जीजा की बहन की चूत मारी और उसे खुश किया

हेलो दोस्तों कैसे हो आप सब मेरा नाम गोपाल है और मैं आज आपको अपनी एक देसी गर्ल की सेक्स कहानी बताने जा रहा हूं. मेरी उम्र २४ साल है और मेरा रंग गोरा और एक दम मस्त है. मेरी हाइट ५ फुट ९ इंच है और मेरा लंड ९ इंच लंबा और ४ इंच मोटा है.

दोस्तों यह जो मैं कहानी आपको बताने जा रहा हूं वह आज से ३ साल पहले की है जब मैं ग्रेजुएशन पूरी कर चुका था और नइ नइ जॉब मैं लगा था. मैं अपने मम्मी पापा और बहन के साथ दिल्ली में रहता हु.

मेरी बहन का नाम पूजा है और वह मुझसे बड़ी है इसलिए घरवाले दीदी के लिए शादी के लिए अच्छा सा लड़का ढूंढ रहे थे. कुछ समय बाद एक लड़का घर वालों को बहुत पसंद आया जिसका नाम था निखिल.

निखिल जीजू अपने परिवार के साथ नोएडा में रहते थे और दीदी और जीजू की एक महीने बाद सगाई थी तो हम सब सगाई में बिजी हो गए.

फिर धीरे-धीरे सगाई का दिन भी आ गया और फिर संडे को ११ बजे तक जीजू का पूरा परिवार था जिससे पापा ने हमसे मिलाया तो पता चला की जीजू के साथ उनके मम्मी पप्पा, मौसा मौसी मामा मामी और उनकी लड़की पूर्णिमा भी थी, जो मेरी ही उम्र की थी और उस वक्त वह मेरे साथ ही पूरी सगाई में खड़ी रही, और इस बीच हम दोनों में काफी अच्छी दोस्ती हो गई, और उधर सगाई भी हो गई. तो सब वापस जाने लगे और उस वक्त पूर्णिमा ने मुझसे कहा कि दोस्ती पसंद आई हो तो घर पर जरुर आना.

फिर वह सब घर से चले गए और मैं दीदी मम्मी डैडी सगाई अच्छी तरह होने की वजह से काफी खुश थे. फिर अगले दिन पापा ने मुझसे कहा की जीजू के घर जाकर शादी की तारीख लेकर आओ, तो मैं उसके अगले दिन सुबह ७ बजे निकल गया और ९ बजे तक वहां पहुंच गया, मुझे रिसीव करने मेरे जिजू आए थे, मेंने उनसे हेलो मिलाई और फिर हम दोनों जीजू के घर आ गए.

यह कहानी भी पड़े  मेरी सेक्सी मॉम

वहां पर उनकी मम्मी थी जिनको मैंने नमस्कार किया और उन्होंने मुझे ड्राइंग रूम में बिठाकर मेरी खूब सेवा करी. और फिर जब मैंने उन्हें शादी की तारीख पक्की करने के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि तुम यह मेरे भाई के घर जाकर ले आओ, क्योंकि वो ही शादी की तारीख निकालते हैं, और अगले ५ महीने बाद की जो भी तारीख मिले वह ले आना.

मैं और जीजू उनके मामा जी के घर के लिए निकल लिए. और फिर २० मिनट तक वहां पहुंच गए, वहां जब हम पहुंचे तो पूर्णिमा बाहर ही खड़ी थी. और मुझे देखकर वह मुस्कुरा कर बोली आ गई दोस्ती पसंद? मैंने भी उसकी यह बात सुनकर सर को हां में हीलाया और फिर अंदर आ गया. और अंदर आकर मामा जी ने दिसंबर महीने की ३ तारीख बताई और कहा जो तुम्हें ठीक लगती है वह हमें बता देना.

अब मैं और जीजू वहां से चलने के लिए उठे तो मामा जी ने जीजू को रोक लिया, तो पूर्णिमा ने मुझसे कहा कि चलो मैं तुम्हें छोड़ आती हु. फिर मैंने पूर्णिमा के साथ उसकी स्कूटी पर चल दिया और रास्ते में एक जगह रेस्टोरेंट के बाहर उसने स्कूटी को रोकते हुए कहा चलो कॉफी पीते हैं.

इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाता वह अंदर चली गई और फिर हम दोनोंने एक साथ बैठकर कॉफी पी और फिर उसने मुझे स्टेशन पर छोड़ दिया, और मैं वहां से आ गया.

फिर ३ महीने बाद नवरात्रि शुरु हुई तो एक दिन मेरे मोबाइल पर किसी अनजाने नंबर से फोन आया तो पता चला की यह तो पूर्णिमा के मामा जी का था जो कि मेरी जीजू के मामाजी भी लगते हैं, और तब उन्होंने मुझसे कहा की पूर्णिमा को गरबा बहुत पसंद है तो तुम शाम को इसे घुमा लाना.

यह कहानी भी पड़े  भैया के शादी में बुआ की ननद को चोदा और उसकी चूत चाटा

मैंने उनकी बात मानी और फिर शाम के ७ बजे मैं उनके घर पहुंच गया तो पता चला की पूर्णिमा अभी तैयार हो रही थी और उसके मामा मामी तैयार होकर आरती के लिए जा रहे थे और जाते जाते उन्होंने मुझसे भी कहा कि पूर्णिमा के साथ आरती के लिए आ जाना, और फिर वह चले गए.

ऐसी और सेक्सी कहानी पढ़े: स्मिता की BDSM की ख्वाहिश
अब मैं वही सोफे पर बैठकर पूर्णिमा का इंतजार कर रहा था और कुछ ही देर बाद पूर्णिमा बाहर आई तो मैं उसे देखता ही रह गया.

उसने क्या मस्त घाघरा चोली पहन रखा था? और उसमें वह बहुत ही ज्यादा सेक्सी लग रही थी, उसकी नवल साफ दिखाई दे रही थी और उसकी चोली में से उस के ३६ के बोबे की काफी दिख रहे थे, ऐसे लग रहा था कि अभी बाहर आने को हो रहे हैं. पर यह सब देख कर मेरा दिमाग हिल गया और मेरा लंड भी एकदम टाइट हो गया.

Pages: 1 2

error: Content is protected !!