किरायेदार की लड़की की चुदाई

तो चलिए शुरू करते है. जैसा की मैने बताया की मेरा नाम छ्होला सिंग (चेंज किया हुआ जानते तो सब है की क्यू चेंज करा जाता है.) तो मई आपको अपने बारे मे बताता हू की मई इश्स टाइम 20 साल का हू. और ये स्टोरी मेरे किरायेदार की बेटी के संग की है.

मेरे घर मे मेरी मम्मी, पापा, दीदी रहते है और एक किरायेदार की फॅमिली. हुआ ये की जब 12 के हाफ यियर्ली एग्ज़ॅम देके घर वापस आया था
हमारी च्छुटी हो गयी थी. इसलिए मई घर पर आया सब खुश थे क्यूंकी मई आधे साल बाद घर आया था.

जिस दिन मई घर आया उसी दिन मेरी दीदी को अपने कॉलेज जाना था इसलिए वो चली गयी. और हमारे किरायेदार कही बाहर ऑलरेडी थे. उनकी फॅमिली वो दो लोग थे और उनकी एक बेटी थी.

मेरे आने के कुछ दिन बाद पापा के पास फोन आया की उनकी बेटी प्रेक्षा घर पर आ रही है. तो उन्होने उसे हमारे संग रहने को बोल दिया. वो घर आई उसने नमस्ते, छाई नास्टा हुआ और खाना हुआ.

मम्मी पापा सो गये, मई अपने कमरे मई सो गया और उसे गेस्ट रूम मे सुला दिया. रात के 12 बाज चुके थे, मई तो मोबाइल चला रहा था और बाकी सब सो रहे थे.

थोड़ी देर बाद प्रेक्षा की चीलाने की आवाज़ सुनाई दी. सब लोग दर्र के मारे जाग गये, उसे शायद से बुरा सपना आया था क्यूंकी वो ताकि हुई भी थी. तो उसे बेचानी भी हो रही थी शायद से तो मम्मी ने उसे मेरे ही कमरे मे लिटा दिया.

अगले दिन मई उठा 1 भजे, घर मे कोई नही था. मैने प्रेक्षा से पूछा कहा है सब लोग? तो उसने कहा तुमहरे मम्मी पापा बाहर गये है बहुत ज़रूरी काम से.

मैने मम्मी को फोन मिलाया तो उन्होने बताया की वो लोग बारेल्ली गये है किसी की डेत हो गयी है. इसलिए अब उन्न लोगो को 3 दिन बाद आना था तो हम लोग अब अकेले थे.

मई फ्रेश हुआ नाहया धोया खाना खाया और मोबाइल चलाने बैठ गया. तभी प्रेक्षा ने कहा चलो कुछ खेलते है. तो मैने पूछा क्या खेलोगी? तो उसने कहा ट्रूथ डरे. फिर हम लोग ट्रूथ डरे खेलने लगे.

तो उसने हुमेशा की तरह घिसे पीटते सवाल पूछे गये उल्टे सीधे डरे दिए. ऐसे ही करते करते 7 बाज गये. मैने कहा बंद करते है अब और खाने के बारे मे सोचते है.

मुझे तो खाना बनाना आता था लेकिन उसे नही. लेकिन फिर मैने उससे कहा कही बाहर चलते है खाना खाने. तो हम लोग टायर हुए मतलब ऐसे ही ज़्यादा नही नॉर्मल ही. लेकिन वो नॉर्मल मे भी काफ़ी अच्छी लग रही थी.

फिर हम लोग बाहर गये तोड़ा घुमा फिरा फिर खाना एक रेसटेआरौंत मे गये वाहा पर कपल के लिए 50 पर्सेंट ऑफ था. तो मैने सोचा कोई फयडा नही लेकिन प्रेख़्शा ने कहा चलते है रूपाय भी बच जाएँगे. तो हम लोग गये वाहा पर हम लोगो को कपल की तरह दिखना था. हुँने हाथ मे हाथ डाला और चलने और अंदर चले गये.

मैने पहली बार किसी लड़की का हाट पकड़ा था. बहुत डेलिकेट सा फील हुआ और बहुत ही अच्छा फील भी. हम लोग वाहा पर एक दूसरे के सामने आखों मे आँखे मिला कर और एक दूसरे का हाथ पकड़ कर बैठ गये. बहुत अच्छा फील हो रहा था और ऑक्वर्ड भी.

