मां बहन का आशिक बेटा 3

मैं मीरा उस रात आकाश मुझे 4 बार चोदा सोनिया उसके साथ मिलकर प्लान बनाया थी मैं विवश होकर आकाश का विरोध कर नहीं पायी,
सुबह आकाश की नींद खुली तो मैंने देखा वह एकदम नॉर्मल था लेकिन मैं बहुत परेशान हो गई थी बेटा मेरे पास आकर बैठ गया और कहा मम्मी आप को एक नया जीवन शुरू करना चाहिए

आप मेरा साथ दे मैं आप का दामन खुशियोंं से भर दूंगा आपको एक दूसरा पारी शुरूू करनी चाहिए अब तो जो होना था ओ हो गया मैं एक उसके गाल पर एक थप्पड़ मारी मुझे बाहों में भर का चूचियों को दबानेे लगा और कहने लगा आपकोो धीरे-धीरे इसकी आदत हो जाएगी मैं अब बहुत विरोध नहींं कर पाती और मुझे नंगा कर दिया,

और चूचियों‌ को दबाते हुए कहा आप की चूची साइज की ब्रा भी बहुत मुश्किल से मिलता है मां आपके चूचियों को दबाने से मुझे परम शांति मिलती हैं दुनिया में इतनी खुशी कभी नहीं मिली जितना आपकी चूची पीने से मिली आप अब आप बेटे मां के रिश्ते को भूल जाइए अब हम रोज इसीीी तरह म लेंगे,

बेटा नीचे से ऊपर मुझे देख रहा था मैं शर्म के मारे सर को नीचे किए हुए‌ थी मेरे जांग हर हाथ फेरते हुए कहा मम्मी आप की चूची और चूूत पैर सब कितने चिकने हैं मम्मी तुम मेरी हो जाओ हम बहन और तुम मिलकर फैमिली अपनी बनाएंगे बहुत जिंदगी को एक नया इतिहास रचने का मौका मिला है वह मौौे का फ़ायदा उठा कर सारे रिश्ते भूल कर एक नए रिश्ते शुरुआत करेंगे मैंंं कुछ नहींीं बोली आकाश मेरे को बदन को चूम रहा था उसको दूर करने की कोशिश कर रहे थी,

आकाश मेरे चुचियों को दबाने लगा हो खाना बनाने चली गई थी आकाश को ड्यूटीी जाना आकाश मेरे चुचियों को चूसने लगा और मम्मी कहने लगा फिर

यह कहानी भी पड़े  पापा की हेल्पिंग बेटी

चूत में मुंह को लगा कर चाटने लगा और कहा मम्मी इसी चूत से मैं निकला हूं और इसी च** से अपने बच्चे को निकाल लूंगा मैं कुछ नहीं बोल रही थी आकाश मेरी च** की जीभ से चाट रहा था वह अंदर सेे गर्म हो चुकी थी
आकाश अपने लैंड को च** में डाल दो मेरे होठों को चूसते हुए च** में झटके मारने लगा की विशाल ल** मानों मेरी चूत** को छीलती हुईं दर्द दे रहेे थेीी

लेकिन दर्द में भी मजा था मैं भी आनंद ले रही थी लेकिन विरोध करने का नाटक कर रहे थी,
आकाश मेरी च** में पानीी छोड़कर होठों को चूमने लगा मैं भी हल्के से च** को ढीला छोड़ दिया अकाश उठकर चला गया मैं वैसे सोई रहे सोनिया मुझे मुझे चाय बना कर दिया 2 घंटेे बाद अनार का जूस लेकर मेरे पास आए आकाश काम पर चला गया था सोनिया बोली तुम्हारी लिए भाई ने जूस भेजा है कहा था मुझे देने को मैं कुछ नहीं बोलूं सोनििया नीचे चली गई मैं बहुत थक चुके थे म जूस को ् पी लिया,

फिर मैं उठी और नहा कर बैठी थी सोच रहे थे क्या हो गया कभी सपने में भी नहीं सोचा था मेरा बेटा है मुझे चोदेगा, मैं अब जान चुकी थी यस आकाश कोई छोड़ने वाला नहीं कुछ देर बाद सोनिया मेरे लिए खाना लेकर आ गई बोली मम्मी तुम बहुत थक गई हो खाना खाकर आराम कर लो मुझे अजीब सा लग रहा था कि मुझे लोग प्यार कर रहे हैं क्या यह मेेरी बेटी बहू का हक अदा कर रही है या मां का,
मैं सोनिया सेे बोली मुझेे नहीं तुम खा लो सोनियाा मेरे पास आकर चिपक गई बोली मम्मी आप अभी गुस्सा हो, और जबरदस्ती खाना खिलाने लगी म ना चाहते हुए भी खाना खाना पढ़ रहा था

यह कहानी भी पड़े  पहले प्यार का पहला सच्चा अनुभव-1

मैं बोली तुम लोग बहुत गलत है तुमको कोई फर्क नहीं पड़ रहा है संसार में ऐसा किसी के साथ नहीं हुआ जो मेरे साथ हुआ है मैं कैसे खाना मुझे कुछ समझ मेंं नही आ रहा है मेराा बेट और बेटे तुम लोग या क्या कर डाले

सोनिया बोली मम्मी बहुत से लोग करते हैं अपनी मां बेटी बहन से मैं बोला बोली असंभव -बेटी सोनिया अपने मोबाइल से सेक्स स्टोरी मांं बेेटा सेक्स स्टोरी सर्च की बहुत से सेक्स कहानियां थे दीदी ने अपना मोबाइल मुझे दे दिया और कहां इस पर पढ़ो समाज में क्या चल रहा है पहले सेे बहुत चेंज हो गया अब वह पुरानेे ख्यालों नहींं रहा

बेटा बेटी मां बेटी मांं बेटा सेक्स कहानियां रियल जिंदगी में भी हो रहे हैं मैं सोनिया रहने पर मोबाइल से सेक्स स्टोरी नहीं खोलें लेकिन छत पर चली गई सोनिया बोली मम्मी आकाश फोन किए हुए हैं आपसे बात करनी है और कह रहे हैं यह मोबाइल मम्मी को दे दो या उनके पास रहेगा अब मैं फोन नहीं रिसीव किया लेकिन सोनिया फोन उठाकर हैंड फ्री कर दे आकाश बोला मम्मी कैसी है मैं तुम्हारे लिए ब्रा और पेंटी खरीद रहे हो इसलिए यह बताओ कितने नंबर की होती है मैं कुुछ नहीं बोली आकाश कहांं मम्मी बोलो अब कैसा शर्माना इतने में सोनिया वेरी पेंटी और ब्रा साइज 36 है बता दिया,

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!