लॉकडाउन का फायेदा उठा के मामी की चुदाई

ही गाइस मेरा नाम अनमोल यादव है, मैं ब्स्क 2 यियर्ज़ मे हू , लॉक्कडोवन् के कारण मे अपने मामा की घर आया हू. मामी का नाम रानी चौड़री है, और मामा का नाम रमेश चौड़री , मामा का अपना एक क्लिनिक है और हॉस्पिटल से अटॅच्ड है.

अभी का हालत देख कर मामा भूत बिज़ी रहते है और मामी पूरा दिन घर मे अकेली रहती है, इसी लिए सोचा की मैं मामा के घर घूम अओ. मामा के घर गये हुए मुझे 2 साल हो गये थे बड़े डिंनो बाद जाने का एक्षसितमेंट मेरे अंदर भी था.

मामा के घर पहुचने पे मेरी एक्षसितमेंट कुशी मे बदल गयी जब मैने हॉट फिगर वाली औरत को देखा (मैं ये सोचने लगा था कही मामा दूसरी मामा दूसरी मामी तो नही ले आया)

लेकिन वो हॉट फिगर वाली मामी ही थी. उनको देखार मुझे समझ नही आया की गले लागू या पैर चुयहू.

उनके पास गया ( मैं और मामी हम एक दूसरे से फ्रॅंक थे).

मैं – क्या बात है मामी, बड़ी हॉट शॉट हो गयी हो.

मामी – क्या अनमोल, तू भी.

मैं – पिछले बार आया था तो थोड़ी मोटी थी और अभी देखो बिल्कुल कॉलेज पताका.

मामी – अरे वो तेरे मामा की हॉस्पिटल मे रहते है इसलिए थोड़ी एक्सर्साइज़ वग्रा कर लेती थी, तो उसस्की का फल है.

मैं – बस एक्सर्साइज़! या और कुछ भी?

मामी – बस एक्सर्साइज़ और थोड़ी करते वगेरा बेर कही जाना तो होता नही था तो सोचा यही सब कर लू.

मैं – आपको आता है करते?

मामी – हन, सेल्फ़ डिफेन्स मेी तोड़ा सीखा था.

मैं – अछा तो करते दिखना ज़रा?!

मामी – हन, पहले फ्रेश वगेरा हो जा.

फिर रफ़्तार मे फ्रेश होंने गया और नास्टा केरके सोफे पे बैठ गया , तभी मामी रूम से टॉप और लोवर पहन कर आई.

मामी – तू रेडी है?

मैं – मैं तो एवर रेडी रहता हू.

मामी – चल फिर, लेकिन द्‍यान से कही लग ना जाए.

मैं – अप मेरी टेन्षन ना लो मामी, अपना देखो बस…

फिर मैं पीछे ( छ्होटा सा गार्डेन) गये, दोनो एक दूसरे से तोड़ा दूर खड़े हो गये, तभी मामी ने अपनी एक तंग पीछे करी और हहह! बोलकेर भागी हुए मेरे पास आई और एक लात मारी और मैं वही बैठ गया.

मामी – श श सॉरी! बोला था ना अलर्ट रहना.

मैं – अलर्ट होंने का मोका तो देना था ना.

मामी – अछा ओक.

फिर मामी अपनी पोज़िशन पे वास्प्स गयी और दोबारा एक तंग पीछे केरके हहह! बोलकर मेरी तरफ भागी लेकिन इस बार भी मुझे ही पड़ी और मैं वही पढ़ गया

मामी – ऑश सॉरी!!

मैं – इट’स ओके मामी, वेसए अप सही करते जानती हो?

मामी – चलो इस बार तुम अपनी ताक़त भी लगा लेना.

मैं – लेकिन इस बार आप देख के.

मामी – हॅन हॅन.

दोबारा मामी पीछे गयी, एक तंग पीछे करके मेरी तरफ बड़ी और जेसे मुझे मारने को अपना पैर हुताई मैं तोड़ा साइड हुआ और मामी की कमर पकड़ कर नीचे लिटा कर उनके उपेर बैठ गया.

मैं – और बताओ, फिर ये केसी चाल थी.

तभी मामी ने मेरे पुछवाड़े पे एक लात मारी और मैने इस बार उनके आयेज गिर गया , मोका मिलते ही मामी मेरे उपेर आजे बैठ से तोड़ा नीचे बैठ गयी.

मामी – नज़र हटती दुर्घटना घटिए.

मामी ने मुझे एसा पकड़ लिया की अब मैं अपने हंत पैर भी नही हिला पा रहा था, तभी मैने अपनी कमर सी उपेर की तरफ़ ढाका देनी लगा मामी भी उपेर से नीचे ज़ोर लगाने लगी.

और ढाका लगते लगते मामी ठीक मेरे लंड के उपेर आ गयी, ये देखकेर कर मॅन से यही आवाज़ आयई ( यही मोका तो चाहिए था).

फिर मैने भी जान बूझकेर ढाका लगाने के बहाने अपना लोवर उतरने लगा और बाहर आते ही लंड 7 इंच खड़ा हो गया और बिल्कुल पर्फेक्ट मामी की छूट की दरार पेर लगा हुआ था ,अब ये मामी को भी लंड फील होंने लगा था.

मामी – इस लोवर मे मैं अनकंफर्टबल फील कर रही हू, 2 मिंट रुक मैं ये लोवर उतार के आती हू.

ये सुनकेर सॉन पे सुहागा वाली बात हो गयी थी.

मामी खड़ी हुए और लोवर उतार कर येल्लो पनटी मे दुबारा लंड पेर बैठ कर और उछाल खुद्धह केरने लगी.

अब मुझे कंट्रोल नही हो रहा था इसलिए मैं पनटी को हल्का साइड केरके लंड मामी की छूट की दरार पे हल्का सा झटका लगा के छूट मे लंड उतार दिया.

मामी – मदारचोड़!! ये क्या कर रहा है.

मैं – क्या मामी, बस अब चलने दो.

मामी – मदारचोड़ कोई देख लेगा, चल रूम मे.

फिर मामी खड़ी हुए और मेरा लंड पकड़ कर रूम मे आके बेड पे लेट गयी और मेरा लंड चूसने लगी.

मैं – एसए ही मामी! आराम से चुस्स.

मामी – सेयेल छोड़ू! मुझे पता था तू यहा क्यू आया है.

मैं – पता द तो फिर धमाल मचयए!

इसके बाद मामी को लेटया, उनकी पनटी उतरी और छूट चाटने लगा…

मामी के मूह से एरॉटिक आवाज़्ज़े निकाने लगी जिससे सुनकेर मेरी कामुकता और बड़े गयी. थूक लंड पे गिरा के, तोड़ा मसल के, छूट का मूह खोल के सिररर से लंड गुस्सा दिया.

मामी – आआअहह, कुत्ते आराम से डाल ना.

मैं – अछा अब समाज आया.

उसके बाद तो धक्का करीब 30 मिंट तक चला और इसके बाद सारा लंड का पंनी मामी की छूट मे ही डाल. उसके बाद अब दिन मे कम से कम 2-3 बार करते की क्लास लगती.

मामी – अनमोल..

मैं – बोल मेरी रॅंड.

मामी -तेरा लंड बहुत ही स्ट्रॉंग है.

मैं – और तुझ मेी भी बाट गर्मी है.

उसके बाद हम फिर शुरू हो गये.

यह कहानी भी पड़े  आंटी की गांद पर लंड रगड़ा - देसी कहानी

error: Content is protected !!