लड़के ने विदेश में अपनी बहन को चोदा

ही फ्रेंड्स, मेरा नामे किरण है. मैं पुंजब से हू, अमृतसर से. मेरा फिगर 34-30-36 है. हर कोई मुझे देख कर अपने लंड पर खुजली करने लग पड़ता है. मैं लास्ट 4 यियर्ज़ से मेल्बर्न में रह रही हू.

अपने भाई के बारे में भी बता डू. उसका नामे सम है, और वो भी मेरे साथ रहता है. तो दोस्तों बोरिंग पार्ट ख़तम करते हुए स्टोरी पर आते है.

आज से 3 साल पहले जब मैं मेल्बर्न आई थी, तो अपने भाई के साथ उसी के घर में रहती थी. हम 4 लोग रहते थे एक घर में, 1 कपल, मेरा भाई, और मैं.

मेरा भाई दे टाइम जॉब करता था, तो रात को 10 बजे घर आता था. मैं अभी फ्री थी, क्यूंकी मेरी उनी भी स्टार्ट नही हुई थी. मैं इंडिया में भी ड्रिंक कर लेती थी, तो हम दोनो भाई-बेहन भाई की किसी फ्रेंड की पार्टी पर गये.

उस दिन मैने ब्लू कलर की ड्रेस पहन रखी थी, जो की सिर्फ़ मेरी थाइस तक कवर कर रही थी. जब मुझे भाई ने देखा तो बोला-

भाई: यार किरण, तुम आज बहुत हॉट लग रही हो.

मैने उसको थॅंक योउ बोला, और हम दोनो चल पड़े. हम पार्टी में पहुँच गये. वाहा भाई के फ्रेंड मुझे बहुत गंदी नज़र से देख रहे थे. वाहा मुझे एक लड़की मिली. सपना नामे था उसका, और वो काफ़ी हॉट थी.

हम दोनो ने 2-4 ड्रिंक्स पी, और मैं तोड़ा नशे में हो गयी. तभी भाई मेरे पास आया और बोला-

भाई: घर चले?

मैने कहा: ठीक है.

तभी भाई के 4 दोस्त और हमारे साथ चल पड़े. उनको रास्ते में छ्चोढना था. भाई ने मुझे बॅक सीट पर उनके 2 दोस्तों के बीच में बिता दिया. वो दोनो साहिल और लोवे पहले ही इसी मौके की तलाश में थे.

हम वाहा से निकल गये. तभी मुझे अपनी थाइस पर कुछ फील हुआ तो मैने देखा की साहिल अपने हाथ से रब कर रहा था. मैने उसको हटाया, पर वो नही रुक रहा था. तभी मैने भाई को आवाज़ लगाई, और वो हॅट गया.

थोड़े टाइम बाद लोवे ने मेरी थाइस पर हाथ रखा, और सहलाने लगा. मैं थोड़ी नींद में थी. मैने कुछ नही कहा तो उसका हाथ मेरी पनटी तक पहुँच गया.

जैसे ही उसने मेरी छूट पर हाथ रखा, मेरी एक-दूं से आँख खुल गयी. इससे पहली मैं कुछ बोलती, लोवे ने एक उंगली छूट में डाल दी थी. मुझे भी अछा फील हो रहा था.

वो उंगली अंदर-बाहर कर रहा था. तभी लोवे का घर आ गया. अब बॅक सीट पर मैं और साहिल थे. मैने अपनी ड्रेस उपर की, तो साहिल तो बहुत खुश हुआ, और भाई के सामने ही मेरी छूट को उंगली से छोड़ने लगा.

क्या बतौ दोस्तों किसी लड़के का फिस्ट टाइम हाथ छूट पर फील कर रही थी. तभी उसका घर आ गया, और वो वाहा पर उतार गया. और मैं बॅक सीट पर सो गयी. तभी 10 मिनिट की ड्राइव के बाद हमारा घर आ गया.

भाई ने मुझे उठाया, और हम घर के अंदर चले गये. मैं अपने रूम में चली गयी, और भाई को बोला-

मैं: मुझे ड्रिंक करनी है.

तो भाई ने पहले तो माना किया, फिर मेरे ज़िद करने पर वो ले आए. फिर हम दोनो ड्रिंक करने लग पड़े, और बातें करने लग पड़े. तभी भाई ने पूछा-

भाई: तुम्हारा कोई ब्फ नही है?

मैने कहा: नही है.

तो वो बोला: अगर तुम मेरी बेहन ना होती, तो मैने तुम्हे अपनी गफ़ बना के वाइफ बना लेना था. बोलो बनती मेरी वाइफ?

मैने कहा: तुम्हारी बेहन हो छ्होटी, ऐसे मत बोलो. मुझे सही नही फील होता.

वो पेग बनाने लग पड़ा. तभी मैने भाई को बोला-

मैं: मुझे सस्यू लगी है.

