लड़की लड़के के पीछे पड़ गयी और उसने मज़ा किया

हेलो दोस्तों, कैसे है आप सब? होप आप सब एक-दूं आचे होंगे, और आशा करता हू की आपकी सेक्स लाइफ में कोई कमी नही होगी? हहेहेः!

मेरा नाम विराट ( चेंज्ड ) है. मैने स्टोरीस कुछ दीनो पहले पढ़ना स्टार्ट किया मेरे दोस्त के कहने पर. फिर मैने खुद की स्टोरी डालने का डिसाइड किया. और ये स्टोरी मैं बस इसलिए डाल रहा हू, क्यूंकी मेरी एक दोस्त, ई मीन वो मुझे नही जानती, और वो भी स्टोरी पब्लिश करती है. मैने बस उसी की स्टोरी पढ़ी है आज तक. तो मुझे तोड़ा बहुत उसके बारे में पता है, पर उसको नही.

मेरी उमर 21 साल है. मैं काफ़ी पुवर फॅमिली से बिलॉंग करता हू. इसलिए मैं अपनी पढ़ाई के साथ-साथ नाइट में काम करता हू, आंड कॉलेज से पहले छ्होटे बच्चो को टुटीओन देता हू. ताकि मेरी कॉलेज फीस टाइम पर जाती रहे.

स्टार्टिंग से ही मुझे बहुत काम करना पड़ा खुद को और छ्होटे भाई को पढ़ने के लिए. मैं सुबा होमे वर्काउट करता हू, जिसकी वजह से मेरी थोड़ी बॉडी बनी है, और एबेस भी मेंटेंड है. अब बोर ना करते हुए बाकी बातें स्टोरी में करेंगे. सो लेट’स स्टार्ट.

कुछ मंत पहले की बात है. मैं रोज़ की तरह रात को 12:30 बजे घर जेया रहा था. और आज ही मुझे मेरी सॅलरी मिली थी, जिससे मुझे अपनी और मेरे छ्होटे भाई की फीस भरनी थी. मुझे पैदल 6केयेम घर जाना होता है.

उसी दिन मुझे रास्ते में कुछ लोगों का ग्रूप मिलता है, जो एक लड़की के साथ बदतमीज़ी कर रहे होते है. सब नशे की हालत में होते है. यहाँ तक की लड़की भी बहुत नशे में थी.

देखने में लड़की काफ़ी अमीर घर से लग रही थी. मैने उन लोगों को देखा, तो मैं उन्हे रोकने लगा. उन लोगों से मैने लड़की को बचा तो लिया, पर मेरे काफ़ी चोट आई, और मेरे सारे पैसे मैं गावा चुका था. अब ना तो मेरे पास मेरी फीस के पैसे थे, और ना ही मेरे छ्होटे भाई की फीस के.

मुझे बहुत तकलीफ़ हुई. मेरे पुर महीने की मेहनत एक झटके में ख़तम हो गयी. और अब तक वो लड़की भी बेहोश हो चुकी थी. मैने उसको पानी लाकर पिलाया, करीब 20 मिनिट बाद मैने उससे बहुत मुश्किल से उसका अड्रेस पूछा.

उसका घर पास में ही था. मैने उसकी उसके घर छ्चोढा. फिर मैं अपने घर को चलने लगा. तभी मुझे रीयलाइज़ हुआ की मेरे सर से खून निकल रहा था. पर मुझे दर्द नही हो रहा था.

मैं कैसे भी लड़खड़ते हुए घर पहुँचा, और सो गया. सुबा हुई और बच्चे टुटीओन को आ चुके थे. मुझे पता नही चला कब सुबा हो गयी. फिर मैं उठा और फ्रेश हुआ. मुझे बहुत पाईं हो रहा था, तो मैने आज बच्चो को जल्दी छ्चोढ़ दिया. और कहा की कल एक्सट्रा पढ़ौँगा.

फिर मैं नहाने गया, और तभी मैने देखा की मुझे सर और लेग्स में काफ़ी चोट लगी थी. फिर मैं फ्रेश हो गया, और कॉलेज भी नही गया. पर मुझे शाम को काम पर जाना था, तो पूरा दिन मैं सोता रहा.

फिर काम पर गया और रात को वापस आ रहा था. तभी मुझे वो लड़की दिखी. पर आज वो नशे की हालत में नही थी. उसने मुझे पहचान लिया और मेरे पास आ गयी. वो मुझे रोकने लगी और बोली-

वो लड़की: ही, मेरा नाम आईशा (चेंज्ड) है.

मे: हेलो, मेरा नाम विराट.

आईशा: कैसे हो?

मे: अछा हू. आप तो कल वाले हो ना. नशे की हालत में आपको पता भी था आप कहा थी?

आईशा ब्लश करने लगी और बोली: वो आक्च्युयली मैं पीटी नही. कल दोस्त की बर्तडे पर ज़बरदस्ती पीला दी थी उसने.

मे: ओक, ऐसा क्या?

शी: जी ऐसा ही है. वैसे मैं आपको सॉरी आंड थॅंक योउ बोलने आई हू. मेरी वजह से आपके पैसे चले गये, और थॅंक योउ इसलिए क्यूंकी आपने कल मेरी इज़्ज़त बचा ली.

मे: इसमे थॅंक योउ की क्या बात है? मैने बस ह्युमॅनिटी को फॉलो किया.

शी: ओक, तो क्या अपना नंबर दे सकते है?

मेरे पास फोन था, बुत मुझे किसी स्ट्रेंजर को अपना नंबर नही देना था. तो मैं बोला-

मे: सॉरी, पर मैं फोन उसे नही करता.

शी: क्यूँ?

