मसाज के नाम पे चुदाई !

Massage ke naam par chudai एक दिन मेरे एक दोस्त ने बताया था की एक लड़की को मसाज करवाना हे तो मेने उसे कहा की ठीक ह| उसने मुझे एक नंबर . दिया और कहा की इस नंबर . की लड़की को करवाना हे| मेने कहा ठीक है और उससे नंबर . ले लिया | मेने घर जा के उस नंबर . पे मेसेज किया और उनसे पूछा तो उन्होंने कहा की हा उन्हें अपनी मसाज करवानी है | उन्होंने मझे अपने घर का ठिकाना दे दिया और मुझे दो दिन बाद आने को कहा |

मैं दो दिन बाद सुबह उठकर उनके दिए हुए ठिकाने पे चल दिया , जाने में तकलीफ हुई मगर में पहुच गया | उसके घर में जाने से पहले मेने उन्हें फोन किया और बोला की में पहुच गया हू, घर पे आ जाऊ क्या ?

उन्होंने कहा – हा आ जाओ|

मैं फिर उसके घर पे गया तो उसने दरवाजा खोल दिया और फिर उसने मुझे अपने कमरे में बैठने को कहा | उसका नाम सलमा था | सलमा ने काली रंग की सलवार कमीज पेहेन रखी थी | वो कुछ ५.४” की थी, और रंग गोरा था उसका | और देखने में एक दम मस्त थी वो | फिर वो थोड़ी देर यहाँ वह कुछ काम करती रही और फिर आके मेरे साथ बैठ गयी | हमने फिर यहाँ वहा की बातें की और फिर मेने उनसे जतून का तेल के लिए पूछा | वो बोली क़ि ठीक है मेने कहा ठीकहै और फिर मेने उससे कहा की मसाज के लिए आपको अपने कपडे उतारने पड़ेंगे , इतना बोला तो वो समझ गयी और फिर मुझे बोली की ठीक है आप दो मिनट के लिए बाहर जाईये तब तक में चेंजकर लेती हू फिर आप अंदर आ जाना | मैं ठीक है बोलके बाहर चला गया | दो मिनट के बाद में फिर अंदर घुसा तो देखा की सलमा बिस्तर पे पुरे कपडे उतार के लेटी है और अपने उपर एक सफ़ेद चादर ओढ़ लिया था और बाजु में निचे जतून का तेल रखा हुआ था |

में फिर उसके पास गया और अपने कपडे उतार दिये और सिर्फ चड्डी में जा के उसके पास बैठ गया | फिर मेने उससे पूछा सलमा क्या तुम तेयार हो ? तो उसने कुछ कहा नहीं पर हा में सर हिलाया | मेने फिर उसके चादर को कमर तक उतार दिया, फिर तेल क़ि बोतल लेके थोडा सा तेल लिया और उसकी कमर पे लगा दिया और फिर मालिश करने लगा | धीरे धीरे उसके पीठ से लेके हाथो तक मालिश करदी फिर कुछ १० मिनट बाद मेने उसके ऊपर से पूरी चादर ही हटा दी| अब वो मेरे सामने बिलकुल नंगी थी | फिर मेने तेल लेके उसके पेरो पे भी लगाया और फिर वहां पे मालिश करने लगा | फिर मेने जब उसके पेरो क़ि अच्छे से मालिश करदी फिर मेने उसकी टांगो को थोडा फैला दिया और फिर अंदर की तरफ मालिश करने लगा | अंदर की तरफ मालिश करते करते में उसकी चुत तक पहुच गया और वहां भी मसाज करने लगा | मालिश करते करते मेरा हाथ बार बार उसकी चुत को भी छु जाता | वो तो पहले अपने हाथो से छिपा रही थी मगर धीरे धीरे जब उसको भी मज़ा आने लगा तो उसने भी हाथ वहां से हटाना शुरू कर दिया और फिर मेने उसके पेरो को छोड के उसकी चुत की मालिश करनी शुरू कर दिया | मेने फिर उसकी टांगो को और खोल दिया और फिर उसकी चुत की जम के मालिश करने लगा | फिर मेने अपनी एक ऊँगली उसकी चुत में डाल के उसकी चुत की भी अच्छी तरह से मसाज की, वो अपने मुह से सिसकिया भरने लगी और आःह्ह्ह्ह उम्म्म्म्म्हा आईईई आवाजे निका लने लगी, और एक ही बार में फाटक से झड गयी |