हम लोगो ने खाना ऑर्डर किया, जैसे है हम जाने लगे. तभी वाहा के मॅनेजर ने हुमको रोका और कहा सिर 5 मीं और रुक जाइए एक इन्फर्मेशन देनी है.

हम लोग रुक गये और मॅनेजर स्टेज पर गया और हम लोगो की तरफ इशारा करते हुए की बेस्ट कपल ऑफ थे नाइट कहा और प्राइज़ दिया. हम लोग यूयेसेस प्राइज़ को लेकर घर वपास आए.

आज बहुत तक गये थे, प्रेक्षा ने चेंज किया और मुझसे बोली की वो बहुत तक गयी है और बॅक बहुत दर्द हो रहा था. और मसाज करने को कहा.

मैने कह दिया ठीक है और पूछा तुम्हे ऑक्वर्ड नही लगेगा?

उसने कहा नही तुम्हे सिर्फ़ बॅक पर करनी है और ज़्यादा ना सोचने को कहा.

मैने बल्म लगयाई और मसाज करने लगा. मुझे दिक्कत हो रही थी करने मे क्यू की उसका टॉप बहुत टाइट.

मैने उससे कहा मुझे मसाज करने मे नही आ रही उसकी टॉप की वजह से. तो उसने वो टॉप उतार दिया. अब वो सिर्फ़ ब्रा मे थी लेकिन बॅक करके लेती थी इसलिए कोई दिक्कत नही थी.

मैने मसाज पूरी की और मई जाने लगा तभी उसने कहा अगर करो तो आयेज भी करदो. तो मई जैसे मुड़ा तो मैने इसका फ्रंट देखा और बूब्स देखे. काफ़ी बड़े थे लेकिन यूयेसेस टाइम ज़्यादा कुछ ग़लत नही सोचा.

मई मसाज करने लगा. मेरा हाथ बार बार उसके बूब्स से टच होता और मई बार सॉरी बोलता. उसने मुझसे कहा कोई बात नही तुम सिर्फ़ मसाज करो.

थोड़ी देर बाद उसने ब्रा भी उतार दी और उसने बूब्स मसाज देने को भी कहा. बहुत ऑक्वर्ड ही रहा था. मई मसाज करने लगा और वो हॉर्नी फील करने लगी.

फिर वो उठ के बैठी और मुझे एक किस कर दिया. ये सब इतना अचानक हुआ की कुछ मालूम ही नही पड़ा. हम दोनो को एंबॅरस फील हुआ और उसने कपड़े पहने और मम्मी को कॉल करने टेरेस पर चली गयी.

12 ब्ज चुके थे और वो नीचे आई. मई नाइट सूट मई था और वो भी. उसने आते ही सॉरी कहा और किसी को कुछ ना बताने को कहा. मैने भी सॉरी कहा और वो गले लग गयी.

मैने कहा कोई नही अब सोते है मई भी तक गया हू. हम सोने को हुए की पता चला पापा ने चादर ढोने को डाली थी और वो अभी तक भीग रही है.

मैं अंदर स्टोर रूम जाके देखा तो एक ही चादर मिला. तो प्रेक्षा को दे दिया और जिस कमरे मे हम सोते थे यूयेसेस कमरे मे एसी था लेकिन फन नही था. इसलिए एसी तो ओं रहता ही और गर्मी का टाइम था इसलिए उसे बंद भी नही कर सकते. और कही एसी नही था.

हुँने सोचा उसका तोड़ा टेंप बड़ा लेंगे लेकिन ऐसा सोचना हुमारा बाद मे जाके बेकार साबित हुआ. ह्यूम रात मे गर्मी लगी और कोई फयडा नही हुआ. मैने टेंप बिल्कुल लो कर दिया.

थोड़ी देर बाद मुझे ठंड लगने लगी और चादर एक ही था. तो प्रेख्सा को मालूम पड़ा की मुझे ठंड लग रही तो उसने मुझे चादर दे दिया.

मैने कहा फिर तुम क्या करोगी? तो मैने शेर करने को कहा तो वो मान गयी और हम लोगो ने स्पूनिंग करते हुए सो गये.

