़ा रह गया. मेरा सरीर उसके सरीर को टच करने लगा.

उसके सरीर को टच पाते ही मेरा लंड खड़ा हो गया और उसकी गांद को टच करने लगा. उसे पता लग गया की उसके गांद मे क्या चब रहा है. पर उसने कुछ नही बोला और वो कॉफी बना रही थी.

मई करीब जेया कर मेने उसके बाल को खिसका दिया और उसके गले पर मेरी गरम साँस छोड़ी. तो उसकी साँस फूलने लगी और वो गरम होने लगी. और मई उसके गले पर किस करने लगा और साथ पीछे से उसके बूब्स दबाने लगा.

उसके मूह से सिसकारिया निकल लगी और मई ज़ोर ज़ोर से बूब्स दबाने लगा. उसका आयेज भाग को मेरी तरफ करके उसके होत को चूसने लगा. और एक हाथ से मई एक उसे बूब्स दबाने लगा.

दूसरा एक हाथ छूट के पास ले गया, उसे उसके कपड़े पर से दबाने लगा. उसकी सिसकारिया बढ़ने लगी. मेने उसे उठा के उसके रूम मे ले गया और बेड पर पटक दिया और उसके लिप्स को चूसने लगा. और साथ साथ मे एक हाथ से बूब्स ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा.

5 मिन्स लिप्स के बाद मेने उसके उपर टॉप निकल के फेक दिया और साथ ही उसकी ब्रा भी निकल दिया. उसने भी मुझे उपर से नंगा कर दिया. बाद मे मेने उसके बूब्स को बारी बारी चूसने लगा. उसकी सिसकारिया बहुत निकालने लगी.

मई एक हाथ से उसकी छूट सहलाने लगा और वो मेरे उसके सॉफ्ट हाथ से मेरे लंड सहला रही थी. मेरा लंड टाइट हो गया और मई नीचे जाके उसकी नाभि को चूसा 5 मिन्स बाद उसकी छूट ढेरे से चूसने लगा.

मेने मेरी बीच वाली उंगली डाली और उंगली से उसकी छूट छोड़ने लगा. जब तक उसकी छूट का पानी नही निकाला तब तक मे करता रहा. उसके पानी निकलते ही वो ढीली पद गयी.

तब मेने उसे कहा की वो मेरा लंड चूसे तो उसने हन कहा.

बाद मे बेड पर लेट गया और वो मेरा लंड चूसने लगी. मेने उसके बाल पकड़े ज़ोर ज़ोर से उसके मूह छोड़ने लगा.

10 मिन्स बाद मेने उसे मेरे नीचे लेटया और मेरा लंड उसके छूट पर रखता और एक ही झटके मे डाल दिया. उसकी आँख मे से आसू निकालने लगे.

पर उसकी परव्ह किए बिना मई उसे छोड़ने लगा और 5 मिन्स बाद वो भी मेरा साथ देने लगी. 10 मिन्स बाद मेने उसे साइड किया और डॉगी स्टाइल मे छोड़ने लगा.

डॉगी स्टाइल मे उसे करीबन 15 मिन्स छोड़ा और मे तक गया. तो उसे मेने मेरे उपेर आने को कहा और उसने मेरा लंड उसकी छूट मे लिया और वो उछलने लगी.

10 मिन्स मेने उसे साइड किया और मेने मेरा फाओविरते पोस्टीओं मिशनरी मे छोड़ने लगा. हम दोनो तकरीबन 35 मिन्स चुदाई कर रहे थे. तब से वो 3 बार जाध चुकी थी पर अब मेरा होने वाला था. तो मई उसको ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगा.

10 मिन्स बाद मेरा कम उसकी छूट मे निकल गया और मई उसके बाजू मे सो गया. उसको पूछा की कैसा लगा? तो वो बोली मज़ा आया.

उसके बाद हुँने दिन बार 4-5 बार सेक्स किया. और बाद मे जब उसके पेरेंट्स का आने का टाइम हो गया. तो टायर होने लगे और मई अपने कपड़े पहन के अपने घर चला गया.

उसके बाद हमे जब मोका मिलता हम चुदाई कर लेट थे.

मई मेरी स्टोरी यहा पर समाप्त करता हू. आशा है की आपको मेरी स्टोरी पसंद आएगी.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त, बीवी और बेहन की मस्त ऐशो आराम की कहानी-2

error: Content is protected !!