फिर मैं वॉशरूम में गयी, और सस्यू की जैसे बाढ़ आने लगी. मेरा पैर फिसल गया वाहा पर, और मैं गिर गयी. मैने उठने की ट्राइ की, लेकिन मैं उठ नही पा रही थी. तभी भाई को आवाज़ लगाई. वो आया, और मुझे उठा कर रूम में ले गया.

भाई मुझे डाँटने लगा, की क्यूँ मैने इतनी ड्रिंक की. लेकिन नीचे गिरने से मेरी बॅक में बहुत दर्द हो रहा था.

भाई बोला: मैं देखु?

मैने कहा: नही, तुम मेरे भाई हो. मैं तुम्हे अपनी बॉडी नही दिखा सकती.

तभी उसने बोला: यहा पर कों सी मम्मी है जो तुम्हे देखेगी?

तो मैं मान गयी, और अपनी बॅक उपर करके लेट गयी. तभी भाई ने बोला-

भाई: ड्रेस उपर करो.

तो मैने कहा: ऐसे ही देख लो.

फिर वो बोला: ऐसे-कैसे देखु? उपर करनी पड़ेगी.

तो मैने अपनी ड्रेस उपर कर दी. मैने नीचे रेड कलर की नेट वाली पनटी पहनी थी. भाई उसको देख के चुप हो गया, जैसे कोई बड़ा शॉक लग गया हो. भाई मेरी कमर को टच करने लगा. मुझे बहुत अजीब सा फील हो रहा था.

फिर भाई बोला: मसाज कर देता हू. कल तक सही हो जाएगा.

मैने कहा: ठीक है.

वो मुझे बोला की मैं अपनी ड्रेस उतार डू, नही तो वो खराब हो जाएगी. मैं भी नशे में थी, तो बिना कुछ पूछे मैने ड्रेस उतार दी. अभी मैं सिर्फ़ रेड पनटी और ब्रा में भाई के सामने पड़ी थी गांद उठा कर.

तभी भाई ने मसाज करना स्टार्ट किया. वो बड़े प्यार से और धीरे-धीरे मसाज कर रहा था, और मुझसे बात करने लगा की उसको मसगे करने के बदले में क्या मिलेगा.

मैने कहा: बोलो क्या चाहिए?

वो बोला: तुम बहुत हॉट आंड सेक्सी हो. तुम्हे नंगी देखने का बहुत दिल करता है. क्या तुम मेरे लिए…

मैने उसको एक-दूं से जवाब दिया: तुम भाई हो मेरे, ऐसे-कैसे सोच सकते हो?

मैं उसको ये गुस्से में बोली. फिर वो सॉरी बोला और मसाज करने लगा रहा. मुझे पता ही नही चला, की कब मुझे नींद आ गयी. कुछ टाइम बाद मुझे अपने बूब्स पर कुछ फील हुआ. जब मेरी आँखें खुली, मैं तो हैरान रह गयी.

मैने एक-दूं से धक्का लगाया, और भाई को अपने आप से डोर किया. मैने देखा मैं बिल्कुल न्यूड थी. भाई ने मेरी पनटी और ब्रा भी उतार दी थी. तभी वो मेरे पास आया और बोला-

भाई: किरण तुम मुझे बहुत अची लगती हो.

मैं रो रही थी की भाई ने क्या किया मेरे साथ.

तभी भाई बोला: मैं तुमसे बहुत प्यार करता हू. मैं मॅर जौंगा तुम्हारे बिना.

और वो गाड़ी की के लेकर जाने लगा. मुझे एक-दूं से मों-दाद की याद आई, की अगर भाई को कुछ हो गया तो वो कैसे रहेंगे. मैने उसको रोका, और हग कर लिया.

मैं न्यूड ही थी अभी भी. हम दोनो लाउंज रूम में थे. भाई अंडरवेर में था, और मैं बिल्कुल नंगी.

तो भाई बोला: मुझे सिर्फ़ टच करना है, और चूसना है. इनसर्ट नही करूँगा.

मैने कहा: भाई ग़लत है.

तो वो बोला: ठीक है, जिसके साथ सही लगे कर लेना, मैं चला.

तो मैने उसको रोका और बोली: ठीक है, सिर्फ़ किस और टच करोगे?

वो बोला: ठीक है.

हम रूम में चले गये. उसने मेरे लिप्स पर अपने लिप्स रखे और चूसने लग पड़ा. दोस्तों क्या बतौ यार, वो जो मुझे फील हुआ. मैं फर्स्ट टाइम किसी बॉय को किस कर रही थी.

मैं तो मदहोश हो गयी थी. तभी उसका एक हाथ मेरी छूट को मसालने लगा. मैने उसको कुछ नही बोला, और हमारी स्मूच चल रही थी. कभी वो मेरे निपल्स प्रेस करता, कभी छूट पर रगड़ता.