मे: मेडम, फोन पैसों से आता है. और फिलहाल मेरे पास फोन खरीदने से ज़्यादा भी बहुत सी ज़िम्मेदारिया है.

शी: ऊ, कोई बात नही. पर क्या हम दोस्त बन सकते है?

मे: आ, इतनी जल्दी? अभी तो तुम मुझे जानती भी नही.

शी: तो साथ रह कर जान लूँगी.

मे: मेरे पास वक्त नही है साथ रहने के लिए.

शी: कोई बात नही, मैं रात को इंतेज़ार कर लूँगी.

मे: अछा, और अपने आप को और मुझे कभी देखा है? तुम जिस कार में आई हो, मुझसे ज़्यादा पैसे इस कार को ठीक करने वाले को मिलते है. हम दोस्त कभी नही बन सकते.

शी: अछा ये बात है. तो कल से मैं कार से नही अवँगी, और तुम्हारी तरह नॉर्मल रहूंगी. हहहे. और कुछ?

मे: मुझे सोचने दो.

और फिर मैं घर चला आया. और आ कर सो गया. सुबा हुई, और टुटीओन देकर मैं कॉलेज जेया रहा था. तभी मेरे कॉलेज से तोड़ा पीछे ही एक हाइ स्टॅंडर्ड कॉलेज है. वाहा मुझे वो लड़की दिखी. मैं नज़रे. बचाते हुए जाने लगा. पर आईशा ने मुझे पहचान लिया.

शी: विराट रूको. विराट, अर्रे रूको तो सही यार. कैसे हो? (हानफते हुए)

मे: ठीक हू, और तुम?

शी: मैं नही हू. क्या सोचा तुमने?

मे: ठीक है, वी अरे फ्रेंड्स.

और मैं जाने लगा. तभी आईशा ने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा-

शी: तुम इतनी जल्दी में क्यूँ रहते हो? क्या दो मिनिट सही से बात नही कर सकते.

मे: लाते हो रहा हू.

शी: ओक जाओ, पर कल सनडे है. कल तो तुम्हारा काम कॉलेज दोनो की छुट्टी होगी. तो क्या कल तुम मेरे साथ चल सकते हो क्या?

मैने जल्दी-जल्दी में कह दिया: ठीक है.

क्यूंकी आईशा ने अभी तक मेरा हाथ पकड़ा हुआ था, जिसकी वजह से मुझे अनकंफर्टबल फील हो रहा था. फिर हम अगले दिन 10 बजे घूमने के लिए निकले. मैं कार में बैठा और हम काफ़ी डोर निकल गये तक़रीबन 60 केयेम डोर.

हम एक होटेल रेस्टोरेंट पहुच गये जो की बहुत ही ब्यूटिफुल था. फिर हमने होटेल के रेस्टोरेंट में कुछ खाया, और फिर मुझे थकान होने लगी, और मैं वीक पड़ने लगा.

मैने पॉकेट से मेरी टॅबलेट निकली, और खा ली. मेरी पिल्स का भी राज़ है, वो फिर कभी बतौँगा. फिर आईशा ने मेरे लिए एक रूम बुक कर लिया, और में वही लेट गया. मुझे बहुत पसीना आ रहा था, तो मैने शर्ट निकाल दी. अब उपर बस एक बनियान पहनी थी मैने.

आईशा मेरे पास ही बैठ गयी, और मुझे देखने लगी. कुछ वक्त बाद मैं सो गया. पर मुझे पसीना लगातार आ रहा था, जिसकी वजह से मेरे कपड़े गीले हो गये. तो आईशा ने मेरी पंत आंड बनियान निकाल दी.

अब मैं सिर्फ़ अंडरवेर में था, और वो भी फटा हुआ था. पसीने की वजह से मेरी बॉडी बहुत सेक्सी लग रही थी. आईशा मेरी बॉडी देख कर पागल होने लगी. वो मेरे उपर हाथ फिरने लगी.

कभी वो मेरी चेस्ट दबाती, तो कभी निपल्स पर रौंद शेप में उंगलियाँ फिरती. तो कभी मेरे एबेस पर हाथ फिरती. अचानक से उसकी नज़र मेरे अंडरवेर के च्चेड़ पर पड़ती है, जो की मेरे लंड से बहुत ज़्यादा साइड में था.

उसकी धड़कने बढ़ने लगी, और मेरे लिए उसका दिमाग़ डर्टी होने लगा. उसने धीरे-धीरे मेरे अंडरवेर के उपर हाथ रखा, और आयेज-पीछे, तो कभी रौंद करके फिरने लगी.

कुछ वक्त बाद उसने मेरे अंडरवेर के अंदर हाथ डाल दिया, और मेरे लंड को देखने ल्गी. आक्च्युयली आईशा ने अपने बाय्फ्रेंड के साथ काई बार सेक्स किया था, तो उसको एक्सपीरियेन्स था. कुछ वक्त बाद आईशा मेरे लंड को आयेज-पीछे करने लगी, और मेरे कान में बोली-

आईशा: आज बेटे तेरा टेस्ट होने वाला है. क्या तू तैयार है?

और वो हसने लगी हहहे. आईशा ने मेरे लंड का टोपा नीचे किया, और एक ही झटके में उसने मूह में लंड रख लिया.

आयेज की स्टोरी आप अगले पार्ट में पढ़ेंगे. इस पार्ट को पढ़ने के बाद आप मेरे नेक्स्ट पार्ट को भी ज़रूर पढ़िएगा. क्यूंकी अगले पार्ट में स्टोरी में एक बहुत बड़ा ट्विस्ट आने वाला है.

ए-मैल:- [email protected]

अपनी राय कॉमेंट ज़रूर करे.

यह कहानी भी पड़े  ब्लॅकमेल कर के गर्लफ्रेंड की मा को चोडा


error: Content is protected !!