टीचर और स्टूडेंट की पहली चुदाई

हेलो दोस्तों, कैसे है आप सब? उमीद है आप सब ख़ैरियत से होंगे. ये मेरी पहली स्टोरी है, इसलिए कुछ उपर-नीचे हो या स्पेलिंग मिस्टेक हो, तो मुझे माफ़ करना. मैं अगली बार से सही कर लूँगा. आपको बताता चालू की ये एक रियल स्टोरी है.

मेरा नामे हॅसन है. मैं पाकिस्तान में लाहोर में रहता हू. मेरी आगे 20 साल है, और मेरे घर में सिर्फ़ में पापा और मम्मी है. मैं यूनिवर्सिटी जाता हू. हम बहुत आचे से घर में रहते है.

मैने अभी तक सेक्स नही किया था, और मैं रोज़ सेक्स स्टोरीस पढ़ता था. ज़्यादातर मैं टीचर और स्टूडेंट की सेक्स स्टोरी पढ़ता था, और पॉर्न देखता था, और मूठ मारता था.

ये बात तब की है, जब मैं दलीय यूनिवर्सिटी जाता था, यानी करीब 6 महीने पहले. मैने अभी तक सेक्स नही किया था, और मैं करना चाहता था. लेकिन कभी मौका नही मिलता था.

तब हमारी यूनिवर्सिटी में एक नयी टीचर आई, जिसका नामे महीन था. वो करीब 23 साल की होगी, यानी मुझसे 3 साल बड़ी. वो काफ़ी खूबसूरत थी. दिखने में ऐसी लगती थी जैसे कभी सेक्स ना किया हो. एक-दूं सॉफ चेहरा, छ्होटे बूब्स, और अछा फिगर.

मैं तो जैसे उससे सेक्स करने के पीछे पागल हो गया. मैं बस उसी के बारे में सोचता रहता था. फिर एक दिन वो क्लास में आई जब मेरा लंड एक-दूं खड़ा था. मैं सबसे आयेज बैठा था. फिर सब उसे रेस्पेक्ट देने के लिए खड़े हुए. इसलिए मुझे भी ख़ासा होना पड़ा.

मेरा लंड सॉफ नज़र आ रहा था, क्यूंकी वो 8 इंच का है. ये बात उसने सॉफ नोटीस की. क्लास के दौरान मैं बस उसे ही देख रहा था, और उसने ये भी नोटीस किया. फिर उसने मुझे क्लास के बाद अपने ऑफीस बुलाया, जिससे मैं दर्र गया.

लेकिन फिर मैं हिम्मत करके गया. जब मैं अंदर गया तो उसने मुझे क्लास के दौरान हुए वक़ीये के बारे में पूछा. मेरे पास कोई जवाब नही था. फिर उसने मुझे ये भी कहा की-

वो: मुझे सब पता है की मेरे क्लास में आने पर तुम इतनी जल्दी खड़े क्यूँ नही हुए.

इस बात ने मुझे दर्रा दिया, और उसने मुझे स्माइल दी. फिर उसने मुझे जाने के लिए होला. मैं कुछ समझ नही पाया.

रात भर मैं उसी के बारे में सोच रहा था, और फिर मूठ मार कर सो गया. अगले दिन मैने डिसाइड किया की मैं आज उसे छोड़ूँगा. क्लास ओवर होने के बाद मैं उसके ऑफीस में गया और नॉक किया. उसने मुझे अंदर बुलाया.

मे: वो माँ कल के लिए सॉरी.

महीन: कोई बात नही, जवान लड़कों के साथ अक्सर ऐसा होता है.

मे: लेकिन आप भी तो अभी जवान हो.

ये सुन कर उसने मुझे घूरा और स्माइल की.

मैने कहाँ: क्या आप शादी-शुदा है?

महीन: नही क्यूँ?

मे: बस वैसे ही.

फिर मैने मूह में बोला: तभी इतने फिट बूब्स है.

ये बात उसने सुन ली, और गुस्से में बोली: मैने सुन लिया.

मैं दर्र गया.

फिर उसने कहा: तुम लड़कों को बस यही सब सूझता है, सेक्स करना वग़ैरा.

उसके मूह से सेक्स का लफ्ज़ सुन कर मैं बेताब हो गया और कहा-

मैं: क्यूँ आपका मॅन नही करता?