सुबह उठे और प्रेख्सा सुबह धूप मे कपड़े डालने चली गयी. नीचे आ रही थी की फिसल गयी और मई भाग के गया और उसे गोदी मे उठाया और बेड पर लिटा दिया.

उसके हाथ मे चोट थी और पेर मे मोच आ गयी थी. उसके टॉप पे खून लग गया था तो मैने कहा तुम चेंज कर लो मई बाकी सब काम कर लेता हम.

वो चेंज करने गयी तो वो चीलाने लगी दर्द से. मई पूछा क्या हुआ? तो उसने कहा दर्द हो रहा. तो मई अंदर गया और टॉप की चैन खोली और उतरने लगा उसका टॉप. मालूम पड़ा उसने ब्रा नही पहनी.

उसने शॉर्ट्स उतरने को भी कहा. मैने वो भी उतरा और उसने पनटी भी नही पहनी थी. मुझे बहुत हॉर्नी फील हुआ और एरेक्षन आब्वियस्ली हो गया था.

मैने उसको बेड पर लिटाया और कपड़े ढुड़ने लगा. उसने कहा कपड़े बाद मे ढूड़ना पहले मोच पर मसागे कर दो. मैने मोच पर मसाज दी और बाद मे कहा मई तुम्हे फुल बॉडी मसाज दे डू? तुम्हे अच्छा लगेगा और सोने मे भी प्राब्लम नही होगी.

उसने कहा ठीक है.

लेकन इश्स बार मेरा दिमाग़ कुछ अलग ही चल रहा था. मेरे हाथ उसकी बॉडी बस च्छुना चाहते थे. मई फुल बॉडी मसाज देने लगा. धीरे धीरे मई उसके थाइस तक पहुचा और मैने देखा की उसकी हाइमेन नही है.

मई पूछ बैठा की वो वर्जिन है की नही? उसने कहा की वो वर्जिन है लेकिन वो साइकल ज़्यादा चलती है इसलिए उसकी हाइमेन टूट चुकी है. उसने मुझसे भी पूछा मैने भी कहा की वर्जिन हू.

हम बात करते रहे और मई उसके बूब्स तक पहुचा. मई बूब मसाज देने लगा, इश्स बार मई बहुत हॉर्नी हो रहा था. और मैने पूछ लिया की मई उसे किस कर सकता हू की नही?

उसने कुछ नही कहा.

मई दोबारा मसागे देने लगा और मई उसके कंधो तक पहुच चुका था. अब मई उसकी आँखो मे देख रहा था और वो भी. उसने आँखे बंद कर ली और मैने उससी टाइम बिना कुछ सोचे समझे किस करने लगा. और वो भी मुझे किस करने लगी.

हम दोनो बहुत हॉर्नी हो चुके थे. मैने उसके बूब्स दबाने शुरू कर दिए. उसने मेरी शर्ट उतार दी, मई अंदर कुछ नही पहनता तो मई उपर से न्यूड हो चुका था.

थोड़ी देर बाद मैने अपने बॉक्सर्स भी उतार दिए और सिर्फ़ अंडरवेर मे था और वो पूरी न्यूड. मई उसकी चूत तक पहुचा और लीक करने लगा. जिससे वो और हॉर्नी होती जेया रही थी.

फिर मैने अपना अंडरवेर भी उतार दिया और मेरा लंड पूरा खड़ा टायर था. मैने उसको बेड पे बिताया और अपना लंड उसके मूह मे दिया. उसने खूब आचे से चूसा किया और मेरा सारा पानी पिई गयी.

अब मैने उसे लिटाया और और तब तक उसकी छूट को छाता जब तक उसने पानी नही छ्चोड़ा और मई भी सारा पानी पिई गया.

फिर मैने अपना लॅंड उसकी छूट पे रखा और दो टीन बार पुश किया. वो छीलाने लगी बहुत बुरी तरह और मई रुक गया. उसने कहा रूको मत. मैने फिर पुश किया और लंड पूरा अंदर चला गया.

हम लोगो ने 20 मीं तक सेक्स किया और उसके बाद हम दोनो एक साथ नहाने चले गये. उसके बाद उन 2 दिन जब हम दोनो अकेले थे, उन्न 2 दीनो मे हम दोनो ने काफ़ी बार चुदाई की और मज़े लिए.
[email protected]

यह कहानी भी पड़े  अजब ग़ज़ब परिवारिक रिवाज-1

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!