मस्त अनुभव हॉट भाभी के साथ

हाय दोस्तो, आई एम अमित फ्रॉम जाईपुर और मैं फिर से आपसे मिलने आया हूँ एक नयी स्टोरी के साथ, सो फ्रेंड्स अब की बार मैं जो स्टोरी शेर करने जा रहा हूँ वो एक नागपुर की भाभी की है और उसकी मर्ज़ी से लिख रहा हूँ और मैने लास्ट टाइम आपके साथ एक स्टोरी शेर की थी जो की मेरी एक स्टोरी रीडर की थी तो मुझे पहले की तरह फ़ेसबुक पर बहुत सारी रिक्वेस्ट आई और एक रिक्वेस्ट थी एक भाभी की जो की नागपुर से थी सो मैने पहले तो सोचा की जाईपुर से नागपुर बहुत ही दूर है लेकिन मेरी कुछ दिन उससे बात हुई तो थोड़ा अछा लगने लगा तो उसने बोला की आप यहाँ आ जाओ जो भी खर्चा होगा वो मैं दे दूँगी, तो कुछ दिन के बाद मैने उसे बोला की ठीक है मैं आ जाउन्गा तो मैने रिज़र्वेशन करवाया और नागपुर के लिए रवाना हो गया और अगले दिन मैं वाहा पहुँचा और उसको कॉल किया और कॉल करने के बाद वो मुझे लेने आई, उसने आने मे 35 मिनिट लगा दिए तो मुझे अछा नही लगा तो मैने उसे फिर कॉल किया और पूछा की आप आ रही हो क्या?.

तो उसने बोला की मैं रास्ते मे हूँ ट्रॅफिक थोड़ा ज़्यादा है, मैने बोला जल्दी करो तो वो कुछ 20 मिनिट के बाद आ गयी और मुझे कॉल किया और मैने इधर उधर देखा तो वो नही दिखी, तो फिर मैने कॉल अटेंड किया और पूछा की कहाँ हो तो वो बोली की मैं स्टेशन के बाहर की तरह हूँ तो मैं बाहर चला गया, बाहर जाने के बाद मैने उसे कॉल किया तो पता चला की वो मेरे सामने ही खड़ी थी अपनी कार के पास और यार दोस्तो उसे देखते ही मेरा इतनी दूर के सफ़र की थकान 1 मिनिट मे गायब हो गयी और मैं उसके पास गया और हेलो बोला, वो एक पर्फेक्ट 36 फिगर वाली जबरदस्त सुंदर भाभी थी और उसने सारी पहनी थी और एक दम ग़ज़ब की कयामत लग रही थी, आज तक मैने जितनी लड़किया और भाभियाँ चोदि उनमे सबसे सुंदर भाभी की आज मैं लेने वाला था तो सोचा इसे आज पूरा खुश करना है चाहे कुछ भी हो, तो अब हम स्टेशन से निकले उसके घर के लिए और हान मैं उसके हज़्बेंड के बारे मे बताना भूल गया.

यह कहानी भी पड़े  दोस्त की प्यासी बीवी का समर्पण

आक्च्युयली उसके हज़्बेंड यूएसए मे रहते थे और लगभग 2 मंत मे एक बार घर आते थे और उसका एक बच्चा भी था लेकिन कोई भी उसको देख कर बोल नही सकता था की वो 1 बच्चे की मा है, तो हम कार से घर जा रहे थे उसने झूट नही बोला था रास्ते मे सच मे बहुत ट्रॅफिक था तो हम लगभग आधे घंटे चलने के बाद उसके घर पहुँचे और घर पहुँच कर मैने उससे पूछा की आपका बेटा कहा है तो वो बोली की अपनी दादी के घर गया है, तो मैने उसे बाथरूम पूछा तो वो बोली की रूको मैं भी आती हूँ तो मैने पूछा आपने बाथ नही ली क्या तो वो बोली आज आपके साथ बाथ लेने का मूड था, तो मैं खुश हो गया और उसको आँख मारी और कुछ देर बाद हम दोनो बाथरूम मे गये और साथ मे कोई 1अवर तक नहाए और इस बीच मैने उसको गुलाबी होठों को जम कर चूसा एंड उसके बूब्स और चुत के साथ खूब खेला, तो अब बाथ फिनिश करके हम बेडरूम मे आ गये और हम दोनो ही नंगे थे हमारे पूरे जिस्म पर एक भी कपड़ा नही था.

तो अब मैने उसे बोला की यार रहा नही जा रहा तो उसने बोला की देख क्या रहे हो आ जाओ तो मैं उसके उपर किसी भूखे शेर की तरह टूट पड़ा, लेकिन सेक्स का रूल है ना की बिना मज़े के लड़की खुश नही होती तो मैने अपने आप को कंट्रोल किया और उसे बेड पर लिटा कर किस करने लगा और बूब्स दबाने लगा और कम से कम आधे घंटे के किस करने और बूब्स दबाने के बाद वो इतनी ज़्यादा गरम हो गयी की अपना कंट्रोल खो बैठी और ज़ोर ज़ोर से अहह अहह ओह ओह अमित प्लीज़ यार बस करो चोद दो मुझे, फिर मैने कहा यार अभी टाइम है पर वो तो बस जैसे रोने लगी तो फिर मैने उसकी चुत की तरफ मूह किया और उसको चाटना स्टार्ट किया तो वो और ज़्यादा पागल हो गयी, अब मैने उसे सीधा लिटा कर अपना लॅंड उसके मूह के अंदर डाल दिया और उसके मूह को चोदने लगा और फिर हम 69 पोज़िशन मे आ गये और काफ़ी देर चुत चाटने के बाद मैने उसे एक दम मस्त कर दिया और फिर वो बुरी तरह तड़पने लगी.

यह कहानी भी पड़े  पड़ोसन भाभी की चुदाई

अब मैने देर ना करते हुए उसे घोड़ी बनाया और अपना लॅंड उसकी चुत पर रख एक ज़ोर का झटका मारा जिसे वो सहन नही कर पाई और बहुत ज़ोर से चिल्लाई, उसने बहुत टाइम से कोई लॅंड नही लिया था तो उसकी आँखो मे आँसू आ गये, लेकिन मैं बिना रुके उसे चोदने लगा और कुछ देर बाद वो नॉर्मल हो गयी और अपनी गॅंड आगे पीछे करने लगी और पूरे मज़े देने लगी और मैने उसे लगभग 20 मिनिट तक लगातार चोदा और उसके बाद उसकी चुत मे ही झड़ गया, तो ये था पहला राउंड उसके बाद हमने उस दिन 3 राउंड और लिए और मैं उसके पास 2 दिन रुका और 2 दीनो मे उसके साथ कम से कम 10 बार सेक्स किया, वो बोली अमित आज तक मेरे हज़्बेंड ने मुझे इतना प्यार कभी नही किया तो मैने बोला आप जब बोलोंगी मैं रेडी हूँ आने के लिए, तो मेरी ईव्निंग की ट्रेन थी तो उसने मुझे कुछ पैसे दिए और मुझे स्टेशन तक छोड़ने के लिए आई और मैं वापिस जाईपुर चला आया.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!