ये उसके सबर की इंतेहा थी, और मैने उसे अचानक से किस करना शुरू किया. उसने मुझे पीछे किया और थप्पड़ मारा. लेकिन मैं कहा रुकने वाला था. मैने उसे दोबारा किस करना शुरू किया. लेकिन इस बार उसने मुझे नही रोका.

थोड़ी देर किस करने के बाद मैने उसकी कमीज़ उतार दी. नीचे ब्लॅक ब्रा भी खोल कर फेंक दी. उसने अपने बूब्स को ढाका, लेकिन मैने उसके हाथ पीछे किए, और बूब्स दबाने और चूसने लगा. वो आह आह की आवाज़े निकालने लगी. इसके बाद मैने उसकी सलवार और पनटी भी निकाल दी.

उसकी छूट एक-दूं गीली हो चुकी थी. मैने उसे चूसना शुरू किया. वो मेरा सर अपनी छूट में दबा रही थी. फिर थोड़ी देर बाद उसकी छूट ने पानी छ्चोढ़ दिया, और मैने सारा पी लिया. उसके बाद मैने अपनी पंत उतरी, और वो मेरा लंड देख कर हैरान हो गयी.

वो बोली: इतना बड़ा मैं कैसे लूँगी. मेरा फर्स्ट टाइम है.

मैने कहा: कुछ नही होगा.

और उसे चूसने के लिए बोला. लेकिन उसने माना किया.

मैने कहा: मूह में तो लेना पड़ेगा.

फिर उसने लंड मूह में लिया. मुझे बहुत मज़ा आने लगा, और मैं उसका सर पकड़ कर चुसवाने लगा. मैं बहुत मज़े में था, और वो तेज़-तेज़ चूसने लगी. वो बहुत अछा चूस रही थी.

थोड़ी देर बाद मेरा लंड पूरा थूक से भर गया. उसने कहा की वो बहुत सारे पॉर्न वीडियोस देख चुकी थी, और कब से सेक्स करना चाहती थी.

मैने कहा: अभी तुम्हारी विश पूरी कर देते है.

फिर मैने अपना लंड छूट में रखा, और रगड़ने लगा.

वो बोली: अब और मत तड़पाव, और डाल दो.

फिर मैने एक ज़ोर का धक्का दिया, और लंड आधा अंदर चला गया. उसकी चीख निकल गयी. लेकिन मैने उसे किस किए ताकि आवाज़ बाहर ना जाए. उसके आँसू निकल गये थे. फिर थोड़ी देर बाद मैने पूरा लंड अंदर डाला, और आहिस्ता-आहिस्ता धक्के देने लगा.

थोड़ी देर बाद उसे माज़ा आने लगा, और वो ज़ोर से करने को कहने लगी. मैने अपनी स्पीड बधाई, और उसे छोड़ना शुरू कर दिया. हम डॉगी-स्टाइल में थे.

वो बस कह रही थी: और ज़ोर से जान, रुकना मत, ह आह.

फिर उसकी छूट ने पानी छ्चोढ़ दिया. मेरा भी बस होने वाला था, और मैने सारा पानी उसकी छूट के अंदर ही छ्चोढ़ दिया. फिर हमने गहरी साँस ली, और लेट गये. ये मेरा यादगार एक्सपीरियेन्स था.

इसके अगले पार्ट में पढ़े की कैसे मैने उसकी गांद मारी, और उसके मूह में अपना भी छ्चोढा. यक़ीनन अगला पार्ट मज़े का होगा. तो बे कंटिन्यूड.

और कोई पाकिस्तानी आंटी या लड़की सॅटिस्फाइड नही है, और उनको सेक्स करना है, तो वो मुझे एमाइल करे. ये सब राज़ रहेगा और आप खुश भी रहेंगी. लेकिन ज़रूरी है आप लाहोर से हो, ताकि मैं मिलने आ साकु. इसी के साथ मुझे दीजिए इजाज़त. मिलते है आपको नेक्स्ट पार्ट में अपनी स्टोरीस के संग. तब तक के लिए गुड बाइ.

यह कहानी भी पड़े  गैर मर्द के साथ मेरी पहली सुहागरात


error: Content is protected !!