मम्मी ने मुझ से चुदवाया

rishton me chudai मेरि मम्मी बहुत सेक्सी और सुंदर है। शे हस गोत अ बेऔतिफ़ुल बोदी शपे 38-32-38। शे हस गोत बिग बूब्स अस वेल्ल अस बिग बुत्तोसकस।उनका सुदोल गोरा बदन बहुत हसिन था।

मैं मम्मी को जब भि देखता तो मुझे उनका सेक्सी फ़िगुरे देखकर मन मे गुदगुदि होति थि। मैने उनको एक दो बर ननगा नहते देखा था। मैं बचपन से हि उनके बेदरूम मे साथ सोता था, तो मम्मी -पापा को कै बर सेक्स करते देखा था वो अनधरे मे सेक्स करते थे लेकिन उनकि आवज आति थि कया मसति से दोनो करते थे, पापा धक्का मरते तो मम्मी अवज़ निकलति और उचल उछल कर साथ देति थि। मैं रत को सोने का नतक कर थोदि जलदि सो जता, फिर दोनो लिघत ओफ़्फ़ कर शुरु हो जते वो समझते कि मैं सो रहा हु, लेकिन मैं सोने का नतक करता था। मैं उनका सेक्सी गमेस देखा करता था, मेरा लंड खदा हो जता था, बर बर उपर निचे होता था।

मैं भि सोचता मैं भि कैसे इस खेल का अननद लु। येह सोच कर कै बर लंड खरा जता और रत को मेरे रस झर जता था। एक दो बर तो जब मम्मी मेरे बगल मे सोयि हुइ थि तो मैं उनसे जन भुज कर चिपक्कर सोता, कभि उनकि तनगो के बिच मे अपनि तनग दल देता,तो उनकि निनद खुलने पर अलग कर देति। मैं सोचता रहता कि मेरे साथ कयो नहि चिपकति, मैने कै बर उनके चुतर पर हाथ फेरता, बूब्स भि दबा देता तो वो हथ हता देति थि। मैं मोके कि तलस मे रहता था। कब मज़ा मिलेगा रोज सेक्स देखता था तो मैं नहि एक्ससिते हो जता, एक बर उनहे पता चल गया कि मैने देख लिया है तो अबसे दुसरे रूम मे जकर सेक्स करते थे। मम्मी कि चुचियो को मैं निहरता था जब भि वो खना परोसति या झुक्कर कम करति तो उनके बूब्स कुच उपर उथ जते थे, वो चलति तो उनके हिलते चुतर फनक मे पसि सरी को देखता था, कभि वो नुझे देखति तो अपना पल्लु थिक करति, सरी थिक करति।

