मामा भांजी का चूत हासिल करने का प्लान

लास्ट पार्ट में आपने देखा की कायरा ने मुझे सब कुछ अपना देते हुए भी मुझे कुछ नही दिया, और मेरा कलपद कर दिया. अब आयेज क्या होता है पढ़िए-

बिके पे जब मैं कायरा को छ्चोढने जा रहा था, तभी मैने उसे आयेज का प्लान बताया की उसे अब क्या करना था. मैने उसे बताया की उसके दाद अभी पास नही थे, सो चान्सस थे की वो उसके साथ फोन पे सेक्स छत करती होगी, और उसी टाइम जब यूस्क मों हॉर्नी होगी, तब कायरा को उसे सिड्यूस करना था.

मैने कायरा को उसके मों के बेडरूम की दूसरी के च्छुपाने को बोला, और विंडो की स्लाइड ओपन रखने को बोला. फिर देर रात मैने दी से सेक्स छत करने लगा, और उसे रिक्वेस्ट करके उसे नंगी करवाया. उसी टाइम पे मैने कायरा को भी मेसेज करके चेक करने को कहा. तो उसने रिप्लाइ दिया की उसकी मों हॉर्नी थी, और अपनी छूट में उंगली कर रही थी. दी ने इयरफोन्स डाल रखे थे.

तभी मैने कायरा को मेसेज करके बोला: तुम भी रूम में एंटर हो धीरे से, के से गाते ओपन करके.

मैने कायरा को ब्रा पनटी में ही डाइरेक्ट जाने को बोला था. सो कायरा ने चुपके से गाते खोला, और 2 पीस में उसने एंटर किया. उसकी मों मेरे साथ इयरफोन्स लगा के सेक्स छत कर रही थी, और मैं अनु को आँखें बंद करके छूट को सहलाने की इन्स्ट्रक्षन दे रहा था.

तभी कायरा ने जेया कर, जैसा मैने कहा था वैसे ही किया, और अपने मों की छूट में उंगली डाल कर रगड़ने लगी. उसने अपने होंठ उसने अपनी मों के होंठो पे चिपका दिए. दी अचानक हुई इस घटना से सर्प्राइज़्ड हो गयी, और कायरा को धक्का मार कर अपने से डोर किया. तो कायरा वापस आ कर उसके बूब्स दबाने लगी. फिर दी ने गुस्सा हो कर कायरा को छाँटा मार कर उसे डोर कर दिया.

दी: ये तुम क्या कर रही हो. तुम्हारा दिमाग़ तो ठीक है?

कायरा: वही जो आप कर रही थी फोन पे. वही मैं आपके साथ कर रही थी.

दी: अर्रे वो तो, वो तो तेरे, तेरे पापा के साथ मैं फोन पे कर रही थी. वो हब्बी है मेरे, सो. पर तू ये कैसे कर सकती है?

कायरा (एमोशनल होते हुए): मों मैं क्या करू? ई लोवे योउ. मुझे तुम बहुत पसंद हो. मुझे तुम्हारे साथ सेक्स करना है. और आज जब तुम नंगी हो कर अपनी छूट में उंगली कर रही थी, तो तुम्हे देख कर मुझसे कंट्रोल नही हुआ. मों, हम दोनो को सेक्स चाहिए, तो क्यूँ ना हम दोनो ही एक-दूसरे को सॅटिस्फाइ करे, ह्म?

दी: बेटा ये ग़लत है, और हम दोनो गर्ल्स है, तो ये कैसे हो सकता है?

कायरा: मतलब की मैं अगर लड़की के बदले एक लड़का होती तो आप मुझसे सेक्स कर लेती, यही नही?

दी: मैने ऐसा तो नही कहा. बेटा तुम एक काम करो, अगर तुम्हे सेक्स करना ही है, तो कोई बाय्फ्रेंड बना लो कॉलेज में. पर ये मेरे साथ?

कायरा: नही मों, मैने ट्राइ किया था एक बार. मुझे वो अछा नही लगा. मुझे गर्ल्स ज़्यादा पसंद है, और उसमे भी आप ज़्यादा पसंद हो. तभी तो मैं अपना सब कुछ आपके साथ शेर करना चाहती हू (और कायरा ने अपनी ब्रा निकाल फेंकी).

