कमसिन साली की मस्त चुत चुदाई

मैं मनजीत 28 वर्ष का 6 फिट 2 इंच का हट्टा कट्टा नौजवान हूँ. मैं दिखने में काफी स्मार्ट हूँ. मेरे लंड का साइज 9 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है. इतना कड़ियल लंड है कि एक बार जिसकी चूत को चोद दिया तो वो दोबारा चुदने को बेताब रहती है. मेरे लंड पर काला तिल है और कहते हैं कि जिसके लंड या चुत पर काला तिल हो, वो बहुत सेक्सी होता या होती है. मैंने आज तक बहुत सी चुतों को चोदा है. स्कूल समय से ही मुझे चूत चोदने की लत लग गई थी.

यह मेरे जीवन की सत्य कहानी है, मेरे ससुर दो भाई हैं. ससुराल का गांव जिला झुंझुनू राजस्थान में है. वे दोनों भाई साथ एक ही घर में रहते हैं. मेरे छोटे ससुर की बेटी ममता सैनी (बदला हुआ नाम) उस समय 18 साल की थी और कॉलेज में बीएससी सेकण्ड इयर में पढ़ रही थी. उसका साइज 28-30-32 का रहा होगा और कद 5 फिट 3 इंच, रंग गोरा है. वो बहुत ही सेक्सी मिजाज की लौंडिया थी. साली इतनी सेक्सी थी कि उसको देख कर बूढ़े का भी लंड खड़ा हो जाए.

मैं जब भी ससुराल जाता तो वो बहुत मुझसे मजाक करती थी. मैं भी उसको गले लगाने के बहाने खूब चूचियों से अपना सीना रगड़ देता. उसकी कसमसाहट भी मुझे हरी झंडी सी लगती थी.

धीरे धीरे उसको मैं होटल में ले जाने लगा और कॉलेज मिस करके घुमाने ले जाता. वो मुझसे काफी प्रभावित थी. मैंने उसको एक फोन लेकर दिया, जिसको वो छुपा कर अपनी पेंटी में रखती थी. जब मैं ड्यूटी पर होता तो देर रात तक उससे फोन पर सेक्सी चैट करता था और बहुत ज्यादा बात भी करता था.

एक दिन शाम के समय पत्नी को लेकर ससुराल गया था. खाने पीने के बाद मैंने उसको बोला कि आज हमारे साथ ही सो जाना.
वो एकदम से तैयार हो गई.

यह कहानी भी पड़े  Didi Ki Shadi Mai Meri Suhagrat

रात को मैं मेरी पत्नी और ममता एक रूम में सोए. बीच में मेरी पत्नी सो रही थी. जब मेरी पत्नी को नींद आ गई तो मैंने धीरे से ममता के चूचों पर हाथ रखकर हल्के हल्के दबाने लगा. उसको भी मजा आने लगा और वो धीरे धीरे गर्म होने लगी.

मेरे हाथ ऊपर से नीचे आने लगे. जैसे ही मैंने उसकी चूत पर हाथ लगाया तो वो चिहुँक उठी और मेरा हाथ पकड़ कर दूर करके फुसफुसा कर बोली- दीदी जग जाएगी.
मैंने उसकी दीदी के ऊपर से होकर उसको लिप किस किया, जिसमें उसने खुल कर साथ दिया.
लेकिन तभी बीच में मेरी पत्नी जाग गई, जिससे हमारी हरकत बंद हो गई.

देर रात को फिर हम भी सो गए. दूसरे दिन जब भी हम दोनों को मौका मिला, हमने खूब गले लग कर चूमाचाटी की.

मैंने उससे रात में पूरा खेल खेलने की बात कही तो उसने कहा- दीदी तो हैं.
मैंने कहा कि वो मेरी चिंता है, तुम बस आज मेरे लंड की सवारी करने के लिए तैयार रहना.
वो हंस दी.

मैं मेडिकल स्टोर से नींद की गोली ले आया और शाम को मौसमी के जूस में डाल कर सबको पिला दिया.

रात को सोते समय मेरी पत्नी बोली कि सिर दर्द कर रहा है तो मैंने उसको एक और नींद की गोली देकर सुला दिला.

आज भी ममता हमारे पास ही सो रही थी. मैं उन दोनों के बीच में सो गया. जल्दी ही पत्नी को नींद आ गई. उसके बाद मैंने धीरे धीरे ममता को सहलाना शुरू कर दिया.

काफी देर तक लिप किस किया और चूचों को दबाया, तो वो आह आह करने लगी. हम दोनों नीचे फर्श पर आ गए और अपनी रासलीला शुरू कर दी.

यह कहानी भी पड़े  साक्षी रंडी और उसकी मा

मैंने उसकी कमीज ओर ब्रा को निकाल दिया, जिससे उसके चुचे उछल कर बाहर आ गए. मैं तो उसके चुचे देखकर पागल हो गया और उनको मुँह में लेकर चूसने लगा. कसम से बहुत मजा आ रहा था. एक को चूस रहा था, दूसरे को हाथ से मसल रहा था. बारी बारी से दोनों चूचों को खूब चूसा. ममता भी खूब गर्म होकर आहें भरने लगी थी.

तभी मैंने उसकी सलवार खोल दी. उसी जाँघें बड़ी ही चिकनी थीं. चूत पर हाथ लगाया तो पूरी गीली हो रही थी, जिससे उसकी पैंटी भी गीली हो रही थी.

धीरे धीरे मैंने उसके शरीर पर हाथ घुमाना शुरू किया. चुत में उंगली डाल कर हल्के हल्के सहलाया, जिससे वो और भी गर्म होने लगी. इसके बाद मैंने धीरे धीरे अपनी जीभ को उसके चूचों पर से फिराता हुआ नाभि और चुत की तरफ बढ़ना शुरू किया. जैसे ही जीभ को चुत के दाने पर लगाया, तो वो बुरी तरह मचलने लगी और मेरे सिर को चुत पर दबाने की कोशिश करने लगी.

मैंने चुत को मुँह में भर लिया और हुमक हुमक कर चूत चूसने लगा. ममता टांगें खोल कर बुरी तरह से आहें भरने लगी.

मैंने उसकी चूत को लगभग पूरा अपने मुँह में भर कर चूसा तो उसका रस छूट गया. इसके बाद वो ढीली पड़ गई. लेकिन दो मिनट बाद ही उसने झटपट मेरे सारे कपड़े उतार फेंके तथा मुझे नंगा कर दिया.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!