यह कहानी भी पड़े  पड़ोसन लड़की होली खेलने आई और चुत चुदवा गई

मेने फिर कपडे से उसकी चुत को साफ़ किया और फिर उससे कहा की अब तुम सीधे लेट जाओ, अब सामने का मालिश करनी है | वो फिर सीधी हो गयी और फिर मेने तेल लेके उसके पुरे शारीर पे गिरा दिया और उसक़ि गर्दन से लेके चुत तक अच्छे से मालिश की और फिर उसके बूब्स क़ि तो मेने जादा ही कुछ मसाज कर दी | उसकी दोनों चुचियो को मेने बारी बारी मसाज की, उसकी साँसे तेज होने लगी थी और उसका शारीर भी गरम होने लगा था | फिर जब में समझ गया की वो अब बहुत गरम हो चुकी हे तो मेने फिर उसके पेट से आते हुए उसकी चुत पे आ गया, और फिर ऊपर जाने लगा, तो सलमा ने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहने लगी की अगर में आपसे कुछ कहूँ तो क्या आप करोगे ? में समझ गया की या बोलने वाली है मेने कहा ठीक है बोलो देखता हू होगा की नहीं| उसने कहा की मेरा मन कर रहा हे की कोई मेरी चुत चाटे, तो क्या आप करोगे ? मैं कुछ बोला नहीं और हसने लगा, वो बोली की आप नहीं करोगे क्या ? प्लीज करो न | में कुछ नहीं बोला और उसके पेरो की मालिश करते हुए उसकी टांगो को अलग कर दिया और फिर उसके चुत पे मेने एक लंबा किस किया | किस करते ही उसने अपने शारीर को जकड लिया और सिसकिया भरदी और फिर मेरे सर को अपनी चुत में दबा लिया | मेने फिर उसकी चुत को अपने मुह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगा | मेने फिर उसकी टांगो को खोल दिया और फिर अपनी जीभ से उसकी चुत को पेलने लगा बोले तो जीभ को उसकी चुत में अंदर बाहर करने लगा | और वो अपने मुह से अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह उईईई ह्म्म्म्म्म्म्म्म्म में मर गयी ऐसे ऐसे आवाजे निकालने लगी , आप बहुत अच्छे हो अह्ह्ह्ह्ह कितना मज़ा आ रहा हे और करो और और करो और और | ये कहते कहते उसने मेरे मुह पे जोर से पानी छोड दिया और मेरा मुह पूरा गीला हो गया | फिर वो शांत हो गयी और लेटी रही और में उसकी चुत को अब भी पेलता रहा |

सलमा ने अब अपनी आँखे बंद कर ली थी, फिर मेने उससे पूछा शांति मिली या बाकी है , वो बोली मिली तो है और मिल सकती है अगर आप मान जाओ तो | मेने बोला , और बताओ और क्या करना है बोलो ? वो कुछ नही बोली और चुप से लेटी रही और मेरा लंड पकड़ के बोली की मुझे ये चाहिए | मैं हस दिया और फिर कूद के उसपे लेट गया और उसको कस के गले लगा के उसको चूमने लगा, वो भी मुझे पागलो की तरह चूम रही थी | मेने उसके होठो पे अपने होठ रख दिए और बुरी तरह उसके होठो को चूसने लगा | फिर में उठ गया और फिर उसके टांगो के बीच में जा के बैठ गया और फिर उसकी गांड के निचे एक तकिया रख दिया और फिर उसके पेरो के बीच बैठ गया|

यह कहानी भी पड़े  भाभी और मेरा चुदक्कद प्यार

सलमा – एक मसला है ?

मैं – अब क्या हुआ ?

सलमा — कही मैं प्रेग्नेट हो गयी तो ?

मैं हस दिया और फिर अपनी पेंट में से कंडोम निकाल के लाया और उसको दिखाया, वो पूछी की ये कहा से आया ?

मैं – में किसी भी लड़की से जब मिलने जाता हू तो साथ में रखता हू क्या पता कही काम आ जाये| फिर मेने कंडोम पेहेन लिया | फिर में उसकी टांगो के बीच आ गया और उसके टांगो को उठा के अपने कंधो पे रख दिया और झुक के उसके चुचो को चूसने लगा | फिर मेने एक निचे झटका दिया तो मेरा लंड आधा गया मगर बहुत तकलीफ हुई | सलमा तो एक दम से चीख पड़ी थी ऊऊऊऊऊ आआआया , बहुत दर्द हो रहा है , निकालो इसको में मर जाउंगी | मेने कुछ कहा नहीं और उसके चुचो को चूसता रहा | जब मेने देखा की वो शांत हो गयी है तो मेने फिरसे एक झटका मारा और वो फिरसे चीख पड़ी और मेरा लंड पूरा अंदर चला गया था | मेने फिर उसके होठो को चूसना शुरू कर दिया और जब वो शांत हुई तो उसने खुद अपने गांड को निचे से हिलाना शुरू कर दिया | चाप चाप चाप पूरा कमरा इसी आवाज़ में गूंज उठा | सलमा तो पुरे मजे ले रही थी, फिर थोड़ी देर के बाद उसने मुझे कस के पकड़ लीया , और अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह करके पूरा पानी छोड दिया | कुछ १० मिनट बाद सलमा फिरसे झड़ने वाली थी और में भी झड़ने वाला था, इसीलिए मेने अपनी गति बढ़ा दी और जोर जोर से पेलने लगा उसको और एक साथ जोर की चीख के साथ हम दोनों एक साथ झड गए | फिर में उसके ऊपर काफी देर तक लेटा रहा और ऐसे ही सो गया| फिर घंटो बाद सलमा ने मुझे उठाया और फिर खुद बाथरूम चली गयी और फ्रेश होके आ गयी, और फिर मेरे पास आई और बोली की तुम भी फ्रेश हो जाओ, तब तक में कुछ बना के लाती हूँ | में फ्रेश होने चला गया और वो मिल्क शेक बना के लाइ और हम दोनोंने फिर साथ में मिल के पी लिया| वो मेरे पास जब बैठी थी तो उसने मुझे गाल पे एक किस किया और कहा की में कितनो दिनों से बेक़रार थी और आज तुमने मुझे सुकून दे दिया, आप बहुत अच्छे हो | क्या में आपको कभी भी जब मोका मिले तब बुला सकती हू क्या ? मेने हाँ में सर हिलाया और फिर मेने उसके गाल पे एक किस किया| फिर में वहां से उठा और घर को निकल पड़ा |
उसके बाद सलमा को जब भी मोका मिलता मुझे बुला लेती और इस तरह मुझे अपने दिल को सुकून देने वाली भी मिल गयी | दोस्तों आपको ये कहानी कैसी लगी जरूर बताना आपका दोस्त राज शर्मा
समाप्त

Comments 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!