दी (खड़े हो कर उसकी ब्रा को उसे वापस पहनते हुए): बेटा, अभी तुम पर नशा सवार है सेक्स का. तुम अभी सो जाओ, हम कल बात करेंगे.

और दी ने कायरा को समझा बुझा कर वापस सोने भेज दिया. कुछ देर बाद दी की मुझे कॉल आई, और मुझे सारी बात बताई. तो मैने उससे कहा-

मे: दी, ये मामला तो काफ़ी पेचीदा है. कायरा से ऐसी उमीद नही थी, पर आज कल के मोबाइल और इंटरनेट ने बच्चो को बिगाड़ के रखा है.

दी (रोते हुए): अब मैं क्या करू? मुझे कुछ समझ नही आ रहा.

मे: डॉन’त वरी, मैं कल आता हू. साथ मिल के कुछ सल्यूशन निकालते है इसका, ओक?

दी: ओक, कायरा के कॉलेज निकालने के बाद आ जाना.

मे: ओक दीदी, वैसे भी तुम्हारी चुदाई किए हुए काफ़ी दिन हुए है. कल पहले तुम्हारी आचे से चुदाई करूँगा, फिर इसका कुछ सल्यूशन ढूँढते है.

दी: ओक कर लेना, बाइ.

उसके बाद मुझे कायरा का मेसेज आया, और उसने मुझे सब बताया, और पूछा की आयेज क्या?

तब मैने उसे कल का आयेज का प्लान बताया, और उसने मुझे कुछ सवाल पूछे.

पर मैने उससे कहा: तुम्हे सवालों के जवाब चाहिए, या अपनी मों की छूट?

तो उसने रिप्लाइ दिया: मों की छूट.

फिर मैने उसे कहा: कल का काम होने के बाद जब हम अकेले में मिलेंगे, तब मैं तुम्हे पूरी चीज़ बतौँगा.

और फिर हम सो गये. दूसरे दिन सुबह मैं एग्ज़ाइटेड था नयी कॉलेज की छूट मारने के लिए. जब दी की कॉल आई की कायरा कॉलेज जा चुकी थी, तो मैं फाटाक से उसके घर चला गया. मैं दी को मिला और उसे किस किया.

दी: भाई, मैं अब क्या करू? कायरा को लड़कों से ज़्यादा लड़कियों में इंटेरेस्ट है, और वो भी उसे मेरे साथ सेक्स करना है.

मे: दी देखो. इस मामले को बहुत आचे से हॅंडल करना होगा. वरना कायरा कुछ उल्टा-सीधा ना कर दे. मेरा तो मानना है की एक बार उसे अगर लंड का स्वाद चखा दे, तो हो सकता है उसके सिर से छूट रगड़ने का भूत उतार जाए.

दी: मैने भी उसे यही कहा, की ब्फ बना के सेक्स कर सकती है वो. पर उसने माना किया. अब हम उसको ज़बरदस्ती लिटा कर उसकी छूट में किसी का लंड तो नही डलवा सकते ना?

मे: ह्म, ये बात तो है. पर अगर उसने एक बार लंड का स्वाद चख लिया, और उसकी दीवानी हो गयी, तो पक्का वो फिर छूट के बारे में नही सोचेगी.

दी: ह्म्‍म्म्म.

मे: चलो ये सब बाद में. पहले मुझे मेरी छूट के दर्शन तो कारवओ. बहुत दिन हो गये इसे देखे और छोड़े हुए.

फिर मैने दी को किस करते हुए उसको नंगा किया, उसके बूब्स को दबाया, और उसकी छूट को चाटने लगा.

दी: अब जल्दी अंदर डालो भाई. दो-टीन दिन से इतना स्ट्रेस है दिमाग़ पे, की लगता है तुम्हारे लंड से ही ये शांत होगा.

और ये सुनते ही मैं खड़े हो कर अपना तन्ना हुआ लंड दी की छूट में डाल कर उसे घापगाप छोड़ने लगा. हमारी चुदाई चालू ही थी, की तभी डोर खुलने की आवाज़ आई, और हमारे कानो में तालियों की आवाज़ आई. हमने पलट के देखा तो कायरा गाते पे खड़ी थी, और तालियाँ बजा रही थी, और उसके चेहरे पे विन्नर जैसे एक्सप्रेशन थी.

