मैं भी नई नई जवान हुई

दोस्तो, मेरा नाम पूजा है और मेरी उम्र अभी 25 साल की है। 2 साल पहले मेरी शादी हो चुकी है पर मैं अपनी कहानी आपको तब की बता रही हूँ जब मैं नई नई कालेज में गई थी।
तब मैं बिल्कुल अनछुई थी मतलब तब तक कोई मुझे चोदा नहीं था।

तो चलते हैं आज से 6 साल पहले जब मेरी ये कहानी शुरू होती है।
दोस्तो, सबसे पहले आपको बता दूँ अपने बदन के बारे में … मैं गोरी हूँ फिगर 30-28-32 का था तब। मैं नार्मल सी लड़की थी न मोटी और न पतली … मेरे दूध भी ज्यादा बड़े नहीं थे, छोटे ही थे।

कालेज में मेरी ज्यादा सहेलियां नहीं बनी थी। उस समय बस सपना नाम की ही मेरी अच्छी सहेली थी, हम दोनों ही एक दूसरे से खुल कर हर बात किया करती थी।
वो भी दिखने में काफी सुन्दर थी।
हम दोनों को ही बहुत सारे लड़के लाइन मारा करते थे। मगर सपना ने मुझे साफ़ साफ़ कह दिया था कि यहाँ किसी भी लड़के से दोस्ती मत करना।

वैसे भी इन सब से मुझे बहुत डर लगता था कि घर वालों को पता लगा तो क्या होगा और बदनामी अलग होगी। इसलिए मैं ज्यादा किसी लड़के की तरफ ध्यान नहीं देती थी, बस अपने काम से काम रखती थी।

सपना की उम्र मुझसे 1 साल ज्यादा थी और वो चुदाई का मजा ले चुकी थी। मगर किसी को पता नहीं लगता था।

एक दिन बातों बातों में उसने मुझे बताया कि मैं फ्रेंडबुक में एक लड़के से मिली थी। वहीं से चुदाई तक बात गई और किसी को पता भी नहीं चला।
हम दोनों सहेलियों में अक्सर सेक्स से जुड़ी बातें हुआ करती थी।

एक दिन हम दोनों ऐसे ही बात कर रही थी और उसने मुझे अपनी चुदाई के बारे में बताया। मैं भी नई नई जवान हुई थी, उसकी वो बात हमेशा याद आती थी। अब मुझसे भी रहा नहीं जाता था सच कहूँ तो ऐसा उस उम्र में होता ही है। अब मैं हमेशा उससे सेक्स के विषय पर बात किया करती थी।

यह कहानी भी पड़े  होली में जम कर चुदाई करवाई

वो भी जान चुकी थी शायद मेरी भावनाओं को … तो एक दिन बोली- अगर तुझे भी करना है तो बोल, मैं कुछ करूँ?
मगर मेरे दिल में जो डर था, उसके कारण मैं मना करती रही।
मगर वो एक दिन बोली- क्यों न तू भी फ्रेंडबुक में जा और वहाँ किसी को तलाश कर ले और अपनी इच्छा को पूरा कर ले।

और उसने मुझे भी फ्रेंडबुक में जोड़ लिया, मेरी कुछ अच्छी फोटो भी उसमें लगा दी। बस उसमें मेरा नाम असली नहीं था और न ही मेरा पता।
उसमें मुझे लड़कों के बहुत सन्देश आते थे. मगर कुछ तो पसंद नहीं आते और कुछ को मैं अपने डर के कारण जवाब नहीं दे पाती थी.

बहुत दिनों तक ऐसा ही चलता गया।

फिर एक रात मैं फ्रेंडबुक चला रही थी, तभी एक सन्देश आया. उसके आईडी को ओपन करके देखा तो किसी रवि नाम का आदमी था उम्र 45 साल.
कुछ देर सोचने के बाद मैंने भी पहली बार उसका जवाब दे दिया. इस तरह हम दोनों के बीच बात शुरू हुई.

उन्होंने अपने बारे में बताया और मैंने अपने बारे में. वो दिल्ली के रहने वाले थे.

उस रात हम दोनों ने करीब 2 घंटे बात की और फिर मैं सो गई.

अगले दिन कालेज में मैंने सपना को ये बात बताई।
उसने कहा- अरे ये तो अच्छा है. तू उस अंकल को ही पटा ले क्योंकि वो यहाँ के रहने वाले भी नहीं हैं और वो ये सब बात गुप्त भी रखेंगे, तेरे को मजा भी बहुत देंगे क्योंकि वो काफी अनुभव वाले भी होंगे!
उसकी बात में तो दम था, मेरे मन में अब तो उनके प्रति वासना जाग गई थी. मेरी नई नई जवानी को लंड की बहुत जरूरत महसूस होती थी, मैं भी वासना में अन्धी हो चुकी थी.

यह कहानी भी पड़े  मेरी चचेरी बहन शोभा की चूत चुदाई करी

उस रात मैं 9 बजे से उनके सन्देश का इन्तजार करने लगी मगर उनका सन्देश नहीं आ रहा था. मुझे तो जैसे वासना ने बहका दिया था, मेरी आँखों से नींद गायब हो चुकी थी.

तभी करीब 11 बजे उनका सन्देश आया. मैंने तुरंत ही उसका जवाब दिया और हम दोनों की बात शुरू हो गई।
उस रात जैसे वो भी मुझसे सेक्स की बात करना चाहते थे.

उन्होंने ही शुरुआत की, मेरा फिगर पूछा और मेरी कुछ फोटो मांगी. मेरी फोटो देखकर तो वो भी गर्म हो गए,
उस रात हम दोनों ने ही खुल कर सेक्स की बात की. सुबह के 4 बजे तक हम दोनों ने बात की. और ये सब अब तो रोज का काम हो गया.

ऐसे ही 2 महीने बीत गए। अब वो मुझसे मिलना चाहते थे। मैं भी तो यही चाह रही थी मगर उनसे कहाँ मिलूं, ये समझ नहीं आ रहा था.

इसके लिए मैंने फिर सपना का सहारा लिया.
उसने ही बताया कि किसी अच्छे से होटल में तुम दोनों मिल लो और तुझे घर से लाने की जिम्मेदारी भी मेरी।

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!