मैं बचपन से मम्मी कि जवनि का शबब और कै रुप देखते आया हु। मैने एक बर मम्मी कि अलमिरह मे सेक्सी फोतो कि कितब देखि उसमे ननगि औरत मरदो के सेक्स करते हुए तसबीर थि। उसे देखने मे मुझे मजा आता था और देखते देखते लंड से रस गिर जता था।एक बर कि बात है मेरे पापा कोइ बुसिनेस्स तौर पर गये हुए थे, और उस दिन घर पर भि और कोइ नहि था। रत को दिन्नेर के बद मैं और मम्मी तव पर मोविए देख रहे थे, मोविए मे भि बहुत सेक्सी ससेने थे जो नुझे एक्ससिते कर रहे थे। मोविए के बद फिर सेक्सी गने आने लगे इसि बिच मम्मी उथ कर चलि गयी थि फिर सबले तव पर बलुए फ़िलम आने लग गयी मैं तो एकदम सुरपरिसे हो गया मैने सुना था कि मिदनिघत मे सबले तव पर सेक्सी बलुए फ़िलम दिखते है, कभि मोका नहि मिला था एक दो बर 2-4 मिनुते देखि थि। आज अछा मोका था सोचा कहिन मम्मी नहि आ जवे। मैं सोचा मम्मी रूम मे सोने चलि गयी है और देखा कोइ नहि था मैं चन्नेल चनगे कर बलुए फ़िलम देखने लगा। कया सेक्सी फ़िलम थि औरत मरद को पुरा करते हुए दिखया था। मैने सौनद बनद कर दि थि। अचनक मुझे लगा कि मम्मी पिछे दरवजे के पस खदि होकर फ़िलम देख रहि है, मैने दबि नजरोन से देख लिया, मम्मी को भि नहि पता चला कि मैने देखा है। मैने सोचा जब मम्मी ने देख हि लिया है वो भि देख रहि है तो चलने दो।
दोनो बलुए फ़िलम देख रहे थे। मैने हलकि सौनद भि कर दि । मेरा भि लंड हरद हो गया था, मैं पजमा पहने हुअ था, मैं उपर से अपने लंड को सहलता और पकदता था। अचनक मैं पिछे घुमा और मम्मी को देखकर बोला अरे मम्मी तुम सोयी नहि, अछा तो अब बैथ कर देख लो, कितनि देर तक खदि रहोगि। वो मेरे पस सोफ़ा पर बैथ गयी। फ़िलम मे अब एक ससेने मे मा बेते का सेक्स दिखा रहा था और दो कितने जोर से चुदै का अननद ले रहे थे उसमे वो औरत उसको बोल बोल कर सेक्स का तरिका बतललर चुदवा रहि थि, मैने वोलुमे थोदा बधया, इसे कम हि रहने दो।

यह कहानी भी पड़े  बीवी की माँ के साथ पहली सुहागरात

अब मैं मम्मी कि गोदि मे जनघो पर लेत गया, और फ़िलम देख रहे थे तरह तरह से चुदै के तरिके देखकर मेरा लंड पजमे मे एकदम खदा था और बेतब हो रखा था जिसे मम्मी देख रहि थि, मम्मी ऐसे कुछ झुकि तो उसके बूब्स मेरे मुह पर आये तो मैने होथो के बिच उनके बूब्स को लिया तो वो,कुच नहि बोलि, फिर मैने और थोदा उपर होकर बूब्स का निप्पके दबा दिया, अब तो वो भि फ़िलम देखते देखते वो अह कर रहि थि और अपनि बुर खुजति तो, बूब्स को मसलत,इ कभि लिपस आपस मे दबति, कभि लिपस दनत मे दबति, मैं समझ गया कि ये बहुत एक्ससितेद हो गयी है। मम्मी अपने बलोवसे मे हथ दलति एक बर तो सदि पेतिसोत मे हथ दलकर बुर मे भि अनगुलि कि, मैने पुछा कया हुअ, कहिन दरद है कया, वो मुसकरा दि। मैं उनकि गोद मे लेते लेते उनकि कमर मे हथ फेर रहा था, ननगि कमर थि, पिचे से लोव सुत था, मैं सोचने लगा आज अछा मोका है, शयद चनसे लग जये, त्री करते है।मैने अपने हथ से उनका बुर दबा दिया फिर सरी के उपर से हि उनगुलि से दबने लगा, उसने सिसकरि मरि, अब मैने अब पिसतुरे खतम होकर दुसरा परत शुरु होने वला था मम्मी बोलि कफ़ि देर हो गयी है सो जओ, बहुत देखल इया अब तव बनद करो, मैं बोला मम्मी थोदि देर और।अछा लग रहा है, वो उथकर सोने चलि गयी मैं फ़िलम देख रहा था, बदा मज़ा आ रहा था आज मैं भि सोचने लगा आज तो मोविए वले ससेने करना हि है और चुदैका मज़ा लेना है।और मोविए खम होने के बद मैने तव ओफ़्फ़ किया और मैं भि मम्मी के बगल मे जकर सो गया बोला यहिन सो जता हु।

यह कहानी भी पड़े  होली का रंग- माँ की चूत के संग

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!