कायरा: वाउ मम्मी, जहा पे अपनी बेटी को हाथ तक लगाने नही देती, वही अपने सगे भाई से अपने ही बेड पर पूरी की पूरी छूट चुडवाई जा रही है.

मे: कायरा, तुम जैसा सोच रही हो, वैसा कुछ भी नही है.

कायरा: अब इसमे सोचने को कुछ रखा ही क्या है अंकल? पूरी चीज़ तो सामने खुली पड़ी है.

ये सुन कर दी अपनी बॉडी को च्छुपाने लगी.

कायरा: अब च्छुपाने को कुछ नही बचा मों, और ये ब्रेकिंग न्यूज़ तो मुझे पापा को देनी ही पड़ेगी.

फिर कायरा ने अपना फोन निकाला, तो उसका फोन मैने चीन लिया उसके हाथो में से.

मे: देखो कायरा, ये सच है की मैं तुम्हारी मों से सेक्स कर रहा हू. पर क्यूँ, ये तो तुम्हे पहले जान लेना चाहिए.

और दी को मैने बोलने का इशारा किया, तो वो भी समझ गयी.

दी: हा बेटा, कोई भी औरत अपने हब्बी के अलावा किसी और से सेक्स करती है, तो किसी मजबूरी से. और उसमे भी वो दूसरा आदमी उसका भाई ही हो, तो वो मजबूरी कितनी बड़ी होगी (और वो रोने सी लगी).

मे: आक्च्युयली बेटा, सच तो ये है की तुम्हारे पापा तुम्हारी मों को छोड़ सकते है. पर उन्हे मा बनाने का सुख नही दे सकते. शादी के कुछ साल तक जब कोई औलाद नही हुई, तो इन दोनो के टेस्ट हुए, और रिज़ल्ट ये आया की तुम्हारे पापा में प्राब्लम है.

मे: तुम्हारे पापा सेन्सिटिव है, इसलिए तुम्हारी मों ने झूठ बोला की उनकी रिपोर्ट्स नॉर्मल थी. इसलिए तुम्हारी मों ने किसी और आदमी का वाहा स्पर्म लेकर टेस्ट ट्यूब बेबी से प्रेग्नेन्सी करवाई, और इन सब में तुम्हारे फादर को यही बताया की स्पर्म उनका ही था.

दी: एस बेटा, और उस प्रोसेस में इंजेक्षन्स वग़ैरा से मुझे रिक्षन आया और बहुत तकलीफ़ हुई डेलिवरी में. तब डॉक्टर ने बताया की 2न्ड टाइम ये पासिबल नही होगा. हम तो खुश थे, एक ही बच्चे से. पर इंडिया आ कर मेरे ससुराल वालो को एक लड़का चाहिए मुझसे. अब उनको ये सब तो मैं बता नही सकती. वरना वो बोलेंगे की खोट मुझमे ही है, अगर पहले बचा हो सकता है, तो दोबारा क्यूँ नही.

मे: और ये बात मुझे पता चली मीना से. मीना मेरी क्लासमेट थी, और उस हॉस्पिटल में नर्स. उसने मुझे छत पे सारी बात बताई थी. तब मैने तुम्हारी मों से बात की तो वो डिप्रेशन में थी. तभी मैने मों को ये सल्यूशन बताया, की मैं उन्हे प्रेग्नेन्सी में नॅचुरली हेल्प करू. क्यूंकी और किसी पे हम भरोसा नही कर सकते.

मे: और सच बतौ, तो मुझे भी तुम्हारी मों पहले सी ही पसंद थी. ई लोवे हेर, बुत हमारे समाज के कारण मैं उसे ये बता नही पाया. तभी मुझे ये चान्स मिला, जिससे मैं दी को अपना प्यार जाता साकु.

आयेज क्या होगा, पढ़िए नेक्स्ट पार्ट में जल्द ही. आप इस स्टोरी के नीचे कॉमेंट्स कीजिए. आप चाहे तो हमसे कॉंटॅक्ट कर सकते है, एमाइल ईद लज़्यलीहास@गमाल.कॉम पे, या इस्पे ग-छत भी कर सकते है.

यह कहानी भी पड़े  बाप की बेटी के लिए हवस की सेक्सी कहानी


error: Content is protected !!