मेरी कामुक बीवी नंगी होकर चुदाई करवाने आई

हाय दोस्तो, मैं आपका दोस्त कुमार सोलापुर से हूँ. आपने मेरी पिछली सेक्स कहानियाँ
बीवी की चुत की दिलखुश चुदाई
जन्मदिन मनाया बीवी की चुत चोदकर
पढ़ी होंगी.

अब मैं एक नई कहानी लेकर हाजिर हूँ. इसमें मैंने लिखा है कि कैसे हम पति पत्नी चुदाई का आनन्द लेते हैं. हम दोनों दिन में भी कैसे चुदाई करते हैं, ये मैं आज आपको बताऊंगा. साथ ही आपको बता दूँ कि मेरी प्यारी बीवी को मुझसे चुदवाना बहुत ही ज्यादा पसंद है. मैं भी अपनी बीवी को इस तरह चोदता हूँ कि वो खुश हो जाए.

बीवी को चोदते समय मैं ऐसा कुछ करता हूँ कि वो मुझसे चुदने के लिए हमेशा तैयार रहती है. मैं जब बीवी को चोदता हूँ तो कुछ न कुछ नया प्रयोग करता हूँ और मेरी बीवी पर उस प्रयोग का क्या असर होता है.. ये वो मुझे बड़ी लिपट लिपट कर बताती है.

हम रात को तो नंगे होकर ही सोते हैं और बिना चुदाई किए तो सोते ही नहीं हैं. मेरी बहुत दिनों से इच्छा थी कि बीवी को दिन में पूरी नंगी करके चुदाई करूँ लेकिन कुछ जम नहीं रहा था. घर में ही दुकान होने से हमेशा कोई ना कोई आता रहता था.

एक दिन मौका मिल गया.. लेकिन उस दिन चुदाई की पहल बीवी ने की थी.

बेटी सुबह नौ बजे कॉलेज चली जाती और शाम छह बजे वापस आती है. दिन भर घर में हम दोनों ही रहते हैं. दोपहर का खाना खाने के बाद मैं बिस्तर पर लेटा हुआ था. नींद से आंखें बंद हो रही थीं. मेरी बीवी किचन का काम निपटा कर मेरे पास आ गई. उसने मेरा दायाँ हाथ अपने हाथ में लेकर खुद की चुत के ऊपर रख दिया. जैसे ही मेरा हाथ उसकी चुत से छुआ, तो मैंने आंखें खोलकर देखा. सामने मेरी बीवी अपने सब कपड़े उतार कर पूरी नंगी खड़ी थी. उसने अपना दायां पैर उठाकर बिस्तर पर रखा हुआ था और मेरी तरफ देखकर बड़े ही अश्लील भाव से मुस्कुरा रही थी. उसके बड़े बड़े मम्मे लटक रहे थे. बीवी की चुत के ऊपर मेरा हाथ था, तो मैंने उसकी चुत को मुठ्ठी में भरकर हल्के से दबा दिया.

यह कहानी भी पड़े  कहानी घर घर की

मेरी नंगी बीवी के मुँह से ‘आ..ह..’ निकली. मेरी बीवी की चूत मोटी और फूली हुई है, इसलिए मुठ्ठी में सहज ही आ जाती है. उसने अपना दांए हाथ से मेरे लंड को मुठ्ठी में भरा और जोर से दबाने लगी. बीवी का गोरा बदन, उसके बड़े बड़े मम्मे बनपाव जैसी फूली हुई चुत देखकर मेरा तो लंड सात इंच का रॉड बन गया.

मेरी पैंट और चड्डी को मेरी सेक्सी बीवी एक साथ घुटने तक खींचा और लंड को हाथ में लेकर हल्के हल्के से मसलने लगी. पांच मिनट तक लंड मसलने के बाद मुँह में लेकर लंड चूसने लगी. वो कभी मेरा पूरा लंड मुँह में अन्दर तक लेकर बाहर करती, कभी अंडों पर जीभ फिराती, फिर अंडों को मुँह में लेकर चूसने लगती.

अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था. मैंने उठकर अपने सब कपड़े निकाले और नंगा हो गया. पैर नीचे लटका कर मैं बिस्तर पर बैठ गया.

अब नंगी बीवी मेरे दोनों पैर के बीच में थी, मैं अपने दोनों हाथ बीवी के दोनों चूतड़ों पर रखकर मेरे प्यारी बीवी से लिपट गया. मेरी बीवी ने अपने एक हाथ से अपने एक मम्मे को उठाकर उसका निप्पल मेरे मुँह में घुसा दिया. मैं दोनों हाथ से उसके दोनों चूतड़ दबाते हुए उसका दूध चूसने लगा. उसको मेरा निप्पल चूसकर दूध पीना बहुत पसंद है. कभी कभी ऐसे ही बैठे बैठे मेरी बीवी मुझे दूध पिलाती रहती है. मैं बीवी के दोनों निप्पल दस मिनट तक बारी बारी चूसता रहा. अपना बायां हाथ गांड पर से हटा कर उसकी फूली चुत को सहलाने लगा. उसकी चुत सहलाते हुए मैंने एक उंगली को उसकी गरम चुत में डाला तो चुत पूरी गीली हो गई थी.

यह कहानी भी पड़े  मेरी बीवी और सलहज

बीवी अब तक मेरे लंड को मसल रही थी और अब लंड को खींचने लगी. मैं समझ गया कि चुत में लंड डालकर चोदने का वक्त आ गया है.

मैंने बीवी को बिस्तर पर ऐसे लिटा दिया कि उसकी गांड बिस्तर के किनारे रहे. मेरे प्यारी बीवी ने अपने पैर के अंगूठे को पकड़ कर अपनी ओर पैर खींच लिए, जिससे उसके पैर फैल गए और मेरी प्यारी बीवी की चूत मेरे सामने आ गई.

दोस्तो, मैं अपनी बीवी को हर रोज दिन में और रात में भी चोदता हूँ, फिर भी मेरा दिल नहीं भरता. उसकी चुत, उसके मोटे मोटे चूतड़, बड़े बड़े मम्मे देखकर मेरा लंड मस्ती करने के लिए सात इंच का आकार ले ही लेता है. उधर मेरी बीवी को मेरा लंड इतना पसंद है कि वो कभी भी मेरे लंड को अपनी चुत में घुसा लेने के लिए अपनी चुत खोलकर तैयार रहती है.

मेरा लंड तो चुत में घुसने के लिए तैयार ही था. मैंने अपना सात इंच का लंड हाथ में पकड़ कर बीवी की चुत के छेद पे रख दिया और लंड को दबाते हुए पूरा लंड चुत में पेल दिया.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!