मेरी मैनेजर जिया से प्यार और सम्भोग

दोस्तो, आज मैं आप सभी को अपनी जिन्दगी की एक ऐसी घटना के बारे में बताना चाहता हूँ जिसके बाद से मुझे प्यार और सेक्स क्या है यह असली में समझ में आया।

सबसे पहले मैं आप सभी को बता दूँ कि मेरा नाम आर्यन है और मैं मुम्बई में नौकरी करता हूँ, मैं 6 फ़ीट का हूँ और लड़की को इतना संतुष्ट करता हूँ जितना उसने सोचा भी न होगा।
नारी का सम्मान मेरे मन में बसा है और कभी भी मैंने किसी भी लड़की या औरत को छेड़ा नहीं, यहाँ तक अगर उसकी इच्छा नहीं है तो मैने कभी भी उसे घोड़ी बनने पर मजबूर नहीं किया।

आइये आज सुनाता हूं आपको अपनी सच्ची कहानी, यह बात उस समय की है जब मैं दिल्ली से मुम्बई नौकरी के लिये आया था, लगभग 8 साल पहले।

मैं अपने रिश्तेदार के साथ मुम्बई में रहता था, उस समय मेरी पहली नौकरी लगी और मैं जैसे ही आफिस में गया, मुझे मिली मेरी मैनेजर जिया!
वाह… क्या बला थी वो जिया!
आइये आपको जिया के दर्शन कराता हूँ, उसकी आंखें, वाह भाई वाह!
अगर वो मुस्कुरा कर देख ले तो हज़ारों लड़के मुठ मार लें तुरंत!

आपने गुलाब की हल्की पिंक पंखुड़ियों को पानी में तैरते तो देखा ही होगा, बस कल्पना कर लीजये जिया के होंठों का… एकदम शरबती जाम जनाब!

एक रात चान्दनी मेरे बिस्तर पर आई
मैंने उसे तराश कर तेरा चेहरा बना दिया!

बस समझ जाइये जिया की सूरत को!

मैं 1001 टका बोल सकता हूँ कि अगर जिया के हापुस आम की तरह मम्मे अगर कोई देख ले तो चूस चूस कर अपना माल गिरा दे।
जिया की कमर आज भी याद है मुझे… बेली डांसर भी फेल उसके आगे।

यह कहानी भी पड़े  नौकरानी के साथ मस्ती--2

जिया को एक मिनट तक देखते ही रहा मैं, वो शायद तुरंत मेरा भाव समझ गयी, ताना मारकर बोली- मुझे मत देखो गुरु, आज पहला दिन है लाइन मारना शुरू, चलो मेरे साथ हेड मीटिंग में!
मैंने भी लेपटॉप लिया और चल दिया कॉन्फ्रेंस रूम में।
जिया आगे आगे, मैं पीछे पीछे, वो सब समझ रही थी, लेकिन कुछ बोली नहीं… बात भी सही थी, कोई भी लड़की पहली बार में नहीं पटती, उसको थोड़ा समय लगता है, कुछ समय आपके साथ बिताने के बाद वो तैयार होती है.

जिया के साथ भी ऐसा कुछ ऐसा ही हुआ।
दिन बीतते गए, एक महीना हो गया, हम दोनों के बीच एक अनकहा सा अपनापन उभरने लगा. बार बार एक दूसरे को देखने को मन करता था. सुबह ऑफिस में जो पहले आ जाता तो दूसरे की प्रतीक्षा में निगाहें दरवाजे की ओर ही रहती.
हमें एक दूसरे से प्यार हो गया था लेकिन कोई इजहार नहीं… कोई कुछ बोला नहीं बस मूक अनकहा सा सच्चा प्यार!
बहुत मजा आ रहा था इस प्यार का…

एक दिन वो बोली- आर्यन, तुम मुझे कुछ गिफ्ट नहीं दोगे?
मैं बोला- क्यों जिया? आज बर्थडे है क्या आपका?
जिया बोली- तुम आज शाम को मेरे घर पर आना, मैं सब बताऊंगी।
उसने मुझे अपने फ़्लैट का पता बताया और कहा कि शाम आठ बजे मैं तुम्हारी प्रतीक्षा करूंगी.

जिया के घर पर निमन्त्रण की बात सुन कर मेरी तो बांछें ही खिल गयी। मुझे लगा कि आज शाम को जिया अपने दिल की बात मुझसे जरूर कहेगी और इसी लिए जिया में मुझे अपने घर पर बुलाया है.

मुझे लगा कि बात बन गयी, मैं उस दिन आफिस से जल्दी निकल गया और रात 8 बजे की तैयारी करने लगा, रात 8:30 को बांद्रा में उसके फ्लैट में पहुँच गया।

यह कहानी भी पड़े  कुँवारी नौकरानी को चोदा

जिया अपने घर में अपनी मेड के साथ अकेली ही रहती थी, उसके पापा पेरिस आते जाते रहते हैं बिजनेस के सिलसिले में तो जिया को पैसे की कोई कमी नहीं थी, वो तो बस मजे के लिए जॉब कर रही थी।

मैं उसके फ़्लैट की बिल्डिंग के पास पहुंचा ही थी कि मेरा फोन बज उठा. जिया का ही फोन था, मैंने फोन उठाया तो जिया बोली- ऊपर देखो आर्यन!
मैंने सर उठा कर ऊपर देखा तो तीसरी मंजिल पर फ़्लैट की बालकनी में जिया अपने फोन की लाईट फ्लैश कर रही थी.
उसने हाथ से इशारा किया कि ऊपर आ जाओ.
मेरे अंदर जोश भर गया और मैं लिफ्ट की इन्तजार ना करते हुए सीढियों से ही उसके फ़्लैट पर पहुँच गया.

फ़्लैट का दरवाजा खुला था और जिया मेरे स्वागत में वहां खड़ी थी. जिया ने हाथ मिला कर मुझे कहा- आओ आर्यन!
उसने मुझे बिठाया और जूस सर्व किया.

इससे पहले कि हम कुछ बात करते, जिया बोली- आर्यन आओ, डिनर करें!
मैं डिनर करने लगा था, मैं जो फ्लॉवर्स और चॉकलेट उसके लिए ले गया था, वो भी उसने साइड में रख दिये।

डिनर के बीच में ही उसने एक लेटर मेरे सामने रख दिया, मैंने जब वो खोल कर देखा तो निवाला मुँह में अटक गया।

यह उसका रेजिग्नेशन लेटर था यानि त्याग पत्र था जॉब से… क्योंकि वो अपने पापा के साथ अमेरिका शिफ्ट हो रही थी।

Pages: 1 2

error: Content is protected !!