फिर कब आओगे राज चुदाई करने – 2

उसके दो दिन बाद फिर नीताजी की फोन आया, कहने लगी- फिर कब आओगे राज चुदाई करने
“राज, कब आ रहे हो ?”

मैंने कहा-
“नीता जी, जब आप बुलाओ, मैं हाजिर हो जाऊंगा, बोलिए कब जाना है ।”

“राज, ऐसा नहीँ हो सकता ! तुम दोनोँ यहां आ जाओ, साथ मेँ मजे लेँगे ।”

सॉरी दस्तोँ, मैँने आप लगोँ को बताना भुल गया कि मैँ एक शादीशुदा आदमी हुं और एक सुन्दर सी सेक्सी पत्नी है मेरी । उसकी उम्र 32 साल होगी और मेरा 35 । मैँ दो बच्चोँ का बाप भी हुं ।

मेरी पत्नी का नाम सीमा है । बहुत गठीला और भरा हुआ बदन है उसका । उसकी सबसे सेक्सी अंग थी उसकी चौडी गांड जिसकी थिरक देख कर किसी भी मर्द के लंड खडा हो जाएंगे ।

खैर जब नीताजी की बात मैँने उसे बताई तो व एकदम से आश्चर्य-चकित रह गई और उससे मिलने का मन बना लिया ।

और हमने अगले दिन रात को ठीक आठ बजे नीता की घर पहुंच कर बैल बजाई । नीता ने दरवाज़ा खोला और मेरे गले लग कर कहने लगी-
“राज, इतना इन्तज़ार मत करवाया करो ! कहां हैँ तुम्हारे पत्नी कबसे बेताब हुं मिलने के लिए ।”

मैंने कहा-
“सीमा भी आपसे मिलने के लिए बैचेन है । आपको देखने के लिए बडी उत्सुक हुई जा रही है ।”

और फिर मैँने दोनोँ को मिला दिया । नीता ने सीमा को गले लगा कर चुम लिया और हमेँ अंदर ले गयी । अपनी दोनोँ बच्चोँ से हमेँ मिलाते हुए नीता बोली-
“बेटा, ये हैँ राज अंकल और ये हैँ सीमा आंटी । ये मेरे ही ऑफिस मेँ काम करते हैँ और आज रात यहीँ रहेंगे ।”

बच्चे हमसे मिल कर बहुत खुश हुए । एक घंटे मैँने बच्चोँ के साथ गप्पे लडाता रहा, इसी बिच नीता और सीमा ने मिल कर खाना तैयार कर लिया । फिर सबने एक साथ खाना खाया । खाना खत्म करके बच्चे अपने कमरे मेँ सोने चले गए । नीता ने नीचे गेस्ट रुम मेँ हमारा बिस्तर लगा दी । मुझे और बर्दास्त नहीँ हो रहा था । सीमा नीता के साथ काम निबटा रही थी । मैँने अकेले दोनोँ का इंतजार करने लगा । आधे घंटे बाद दोनोँ कमरे मेँ आ गए तो मैँने नीता से पुछा-
“नीताजी, बच्चे सो गए क्या ?”

यह कहानी भी पड़े  किरायेदार ने मेरी बहन को रांड बनाया

नीता ने थोडी सी मुस्कराई और अलमारी से एक विस्की का बोतल निकालती हुई बोली-
“वे तो कब के से चुके हैँ, अब हम अपना काम आराम से कर सकते हैँ ।”

फिर नीता ने तीन पैग विस्की के बनाये, हम सबने आपस में चियर्स किया, अपने-अपने पैग खत्म किये, एक दूसरे के गले लगे । उसके बाद नीता ने तीन और पैग बनाये और पैग खत्म करने के बाद हम तीनों ने अपना चुदाई का कार्यक्रम शुरु किया । एक गहरी सांस लेकर हमने अपने-अपने मुंह ऐसे घुमाये कि सबके होंठ सट गए । हम एक दूसरे के होंठों को चुमने लगे । फिर नीता ने सीमा को अपनी बाहों मे कस लिया और उसकी होंठों को बेतहाशा चुसने में लग गई ।

मैँने खुद को दोनोँ से अलग कर दिया । मेरे बदन में सेक्स का नशा छाने लगा था । मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि एक औरत भी दुसरी औरत को इस तरह मज़ा दे सकती है ।

अब नीता का हाथ सीमा की ब्लाउज़ पर पहुंच चुका था और उसने एक सैकेंड में सारे हुक खोल डाले और चुचियोँ को सहलाने लगी । सीमा की स्तन काफी बड़े और दूध की तरह गोरे थे । फिर नीता अपनी जीभ से सीमा की चुचेँ चाटना शुरू कर दिया । साथ ही दुसरे स्तन को हाथ से मसलती जा रही थी ।

ये देख कर मेरी उत्तेजना लंड तक पहुंचने लगा था । फिर नीता ने अपना साडी और ब्रा उतार फैंके । उसके स्तन भी भरे पुरे थे और चुचियां तनी हुईं थीं । नीता ने अपनी चुचियां सीमा की छातियों से सटा दी और फिर अपने होंठ उसकी होंठों से सटा दिये । दोनोँ की चुचियां आपस मेँ टकरा रही थी और दोनोँ एक दूसरे से चिपक कर बेतहाशा किस करने लगे ।

यह कहानी भी पड़े  बेटी के सामने माँ की गांड मारी

दोनोँ औरतोँ की मस्ती देख कर मेरा सारा बदन मस्ती में डुबता जा रहा था । फिर नीता ने मेरी पत्नी का हाथ अपनी स्तन पर रख लिया और बोली-
“प्लीज़, दबाओ न इन्हेँ ।

सीमा उसके स्तनोँ को मसलने और दबाने लगी । नीता भी आंखे बंद करके मिंजवाने का मज़ा लेने लगी । फिर सीमा ने उसकी निप्पल अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी ।

सच बताऊं, दोनोँ की चुमा-चाटी देख कर मुझे बहुत मज़ा आने लगा था और अपना लंड निकाल कर सहलाने लगा ।

काफी देर तक वे दोनों एक दुसरे के चुचियां चुसते रहे । कुछ देर बाद नीता ने सीमा को पलंग पर लिटा दिया और उसकी साडी, पेटिकोट खोल डाली और पैंटी भी खोल कर उसे पुरा नंगा कर दिया । मेरी पत्नी थोड़ी शरमा रही थी और अपने हाथ अपनी टांगों के बीच चूत पर रख लिये ।
नीता बोली-
“मत शर्माओ सीमा, मैं भी अपनी सारी कपड़े उतार देती हुं ।”

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!