वो नीचे गया, और मेरी छूट पर जीभ फेरने लगा. यार मेरे मूह से तो बस “आहह हूउ आहह मॅर गयी भाई, ऐसे मत करो” निकल रहा था.

वो नही रुक रहा था. मैं सच में अभी भूल चुकी थी की वो मेरा भाई था. फिर उसने अपना अंडरवेर उतरा, और अपना 8 इंच मोटा लंड मेरे हाथ में दे दिया. मैं भी बिना कुछ सोचे उसको हिलने लग पड़ी.

यार मैने उसके बिना बोले लंड अपने मूह में लिया, और चूसने लग पड़ी.

मैं: एम्म उम्म्म खा जौंगी इसको मैं.

वो मस्त सिसकारिया ले रहा था.

उसने बोला: बहना उठो, और लेट जाओ.

मैं लेट गयी. फिर वो मेरी छूट को फिरसे चाटने लगा. छूट चटवाने के बाद मैं बहुत गरम हो चुकी थी.

तो वो बोला: बहना उल्टा लेतो.

दोस्तों इस बार तो उसने मुझे सर्प्राइज़ कर दिया. वो मेरी गांद का च्छेद चाटने लगा. उफ़फ्फ़ आहह भाई, क्या कर रहे हो? मत करो अफ. मैं बस यही बोल रही थी, और मज़े ले रही थी.

तभी मैने भाई को बोल ही दिया: भाई अभी डाल दो अंदर, और नही सहा जाता. आज अपनी बेहन की छूट के महुरत कर दो. आज तक इसने कोई लंड नही देखा. अब ये तुम्हारी है, फाड़ दो इसको भाई.

भाई ऐसी बातें सुन कर पागल हो गया, और मेरे उपर आ गया. उसने थोड़ी वॅसलीन अपने लंड पर लगाई, और थोड़ी मेरी फुददी उपर लगाई. फिर पहले एक उंगली उसने अंदर डाली, और वो आराम से चली गयी. फिर उसने 2 उंगलिया डाली.

उसके बाद वो बोला: मेरी बहना बोल, जाए अंदर?

मैने कहा: गान्डू अभी डाल भी दे, या बातें ही करेगा ब्स?

तभी उसका टोपा मुझे मेरी छूट में फील हुआ. यार मेरी तो जान निकल गयी थी.

मैने बोला: धीरे भाई, पाईं होती है.

वो बोला: मेरी जान, अभी तो सिर्फ़ 1 इंच ही गया है, 7 अभी बाकी है.

तभी उसने एक ज़ोरदार झटका मारा, और लंड मेरी फुददी को और फाड़ता हुआ अंदर चला गया. मैं रोने लग पड़ी और चिल्ला रही थी. भाई भी रुक चुका था. कुछ टाइम बाद मैं नॉर्मल हुई तो भाई ने स्टार्ट किया धीरे-धीरे.

मैं: आ आहुउ ह मा मॅर गयी. भाई छ्चोढ़ दे मुझे, मुझसे नही हो रहा.

तभी भाई बोला: रंडी पहले तो बहुत मचल रही थी.

और साथ में उसने धक्को की स्पीड भी तेज़ कर दी. मैं बेबस लाचार नीचे पड़ी थी.

भाई मुझे रंडी की तरह छोड़ रहा था, कभी घोड़ी बना कर, कभी उपर बैठा कर, कभी मेरी टांगे अपने शोल्डर पर रख के.

1 घंटा छोड़ने के बाद वो मुझे बोला: मेरा होने को है.

मैने कहा: अंदर मत करना.

तो वो बोला: फिर पीना पड़ेगा.

मैने माना किया तो वो बोला: सोच लो.

फिर मैने हा बोल दिया. मैं अभी मा ब्नाने के लिए रेडी नही थी. उसने मेरे मूह पर सारा गिरा दिया, और मैं पी गयी. फिर वो मुझे गले लगा कर बोला-

भाई: लोवे योउ जान. मैं तुमसे बहुत प्यार करता हू.

तो दोस्तों यहा से शुरू हुआ मेरे सेक्स के सफ़र, जो अभी तक नही रुका. उस रात हमारी चुदाई कोई तीसरा भी देख रहा था, जो की हमे भी पता नही था.

वो कों था, और क्या हुआ हमारे साथ, देखने के लिए दोस्तों वेट फॉर थे नेक्स्ट पार्ट. अगर स्टोरी अची लगी हो, तो रिप्लाइ ज़रूर करना. लोवे योउ मेरे दोस्तों. आपकी प्यारी किरण.

यह कहानी भी पड़े  जीजू की बेहन की सील, लड़के ने अपने बड़े लंड से तोड़ी


error: Content is protected !!